भारतीय चन्द्रयान अभियान

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

भारतीय चंद्र अन्वेषण कार्यक्रम जिसे चंद्रयान कार्यक्रम के रूप में भी जाना जाता है। चंद्रयान कार्यक्रम, (इसरो) द्वारा बाह्य अंतरिक्ष मिशन की एक श्रृंखला है। इस कार्यक्रम में चंद्रमा के लिये कक्षीयान और भविष्य चंद्र लैंडर और रोवर अंतरिक्ष यान को शामिल किया गया।[1]

कार्यक्रम संरचना[संपादित करें]

चंद्रयान (भारतीय चंद्र अन्वेषण कार्यक्रम) कार्यक्रम एक बहु मिशन कार्यक्रम है। तथा अब तक केवल एक ही कक्षीयान इसरो के पीएसएलवी रॉकेट का उपयोग चंद्रमा के लिए भेजा गया। तथा दूसरी अंतरिक्ष यान को 2018 में जीएसएलवी रॉकेट का उपयोग प्रक्षेपण के लिए तैयार किया जा रहा है।[1]

चरण 1: कक्षीय मिशन[संपादित करें]

पहले चरण में प्रथम चांद्र कक्षीयान का शुभारंभ शामिल किया गया।[1]

  • चंद्रयान-1,22 अक्टूबर 2008 को ध्रुवीय उपग्रह प्रक्षेपण यान रॉकेट पर सवार होकर प्रमोचित किया गया। चंद्रयान -1 अंतरिक्ष यान में मून इम्पैक्ट प्रोब पेलोड ने चंद्रमा पर पानी की खोज की। जो इसरो के लिए एक बड़ी सफलता थी। इसके अलावा चंद्रयान -1 मिशन ने कई तरह के मानचित्रण और चंद्रमा की वायुमंडलीय की रूपरेखा के रूप में कई अन्य कार्यों प्रदर्शन किया।[1]

चरण 2: लैंडर/रोवर[संपादित करें]

दूसरे चरण की तैयारी की जा रही है। जिसमे चंद्रमा पर लैंडिंग करने में सक्षम अंतरिक्ष यान को शामिल किया जायेगा। तथा चंद्रमा की सतह पर रोबोट रोवर तैनात किये जाएंगे।[1]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "Chandrayaan programme".