अशोक वाजपेयी

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
अशोक वाजपेयी
Ashok Vajpeyi.jpg
जन्म1941 (आयु 77–78)
व्यवसायअध्यक्ष, ललित कला अकादमी भारत की राष्ट्रीय कला अकादमी (2008-2011), कवि, निबंधकार, साहित्यिक-सांस्कृतिक आंलोचक
भाषाहिंदी
उल्लेखनीय सम्मानसाहित्य अकादमी पुरस्कार (1994)

अशोक वाजपेयी समकालीन हिंदी साहित्य के एक प्रमुख साहित्यकार हैं।[1] सामाजिक जीवन में व्यावसायिक तौर पर वाजपेयी जी भारतीय प्रशासनिक सेवा के एक पूर्वाधिकारी है, परंतु वह एक कवि के रूप में ज़्यादा जाने जाते हैं। उनकी विभिन्न कविताओं के लिए सन् १९९४ में उन्हें भारत सरकार द्वारा साहित्य अकादमी पुरस्कार से नवाज़ा गया।[2] वाजपेयी महात्मा गांधी अन्तरराष्ट्रीय हिन्दी विश्वविद्यालय, वर्धा के उपकुलपति भी रह चुके हैं। वर्तमान में यह ललित कला अकादमी के अध्यक्ष हैं। इन्होंने भोपाल में भारत भवन की स्थापना में भी काफी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है।[3]

अशोक वाजपेयी के प्रमुख काव्य संग्रह :-

  1. शहर अब भी सम्भावना है - 1966
  2. एक पतंग अनंत में
  3. अगर इतने से
  4. तत्पुरुष
  5. कहीं नहीं वहीं
  6. जो नहीं है
  7. समय के पास समय
  8. कविता का गल्प
  9. दुःख चित्रित सा है
  10. उमंग
  11. पाव भर जीरा में ब्रह्मभोज
  12. कुछ पूर्वाग्रह
  13. संशय के साये
  14. कविता का जनपद
  15. उजाला एक मंदिर बनाती है

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. हिंदी साहित्य का दूसरा इतिहास, डॉ॰ बच्चन सिंह, राधाकृष्ण प्रकाशन, दिल्ली, २00२, पृष्ठ- ४५९, ISBN: 81-7119-785-X
  2. "दिल्ली की तस्वीर: अशोक वाजपेयी की ज़बानी". बीबीसी हिन्दी. ६ दिसम्बर २०११. अभिगमन तिथि १४ जुलाई २०१२.
  3. "श्री अशोक वाजपेयी". इंडो-अमेरिकन फ्रेंडशिप एसोसिएशन, नई दिल्ली. अभिगमन तिथि १४ जुलाई २०१२.

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]