मुंबई–चेन्नई रेलमार्ग

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
मुंबई–चेन्नई रेलमार्ग
Guntakal Junction 4.JPG
गुंटकल मुंबई-चेन्नई रेलमार्ग पर आंध्र प्रदेश में स्थित एक महत्वपूर्ण रेलवे जंक्शन है।
अवलोकन
स्थिति संचालित
स्थान महाराष्ट्र, कर्नाटक
आंध्र प्रदेश, तमिल नाडु
टर्मिनी मुम्बई टर्मिनस
एमजीआर चेन्नई सेंट्रल
ऑपरेशन
प्रारंभिक 1871
मालिक भारतीय रेल
चालक मध्य रेलवे, दक्षिण मध्य रेलवे, दक्षिण रेलवे
तकनीकी
लाइन की लंबाई 1,281 कि॰मी॰ (796 मील)
पटरियों की नाप 1,676 मि॰मी॰ (5 फीट 6 इंच) ब्रॉड गेज
संचालन गति 130 किमी/घंटा तक
अधिकतम उन्नयन लोनावला 622 मीटर (2,041 फीट)
मार्ग नक्शा
मुंबई-चेन्नई रेलमार्ग मानचित्र

साँचा:मुंबई-चेन्नई रेलमार्ग मुंबई-चेन्नई रेलमार्ग भारत में एक रेलवे मार्ग है, जो दक्खन के पठार के दक्षिणी भाग को काटती हुई चेन्नई और मुंबई को जोड़ती है। इसकी लंबाई 1,281 किलोमीटर (796 मील) की है, और महाराष्ट्र से निकल कर कर्नाटक, तेलंगाना, आन्ध्र प्रदेश होते हुए तमिल नाडु तक जाती हैं।

खण्ड़[संपादित करें]

1,281 कि॰मी॰ (796 मील) लंबे रेलमार्ग को अच्छे तरीके से सम्भालने के लिये छोटे वर्गों में बांटा गया है, जो आपस में मिलकर महानगरों को जोड़ने वाली इस लंबी और व्यस्ततम मुुख्य रेलमार्ग का विस्तार करते है:

  1. सेंट्रल लाइन (मुंबई उपनगरीय रेलवे)
  2. मुंबई दादर-सोलापुर खंड
  3. सोलापुर-गुंतकल खंड
  4. गुंतकल-चेन्नई एग्मोर खंड

विद्युतीकरण[संपादित करें]

कल्याण-पुणे खंड को 1930 [1] में 1.5 केवी डीसी ओवरहेड सिस्टम के साथ विद्युतीकृत किया गया था और 2010 में एसी ओवरहेड सिस्टम में बदल दिया गया था।

पुणे-सोलापुर-वाडी लाइन को एशियाई विकास बैंक से 1,500 करोड़ रुपये के ऋण के साथ विद्युतीकृत किया जा रहा है। 2012 में काम शुरू किया गया था।[2][3]

पुणे-वाडी-गुंतकल खंड में विद्युतीकरण कार्य प्रगति पर है। 1 अप्रैल 2012 को संपूर्ण मार्ग  641 किमी को शेष कार्य के रूप में दिखाया गया था।[4]

गति सीमा[संपादित करें]

कल्याण-पुणे-दौंड-वाडी-सिकंदराबाद-काज़िपत लाइन और वाडी-रायचूर-अदोनी-अरकोनम- चेन्नई सेंट्रल रेलवे स्टेशन लाइन को 'ग्रुप बी' लाइनों में वर्गीकृत किया गया है और यह 130 किमी/घंटा तक की गति झेल सकती है।[5] हालांकि, छत्रपति शिवाजी महाराज टर्मिनस और कल्याण के बीच के खंड को 'ग्रुप ए' लाइनों के रूप में वर्गीकृत किया गया है, जहां ट्रेनें 160 किमी / घंटा तक की गति को झेल सकती हैं।

चित्र दीर्घा[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "Electric Traction I". History of Electrification. IRFCA. मूल से 15 सितंबर 2008 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 20 March 2014.
  2. "Asian Development Bank to fund Pune-Daund-Wadi rail line electrification". dna, 20 January 2011. मूल से 7 दिसंबर 2013 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 20 March 2014.
  3. "Electrification of Pune-Daund to start today". The Times of India, 14 December 2012. मूल से 8 दिसंबर 2013 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 20 March 2014.
  4. "Brief on Railway Electrification". Electrification Work in Progress. Central Organisation for Railway Electrification. मूल से 26 सितंबर 2015 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 20 March 2014.
  5. "Chapter II – The Maintenance of Permanent Way". मूल से 3 दिसंबर 2013 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 20 March 2014.