भोज ताल

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
भोज ताल
BadaTalaabBhopal3.jpg
स्थानMadhya Pradesh, Bhopal
निर्देशांक23°15′N 77°20′E / 23.25°N 77.34°E / 23.25; 77.34निर्देशांक: 23°15′N 77°20′E / 23.25°N 77.34°E / 23.25; 77.34
मुख्य अन्तर्वाहKolans River
जलसम्भर361 km2
द्रोणी देशIndia
अधिकतम लम्बाई31.5 km
अधिकतम चौड़ाई5 km
सतही क्षेत्रफल31 km2


भोज ताल, जिसे पहले अपर लेक के नाम से जाना जाता था।[1] यह यएक बड़ी झील है जो मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल, भारत के पश्चिमी किनारे पर स्थित है। यह शहर के निवासियों के लिए पीने के पानी का एक प्रमुख स्रोत है, जो लगभग 40% निवासियों को प्रति दिन लगभग 30 मिलियन शाही गैलन (140,000 एम3) पानी की सेवा प्रदान करता है।[2] बड़ा तालाब, पास के छोटा तालाब के साथ, जिसका अर्थ हिंदी में छोटी झील है, भोज वेटलैंड का निर्माण करता है, जो अब एक रामसर स्थल है।[3]

इतिहास[संपादित करें]

स्थानीय लोककथाओं के अनुसार, भोजताल को परमार राजा भोज ने मालवा के राजा (1005-1055) के रूप में अपने कार्यकाल के दौरान बनवाया था। यह भी कहा जाता है कि उसने अपने राज्य की पूर्वी सीमा को सुरक्षित करने के लिए भोपाल शहर (उसके नाम पर, फिर भोजपाल के नाम से भी) की स्थापना की थी। एक किंवदंती है कि उन्होंने झील का निर्माण क्यों किया। एक बार राजा भोज चर्म रोग से पीड़ित हो गए और सभी वैद्य (अंग्रेज़ी में डॉक्टर) उसका इलाज करने में विफल रहे। फिर, एक दिन एक संत ने राजा से कहा कि वह 365 सहायक नदियों को मिलाने के लिए एक तालाब का निर्माण करें और फिर उसमें स्नान करके त्वचा रोग का सफाया करें। भोज ने अपने इंजीनियरों से एक विशाल टैंक बनाने का आह्वान किया। उन्होंने बेतवा नदी के पास एक जगह देखी, जो भोपाल से 32 किमी दूर थी। यह पाया गया कि इसकी केवल 359 सहायक नदियाँ हैं। एक गोंड सेनापति कालिया ने इस कमी को पूरा किया। फिर उन्होंने एक अदृश्य नदी का पता दिया। इस नदी की सहायक नदियों को मिलाकर 365 की संख्या पूरी हुई।

झील का निर्माण कोलन नदी पर मिट्टी के बांध का निर्माण करके किया गया था। भदभदा बांध नामक एक ग्यारह गेट बांध का निर्माण 1965 में भदभदा में झील के दक्षिण-पूर्व कोने में किया गया था, और अब कालियासोट नदी के बहिर्वाह को नियंत्रित करता है।

मार्च 2011 तक झील को ऊपरी झील या बड़ा तालाब ("बड़ा तालाब") के रूप में जाना जाता था, इसे महान राजा राजा भोज के सम्मान में इसका नाम बदलकर भोजताल कर दिया गया था।[4] भोपाल को झीलों की नगरी के रूप में स्थापित करने के लिए झील के एक कोने पर एक स्तंभ पर तलवार के साथ खड़ी राजा भोज की एक विशाल मूर्ति भी स्थापित की गई थी।

भूगोल[संपादित करें]

भोजताल भोपाल शहर के पश्चिम मध्य भाग में स्थित है और दक्षिण में वन विहार राष्ट्रीय उद्यान, पूर्व और उत्तर में मानव बस्तियों और पश्चिम में कृषि क्षेत्रों से घिरा हुआ है। इसका क्षेत्रफल 31 किमी 2 है और 361 किमी 2 का जलग्रहण या जलग्रहण क्षेत्र है। ऊपरी झील का वाटरशेड ज्यादातर ग्रामीण है, इसके पूर्वी छोर के आसपास कुछ शहरीकृत क्षेत्र हैं। कोलन पूर्व में हलाली नदी की एक सहायक नदी थी, लेकिन एक मिट्टी के बांध और एक मोड़ चैनल का उपयोग करके झील के निर्माण के साथ, कोलन नदी और बड़ा तालाब की ऊपरी पहुंच अब कलियासोट नदी में मिल जाती है।

सामाजिक और सांस्कृतिक महत्व[संपादित करें]

11वीं शताब्दी में झील के निर्माण के बाद से भोपाल शहर इसके चारों ओर विकसित हो गया है। लोग धार्मिक और सांस्कृतिक रूप से झीलों से जुड़े हुए हैं। झीलें पानी की आपूर्ति की अपनी जरूरतों को पूरा करती हैं और वे उनमें कपड़े धोती हैं (झील पारिस्थितिकी तंत्र के लिए बहुत हानिकारक), भोजताल में जल शाहबलूत और छोटा तालाब में कमल की खेती करती हैं। धार्मिक त्योहारों के दौरान देवी-देवताओं की मूर्तियों को भी झील में विसर्जित किया जाता है, हालांकि स्थानीय प्रशासन भक्तों को ऐसा न करने की सलाह दे रहा है। ऊपरी झील में टाकिया द्वीप में शाह अली शाह का मकबरा है, जिसका धार्मिक और पुरातात्विक महत्व है।[5]

अर्थव्यवस्था और मनोरंजन[संपादित करें]

भोजताल को मछली पकड़ने के अधिकार भोपाल नगर निगम द्वारा लगभग 500 मछुआरे परिवारों की एक सहकारी समिति को लंबे पट्टे पर दिए गए हैं। मत्स्य पालन मुख्य रूप से इसके दक्षिण-पूर्वी तटों पर किया जाता है। झील एक बड़े क्षेत्र की सिंचाई के लिए पानी के स्रोत के रूप में भी काम करती है। इसके जलग्रहण क्षेत्र में भोपाल के साथ-साथ सीहोर जिलों में 87 गाँव हैं। इन क्षेत्रों के लोगों की आजीविका का मुख्य स्रोत कृषि है और अधिकांश किसानों के पास पशुधन भी है। जबकि कुछ किसानों के पास बड़ी जोत है, कई किसान छोटे और सीमांत किसान हैं जिनके पास केवल कुछ एकड़ भूमि है।[6]

भोजताल अपनी प्राकृतिक सुंदरता के कारण पर्यटकों को आकर्षित करता है। नेशनल सेलिंग स्कूल की स्थापना इसके पूर्वी हिस्से में बोट क्लब में की गई थी।[7] यह क्लब विभिन्न जल क्रीड़ाओं जैसे कयाकिंग, कैनोइंग, राफ्टिंग, वाटर स्कीइंग, पैरासेलिंग आदि की पेशकश करता है। कई ऑपरेटर पाल, पैडल और मोटर बोट द्वारा रोमांचक यात्राओं के लिए सुविधाएं प्रदान करते हैं।[8] झील के दक्षिण-पूर्वी किनारे पर स्थित वन विहार राष्ट्रीय उद्यान पर्यटकों को अपनी ओर आकर्षित करता है। इससे गुजरने वाली सड़क में एक तरफ जानवर अपने प्राकृतिक आवास में हैं तो दूसरी तरफ झील का नैसर्गिक सौन्दर्य है।

झील के नजदीक अन्य प्रमुख आकर्षण झील के किनारे भोपाल चिड़ियाघर है। यह झील को सभी आगंतुकों के लिए एक संपूर्ण मनोरंजन स्थान बनाता है। चिड़ियाघर को काफी प्राकृतिक तरीके से रखा गया है।

जैव विविधता[संपादित करें]

दो झीलें वनस्पतियों और जीवों का समर्थन करती हैं। सफेद सारस, काली गर्दन वाला सारस, सिर वाला हंस, स्पूनबिल आदि, जो अतीत में दुर्लभ देखे गए हैं, दिखाई देने लगे हैं। हाल की एक घटना झील में 100-120 सारस सारसों का एकत्र होना है। भारत का सबसे बड़ा पक्षी, सारस क्रेन (ग्रस एंटीगोन) अपने आकार, राजसी उड़ान और आजीवन जोड़ी के लिए जाना जाता है।[9]

फ्लोरा[संपादित करें]

मैक्रोफाइट्स की 106 प्रजातियां (46 परिवारों की 87 प्रजातियों से संबंधित), जिसमें 14 दुर्लभ प्रजातियां और फाइटोप्लांकटन की 208 प्रजातियां शामिल हैं, जिसमें क्लोरोफाइसी की 106 प्रजातियां, साइनो फाइसी की 37 प्रजातियां, यूग्लेनोफाइसी की 34 प्रजातियां, बैसिलरियोफाइसी की 27 प्रजातियां और डायनोफाइसी की 4 प्रजातियां शामिल हैं।

पशुवर्ग[संपादित करें]

ज़ोप्लांकटन की 105 प्रजातियां, जिनमें (रोटीफेरा 41, प्रोटोजोआ 10, क्लैडोसेरा 14, कोपेपोडा 5, ओस्ट्राकोडा 9, कोलोप्टेरा 11 और डिप्टेरा 25) शामिल हैं। मछलियों की 43 प्रजातियां (प्राकृतिक और सुसंस्कृत), 27 प्रकार के पक्षी, 98 प्रकार के कीट और 10 से अधिक प्रजातियां सरीसृप और उभयचर (कछुए की 5 प्रजातियों सहित) हैं।

संदर्भ[संपादित करें]

  1. "Bhojpal, not Bhopal? Chouhan sparks debate". web.archive.org. 2011-03-07. अभिगमन तिथि 2021-10-29.
  2. web.archive.org https://web.archive.org/web/20070929235428/http://www.environmental-incentives.org/projects.htm#MP-Site3. अभिगमन तिथि 2021-10-29. गायब अथवा खाली |title= (मदद)
  3. "WWF - Bhoj Wetland". web.archive.org. 2007-03-03. अभिगमन तिथि 2021-10-29.
  4. Nigam, Jaya (2011-03-26). "भोपाल की बड़ी झील का नाम हुआ भोजताल". https://hindi.oneindia.com. अभिगमन तिथि 2021-10-29. |website= में बाहरी कड़ी (मदद)
  5. "WWF - Bhoj Wetland". web.archive.org. 2007-03-03. अभिगमन तिथि 2021-10-29.
  6. web.archive.org https://web.archive.org/web/20070929235428/http://www.environmental-incentives.org/projects.htm#MP-Site3. अभिगमन तिथि 2021-10-29. गायब अथवा खाली |title= (मदद)
  7. "Central Chronicle--Bhopal". web.archive.org. 2007-05-26. अभिगमन तिथि 2021-10-29.
  8. "Tourism of Bhopal - Madhya Pradesh". Webindia123.com (अंग्रेज़ी में). अभिगमन तिथि 2021-10-29.
  9. "WWF - Bhoj Wetland". web.archive.org. 2007-03-03. अभिगमन तिथि 2021-10-29.