रानीघाटी

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

रानीघाटी ग्वालियर से दक्षिण दिशा की ओर ग्वालियर नरवर मार्ग पर स्थित एक ऐतिहासिक स्थल है। यह क्षेत्र पूरी तरह से पहाड़ी है और आसपास जंगल ही जंगल है। ऐतिहासिक दृष्टि से यह बेहद महत्वपूर्ण स्थान है। मान्यता है कि रानीघाटी वही स्थान है जहाँ राजा नल का जन्म हुआ था।

चित्र:IMG-20160607-WA0027: रानीघाटी
राजा नल की जन्मभूमिः रानीघाटी
Ranighati: Birthplace of Raja Nal (Narwar-Gwalior)
रानीघाटी / Ranighati : Birthplace of king Nal

रानीघाटी पर कई ऐतिहासिक इमारतें और मंदिर खंडहर अवस्था में पड़े हैं।

पूरे रानीघाटी क्षेत्र में तमाम ऐतिहासिक शिलालेख और अवशेष यत्र-तत्र बिखरे पड़े हैं। डॉ मनोज माहेश्वरी जी के मुताबिक यह स्थान अति प्राचीन और ऐतिहासिक है। राजा नल का जन्म यहीं पर हुआ था।यहाँ एक विशाल राम जानकी मंदिर भी है, जिसकी देखभाल का जिम्मा स्थानीय लोगों ने एक साधू को दिया है। पहाड़ों की तलहटी में में बड़ा सुंदर और हराभरा रमणीक स्थल मौज़ूद है। यहाँ एक प्राकृतिक जल स्रोत भी है जो कि एक गौमुख से होकर है।

www.hamarnarwar.blogspot.com[संपादित करें]

www.dainikbhaskar.com[संपादित करें]