राजेंद्र कुमारी बाजपेयी

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
राजेंद्र कुमारी बाजपेयी

कार्यकाल
2 मई 1995 - 22 अप्रैल 1998

जन्म 08 फ़रवरी 1925
लालूचक, भागलपुर जिला, बिहार.
मृत्यु जून 17, 1999(1999-06-17) (उम्र 74)
इलाहाबाद, उत्तर प्रदेश
राजनीतिक दल भारतीय राष्ट्रीय काँग्रेस

डॉ॰ राजेंद्र कुमारी बाजपेयी (8 फ़रवरी 1925 - 17 जुलाई 1999) भारत के पूर्व केंद्रीय मंत्री और पांडिचेरी के उपराज्यपाल रह चुकी हैं। वे तीन बार क्रमश: 1980, 1984 और 1989 में सीतापुर से लोकसभा के लिए निर्वाचित हुई। वे भारतीय राष्ट्रीय काँग्रेस की एक समर्पित कार्यकर्त्री और पूर्व प्रधान मंत्री इंदिरा गांधी की वहड़ करीबी मानी जाती थी।

प्रारंभिक जीवन और परिवार[संपादित करें]

उनका जन्म 8 फ़रवरी 1925 को बिहार के भागलपुर जिले के लालूचक मे पंडित एस के मिश्रा के यहाँ हुआ था।[1] वे रविशंकर शुक्ल की नातिन थी और श्यामा चरण शुक्ल और विद्या चरण शुक्ल की भांजी। विद्यालयी शिक्षा के पश्चात उन्होने इलाहाबाद विश्वविद्यालय से स्नातकोत्तर की शिक्षा तथा पी॰ एच॰ डी॰ की।[2]

उनकी शादी पेशे से शिक्षक और 1942 मे भारत छोड़ो आंदोलन में भाग लेने वाले डी.एन. बाजपेयी से 1947 में हुई। जिससे उन्हें एक पुत्र अशोक बाजपेयी और एक सुपुत्री डॉ॰ रंजना बाजपेयी हुई।

राजनीतिक जीवन[संपादित करें]

वे 1962 से 77 तक उत्तर प्रदेश की विधान सभा की सदस्या रहीं। इस दौरान वे उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी की अध्यक्षा भी रही। वे पूर्व प्रधान मंत्री इंदिरा गांधी की बेहद करीबी मानी जाती रही हैं।[3] 1970 से 1977 के दौरान वे उत्तर प्रदेश में कई मंत्रालयों का नेतृत्व किया। इसके बाद वे 1980 में सीतापुर से लोकसभा के लिए निर्वाचित हुई और यहीं से उन्होने लगातार 1984 और 1989 में भी लोकसभा के लिए चुनी गयी। वे 1984 से 1986 तक वे केंद्रीय सामाजिक कल्याण मंत्रालय में स्वतंत्र प्रभार के साथ राज्य मंत्री रहीं। 1986 से 1987 तक श्रम मंत्रालय में स्वतंत्र प्रभार के साथ राज्य मंत्री रहीं और 1987 से 1989 तक कल्याण मंत्रालय में स्वतंत्र प्रभार के साथ राज्य मंत्री रहीं।[4] उसके बाद वे 2 मई 1995 से 22 अप्रैल 1998 तक पांडिचेरी के लेफ्टिनेंट गवर्नर के रूप में कार्य किया।[5]

निधन[संपादित करें]

वे लंबे समय तक गुर्दे संबंधी बीमारी से ग्रस्त रही। 17 जुलाई 1999 को इलाहाबाद में उनकी मृत्यु हो गयी।[6] उनकी मृत्यु के समय उनकी सुपुत्री डॉ॰ रंजना बाजपेयी उत्तर प्रदेश महिला कांग्रेस की अध्यक्षा थी और पुत्र आशोक बाजपेयी, जिला कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष।[7]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "Rajendra Kumari Bajpai". S9 Biography. http://www.s9.com/Biography/Bajpai-Rajendra-Kumari. अभिगमन तिथि: 5 नवम्बर 2013. 
  2. "9th Lok Sabha: Members Bioprofile". Lok Sabha Official website. http://164.100.47.132/LssNew/biodata_1_12/2675.htm. 
  3. "It's family first for UP parties in poll battle". इंडिया टुडे. जनवरी 14, 2012. http://indiatoday.intoday.in/story/uttar-pradesh-assembly-elections-2012-nepotism-ticket-distribution/1/168750.html. 
  4. "Worldwide Guide to Women in Leadership". guide2womenleaders. http://www.guide2womenleaders.com/Governors1990.htm. अभिगमन तिथि: 5 नवम्बर 2013. 
  5. Pondicherry Legislative Assembly
  6. "Bajpai dead". जुलाई 18, 1999. http://www.expressindia.com/ie/daily/19990718/ige18012.html. अभिगमन तिथि: 5 नवम्बर 2013. 
  7. "Rajendra Kumari Bajpai is dead". रीडिफ News. जुलाई 17, 1999. http://www.rediff.co.in/news/1999/jul/17baj.htm. अभिगमन तिथि: 5 नवम्बर 2013.