रामायण (राजगोपालाचारी)

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
रामायाण  
लेखक चक्रवर्ती राजगोपालाचारी
देश भारत
भाषा अंग्रेज़ी
प्रकार पौराणिक कथा
प्रकाशक भारतीय विद्या भवन
प्रकाशन तिथि १९५७
मीडिया प्रकार मुद्रित
आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-81-7276-365-7
ओ॰सी॰एल॰सी॰ क्र॰ 19243018

रामायाण चक्रवर्ती राजगोपालाचारी द्वारा रचित पौराणिक कथा पुस्तक है। इसका प्रथम प्रकाशन १९५७ में भारतीय विद्या भवन में हुआ।[1] यह पुस्तक वाल्मीकि द्वारा रचित रामायण का संक्षिप्त अंग्रेजी पुनर्लेखन है। इससे पहले उन्होंने कंब रामायण की रचना की।[2] राज जी ने उनकी महाभारत और इस पुस्तक को देशसेवा के रूप में बड़े कार्य के रूप में देखा।[3]

२००१ के अनुसार पुस्तक की १० लाख प्रतियाँ विक्रय की जा चुकी हैं।[4]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Ramayana and Mahabharata: catalogue of books in the Sahitya Akademi Library [रामायण और महाभारत: साहित्य अकादमी पुस्तकालय में पुस्तकों की तालिका] (अंग्रेज़ी में). भारतीय साहित्य अकादमी. 1987. पृ॰ 6. OCLC 29798356. |access-date= दिए जाने पर |url= भी दिया होना चाहिए (मदद)
  2. Complete works of Gosvami Tulsidas [गोस्वामी तुलसीदास का पूर्ण कार्य] (अंग्रेज़ी में). . वाराणसी : प्रच्या प्रकाशन. १९७८. पपृ॰ ४१९. OCLC 6124096. |access-date= दिए जाने पर |url= भी दिया होना चाहिए (मदद)
  3. अग्रवाल, एम॰ जी॰ (२००८). Freedom fighters of India [भारत के स्वतंत्रता सैनानी]. ईशा बूक्स. पृ॰ 104. OCLC 259734603. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-81-8205-472-1. पाठ "language-अंग्रेज़ी " की उपेक्षा की गयी (मदद)
  4. जे वेंकटेशन (२० दिसम्बर २००१). "PM releases one millionth book of Ramayana" [प्रधानमंत्री ने रामायण की दस लाख वीं प्रति जारी की] (अंग्रेज़ी में). द हिन्दू. अभिगमन तिथि ६ दिसम्बर २०१३.

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]