मसाला व्यापार

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
रेशम मार्ग और मसाला व्यापार मार्ग ये दो आर्थिक रूप से महत्वपूर्ण मार्ग थे। जब १४५३ में ऑटोमान साम्राज्य का उदय हुआ तो उसने इन मार्गों को प्रतिबन्धित कर दिया। परिणाम यह हुआ कि यूरोपीय लोग नए मार्गों की खोज करने में जुट गये जिससे अफ्रीका से होकर भारत तक के लिए समुद्री मार्ग का पता लगाया गया और खोज का युग आरम्भ हुआ।

मसाला व्यापार से आशय एशिया और उत्तरपूर्वी अफ्रीका तथा यूरोप की सभ्यताओं के बीच व्यापार से है।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]