माइकोबैक्टीरियम ट्यूबर्क्युलोसिस

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
माइकोबैक्टीरियम ट्यूबर्क्युलोसिस

माइकोबैक्टीरियम ट्यूबर्क्युलोसिस रोग पैदा करने वाला एक जीवाणु है, इससे तपेदिक या क्षय रोग (T.B.) होता है।[1] इसकी खोज सर्वप्रथम रॉबर्ट कोच ने 1882 में किया था। यह एक खतरनाक जीवाणु है जो स्तनधारी जीवों के फेफड़ों के प्रभावित करता है। जीनोम परियोजना के अन्तर्गत इसके जीनोम अनुक्रम का पता 1998 में लगा लिया गया है।[2][3]

माइकोबैक्टीरियम ट्यूबर्क्युलोसिस का आकार लगभग २ माइक्रॉन होता है। इस फोटो में उसका लाखों गुना प्रवर्धित रूप दिखाया गया है।

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Ryan KJ, Ray CG (editors) (2004). Sherris Medical Microbiology (4th ed. संस्करण). McGraw Hill. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-8385-8529-9.सीएस1 रखरखाव: फालतू पाठ: authors list (link) सीएस1 रखरखाव: फालतू पाठ (link)
  2. Cole ST, Brosch R, Parkhill J; एवं अन्य (1998). "Deciphering the biology of Mycobacterium tuberculosis from the complete genome sequence". Nature. 393 (6685): 537–44. PMID 9634230. डीओआइ:10.1038/31159. नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद); Explicit use of et al. in: |author= (मदद)सीएस1 रखरखाव: एक से अधिक नाम: authors list (link)
  3. Camus JC, Pryor MJ, Médigue C, Cole ST (2002). "Re-annotation of the genome sequence of Mycobacterium tuberculosis H37Rv". Microbiology (Reading, Engl.). 148 (Pt 10): 2967–73. PMID 12368430. नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद)सीएस1 रखरखाव: एक से अधिक नाम: authors list (link)