भारत माता की जय

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

भारत माता की जय भारतीय स्वाधीनता संग्राम के समय सर्वाधिक प्रयुक्त होने वाला नारा था। 'भारत माता' का उल्लेख किरन चन्द्र बन्दोपाध्याय के नाटक में सर्वप्रथम आया था जो की सन् १८७३ में खेला गया था[1] भारत भूमि को जीवन का पालन करने वाली माता के रूप में रूपायित कर उसकी मुक्ति के लिए की गई कोशिशों में उसकी संतानों ने इस नारे का बार बार प्रयोग किया। भारत माता की विजय का उद्घोष करने वाली यह उक्ति स्वाधीनता संग्राम के सिपाहियों में नए उत्साह का संचार करती थी। आज भी इस नारे का प्रयोग राष्ट्रप्रेम या राष्ट्र निर्माण से जुड़े अवसरों, कार्यक्रमों एवं आंदोलनों में किया जाता है।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "आखिर कहां से आया भारत माता की जय का नारा...कौन है इसका जनक". Breaking Hindi news, India News, Latest News Headlines, World news in Hindi, Hindi news paper. 10 अप्रैल 2016. अभिगमन तिथि 6 जनवरी 2018.

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]