राजेश कुमार (सैनिक)

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ
Havildar
Rajesh Kumar
AC

Portrait of Hav Rajesh Kumar
जन्म Lath,Sonipat district, Haryana, India
देहांत अगस्त 01, 2009
Kupwara, Jammu and Kashmir, India
निष्ठा  India
सेवा/शाखा  भारत सेना
उपाधि Indian Army Havildar.gif Havildar
सेवा संख्यांक 2890262H
दस्ता 11 Raj Rif
सम्मान Ashoka Chakra ribbon.svg Ashok Chakra

हवलदार राजेश कुमार, एसी भारतीय सेना के एक सैैनिक थे, जिन्हें भारत के सर्वोच्च सैन्य सम्मान अशोक चक्र से सम्मानित किया गया था। [1]

प्रारंभिक जीवन[संपादित करें]

राजेश कुमार का जन्म हरियाणा के सोनीपत जिले के भैंसवाल कलां के निकट लाठ गांव में हुआ था। वह श्री राम किशन और श्रीमती परमेश्वरी के पुत्र थे। प्रारंभिक शिक्षा के बाद वे सेना में भर्ती हुए। [2]

सैन्य वृत्ति[संपादित करें]

कुमार को 11वीं बटालियन राजपूताना राइफल्स में भर्ती किया गया था, जो एक पैदल सेना रेजिमेंट है, जिसका वीरता पुरस्कार और युद्ध सम्मान का गौरवशाली इतिहास है।

1 अगस्त 2009 को, वह जम्मू-कश्मीर के कुपवाड़ा जिले के जंगलों में आतंकवादियों के लिए एक खोज मिशन पर थे, जो घटक टीम के एक हिस्से का नेतृत्व कर रहे थे। उन्होंने आतंकवादियों पर गोलियां चलाईं और उनमें से तीन को मार गिराया, अपने साथियों को बचाया, लेकिन इस प्रक्रिया में गंभीर रूप से घायल हो गये। अंतत: चोटों के कारण राजेश कुमार शहीद हो गये। उन्हें मरणोपरांत अशोक चक्र से सम्मानित किया गया, जो भारत में शांतिकाल में सर्वोच्च सैन्य सम्मान है।

अशोक चक्र पुरस्कार विजेता[संपादित करें]

26 जनवरी, 2010 को नई दिल्ली में हवलदार राजेश कुमार (मरणोपरांत) की पत्नी श्रीमती बीता को राष्ट्रपति श्रीमती प्रतिभा देवीसिंह पाटिल ने सर्वोच्च वीरता पुरस्कार अशोक चक्र प्रदान किया।

अशोक चक्र प्रदान करने के दौरान भारत के राष्ट्रपति द्वारा प्रशस्ति पत्र पढ़ा गया: हवलदार राजेश कुमार ने आतंकवादियों से लड़ने में सबसे विशिष्ट वीरता, धैर्य और आत्म बलिदान की दुर्लभ भावना का अद्वितीय पराक्रम दिखाया।[कृपया उद्धरण जोड़ें]

संदर्भ[संपादित करें]

  1. "Ashok Chakra for Havildar Rajesh Kumar". The Hindu.
  2. "Hav Rajesh Kumar, AC".