ब्रजावली भाषा

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
ब्रजावली
ব্ৰজাৱলী
बोलने का  स्थान भारत
विलुप्त unknown
भाषा परिवार
लिपि असमिया
भाषा कोड
आइएसओ 639-3 कोई नहीं

ब्रजावली (असमिया : ব্ৰজাৱলী) एक साहित्यिक भाषा थी जिसका उपयोग शंकरदेव ने अपने बरगीतों एवं अंकिया नाट की रचना के लिए किया था। यद्यपि वैष्णव धर्म के सन्दर्भ में उड़ीसा में तथा बंगाल में इसी प्रकार की भाषाएँ प्रयुक्त होतीं थीं, किन्तु ब्रजावली उनसे इस दृष्टि से अलग थी कि यह मैथिली भाषा पर आधारित थी (ब्रजभाषा पर नहीं)। इसके अलावा ब्रजावली में असमिय और पश्चिमी हिन्दी के भी कुछ छीटे थे। [1]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

  • ब्रजबुलि - एक अन्य साहित्यिक भाषा, जो मैथिली भाषा पर आधरित थी।

टिप्पणियाँ[संपादित करें]

  1. 'The Brajabuli idiom developed in Orissa and Bengal also. But as Dr Sukumar Sen has pointed out "Assamese Brajabuli seems to have developed through direct connection with Mithila" (A History of Brajabuli Literature, Calcutta, 1931 p1). This artificial dialect had Maithili as its basis to which Assamese and a sprinkling of Western Hindi was added.' (Neog 1980, p. 257f)

सन्दर्भ[संपादित करें]

  • Neog, Maheshwar (1980). Early History of the Vaishnava Faith and Movement in Assam. Delhi: Motilal Banarasidass.