मातादीन वाल्मीकि

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ
मातादीन वाल्मीकि
जन्म मेरठ, कंपनी राज
मृत्यु कंपनी राज
व्यवसाय ईस्ट इण्डिया कम्पनी
प्रसिद्धि कारण भारतीय स्वतंत्रता सैनानी[1]

मातादीन वाल्मीकि भारत के स्वतंत्रता सैनानी थे जिन्होंने 1857 के भारतीय विद्रोह में भाग लिया।[2][3][4] वो ब्रितानी ईस्ट इण्डिया कम्पनी की एक इकाई में कारतूस निर्माण का कार्य करने वाले मजदूर थे।[5] वो उन शुरुआती लोगों में से थे जिन्होंने 1857 के विद्रोह का बीज बोया।[6][7]

इतिहास[संपादित करें]

यह १८५७ की लड़ाई में मास्टरमाइंड थे सबसे पहले फांसी भी इनको ही दी गई और चारशीत भी सबसे पहले इनकी जी दाखिल हुई।[कृपया उद्धरण जोड़ें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. नारायण, बद्री (2006-11-14). Women Heroes and Dalit Assertion in North India: Culture, Identity and Politics (अंग्रेज़ी में). सेग पब्लिकेशन्स. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-0-7619-3537-7.
  2. "UNWRITING HISTORY". www.telegraphindia.com. अभिगमन तिथि 2020-08-05.
  3. "Dalits took part in 1857 revolt: Study". Rediff (अंग्रेज़ी में). अभिगमन तिथि 2020-08-05.
  4. "A good time to mourn?". DNA India (अंग्रेज़ी में). 2007-09-30. अभिगमन तिथि 2020-08-05.
  5. Kumar, Darshna (2019-05-10). "Back In Time: 162 Years Ago Today, India Took Its First Step Towards Independence With The Sepoy Mutiny". ED Times | The Youth Blog (अंग्रेज़ी में). अभिगमन तिथि 2020-08-05.
  6. Bates, Crispin (2013-10-30). Mutiny at the Margins: New Perspectives on the Indian Uprising of 1857: Volume V: Muslim, Dalit and Subaltern Narratives (अंग्रेज़ी में). SAGE Publishing India. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-81-321-1902-9.
  7. Naimiśarāya, Mohanadāsa (2010). Dalit Freedom Fighters (अंग्रेज़ी में). Gyan Publishing House. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-81-212-1020-1.

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]