मैसूर सिल्क

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
मैसूर सिल्क साड़ीl

भारत में कुल 14,000 मीट्रिक टन का शहतूत रेशम उत्पादन होता है, कर्नाटक  में  ही ९००० मीट्रिक टन क उत्पादन होता है।   देश में, इस प्रकार से कर्नाटक देश के कुल शहतूत रेशम का ७०% भाग का योगदान करता है। कर्नाटक में रेशम मुख्य रूप से  मैसूर जिला में उगाया जाता है।

इतिहास[संपादित करें]

 रेशम उद्योग क विकास  मैसूर राज्य  में टीपू सुल्तान के शासनकाल के दौरान शुरु हुआ  । [1] [1] 

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. R.k.datta (2007). Global Silk Industry: A Complete Source Book. APH Publishing. पृ॰ 17. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 8131300870. मूल से 8 जनवरी 2018 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि January 22, 2013. |accessdate= और |access-date= के एक से अधिक मान दिए गए हैं (मदद); |ISBN= और |isbn= के एक से अधिक मान दिए गए हैं (मदद)