बृहदांत्र कैन्सर

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
Colorectal cancer
वर्गीकरण एवं बाह्य साधन
Stomach colon rectum diagram-en.svg
Diagram of the stomach, colon, and rectum
आईसीडी-१० C18.-C20.
आईसीडी- 153.0-154.1
ICD-O: M8140/3 (95% of cases)
ओएमआईएम 114500
डिज़ीज़-डीबी 2975
मेडलाइन प्लस 000262
ईमेडिसिन med/413  med/1994 ped/3037

कोलोरेक्टल कैंसर में जिसे बृहदांत्र कैंसर या बड़ी आंत का कैंसर भी कहा जाता है, बृहदांत्र, मलाशय या उपांत्र में कैंसर का विकास शामिल होता है। इससे दुनिया भर में प्रतिवर्ष 655,000 मौतें होती हैं, संयुक्त राज्य में कैंसर का यह चौथा सबसे सामान्य प्रकार है और पश्चिमी दुनिया में कैंसर से होने वाली मौतों का तीसरा प्रमुख कारण है।[1][2] कोलोरेक्टल कैंसर, बृहदांत्र में एडिनोमेटस पौलिप से पैदा होता है। मशरूम के आकार की ये वृद्धि आमतौर पर सामान्य होती है, पर समय बीतते-बीतते इनमे से कुछ कैंसर में बदल जाती हैं। स्थानीयकृत बृहदान्त्र कैंसर का आमतौर पर बृहदांत्रोस्कोपी के माध्यम से निदान किया जाता है।

तेजी से बढ़ने वाले वे कैंसर जो बृहदांत्र की दीवार तक सीमित रहते हैं (TNM चरण I और II), सर्जरी द्वारा ठीक किये जा सकते हैं। यदि इस चरण में चिकित्सा नहीं हुई तो वे स्थानीय लिम्फ नोड तक फ़ैल जाते हैं (चरण III), जहां 73% को सर्जरी और कीमोथिरेपी द्वारा ठीक किया जा सकता है। दूरवर्ती अंगो को प्रभावित करने वाला मेटास्टैटिक कैंसर (चरण IV) का इलाज सामान्यतया संभव नहीं है, हालांकि कीमोथेरेपी जिन्दगी बढ़ा देती है और कुछ बेहद बिरले उदाहरणों में सर्जरी और कीमोथिरेपी दोनों से रोगियो को ठीक होते देखा गया है।[3] रेक्टल कैंसर में रेडिऐशन का इस्तेमाल किया जाता है।

कोशिकीय और आणविक स्तर पर, कोलोरेक्टल कैंसर Wnt सिग्नलिंग पाथवे में परिवर्तन के साथ शुरू होता है। जब Wnt (डब्लूएनटी) एक ग्राही को कोशिका पर बांध देता है तो इससे आणवीय घटनाओं की एक श्रृंखला शुरू हो जाती है। इस श्रृंखला का अंत β- कैटेनिन के केन्द्रक में जाने और DNA पर जीन को सक्रिय करने में होता है। कोलोरेक्टल कैंसर में इस श्रृंखला के साथ जीन क्षतिग्रस्त हो जाते हैं। प्रायः APC नाम का जीन जो Wnt पाथवे में "अवरोध" होता है, क्षतिग्रस्त हो जाता है। बिना क्रियाशील APC ब्रेक के Wnt पाथवे "चालू" स्थिति में अटक जाता है।[3]

अनुक्रम

संकेत और लक्षण[संपादित करें]

कोलोरेक्टल कैंसर का लक्षण बड़ी आंत में ट्यूमर और शरीर में जहां कहीं वह फैला है (मेटास्टेसिस), की स्थिति पर निर्भर करता है। इसके ढेरों लक्षण दूसरी बीमारियों में भी हो सकते हैं और इसीलिए यहां बताए गए लक्षणों में से कोई भी कोलोरेक्टल कैंसर की पहचान नहीं है। इसके चिन्ह और लक्षण, लोकल, कांस्टीट्यूशनल (समूचे शरीर को प्रभावित करने वाला) और मेटास्टैटिक (दूसरे अंगों में फैलने के कारण) में बांटे जा सकते हैं।

स्थानीय (लोकल)[संपादित करें]

यदि ट्यूमर गुदा के पास हो तो लोकल लक्षण साफ़ दिखाई देते हैं। बड़ी आंत की आदतों में परिवर्तन (कब्ज का हमला या दूसरे कारणों के आभाव में डायरिया होना) और ठीक से मलोत्सर्ग न होना (रेक्टल टेनेस्मस) और मल की मोटाई का कम होना; टेनेस्मस और मल के आकार में बदलाव, दोनों रेक्टल कैंसर की पहचान है। मल के रास्ते में खून के चमकदार लाल टुकड़ों के साथ लोवर गैस्ट्रो ईंटेस्टाईनल में रक्तश्राव और आंव में वृद्धि, कोलोरेक्टल कैंसर की तरफ इशारा कर सकते हैं। मेलेना, काले मल का रुका हुआ रूप, प्रायः ऊपरी गैस्ट्रो ईंटेस्टाईनल रक्तश्राव में होता है (असल में यह डुओडेंटल अल्सर का एक रूप है), पर कभी-कभी ऐसा कोलोरेक्टल कैंसर में भी होता है, जब कि रोग बड़ी आंत के शुरूआती हिस्से में हो.

आंत के पूरे लुमेन को भर देने लायक बड़ा ट्यूमर आंतों में उलझाव का कारण हो सकता है। इस स्थिति के लक्षण हैं कब्ज, एब्डामिन में दर्द, एब्डामिन में फैलाव और उल्टी. इससे उलझी और फूली हुई आंत में छेद हो जाता है और पेरिटनाइटिस नाम का रोग का कारण हो जाता है।

कोलोरेक्टल कैंसर के कुछ स्थानीय प्रभाव तब उभरते हैं जब रोग बढ़ी हुई अवस्था में होता है। उदार को महसूस करते हुए एक बड़े ट्यूमर का आसानी से पता चल सकता है और शारीरिक परीक्षण द्वारा डाक्टर इसे पहचान सकते हैं। रोग दूसरे अंगों में भी संक्रमण कर सकता है और पेशाब में रक्त या पेशाब में हवा (मूत्राशय में संक्रमण) या योनि श्राव (मादा के पुनरुत्पादन क्षेत्र में संक्रमण) का कारण बन सकता है।

शरीर-रचना सम्बन्धी (काँस्टीट्यूशनल)[संपादित करें]

यदि कोई ट्यूमर दीर्घकालिक अदृश्य रक्त श्राव का कारण है तो इससे लौह कमी वाली एनीमिया हो सकती है, इसके कारण थकान महसूस हो सकती है, पेल्पिटेशन हो सकता है और इसे पेलर (त्वचा में पीलापन) के रूप में पहचाना जा सकता है।

सामान्यतः घटी हुई भूख के कारण कोलोरेक्टल कैंसर में वजन घटाव भी हो सकता है।

और सामान्य कांस्टीट्यूशनल लक्षणों में रहस्यमय बुखार और कई पैरानियोप्लास्टिक सिंड्रोम में से कोई एक, हो सकता है। सबसे सामान्य पैरानियोप्लास्टिक सिंड्रोम है थ्रोम्बोसिस, प्रायः डीप वेन थ्रोम्बोसिस.

विक्षेपी (मेटास्टेसिक)[संपादित करें]

कोलोरेक्टल कैंसर प्रायः लीवर तक फ़ैल जाता है। इसका पता नहीं चलता, पर लीवर में अधिक जमाव से पीलिया और एब्डामिन में दर्द (कैप्सूल में खिंचाव के नाते) हो सकता है। यदि ट्यूमर का निक्षेप बाइल डक्ट में अटक जाता है तो पीलिया के साथ बाईलरी में उलझाव के दूसरे चिन्ह भी सामने आते हैं, मसलन पीला मल.

जोखिम के कारक[संपादित करें]

एक ट्यूबलर ग्रंथ्यर्बुद (छवि के बाएं) का सूक्ष्मग्राफ, कोलोनिक पौलिप का एक प्रकार और कोलोरेक्टल कैंसर का एक अग्रदूत. सामान्य कोलोरेक्टल श्लेषपुटी दाईं तरफ दिख रही है। एच एंड ई धब्बा.

अमेरिका में पूरी जिन्दगी में बृहदांत्र कैंसर होने का खतरा 7% के आस-पास है। कुछ ख़ास कारक किसी व्यक्ति में रोग के बढ़ने के खतरे को बढ़ा देते हैं।[4] इनमें शामिल हैं:

  • आयु: कोलोरेक्टल कैंसर विकसित होने का खतरा उम्र के साथ बढ़ जाता है। प्रायः 60 के दशक और 70 के दशक की आयु में अधिकतम मामले होते हैं जबकि 50 साल के पहले बृहदांत्र कैंसर का होना असामान्य है, जब तक कि परिवार के इतिहास में पहले बृहदांत्र कैंसर न रहा हो.[5]
  • बृहदांत्र के पौलिप्स, खासकर एडिनोमेटस पौलिप्स, बृहदांत्र कैंसर के लिए खतरे के कारक हैं। बृहदांत्रोस्कोपी के वक्त ही बृहदांत्र के पौलिप्स को निकलवा देने से पीछे होने वाले बृहदांत्र कैंसर का खतरा घट जाता है।
  • कैंसर का इतिहास. ऐसे व्यक्तियों के लिए जिनमें पहले कभी बृहदांत्र कैंसर की पहचान हुई हो और उसका इलाज हो चुका हो, उनमें भविष्य में इसके विकसित होने का खतरा होता है। उन महिलाओं में, जिनको डिम्बाशय, गर्भाशय या स्तन कैंसर हो चुका हो, उनमें कोलोरेक्टल कैंसर के विकसित होने का खतरा अपेक्षाकृत ज्यादा होता है।
  • आनुवंशिकता:
    • बृहदांत्र कैंसर का पारिवारिक इतिहास. खासकर किसी रिश्तेदार या दूर के रिश्तेदार को 55 की उम्र से पहले.[6]
  • धूम्रपान. कोलोरेक्टल कैंसर से धूम्रपान न करने वालों की अपेक्षा धूम्रपान करने वाले अधिक मरते हैं। एक अमेरिकी कैंसर सोसाईटी के अध्ययन ने पाया कि "कभी भी धूम्रपान न करने वाली औरतों की अपेक्षा 40% अधिक धूम्रपान करने वाली औरतों के कोलोरेक्टल कैंसर से मरने की संभावना होती हैं। धूम्रपान न करने वाले पुरुषों की अपेक्षा इस रोग से धूम्रपान करने वाले पुरुषों की मृत्यु की संभावना 30% अधिक होती है।"[7][8]
  • आहार. अध्ययन दिखाते हैं कि भोजन में रेड मीट[9] की अधिकता और ताजे फलों, सब्जियों, मुर्गे-अंडे और मछलियों की कमी से कोलोरेक्टल कैंसर होने का ख़तरा बढ़ जाता है। जून 2005 में यूरोपियन प्रास्पेक्टिव इनवेस्टिगेशन इन टू कैंसर एंड न्यूट्रीशन द्वारा किया गया एक अध्ययन सुझाता है कि ऐसे भोजन जिनमें प्रोसेस्ड और रेड मीट अधिक होता है तथा फाइबर कम होता है, का सम्बन्ध कोलोरेक्टल कैंसर के बढ़े हुए खतरे से होता है। प्रायः मछली खाने वाले लोगों में यह खतरा कम होते देखे गया है। हालांकि दूसरे अध्ययन इस दावे पर, कि अधिक फाइबर वाले भोजन से कोलोरेक्टल कैंसर का खतरा घट जाता है, संदेह व्यक्त करते हैं, उनके मुताबिक कम फाइबर वाले भोजन का सम्बन्ध दूसरे खतरों से है और यह तर्क गुमराह करने की तरफ ले जाता है।[10] अभी भी भोजन में फाइबर और कोलोरेक्टल कैंसर के खतरे के बीच का रिश्ता विवाद का विषय बना हुआ है।
  • शारीरिक निष्क्रियता. वे लोग, जो शारीरिक रूप से सक्रिय हैं, उनमें कोलोरेक्टल कैंसर के बढ़ने का खतरा कम होता है।
  • वायरस कुछ वाइरसों के संपर्क (मसलन मानवीय पैपीलोमा वाइरस के कुछ विशिष्ट प्रकार) से भी कोलोरेक्टल कैंसर का सम्बन्ध जुड़ सकता है।
  • प्राथमिक स्क्लेरोज़िंग कोलेंगाईटिस के कारण अल्सरेटिव कोलाइटिस के अतिरिक्त भी खतरा हो सकता है।
  • सेलेनियम का कम स्तर.[11][12]
  • आंतों के सूजन की बीमारी.[13][14] कोलोरेक्टल कैंसर के लगभग एक प्रतिशत मरीजों में पुराने अल्सरेटिव कोलाइटिस का इतिहास पाया गया। कोलोरेक्टल कैसर के खतरे का सम्बन्ध कोलाइटिस के हमले की उम्र से व्युत्क्रमानुपाती है और बृहदांत्रिक इन्वाल्वमेंट की सीमा तथा सक्रिय रोगों की अवधि के समानुपाती है। कोलोरेक्टल की पुरानी बीमारियों के शिकार मरीजों में कोलोरेक्टल कैंसर का खतरा सामान्य से ज्यादा है पर उनको अल्सरेटिव कोलाइटिस के मरीजों से अपेक्षाकृत कम खतरा है।[15]
  • पर्यावरणीय कारक.[13] कम विकसित देशों की तुलना में औद्योगिक देशों में खतरा अपेक्षाकृत अधिक होता है क्योंकि कम विकसित देशों में परंपरागत रूप से अधिक फाइबर/कम-चर्बी वाला भोजन किया जाता है। प्रवासी जनसंख्या के अध्ययन ने कोलोरेक्टल कैंसर के हेतुविज्ञान में पर्यावरणीय कारकों की भूमिका को बतलाया है, विशेष कर आहार संबंधी.
  • एक्जोजिनियस हार्मोन. पुरुषों और महिलाओं में कोलोरेक्टल कैंसर में समय प्रवृतियों में अंतर, कुछ लिंग-विशेष जोखिम कारक के विवरण में कोहोर्ट प्रभाव द्वारा बताया जा सकता है, एक संभावना है कि विवरण से एस्ट्रोजेन का सुझाव दिया गया है।[16] तथापि, कोलोरेक्टल कैंसर के जोखिम पर अंतः विकसित हार्मोन का प्रभाव का एक छोटा सा सबूत है। इसके विपरीत, यह भी प्रमाणित है कि हार्मोन प्रतिस्थापन चिकित्सा (HRT), टमोक्सीफेन, या मौखिक गर्भ निरोधकों जैसे एक्जोजिनियस एस्ट्रोजेन कोलोरेक्टल ट्यूमर से जुड़ा हो सकता है।[17]
  • शराब (अल्कोहल). शराब पीना, विशेष रूप से भारी मात्रा में पीना जोखिम का एक कारक हो सकता है।[18]
  • विटामिन बी 6 का सेवन विपरीत ढंग से कोलोरेक्टल कैंसर के जोखिम से जुड़ा होता है।[19]

अल्कोहल[संपादित करें]

WCRF पैनल की रिपोर्टFood, Nutrition, Physical Activity and the Prevention of Cancer: a Global Perspective ने निश्चयात्मक रूप से सबूत पाया है कि मादक पेय पुरुषों में कोलोरेक्टल कैंसर के जोखिम को बढ़ाता है।[20]

NIAAA ने रिपोर्ट दी है कि: "जानपदिक-रोगविज्ञान सम्बन्धी अध्ययन ने पाया है कि अल्कोहल खपत और कोलोरेक्टल कैंसर के बीच एक छोटा लेकिन दृढ़ खुराक-निर्भर जुड़ा है,[21][22] यहां तक कि जब फाइबर और अन्य आहारीय कारकों का नियंत्रण करने पर भी.[23][24] हालांकि वृहद मात्रा में अध्ययन के बावजूद भी उपलब्ध डेटा से करणीय को निर्धारित नहीं कर सकते."[18]

"भारी मात्रा में अल्कोहल के सेवन से भी कोलोरेक्टल कैंसर का खतरा बढ़ सकता है" (NCI). एक अध्ययन में पाया गया कि "जो लोग प्रति दिन 30 ग्राम अल्कोहल से अधिक का सेवन करते हैं (और विशेष कर वे लोग जो 45 ग्राम से अधिक का सेवन करते हैं), देखा जाता है कि ऐसे लोगों में कोलोरेक्टल कैंसर का खतरा थोड़ा अधिक होता है।"[25] एक और अध्ययन में पाया गया कि "आधार रेखा पर प्रतिदिन एक या एक से अधिक मादक पेय की खपत लगभग 70% से अधिक बृहदांत्र कैंसर के खतरे से जुड़ी होती है।"[25][26][27]

एक अध्ययन में पाया गया है कि "जो लोग स्पिरिट और बियर का सेवन करते हैं उनमें दोहरे से भी अधिक कोलोरेक्टल नियोप्लासिया का खतरा होता है, जो लोग वाइन का सेवन करते थे उनमें इसका जोखिम कम होता था। हमारे नमूने में, जो लोग प्रति सप्ताह बियर और स्पिरिट के आठ खुराक से ज्यादा का सेवन करते हैं स्कीनिंग बृहदांत्रोस्कॉपी द्वारा उनमें कम से कम पांच में से एक में कोलोरेक्टल नियोप्लासिया होने की संभावना होने का पता लगाया गया है।"[28]

अन्य शोध से पता चलता है कि "कोलोरेक्टल कैंसर के विकास के जोखिम को कम करने के लिए शराब को हल्का करके सेवन करना सबसे अच्छा तरीका है।[18]

अपने कोलोरेक्टल कैंसर पृष्ठ पर, राष्ट्रीय कैंसर संस्थान ने सूची में अल्कोहल को जोखिम कारक के रूप में दर्ज नहीं किया है[29] हालांकि, एक और पृष्ठ पर लिखा गया है कि "भारी मात्रा में अल्कोहल का इस्तेमाल कोलोरेक्टल कैंसर के खतरे को बढ़ा सकता है।"[30]

शराब का सेवन शुरूआती कोलोरेक्टल कैंसर का कारण हो सकता है।[31]

रोग-जनन[संपादित करें]

कोलोरेक्टल कैंसर एक बीमारी है जो उपकला कोशिकाओं से उत्पन्न होती है, जो गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल पथ के बृहदांत्र या रेक्टम को लाइनिंग करती है और Wnt सिग्नेलिंग पाथवे के साथ उत्परिवर्तन के परिणाम के रूप में होती है। कुछ उत्परिवर्तन आनुवांशिक होते हैं और अन्य उपार्जित होते हैं।[32][33] सभी कोलोरेक्टल कैंसर का सबसे सामान्य उत्परिवर्तित जीन APC जीन है, जो APC प्रोटिन का उत्पादन करता है। β केटनिन पर APC प्रोटीन "ब्रेक" है। APC के बिना, β केटनिन गुर्दे में चला जाता है और DNA को बांध देता है और अधिक प्रोटीन सक्रिय हो जाते हैं। (कोलोरेक्टल कैंसर में यदि APC उत्परिवर्तित नहीं होता तो β-केटनिन स्वयं हो जाता है).[3]

WNT-APC-बीटा केटनिन सिग्नलिंग पाथवे में दोषों के अलावा, कोशिका के कैंसरयुक्त बनने के लिए अन्य उत्परिवर्तनों का होना जरूरी होता है। p53 जीन द्वारा TP53 प्रोटीन उत्पादित होता है, सामान्य रूप से कोशिका विभाजन पर निगरानी रखता है और यदि उनमें Wnt पाथवे दोष होता है तो कोशिकाओं को नष्ट कर देता है। अंततः, एक सेल लाइन p53 जीन में उत्परिवर्तन प्राप्त करता है और एक आक्रामक कार्सिनोमा में एक ग्रंथ्यर्बुद से ऊतक बदल देता है। (कभी कभी p53 उत्परिवर्तित नहीं होता, लेकिन एक और सुरक्षात्मक प्रोटीन BAX स्वयं हो जाता है).[3]

एक अन्य एपोपटोटिक प्रोटीन TGF-β है। कम से कम कोलोरेक्टल कैंसर के आधे में, TGF-β में भी एक विकर्मण्यन उत्परिवर्तन होता है। (कभी-कभी TGF-β निष्क्रिय नहीं होता, लेकिन SMAD नाम का एक डाउनस्ट्रीम प्रोटीन स्वयं होता है).[3]

कुछ जीन ओंकोजीन होते हैं - वे कोलोरेक्टल कैंसर में अधिक अभिव्यक्त होते हैं। उदाहरण के लिए, RAS, RAF और PI3K जो सामान्य रूप से विकास कारकों के जवाब में कोशिका को विभाजित करने के लिए प्रोत्साहित करते हैं और उत्परिवर्तन के साथ जो कि उन्हें कोशिका ओवरसिग्नल करते हैं, उत्परिवर्तित हो सकते हैं। सामान्यतः PTEN PI3K को रोकता है, लेकिन कभी-कभी PTEN उत्परिवर्तित हो जाते हैं।[3]

रोग निदान[संपादित करें]

बृहदान्त्र कैंसर की एंडोस्कोपी छवि जिसे स्क्रीनिंग कोलोनोस्कोपी पर अवग्रह बृहदान्त्र में क्रोन रोग की सेटिंग में पाया गया

कोलोरेक्टल कैंसर के बढ़ने में कई साल लगते हैं और यदि आरम्भिक चरण में ही कोलोरेक्टल कैंसर का पता लगा लिया जाए तो इलाज की संभावना हो सकती है। इंस्टिट्यूट ऑफ मेडिसिन के नेशनल बोर्ड कैंसर पोलिसी ने 2003 में अनुमानित किया कि कोलोरेक्टल कैंसर के स्क्रीनिंग योजनाओं को मामूली तरीकों से लागू करने के प्रयासों से परिणाम स्वरूप 20 साल में 29 प्रतिशत कैंसर से होने वाली मौतों को रोका जा सकता है। इस के बावजूद, कोलोरेक्टल कैंसर स्क्रीनिंग दर काफी कम है।[34] इसलिए, बीमारी के लिए उन व्यक्तियों को स्क्रीनिंग के लिए सिफारिश की जाती है जो काफी खतरे में होते हैं। इस उद्देश्य के लिए कई अलग-अलग प्रकार के परीक्षण उपलब्ध हैं।

  • डिजिटल गुदा परीक्षा (DRE): चिकित्सक चिकनाई वाला एक दस्तानेयुक्त उंगली को गुदे के अंदर असामान्य भाग का पता लगाने के लिए डालते हैं। यह केवल गुदे के दूरस्थ भाग का पर्याप्त बड़े ट्यूमर का पता लगाता है लेकिन एक प्रारंभिक जांच परीक्षण के रूप में यह उपयोगी है।
  • मलीय गुप्त रक्त परीक्षण (FOBT): मल में रक्त के लिए एक परीक्षण. मल में अप्रत्यक्ष रक्त का पता लगाने के लिए दो प्रकार के परीक्षणों का इस्तेमाल किया जा सकता है, अर्थात गुआइक आधारित (रासायनिक परीक्षण) और इम्यूनोरासायनिक. विशिष्टता में अस्वीकृत कमी के बिना रसायन परीक्षण से इम्यूनो रासायन परीक्षण की सूक्ष्मग्राहिता बेहतर होती है।[35]
  • गुहांतदर्शन (एंडोस्कोपी):
    • अवग्रहाभेक्षा: एक प्रकाशित जांच (अवग्रहाभेक्षा) को मलाशय और निम्न बृहदांत्र में पौलिप और अन्य असमान्यताओं का पता लगाने के लिए अंदर डाला जाता है।
    • बृहदांत्र अंतरीक्षा: एक प्रकाशित जांच जिसे बृहदांत्र अंतरीक्षा कहा जाता है, उसे पौलिप और अन्य असमान्य तत्व, जो कैंसर का कारण हो सकते हैं, का पता लगाने के लिए मलाशय और पूरे बृहदान्त्र के अंदर डाला जाता है। एक बृहदांत्र अंतरीक्षा का एक फायदा यह है कि प्रक्रिया के दौरान अगर पौलिप पाया जाता है तो उसे तुरंत हटाया जा सकता है। बायोप्सी के लिए ऊतक को भी ले जाया जा सकता है।

संयुक्त राज्य अमेरिका में, बृहदांत्र अंतरीक्षा या FOBT और अवग्रहान्त्रदर्शन अधिमान्य स्क्रीनिंग विकल्प हैं।

स्क्रीनिंग के अन्य तरीके[संपादित करें]

  • दोहरी विपरीत बेरियम एनीमा (DCBE): सबसे पहले, बृहदान्त्र को साफ करने के लिए एक रात की तैयारी होती है। एक बेरियम सल्फेट युक्त एनीमा दिया जाता है, इसके बाद बृहदान्त्र में हवा का प्रवेश होता है और यह फूलने लगता है। जिसके परिणामस्वरूप बृहदान्त्र की भीतरी सतह पर बेरियम की एक पतली परत हो जाती है जो एक्स-रे चित्र पर दिखाई देती है। इस तरीके से कैंसर या कैंसर पूर्व एक बृहदान्त्र का पता लगाया जा सकता है। इस तकनीक से चपटी बृहदान्त्र (साधारण से कम) का पता नहीं लगाया जा सकता.
  • दोहरी विपरीत बेरियम एनीमा (ऊपर) में एक विशेष कंप्यूटेड टोमोग्राफी स्कैन के साथ आभासी अवग्रहान्त्रदर्शन एक्स-रे के स्थान पर आ जाता है और एक्सरे-चिकित्सक को जांच के लिए एक विशेष वर्कस्टेशन सॉफ्टवेयर की आवश्यकता होती है। पौलिप के लिए सूक्ष्मग्राही में यह तकनीक अवग्रहान्त्रदर्शन के निकट होती है। हालांकि, यदि कोई पौलिप पाया जाता है तो तुरंत किसी मानक अवग्रहान्त्रदर्शन द्वारा इसे हटाया जाना चाहिए.
  • मानक कंप्यूटेड टोमोग्राफी एक्सियल एक एक्स-रे विधि होती है जिसका इस्तेमाल कैंसर के प्रसार का निर्धारण करने के लिए किया जाता है, लेकिन यह पर्याप्त सूक्ष्मग्राही नहीं होती कि जांच के लिए इसका उपयोग किया जाए. कुछ कैंसरों को CAT स्कैन में खोजा जाता है जिसका इस्तेमाल अन्य कारणों के लिए किया जाता है।
  • रक्त परीक्षण: कुछ ख़ास प्रोटिन के बढ़े स्तर के लिए मरीज के रक्त का मापन, ट्यूमर लोड का एक संकेत दे सकते हैं। विशेष रूप से, रक्त में एंटीजन (CEA) का उच्च स्तर ग्रंथिकर्कटता की मेटास्टेसिस का संकेत कर सकता है। ये परीक्षण अक्सर झूठी सकारात्मक या झूठी नकारात्मक होती है और जांच के लिए की स्वीकार्य नहीं होती, यह रोग पुनरावृत्ति का मूल्यांकन करने के लिए उपयोगी हो सकते हैं।
  • उन परिवारों के लिए आनुवांशिक परामर्श और आनुवंशिक परीक्षण जिनके परिवार में बृहदांत्र कैंसर के वंशानुगत रूप हों, जैसे हेरीडिटारी नॉनपॉलीपोसिस कोलेरेक्टल कैंसर (HNPCC) या फैमियल एडेनोमाटस पॉलीपोसिस (FAP).
  • पोजीट्रान उत्सर्जन टोमोग्राफी (PET) एक 3-आयामी स्कैनिंग तकनीक है जहां बीमार को एक रेडियोधर्मी शर्करा सुई दी जाती है, जिससे उच्च चयापचय गतिविधि के साथ ऊतकों में चीनी इकट्ठा हो जाती है और चीनी से विकिरण के उत्सर्जन को मापने के द्वारा एक छवि बनाई जाती है। क्योंकि कैंसर की कोशिकाओं में अक्सर बहुत उच्च चयापचय दर होती है, इसका इस्तेमाल सौम्य और घातक ट्यूमर में अंतर करने के लिए किया जा सकता है। स्क्रीनिंग के लिए PET का इस्तेमाल नहीं किया जाता है और कोलोरेक्टल कैंसर मामलों की नियमित काम करने में (अभी तक) कोई जगह नहीं है।
  • आवर्ती कोलोरेक्टल कैंसर का पता लगाने के लिए पूर्ण-शरीर इमेजिंग PET सबसे सटीक नैदानिक परीक्षण है और नहीं जाने वाली बीमारी से जाने वाली बीमारी में अंतर करने का लागत-प्रभावी तरीका है। एक PET स्कैन का संकेत तब मिलता है जब एक प्रमुख प्रबंधन फैसला, ट्यूमर की उपस्थिति और स्तर के सटीक मूल्यांकन पर निर्भर करता है।
  • कोलोरेक्टल कैंसर के लिए मल DNA परीक्षण एक स्क्रीनिंग में उभरती तकनीक है। प्रीमलिग्नेंट अडीनोमास और कैंसर, अपनी कोशिकाओं से DNA मार्कर छोड़ते हैं जो पाचन प्रक्रिया के दौरान खंडित नहीं होते और मल में बने रहते हैं। कब्जा, जिसके बाद पीसीआर (PCR) होता है, परख के लिए DNA को खोजने के स्तर तक परिवर्धित करता है। नैदानिक अध्ययनों ने 71%–91% के कैंसर खोज संवेदनशीलता को दर्शाया है।[36]
  • उच्च C-रिएक्टिव प्रोटीन का स्तर जोखिम चिह्नक है।[37]

निगरानी[संपादित करें]

कार्सिनोमब्रायोनिक एंटीजन (CEA), लगभग सभी कोलोरेक्टल ट्यूमर पर पाया जाने वाला एक प्रोटीन है। CEA का इस्तेमाल विक्षेपी रोग के साथ निगरानी और रोगियो में इलाज की प्रतिक्रिया का आकलन किया जा सकता है। CEA का इस्तेमाल रोगियों में शल्य चिकित्सा के बाद इसकी पुनरावृत्ति की निगरानी के लिए भी किया जा सकता है।[कृपया उद्धरण जोड़ें]

रोग निदान विज्ञान[संपादित करें]

एक बृहदांत्र-उच्‍छेदन नमूना का सकल रूप जिसमें दो अडेनोमेटस पौलिप हैं (लेबल के ऊपर भूरा अंडाकार ट्यूमर, जो एक डंठल द्वारा सामान्य मटमैले अस्तर से जुदा है) और एक आक्रामक कोलोरेक्टल कार्सिनोमा (लेबल के ऊपर स्थित क्रेटर-सदृश, लाल, अनियमित आकार का ट्यूमर) .
एक बृहदांत्र-उच्‍छेदन नमूने का सकल रूप जिसमें एक आक्रामक कोलोरेक्टल कार्सिनोमा है (क्रेटर-सदृश, लाल, अनियमित आकार का ट्यूमर).
एक आक्रामक ग्रंथिकर्कटता का सूक्ष्मग्राफ (कोलोरेक्टल कैंसर का सबसे आम प्रकार). कैंसर कोशिकाएं केंद्र में और छवि के नीचे दाएं तरफ दिख रही हैं (नीली). सामान्य जैसी बृहदान्त्र-अस्तर कोशिकाएं छवि के ऊपरी दाएं भाग में दिख रही हैं।
हेमाटोज़ाइलिन और इओसिन धब्बे वाली ब्रिहदांत्र कार्सिनोइड की हिस्टोपेथोलोजिक छवि.

आमतौर पर यह सूचित किया गया है कि ट्यूमर का रोग निदान बायो्प्सी से लिए गए ऊतक के विश्लेषण या सर्जरी है। एक रोग निदान विज्ञान रिपोर्ट में आमतौर पर कोशिका प्रकार और ग्रेड का विवरण होता है। सबसे आम बृहदांत्र कैंसर कोशिका प्रकार ग्रंथिकर्कटता है जो 95% मामलों में होती है। दूसरे, दुर्लभ प्रकारों में लिंफोमा और स्क्वैमस कोशिका कार्सिनोमा शामिल है।

दाएं हिस्से में कैंसर (आरोही बृहदान्त्र और सेसम) एक्जोफिटिक की ओर प्रवृत होते हैं जो कि बॉवेल दीवार में एक स्थान से ट्यूमर आगे की ओर बढ़ते हैं। यह शायद ही कभी मल की रुकावट का कारण बनता है और एनीमिया जैसे लक्षणों के साथ प्रस्तुत होता है। वाम पक्षीय ट्यूमर परिधीय हो जाते हैं और एक नैपकिन रिंग की तरह आंत्र में बाधा कर सकते हैं।

ग्रंथिकर्कटता एक घातक एपिथेलियल ट्यूमर है, जो कोलोरेक्टल मुकोसा के एपिथेलियम ग्रंथियों से पैदा होती है। यह दीवार पर आक्रमण करती है और शलेष्मल पेशिका, श्लैषमिक झिल्ली और पेशिका प्रोप्रिया पर घुसपैठ करती है। ट्यूमर कोशिकाएं अनियमित ट्यूबलर संरचना, आश्रयी बहुस्तरण, कई लुमेन, घटित स्ट्रोमा ("सतत्" पहलू) का वर्णन करती है। कभी-कभी, ट्यूमर कोशिकाएं, गैर-संसिक्त और स्रावित श्लेष्मा होती हैं, जो ग्रंथिकर्कटता का उत्पादन करने वाले बड़े श्लेष्मा/कोलाइड (ऑप्टीकली "खाली स्थान") पर आक्रमण करती है - श्लेष्मरस (कोलाइड), खराब रूप से विभेदित. अगर श्लेष्मा ट्यूमर कोशिका के अंदर रहता है, यह परिधि में नाभिक को धक्का देती है- "साइनेट- रिंग सेल." वास्तुकला ग्रंथियां, सेलुलर प्लेमोरफिज्म और प्रभावी पैटर्न के उत्पादित श्लेष्मा झिल्ली, ग्रंथिकर्कटता पर निर्भर विभेदन की तीन डिग्री को प्रस्तुत कर सकती है: निरोग, कामचलाऊ और खराब रूप से विभेदन.[38]

अधिकांश कोलोरेक्टल कैंसर ट्यूमर को सकारात्मक साइक्लोक्सिजिनेज-2 (COX-2) समझा जाता है। इस एंजाइम को आम तौर पर स्वस्थ बृहदान्त्र ऊतक में नहीं पाया जाता, लेकिन असामान्य सेल विकास को बढ़ावा देने वाला माना जाता है।

चरण[संपादित करें]

बृहदांत्र कैंसर चरण एक विशेष कैंसर के प्रवेश की मात्रा का एक अनुमान है। नैदानिक और अनुसंधान प्रयोजनों के लिए इसका इस्तेमाल किया जाता है और इलाज के लिए सबसे अच्छे तरीके को निर्धारित करते हैं। कोलोरेक्टल कैंसर चरणिंग के लिए स्थानीय आक्रमण के विस्तार, लसिका नोड भागीदारी स्तर और जहां कहीं दूरस्थ विक्षेप होता है, प्रणालियों पर निर्भर करते हैं।

सर्जरी होने के बाद और पैथोलोजी की समीक्षा के बाद ही निश्चित चरण रिपोर्ट तैयार की जा सकती है। कम से कम आक्रमण के साथ घातक वृंतमय पौलिप बृहदांत्रोस्कोपी के बाद भी इसे निर्धारित किया जा सकता है जो कि सिद्धांत के लिए एक अपवाद है। गुदा कैंसर के शल्यक्रिया चरण का निर्धारण अल्ट्रासाउंड इंडोस्कोपिक के साथ किया जा सकता है। मेटास्टेसिस के चरण में उदर अल्ट्रासाउंड, CT, PET स्कैन और अन्य इमेजिंग अध्ययन शामिल है।

कैंसर की अमेरिकी संयुक्त समिति (AJCC) के अनुसार सबसे आम चरण प्रणाली TNM है (ट्यूमर/नोड्स/मेटास्टेसिस के लिए है). TNM प्रणाली तीन श्रेणियों पर आधारित एक नंबर प्रदान करती है। "T" आंत्र दीवार पर आक्रमण के स्तर को, "N" लसीका नोड भागीदारी स्तर और "M" विक्षेप के स्तर को इंगित करता है। कैंसर के व्यापक स्तर को आमतौर पर I, II, III, IV के रूप में उद्घृत किया जाता है, जो कि पूर्वानुमान द्वारा TNM समूहीकृत मूल्य से व्युत्पन्न होता है; उच्च संख्या एक अधिक उन्नत कैंसर और एक बुरे परिणाम की संभावना को दर्शाता है। इस प्रणाली के विवरण नीचे ग्राफ में हैं:

AJCC चरण TNM चरण कोलोरेक्टल कैंसर के लिए TNM चरण मापदंड[39]
चरण 0 Tis N0 M0 Tis: श्लेषमल तक सीमित ट्यूमर; कैंसर-इन -सीटू
चरण I T1 N0 M0 T1: ट्यूमर का अवश्लैषमकला पर आक्रमण
चरण I T2 N0 M0 टी2: ट्यूमर का पेशिका अस्तर पर आक्रमण
चरण II-A T3 N0 M0 T3:ट्यूमर का सबसेरोसा या उससे परे पर आक्रमण (अन्य अंगों को शामिल किए बिना)
चरण II-B T4 N0 M0 T4: ट्यूमर सन्निकट अंगों पर आक्रमण करता है या आंत पेरीटोनियम में छेद करता है।
चरण III-A T1-2 N1 M0 N1: मेटास्टेसिस करने के लिए 1 से 3 क्षेत्रीय लसीका नोड T1 or T2.
चरण III-B T3-4 N1 M0 N1: मेटास्टेसिस करने के लिए 1 से 3 क्षेत्रीय लिम्फ नोड्स. T3 or T4.
चरण III-C कोई भी T, N2 M0 N2: मेटास्टेसिस करने के लिए 4 या अधिक क्षेत्रीय लिम्फ नोड्स. कोई टी.
चरण IV कोई भी T, कोई N, M1 M 1: दूर मेटास्टेसिस मौजूद कोई T, कोई N.

ड्यूक प्रणाली[संपादित करें]

एक लसीका नोड से एक कोलोरेक्टल ग्रंथिकर्कटता मेटास्टेसिस का सूक्ष्मग्राफ.कैंसर कोशिकाएं छवि के शीर्ष केन्द्र के बाएं हैं, ग्रंथियों में (वृत्तिय/अंडाकार संरचनाएं) और इओसिनोफिलिक (उज्ज्वल गुलाबी). एच एंड ई धब्बा.

ड्यूक वर्गीकरण एक पुरानी और कम जटिल चरण प्रणाली है, जो TNM प्रणाली से पहले की है और पहली बार इसे 1932 में डॉ॰ कुथबर्ट ड्यूक्स द्वारा प्रस्तावित किया गया था, यह चरणों की पहचान इस रूप में करती है:[40]

  • A - आंत्रिक दीवार तक सीमित ट्यूमर
  • B - आंत्रिक दीवार के माध्यम से ट्यूमर हमला
  • C - लसीका नोड की भागीदारी के साथ (इसे पुनः C1 लसीका नोड भागीदारी में प्रतिभाग किया जाता है जहां शिखर नोड शामिल नहीं होता और C2 जहां शिखर लसीका नोड शामिल होता है)
  • D - दूरस्थ विक्षेप के साथ

अभी भी कुछ कैंसर केन्द्र इस चरण प्रणाली का उपयोग करते हैं।

रोकथाम[संपादित करें]

अधिक निगरानी, बेहतर जीवन शैली और संभवतः रासायन निवारक आहार तत्वों के प्रयोग के माध्यम से अधिकांश कोलोरेक्टल कैंसर का निवारण किया जा सकता है।

निगरानी[संपादित करें]

अधिकांश कोलोरेक्टल कैंसर ग्रंथ्यर्बुद पौलिप से उत्पन्न होते हैं। बृहदांत्रोस्कोपी के दौरान इन घावों का पता लगाया जा सकता है और इन्हें हटाया जा सकता है। अध्ययन दर्शाते हैं कि यह प्रक्रिया कैंसर से मौत के जोखिम को 80% कम करती है, बशर्ते इसकी शुरूआत 50 साल की उम्र में हो और हर 5 या 10 साल में दोहराया जाता हो.[41]

राष्ट्रीय व्यापक कैंसर नेटवर्क के वर्तमान दिशा निर्देशों के अंतर्गत बृहदांत्र कैंसर के नकारात्मक परिवार इतिहास और ग्रंथि-अर्बुद के लिए नकारात्मक व्यक्तिगत इतिहास या सूजन आंत्र रोग के साथ औसत जोखिम व्यक्ति को सलाना गुप्त मलीय रक्त परीक्षण के साथ हर पांच वर्ष में लचीला अवग्रहाभेक्षा कराना होता है या हर 10 वर्ष में क्लोनोस्कॉपी की बजाए स्क्रीनिंग के लिए दोहरे विपरीत बेरियम एनिमा एक अन्य स्वीकृत विकल्प है (जो कि वर्तमान में देखभाल का स्वर्ण-मानक है).

जीवन शैली और पोषण[संपादित करें]

विभिन्न देशों में कोलोरेक्टल कैंसर घटना की तुलना यह सुझाव देती है कि निष्क्रिय, अत्याहार (अर्थात, उच्च केलोरिक का सेवन) और शायद अधिक मांसाहार (लाल या संसाधित) करने वाले व्यक्ति में कोलोरेक्टल कैंसर के खतरे को बढ़ा सकता है। इसके विपरीत, एक स्वस्थ शरीर का वजन, शारीरिक फिटनेस और अच्छे पोषण से कैंसर के खतरे कम हो जाती हैं। तदनुसार, जीवन शैली में परिवर्तन से कोलोरेक्टल कैंसर का खतरा ज्यादा से ज्यादा 60-80% कम हो सकता है।[42]

अभी हाल तक यह माना जाता था कि आहारीय फाइबर का एक उच्च सेवन (फल आहार, सब्जियां, अनाज और अन्य उच्च फाइबर खाद्य उत्पादों से) कोलोरेक्टल कैंसर और ग्रंथ्यर्बुद के जोखिम को कम कर देता है। इस सिद्धांत के परीक्षण में अभी तक के सबसे बड़े अध्ययन में (16 साल में 88,757 विषयों की खोज की गई है), यह पाया गया है कि एक फाइबरयुक्त आहार बृहदान्त्र कैंसर के जोखिम को कम नहीं करता.[43] 2005 के एक मेटा-विश्लेषण अध्ययन इन निष्कर्षों का समर्थन करता है।[44]

जन स्वास्थ्य के हार्वर्ड स्कूल के अनुसार: "फाइबर आहार का स्वास्थ्य पर प्रभाव: लम्बे समय से जिसे पूर्ण आहार का हिस्सा माना जाता है, वह फाइबर विभिन्न प्रकार के रोगों के उपजने के खतरे को कम करता है जिसमें हृदय रोग, मधुमेह, विपुटीय रोग और कब्ज शामिल हैं। बावजूद इसके कई लोगों को लग सकता है कि अगर बृहदान्त्र कैंसर के खतरे में फाइबर का असर होता है तो संभवतः बहुत कम होता है।[45]

रासायनिक रोकथाम[संपादित करें]

ऊपर उद्धृत फाइटोरासायनिक और अन्य खाद्य घटकों जैसे कैल्शियम या फोलिक एसिड (एक B विटामिन) और NSAID जैसे एस्पिरिन सहित 200 से अधिक तत्व पूर्व-नैदानिक विकसित मॉडल में कैंसरजनन को कम करने में सक्षम होते हैं: कुछ अध्ययनों में चूहों के बृहदान्त्र में कैसरजन-प्रेरित ट्यूमर के अवरोधन को दिखाया गया है। अन्य अध्ययनों में उत्परिवर्तित चूहों (न्यूनतम चूहों) में सहज आंत्र पौलिप के प्रबल अवरोध को दिखाया गया है। मानव स्वयंसेवकों में रासायनरोकथाम नैदानिक परीक्षणों में छोटे रोकथाम को दिखाया गया है, लेकिन कुछ हस्तक्षेप अध्ययन वर्तमान में पूरे कर लिए गए हैं। "रसायन रोकथाम डाटाबेस" में मनुष्य और जानवरों में रसायन रोकथाम के तत्वों के सभी प्रकाशित वैज्ञानिक अध्ययनों के परिणाम को दिखाता है।[46]

एस्पिरिन रसायनरोगनिरोध[संपादित करें]

कोलोरेक्टल कैंसर को रोकने के लिए नियमित रूप से एस्पिरिन का सेवन नहीं होना चाहिए, यहां तक कि उन लोगों को भी इसका इस्तेमाल नहीं करना चाहिए जिनके परिवार में इस रोग का इतिहास हो, क्योंकि एस्पिरन की उच्च खुराक (300 mg या अधिक) से रक्त के बहने और गुर्दे के विफल हो जाने का खतरा होता है और यह इसके संभावित लाभ को दबा देती है।[47]

U.S. Preventive Services Task Force (USPSTF) के एक नैदानिक अभ्यास दिशानिर्देश में एस्पिरिन लेने के खिलाफ सिफारिश की है (grade D recommendation).[48] टास्क फोर्स ने स्वीकार किया कि एस्पिरिन कोलोरेक्टल कैंसर की घटनाओं को कम कर सकता है, लेकिन "निष्कर्ष निकाला कि एस्पिरिन की उच्च खुराक और कोलोरेक्टल कैंसर की रोकथाम के लिए NSAID के उपयोग लाभ को दबा देती है". बाद में एक मेटा-विश्लेषण ने निष्कर्ष निकाला कि "अनियमित नियंत्रित परीक्षण में 10 साल की विलंबता के साथ लगभग 5 वर्षो के लिए प्रतिदिन 300 mg या उससे अधिक एस्पिरन का सेवन कोलोरेक्टल कैंसर के प्राथमिक रोक में प्रभावी होता है".[49] हालांकि, लम्बे समय के लिए 81 मिलीग्राम से अधिक प्रति दिन खुराक लेने से रक्त बहाव में वृद्धि हो सकती है।[50]

कैल्शियम[संपादित करें]

2002 में प्रकाशित अनियमित नियंत्रित परीक्षण के कोक्रेन कोलाबोरेशन द्वारा मेटा विश्लेषण ने यह निष्कर्ष निकाला कि "हालांकि दो RCT के सबूतों ने यह सुझाव दिया है कि कैल्शियम अनुपूरण कोलोरेक्टल ग्रंथ्यर्बुद पौलिप के रोकथाम में एक परिनियमन डिग्री का योगदान दे सकता है, लेकिन कोलोरेक्टल कैंसर के रोकथाम के लिए इसके सामान्य प्रयोग की सिफारिश का पर्याप्त सबूत गठित नहीं होता."[51] बाद में, महिला स्वास्थ्य पहल (WHI) द्वारा एक अनियमित नियंत्रित परीक्षण ने नकारात्मक परिणामों की सूचना दी.[52] द्वितीय अनियमित नियंत्रित परीक्षण ने सभी कैंसरो में घटौति की सूचना दी लोकिन विश्लेषण के लिए उनके पास अपर्याप्त कोलोरेक्टल कैंसर थे।[53]

विटामिन D[संपादित करें]

राष्ट्रीय कैंसर संस्थान द्वारा की गई एक वैज्ञानिक समीक्षा में कोलोरेक्टल कैंसर की रोकथाम में विटामिन डी को फायदेमंद पाया गया था, जिसमें 80 nmol/L के रक्त स्तर के साथ या 50 nmol/L से कम की तुलना में 72% जोखिम में घटौति के साथ उच्च रूप से जुड़े होने के एक व्युत्क्रम सम्बन्ध को दर्शाया गया था।[54]. हेजहॉग सिग्नल ट्रांसडक्शन का अवरोधन एक संभावित यंत्र है।[55]

प्रबंधन[संपादित करें]

कैंसर का उपचार उसके चरण पर निर्भर होता है। प्रारंभिक चरण में ही जब कोलोरेक्टल कैंसर का पता चल जाता है (कम प्रसार के साथ) तो इसका इलाज किया जा सकता है। हालांकि, अंतिम चरण में इसका पता चलने पर (जब दूरस्थ विक्षेप मौजूद हो) इसके इलाज की संभावना कम होती है।

सर्जरी आज भी इसका प्राथमिक उपचार बनी हुई है, जबकि व्यक्तिगत रोगी को चरण और अन्य चिकित्सा कारकों के आधार पर रसायन चिकित्सा और/या रेडियोथेरेपी की सिफारिश की जा सकती है।

क्योंकि बृहदान्त्र का कैंसर, मुख्य रूप से बुजुर्गों को प्रभावित करता है और एक विशेष मरीज का इलाज कितने तेजी से करना है इसका पता लगाना एक चुनौती हो सकती है, विशेष कर सर्जरी के बाद. नैदानिक परीक्षण यह सुझाव देता है कि बुजुर्ग रोगी की स्थिति अच्छी है यानी "अन्यथा फिट" अगर उनके पास सर्जरी के बाद सहायक रसायन चिकित्सा है, इसलिए आक्रामक प्रबंधन के लिए केवल कालानुक्रमिक उम्र का विपरीत संकेत नहीं होनी चाहिए.[56]

सर्जरी (शल्य-चिकित्सा)[संपादित करें]

सर्जरी को उपचारात्मक, प्रशामक, बाईपास, फेकल डाइवर्सऩ, या ओपन-एंड-क्लोज में वर्गीकृत किया जा सकता है।

ट्यूमर के स्थानीयकृत हो जाने से उपचारात्मक सर्जिकल उपचार किया जा सकता है।

  • काफी शुरूआती कैंसर जिसका विकास पौलिप के भीतर होता है, इसे क्लोनोस्कॉपी के दौरान पौलिप (i.e., पुर्वंगक-उच्छेदन) को बाहर निकालने के द्वारा अक्सर उपचार किया जा सकता है।
  • बृहदान्त्र कैंसर में, एक अधिक उन्नत ट्यूमर जिसमें आमतौर पर बृहदान्त्र के खंड जिसमें पर्याप्त मार्जिन और स्थानीय आवर्तन को कम करने के लिए आंत्रयोजनी और लिम्फ नोड के अतिवादी एन-ब्लॉक उच्छेदन को हटाने के लिए सर्जरी की आवश्यकता होती है। यदि संभव हो तो, बृहदान्त्र के शेष भागों को एक साथ सम्मिलत किया जाता है ताकी एक कार्यात्मक बृहदान्त्र का निर्माण हो सके. कुछ मामलों में जब सम्मिलन संभव न हो, एक द्वार (कृत्रिम द्वार) बनाया जाता है।
  • गुदा कैंसर पर उपचारात्मक सर्जरी में कुल मेसोरेक्टल उच्छेदन (पूर्वकालीक निम्न उच्छेदन) या उदरमूलाधारी उच्छेदन शामिल है।

कई मेटास्टेसिस के मामले में प्रशामक उपचार (गैर उपचारात्मक) ट्यूमर रक्तस्त्राव, आक्रमण और अपचयी प्रभाव के कारणों द्वारा प्राथमिक ट्यूमर के उच्छेदन के रुग्णता को कम करने के क्रम में अतिरिक्त सहायता दी जाती है। पृथक लीवर मेटास्टेटिस का सर्जिकल निष्कासन हालांकि सामान्य होता है और चयनित रोगियों में उपचारात्मक हो सकता है; विकसित रासायन उपचार ने रोगियों की संख्या में वृद्धि की है जिन्हें पृथक लीवर मेटास्टेटिस को हटाने के लिए सर्जिकल निष्कासन की पेशकश की गई है।

यदि ट्यूमर आसन्न महत्वपूर्ण संरचनाओं द्वारा आक्रमित हो जिससे उच्छेदन तकनीकी रूप से कठिन बन जाता है, तब शल्य चिकित्सक ट्यूमर के लिए बायपास (इलियोट्रांसवर्स बायपास) को चुनना पसंद करता है या स्टोमा के माध्यम से एक प्रॉक्सिमल मलीय पथांतरण करता है।

सबसे खराब स्थिति ओपन-एंड-क्लोज सर्जरी होगी, जब शल्य चिकित्सक ट्यूमर को विच्छेदन में अयोग्य पाते हैं और छोटी आंत उसमें शामिल होती है; कुछ लोगों का यह मानना है कि इससे अधिक कोई अन्य प्रक्रिया रोगी के लिए फायदे की बजाय नुकसान अधिक करेगी. लेप्रोस्कोपी और बेहतर इमेजिंग रेडियोधर्मी के आगमन के बाद यह असामान्य है। इस प्रकार के अधिकांश मामलों में पहले से चली आ रही ओपन एंड क्लोज प्रक्रिया की बजाए उन्नत निदान किया जाता है और सर्जरी से बचा जाता है।

लेप्रोस्कोपिक सहायता युक्त बृहदांत्र-उच्‍छेदन न्यूनतम आक्रमणशील तकनीक होती है जो कि उच्छेदन के आकार को छोटा कर सकती है और ऑपरेशन के बाद दर्द को कम कर सकती है।

जैसा कि किसी भी अन्य शल्य प्रक्रिया के साथ होता है, कोलोरेक्टल सर्जरी का परिणाम जटिलताओं में फलित हो सकता है जिनमें शामिल हैं

  • घाव संक्रमण, स्‍फुटन (घाव की फोड़) या हर्निया
  • सम्मिलन टूटना, फोड़ा बनना या नालव्रण का गठन होना और / या पेरीटोनिटिस
  • रक्तार्बुद के साथ या बिना रक्तस्त्राव
  • रुकावट आंत्र में परिणामस्वरूप चिपकाव. 1997 में सर्जरी किए रोगियों पर किए गए अध्ययन में पाया गया कि उनमें से अस्पताल में पुनः भर्ती का खतरा पानप्रोक्टोकोलेक्टॉमी के बाद 15%, कूल बृहदांत्र-उच्‍छेदन के बाद 9% और शेषांत्रछिद्रीकरण के बाद 11% पाया गया।[57]
  • आसन्न अंग चोट; छोटी आंतों, मूत्रवाहिनी, प्लीहा, या मूत्राशय के लिए सबसे अधिक सामान्य.
  • कार्डियोरैसपाइरेटरी जटिलताएं जैसे दौरे रोधगलन, निमोनिया, अरेथमिया, फुफ्फुसीय अन्त:शल्यता आदि.

रासायन उपचार[संपादित करें]

मेटास्टेसिस के विकास की संभावना को कम करने, ट्यूमर आकार को छोटा करने, या ट्यूमर की बढ़ने की गति को धीमी करने के लिए रसायन चिकित्सा का इस्तेमाल किया जाता है रसायन चिकित्सा का इस्तेमाल अक्सर सर्जरी के बाद (सहायक), सर्जरी से पहले (नव-सहायक), या प्राथमिक चिकित्सा (प्रशामक) के रूप में लागू किया जाता है। यहां सूचीबद्ध उपचार सुधार करने और/या मृत्यु दर को कम करने के लिए चिकित्सीय परीक्षण में दिखाया गया है और अमेरिकी खाद्य और औषधि प्रशासन द्वारा उपयोग के लिए अनुमोदित है। पेट के कैंसर में, आम तौर पर सर्जरी के बाद रसायन चिकित्सा का इस्तेमाल तभी किया जाता है जब कैंसर लिम्फ नोड्स (चरण III) में फैल गया हो.

नैदानिक अर्बुदविज्ञान के अमेरिकन सोसायटी के 2008 के वार्षिक बैठक में शोधकर्ताओं ने घोषणा की कि कोलोरेक्टल कैंसर रोगी जिनके KRAS जीन में उत्परिवर्तन होते हैं, वे एक विशेष प्रकार के उपचार के प्रति कोई प्रतिक्रिया नहीं दिखाते, अधिचर्मिक वृद्धि कारक रिसेप्टर (EGFR) को जो रोकते हैं--उनका नाम एर्बीटक्स (सेटुक्सीमब) और वेक्टिबिक्स (पेनिटुमुमब) है।[59] ASCO की सिफारिशों के बाद, रोगियों को EGFR- बाधक औषधी देने से पहले रोगियों का अब KRAS जीन उत्परिवर्तन परीक्षण किया जाना चाहिए.[60] जुलाई 2009 में, अमेरिकी खाद्य एवं औषधी प्रशासन (FDA) ने दो एंटी-EGFR मोनोक्लोनल एंटीबॉडी औषधी के लेबल को अद्यतन किया (पेनिटुमुमब (वेक्टिबिक्स) और सेटुक्सीमब (एर्बीटक्स)) जो कि मेटास्टेटिक कोलोरेक्टल कैंसर के इलाज के लिए KRAS उत्परिवर्तन के बारे में सूचना को शामिल करने का संकेत देता है।[61]

हालांकि, सामान्य KRAS संस्करण होने से इन दवाइयों से रोगी को लाभ होने की गारंटी नहीं होती.[59]

उत्तरी कैरोलिना विश्वविद्यालय के लाइनबर्गर कोम्प्रिहेंसिव कैंसर केंद्र के अर्बुदविज्ञान के निदेशक रिचर्ड गोल्डवर्ग, MD, ने कहा कि "KRAS उत्परिवर्तन के साथ परेशानी यह है कि यह EGFR के नीचे की ओर है।" "यदि वहां प्लग के नीचे लघु अनुप्रवाह हो तो इससे कोई फर्क नहीं पड़ता अगर हम सॉकेट में प्लग करते हैं। उत्परिवर्तन [EGFR] एक स्विच में मुढ़ता है जो कि हमेशा ऑन रहता है।" लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि यह सामान्य होगा, या जंगली प्रकार, KRAS एक असफल-सुरक्षित है। गोल्डबर्ग चेताते हैं कि "यह पूर्ण विश्वसनीय नहीं है" "यदि आपमें जंगली प्रकार का KRAS है, तो आपके द्वारा और अधिक प्रतिक्रिया देने की संभावना होगी, लेकिन इसकी कोई गारंटी नहीं है।" जंगली प्रकार के KRAS के साथ इन दवाइयों से ट्यूमर करीब 40 प्रतिशत तक सिकुड़ती हैं और प्रगति होती है और समग्र रूप से उत्तर जीविता में वृद्धि होती है।

ऐसे रोगियों को EGFR-बाधक दवा न देकर जिन पर इसका असर नही होगा ऐसे मरीजों के KRAS जीन परीक्षण से प्रतिवर्ष लगभग $740 मिलियन बचाया जा सकता है। "इस धारणा के साथ कि क्रास उत्परिवर्तन वाले रोगी (सभी रोगियों का 35.6%) सेटुक्सीमब स्वीकार नहीं करेंगे (अन्य अध्ययनों में रोगियों में 46% तक क्रास उत्परिवर्तन पाया गया है), सैद्धांतिक दवा की लागत बचत $753 मिलियन होगी; क्रास परीक्षण की लागत को देखते हुए कुल बचत $740 मिलियन की होगी."[62]

विकिरण चिकित्सा[संपादित करें]

बृहदान्त्र कैंसर में रेडियोचिकित्सा का नियमित तौर पर इस्तेमाल नहीं किया है, क्योंकि यह आंत्रशोथ विकिरण की ओर अग्रसर हो सकता है और बृहदान्त्र के विशिष्ट भागों को लक्षित करना मुश्किल है। यह विकिरण के लिए काफी आम है जिसका इस्तेमाल गुदा कैंसर में किया जाता है, क्योंकि मलाशय उतना कार्रवाई नहीं करता जितना बृहदान्त्र और इस प्रकार लक्ष्य को पाने का आसान तरीका होता है। संकेतों में शामिल हैं:

  • बृहदान्त्र कैंसर
    • दर्द राहत और उपशमन - एकत्रित विक्षेपी ट्यूमर पर लक्षित होते हैं अगर वे महत्वपूर्ण संरचनाओं को सम्पीड़ित करते हैं और/ या दर्द का कारण होते हैं
  • गुदा कैंसर
    • नवसहौषधी- मलाशय के बाहर तक ट्यूमर फैल जाने या क्षेत्रीय लिम्फ नोड्स तक ट्यूमर फैल जाने वाले रोगी के लिए सर्जरी से पहले आवर्तन के खतरे को कम करने के क्रम में दिया जाता है या कम आक्रामक सर्जरी दृष्टिकोण के अनुमति देने के लिए दिया जाता है (जैसे एबडोमिनो-पेरिनिएल उच्छेदन की बजाए एक पूर्वकालिक उच्छेदन के रूप में). निम्न और मध्यम मलाशय के स्थानीय रूप से उन्नत ग्रंथिकर्कटता में, संवरणी अपर्याप्त सर्जरी के दर के रूप में अच्छा परिणाम हासिल करने के लिए रासायन रेडियोचिकित्सा में अतिताप को जोड़ा जाता है।[63]
    • सह-औषध- जहां एक ट्यूमर मलाशय में छेद करता है या क्षेत्रीय लसीका नोड्स को शामिल करता है (AJCC T3 या T4 ट्यूमर या ड्यूक के B या C ट्यूमर)
    • प्रशामक - ट्यूमर बोझ को कम करने के क्रम में राहत देने के लिए या लक्षणों को रोकने के लिए

कभी-कभी रसायन चिकित्सा तत्वों का इस्तेमाल अगर ट्यूमर कोशिकाएं उपस्थित हैं तो उन्हें सुग्राही बनाने के द्वारा विकिरण के प्रभाव को बढ़ाने के लिए किया जाता है।

प्रतिरक्षा चिकित्सा[संपादित करें]

प्रतिरक्षा चिकित्सा में कोलोरेक्टल कैंसर के लिए ऑटोलॉगस ट्यूमर कोशिकाओं के साथ बेकिलस कलमेट-Guérin (BCG) की जांच एक सहौषधी मिश्रण के रूप किया जा रहा है।[64]

कैंसर टीका[संपादित करें]

ऑक्सफोर्ड बायोमेडिका द्वारा उत्पादित[65]ट्रोवाक्स जो एक कैंसर टीका है,[66] गुर्दे कैंसर के तृतीय चरण के परीक्षण में है और बृहदान्त्र कैंसर के तीसरे चरण परीक्षण लिए योजना बनाई जा रही है।[67]

लीवर मेटास्टेसस के उपचार[संपादित करें]

2006 में अमेरिकन कैंसर सोसायटी के आंकड़ों के अनुसार में[68] निदान के समय 20% से अधिक रोगियों में विक्षेपी (चतुर्थ चरण) के साथ कोलोरेक्टल कैंसर होता है और इस समूह के 25% तक के रोगियों में पृथक लीवर मेटास्टेटिक होता है जिसे संभवतः अलग किया जा सकता है। ऐसे घाव जो उपचारात्मक उच्छेदन से गुज़रते हैं उन्होंने 5-वर्ष जीवित रहने के परिणाम दर्शाए जो अब 50% बढ़ गए हैं।[69]

यकृत विक्षेपण के उच्छेदनता को पूर्व शल्य चिकित्सा इमेजिंग अध्ययन (CT or MRI), अंतर शल्य चिकित्सा अल्ट्रासाउंड और उच्छेदन के दौरान प्रत्यक्ष नाड़ी परख कर और दृश्य द्वारा निर्धारित किया जाता है। दाएं पालि तक सीमित घाव दाएं हेपाटेकटॉमी (लीवर उच्छेदन) सर्जरी के साथ en (एन) ब्लॉक को अलग करने के लिए जिम्मेदार होते हैं। केंद्रीय या बाएं लीवर पालि के छोटे घाव को कभी-कभी शारीरिक "खंड" में उच्छेदन किया जा सकता है, जबकि यकृत बाईं पालि के बड़े घावों का उच्छेदन एक यकृत संबंधी प्रक्रिया द्वारा किया जाता है जिसका नाम ट्राइसेग्मेंटेक्टॉमी है। छोटे, गैर शारीरिक "फान" उच्छेदन द्वारा घावों का उपचार उच्च पुनरावृत्ति दर के साथ जुड़ा हुआ है। कुछ घाव जो शुरू में सर्जरी के लायक नहीं होते, उन्हें उसके लायक बनाया जा सकता है यदि वे पूर्व प्रवर्तनशील रासायन चिकित्सा के प्रति या प्रतिरक्षा चिकित्सा आहार के प्रति गंभीर प्रतिक्रिया देते हैं। वे घाव जिनके इलाज के लिए शल्य चिकित्सा की आवश्यकता नहीं होती, उनका इलाज रूपात्मकता के साथ किया जा सकता है जिसमें रेडियो आवृत्ति उच्छेदन (RFA), क्रयोबलेशन और केमोएम्बोलिज़ेशन शामिल हैं।

बृहदान्त्र कैंसर और यकृत में विक्षेपी रोग से ग्रसित रोगी का इलाज एक एकल सर्जरी या चरणबद्ध सर्जरी द्वारा किया जा सकता है (जहां बृहदान्त्र ट्यूमर को परंपरागत रूप से पहले हटाया जाता है) जो लंबी सर्जरी के लिए रोगी के फिटनेस पर निर्भर करती है, इस प्रक्रिया में बृहदान्त्र या जिगर उच्छेदन के साथ संभावित समस्या होती है और सर्जरी करने की सुविधा संभावित रूप से यकृत सर्जरी को जटिल कर देती है।

एस्पिरिन[संपादित करें]

2009 में प्रकाशित एक अध्ययन में पाया गया कि एस्पिरिन अनियमित परीक्षण में कोलोरेक्टल नियोप्लासिया के जोखिम को कम कर देता है और पशु मॉडल में ट्यूमर के विकास और मेटास्टेटस को रोकता है। कोलोरेक्टल कैंसर पर एस्पिरिन के निदान के बाद उसका प्रभाव अज्ञात है[70]. कोलोरेक्टल कैंसर के चरण I-III (गैर-विक्षेपी) से ग्रसित 1,279 लोगों के एक भावी जत्थे वाली कई रिपोर्ट ने[71] एस्पिरिन का उपयोग करने वाले एक उपभाग में कैंसर-बचाव के प्रति विशेष सुधार दर्शाया है[72] .

सिमेटिडाइन[संपादित करें]

सिमेटिडाइन को एडिनोकार्सिनोमस के लिए एक सहौषधी के रूप में जापान में खोजा जा रहा है[73], जिसमें चरण III[74] और चरण IV[75] शामिल है, ओवरएक्सप्रेस्ड सियालिल लुईस X और A एपिटोप्स के साथ कोलोरेक्टल कैंसर बायोमार्क है। कई छोटे परीक्षण, sLeX और sLeA बायोमार्कर जो कई तंत्रों के माध्यम सर्जरी के बाद सिमेटिडाइन उपचार ग्रहण करता है, के साथ रोगी के सबसेट में उत्तरजीवी सुधार का एक महत्वपूर्ण सुझाव देती है।[3] .

समर्थन उपचार[संपादित करें]

कैंसर का निदान अक्सर रोगी की मनोवैज्ञानिक हालत में एक बहुत बड़ा परिवर्तन फलित करता है। विभिन्न समर्थन संसाधन, अस्पतालों और अन्य एजेंसियों से उपलब्ध हैं जो परामर्श, सामाजिक सेवा सहायता, कैंसर सहायता समूह और अन्य सेवाएं उपलब्ध कराते हैं। ये सेवाएं एक रोगी की चिकित्सा की जटिलताओं को उसके जीवन के अन्य क्षेत्र में समेकित करने की कठिनाइयों में मदद करती हैं।

पूर्वानुमान[संपादित करें]

ज़िंदा बचना, रोग के पता लगने और शामिल कैंसर के प्रकार से सीधे संबंधित है। प्रारंभिक चरण में कैंसर का पता लगने से जीवित रहने की दर, देर से पता लगने की तुलना में 5 गुना अधिक है। CEA स्तर भी रोग के पूर्वानुमान से सीधे संबंधित है, क्योंकि उसका स्तर ट्यूमर ऊतक के घनत्व के साथ संबद्ध है।

फॉलो-अप[संपादित करें]

एक कोलोरेक्टल विलस ग्रंथ्यर्बुद का सूक्ष्मग्राफ इन घावों को कैंसर से पूर्व का माना जाता है। एच एंड ई धब्बा.

फॉलो-अप का उद्देश्य किसी भी मेटास्टेसिस या ट्यूमर का यथासंभव शीघ्र अवस्था में निदान करना है जो बाद में उत्पन्न होता है लेकिन जो मूल कैंसर से नहीं उपजता है (मेटाक्रोनस घाव).

अमेरिका के नैशनल कम्प्रिहेंसिव कैंसर नेटवर्क और अमेरिकन सोसायटी ऑफ़ क्लिनिकल ओन्कोलोजी, बृहदान्त्र कैंसर के लिए फौलो-अप दिशा-निर्देश उपलब्ध कराते हैं।[76][77] 2 साल तक हर 3 से 6 महीने में एक चिकित्सा इतिहास और शारीरिक परीक्षा की जांच की सलाह दी जाती है और उसके बाद 5 साल तक के लिए हर 6 महीने में. कार्सिनोइम्ब्रियोनिक एंटीजन रक्त स्तर मापन का समय निर्धारण भी यही है, लेकिन इसकी सलाह सिर्फ उन्ही रोगियों को दी जाती है जिन्हें T2 या उससे अधिक बड़े घाव हैं, जिन पर खतरा बना होता है। पहले 3 साल तक सीने, पेट और कमर के सालाना सीटी स्कैन को अपनाया जा सकता है, उन रोगियों के लिए जिनमें पुनरावृत्ति का उच्च जोखिम पाया जा सकता है (उदाहरण के लिए, ऐसे रोगी जिन्होंने ट्यूमर या शिरापरक या लसीका आक्रमण को खराब तरीके से विभेदित किया है) और जो रोगहर सर्जरी के लिए उम्मीदवार हैं (बचाव के उद्देश्य के साथ). ब्रिहदांत्र-जांच को 1 वर्ष के बाद कराया जा सकता है, सिवाय जब इसे निरोधक पिंड के कारण प्रारंभिक चरण के दौरान नहीं किया गया हो और उस मामले में इसे 3 से 6 महीने के बाद कराना चाहिए. अगर एक विलस पौलिप, पौलिप >1 सेंटीमीटर या उच्च ग्रेड डिसप्लासिया पाया जाता है, तो इसे 3 साल बाद दोहराया जा सकता है और उसके बाद हर 5 साल पर. अन्य असामान्यताओं के लिए, ब्रिहदांत्र-जांच को 1 साल के बाद दोहराया जा सकता है।

नियमित PET या अल्ट्रासाउंड स्कैनिंग, छाती का एक्स रे, पूर्ण रक्त गणना या जिगर परीक्षणों की सिफारिश नहीं की जाती है।[76][77] ये दिशानिर्देश हाल के मेटा-विश्लेषण पर आधारित हैं जो यह दिखाते हैं कि गहन निगरानी और नियमित फौलो-अप से 5-वर्ष मृत्यु दर को 37% से 30% पर कम किया जा सकता है।[78][79][80]

जानपदिकरोग विज्ञान[संपादित करें]

2004 में प्रति 100,000 निवासियों में कोलोरेक्टल कैंसर से आयु-मानकीकृत मौत[81][165][166][167][168][169][170][171][172][173][174][175][176][177]

समाज और संस्कृति[संपादित करें]

उल्लेखनीय रोगी[संपादित करें]

अनुसंधान[संपादित करें]

गणितीय मॉडलिंग[संपादित करें]

कई वर्षों के लिए कोलोरेक्टल कैंसर गणितीय मॉडलिंग का विषय रहा है।[87][88]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "Cancer". World Health Organization. 2006. अभिगमन तिथि 24 मई 2007. नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद)
  2. "Cancer". National Cancer Institute. 2009.
  3. Markowitz SD, Bertagnolli MM (2009). "Molecular basis of colorectal cancer". N. Engl. J. Med. 361 (25): 2449–60. PMID 20018966. डीओआइ:10.1056/NEJMra0804588. नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद)
  4. Levin KE, Dozois RR (1991). "Epidemiology of large bowel cancer". World J Surg. 15 (5): 562–7. PMID 1949852. डीओआइ:10.1007/BF01789199.
  5. Penn State University स्वास्थ्य और रोग की जानकारी
  6. Strate LL, Syngal S (2005). "Hereditary colorectal cancer syndromes". Cancer Causes Control. 16 (3): 201–13. PMID 15947872. डीओआइ:10.1007/s10552-004-3488-410.1007/s10552-004-3488-4. नामालूम प्राचल |doi_brokendate= की उपेक्षा की गयी (मदद); नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद)
  7. American Cancer Society Smoking Linked to Increased Colorectal Cancer Risk - New Study Links Smoking to Increased Colorectal Cancer Risk 6 दिसम्बर 2000
  8. 'Smoking Ups Colon Cancer Risk' मेडलाइन प्लस पर
  9. Chao A, Thun MJ, Connell CJ; एवं अन्य (2005). "Meat consumption and risk of colorectal cancer". JAMA. 293 (2): 172–82. PMID 15644544. डीओआइ:10.1001/jama.293.2.172. नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद)
  10. Park Y, Hunter DJ, Spiegelman D; एवं अन्य (2005). "Dietary fiber intake and risk of colorectal cancer: a pooled analysis of prospective cohort studies". JAMA. 294 (22): 2849–57. PMID 16352792. डीओआइ:10.1001/jama.294.22.2849. नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद)
  11. Clark LC, Dalkin B, Krongrad A; एवं अन्य (1998). "Decreased incidence of prostate cancer with selenium supplementation: results of a double-blind cancer prevention trial". Br J Urol. 81 (5): 730–4. PMID 9634050. नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद)
  12. Finley JW, Davis CD, Feng Y (2000). "Selenium from high selenium broccoli protects rats from colon cancer". J. Nutr. 130 (9): 2384–9. PMID 10958840. नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद)
  13. Gregory L. Brotzman and Russell G. Robertson (2006). "Colorectal Cancer Risk Factors". Colorectal Cancer. Armenian Health Network, Health.am. अभिगमन तिथि 16 जनवरी 2008.
  14. Jerome J. DeCosse, MD; George J. Tsioulias, MD; Judish S. Jacobson, MPH (1994). "Colorectal cancer: detection, treatment, and rehabilitation" (PDF). Colorectal cancer: detection, treatment, and rehabilitation. A Cancer Journal for Clinicians. अभिगमन तिथि 16 जनवरी 2008. नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद)
  15. Hamilton SR (1985). "Colorectal carcinoma in patients with Crohn's disease". Gastroenterology. 89 (2): 398–407. PMID 2989075. नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद)
  16. dos Santos Silva I, Swerdlow AJ (1996). "Sex differences in time trends of colorectal cancer in England and Wales: the possible effect of female hormonal factors". Br. J. Cancer. 73 (5): 692–7. PMC 2074327. PMID 8605109. नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद)
  17. Beral V, Banks E, Reeves G, Appleby P (1999). "Use of HRT and the subsequent risk of cancer". J Epidemiol Biostat. 4 (3): 191–210, discussion 210–5. PMID 10695959.
  18. नेशनल इंस्टीट्यूट ऑन अल्कोहल एंड अल्कोहलिज्म Alcohol and Cancer - Alcohol Alert No. 21-1993
  19. PMID 20233826 (PubMed)
    Citation will be completed automatically in a few minutes. Jump the queue or expand by hand
  20. WCRF Food, Nutrition, Physical Activity and the Prevention of Cancer: a Global Perspective
  21. Longnecker MP (1992). "Alcohol consumption in relation to risk of cancers of the breast and large bowel". Alcohol Health Res World. 16 (3): 223–9.
  22. Longnecker MP, Orza MJ, Adams ME, Vioque J, Chalmers TC (1990). "A meta-analysis of alcoholic beverage consumption in relation to risk of colorectal cancer". Cancer Causes Control. 1 (1): 59–68. PMID 2151680. डीओआइ:10.1007/BF00053184. नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद)
  23. Kune S, Kune GA, Watson LF (1987). "Case-control study of alcoholic beverages as etiological factors: the Melbourne Colorectal Cancer Study". Nutr Cancer. 9 (1): 43–56. PMID 3808969. डीओआइ:10.1080/01635588709513909.
  24. Potter JD, McMichael AJ (1986). "Diet and cancer of the colon and rectum: a case-control study". J. Natl. Cancer Inst. 76 (4): 557–69. PMID 3007842. नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद)
  25. Cho E, Smith-Warner SA, Ritz J; एवं अन्य (2004). "Alcohol intake and colorectal cancer: a pooled analysis of 8 cohort studies". Ann. Intern. Med. 140 (8): 603–13. PMID 15096331. नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद)
  26. बोस्टन विश्वविद्यालय "Alcohol May Increase the Risk of Colon Cancer"
  27. Su LJ, Arab L (2004). "Alcohol consumption and risk of colon cancer: evidence from the national health and nutrition examination survey I epidemiologic follow-up study". Nutr Cancer. 50 (2): 111–9. PMID 15623458. डीओआइ:10.1207/s15327914nc5002_1.
  28. Anderson JC, Alpern Z, Sethi G; एवं अन्य (2005). "Prevalence and risk of colorectal neoplasia in consumers of alcohol in a screening population". Am. J. Gastroenterol. 100 (9): 2049–55. PMID 16128951. डीओआइ:10.1111/j.1572-0241.2005.41832.x. नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद)
  29. Colorectal Cancer: Who's at Risk? (स्वास्थ्य के राष्ट्रीय संस्थान: राष्ट्रीय कैंसर संस्थान)
  30. राष्ट्रीय कैंसर संस्थान (NCI) कैंसर रुझान प्रगति रिपोर्ट Alcohol Consumption
  31. ब्राउन, एंथोनी जे. Alcohol, tobacco, and male gender up risk of earlier onset colorectal cancer
  32. Ionov Y, Peinado MA, Malkhosyan S, Shibata D, Perucho M (1993). "Ubiquitous somatic mutations in simple repeated sequences reveal a new mechanism for colonic carcinogenesis". Nature. 363 (6429): 558–61. PMID 8505985. डीओआइ:10.1038/363558a0.
  33. Srikumar Chakravarthi, Baba Krishnan, Malathy Madhavan (1999). "Apoptosis and expression of p53 in colorectal neoplasms". Indian J Med Res. 86 (7): 95–102.
  34. "Implementing Colorectal Cancer Screening. Workshop Summary". The National Academies Press. 11 दिसम्बर 2008. अभिगमन तिथि 19 दिसम्बर 2008.
  35. Weitzel JN (1999). "Genetic cancer risk assessment. Putting it all together". Cancer. 86 (11 Suppl): 2483–92. PMID 10630174. डीओआइ:10.1002/(SICI)1097-0142(19991201)86:11+<2483::AID-CNCR5>3.0.CO;2-4. नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद)
  36. B. Greenwald (2006). "The DNA Stool Test - An Emerging Technology in Colorectal Cancer Screening".
  37. http://www.sciencedaily.com/releases/2010/04/100419150831.htm
  38. Pathology atlas
  39. AJCC Cancer Staging Manual (Sixth संस्करण). स्प्रिंगर-Verlag New York, Inc. 2002.
  40. Dukes CE (1932). "The classification of cancer of the rectum". Journal of Pathological Bacteriology. 35: 323. डीओआइ:10.1002/path.1700350303.
  41. Winawer SJ, Zauber AG, Ho MN; एवं अन्य (1993). "Prevention of colorectal cancer by colonoscopic polypectomy. The National Polyp Study Workgroup". N. Engl. J. Med. 329 (27): 1977–81. PMID 8247072. डीओआइ:10.1056/NEJM199312303292701. नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद)
  42. Cummings, JH; Bingham SA (1998). "Diet and the prevention of cancer". BMJ. 317 (7173): 1636–40. PMC 1114436. PMID 9848907.
  43. Fuchs, C. S.; Giovannucci, EL; Colditz, GA; Hunter, DJ; Stampfer, MJ; Rosner, B; Speizer, FE; Willett, WC (1999). "Dietary Fiber and the Risk of Colorectal Cancer and Adenoma in Women". New England Journal of Medicine. 340 (340): 169–76. PMID 9895396. डीओआइ:10.1056/NEJM199901213400301.
  44. Baron, J. A.; Hunter, DJ; Spiegelman, D; Bergkvist, L; Berrino, F; Van Den Brandt, PA; Buring, JE; Colditz, GA; Freudenheim, JL (2005). "Dietary Fiber and Colorectal Cancer: An Ongoing Saga". Journal of the American Medical Association. 294 (22): 2904–6. PMID 16352792. डीओआइ:10.1001/jama.294.22.2904.
  45. "Health Effects of Eating Fiber".
  46. "Colorectal Cancer Prevention: Chemoprevention Database". अभिगमन तिथि 23 अगस्त 2007.
  47. Agency for Healthcare Research and Quality (5 मार्च 2007). "Task Force Recommends Against Use of Aspirin and Non-Steroidal Anti-Inflammatory Drugs to Prevent Colorectal Cancer". United States Department of Health & Human Services. अभिगमन तिथि 7 मई 2007.
  48. U.S. Preventive Services Task Force (2007). "Routine aspirin or nonsteroidal anti-inflammatory drugs for the primary prevention of colorectal cancer: U.S. Preventive Services Task Force recommendation statement". Ann. Intern. Med. 146 (5): 361–4. PMID 17339621. नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद)
  49. Flossmann E, Rothwell PM (2007). "Effect of aspirin on long-term risk of colorectal cancer: consistent evidence from randomised and observational studies". Lancet. 369 (9573): 1603–13. PMID 17499602. डीओआइ:10.1016/S0140-6736(07)60747-8. नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद)
  50. Campbell CL, Smyth S, Montalescot G, Steinhubl SR (2007). "Aspirin dose for the prevention of cardiovascular disease: a systematic review". JAMA. 297 (18): 2018–24. PMID 17488967. डीओआइ:10.1001/jama.297.18.2018.
  51. Weingarten MA, Zalmanovici A, Yaphe J (2005). "Dietary calcium supplementation for preventing colorectal cancer and adenomatous polyps". Cochrane database of systematic reviews (Online) (3): CD003548. PMID 16034903. डीओआइ:10.1002/14651858.CD003548.pub3.
  52. Wactawski-Wende J, Kotchen JM, Anderson GL; एवं अन्य (2006). "Calcium plus vitamin D supplementation and the risk of colorectal cancer". N. Engl. J. Med. 354 (7): 684–96. PMID 16481636. डीओआइ:10.1056/NEJMoa055222.
  53. Lappe JM, Travers-Gustafson D, Davies KM, Recker RR, Heaney RP (2007). "Vitamin D and calcium supplementation reduces cancer risk: results of a randomized trial". Am. J. Clin. Nutr. 85 (6): 1586–91. PMID 17556697.
  54. Freedman DM, Looker AC, Chang SC, Graubard BI (2007). "Prospective study of serum vitamin D and cancer mortality in the United States". J. Natl. Cancer Inst. 99 (21): 1594–602. PMID 17971526. डीओआइ:10.1093/jnci/djm204.
  55. Bijlsma MF, Spek CA, Zivkovic D, van de Water S, Rezaee F, Peppelenbosch MP (2006). "Repression of smoothened by patched-dependent (pro-)vitamin D3 secretion". PLoS Biol. 4 (8): e232. PMC 1502141. PMID 16895439. डीओआइ:10.1371/journal.pbio.0040232.
  56. Ades, Steven (2009). "Adjuvant chemotherapy for colon cancer in the elderly". [Oncology].
  57. Parker MC, Wilson MS, Menzies D, Sunderland G, Clark DN, Knight AD, Crowe AM; Surgical and Clinical Adhesions Research (SCAR) Group. (2005). "The SCAR-3 study: 5-year adhesion-related readmission risk following lower abdominal surgical procedures". Colorectal Dis. 7 (6): 551–558. PMID 16232234. डीओआइ:10.1111/j.1463-1318.2005.00857.x. अभिगमन तिथि 5 मार्च 2009.
  58. [1]
  59. L. van Epps, PhD, Heather (Winter, 2008). "Bittersweet Gene: A gene called KRAS can predict which colorectal cancers will respond to a certain type of treatment—and which will not". CURE (Cancer Updates, Research and Education). |date= में तिथि प्राचल का मान जाँचें (मदद)
  60. ASCO Releases Provisional Clinical Opinion Recommending Routine KRAS Gene Testing to Guide Treatment for Metastatic Colorectal Cancer
  61. OncoGenetics.Org (2009). "FDA updates Vectibix and Erbitux labels with KRAS testing info". OncoGenetics.Org. अभिगमन तिथि 20 जुलाई 2009. नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद)
  62. वी. शंकरन, एट अल. "मेटाटिस्टिक कोलोरेक्टल कैंसर (mCRC) में क्रास परीक्षण का आर्थिक प्रभाव" ASCO 2009 गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल कैंसर संगोष्ठी, सार #298; http://www.asco.org/ASCO/Abstracts+&+Virtual+Meeting/Abstracts?&vmview=abst_detail_view&confID=63&abstractID=10759.
  63. http://informahealthcare.com/doi/abs/10.3109/02656730903333958 [133] ^ [132]2656730903333958
  64. Mosolits S, Nilsson B, Mellstedt H (2005). "Towards therapeutic vaccines for colorectal carcinoma: a review of clinical trials". Expert Rev Vaccines. 4 (3): 329–50. PMID 16026248. डीओआइ:10.1586/14760584.4.3.329. नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद)
  65. Oxford BioMedica
  66. Wheldon, Julie.Vaccine for kidney and bowel cancers 'within three years' The Daily Mail 13 नवम्बर 2006
  67. Vaccine Works With Chemotherapy in Colorectal Cancer (Reuters) 13 अगस्त 2007
  68. [2]
  69. Simmonds PC, Primrose JN, Colquitt JL, Garden OJ, Poston GJ, Rees M (2006). "Surgical resection of hepatic metastases from colorectal cancer: a systematic review of published studies". Br. J. Cancer. 94 (7): 982–99. PMC 2361241. PMID 16538219. डीओआइ:10.1038/sj.bjc.6603033. नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद)
  70. Chan AT, Giovannucci EL, Meyerhardt JA, Schernhammer ES, Curhan GC, Fuchs CS (2005). "Long-term use of aspirin and nonsteroidal anti-inflammatory drugs and risk of colorectal cancer". JAMA. 294 (8): 914–23. PMC 1550973. PMID 16118381. डीओआइ:10.1001/jama.294.8.914. नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद)
  71. Chan AT, Ogino S, Fuchs CS (2009). "Aspirin use and survival after diagnosis of colorectal cancer". JAMA. 302 (6): 649–58. PMID 19671906. डीओआइ:10.1001/jama.2009.1112. नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद)
  72. जेफ्फ्रे ए. गॉर्डन, एम.डी. एस्पिरिन युज एज ट्रिटमेंट इन कोलोरेक्टल कैंसर: टिचिंग एन ओल्ड डॉग न्यू ट्रिक्स. डॉक्टर लाउंज वेबसाइट. Available at: http://www.doctorslounge.com/index.php/articles/page/298. Accessed September 20, 2009.
  73. Matsumoto S, Hayashi A, Kobayashi K, Imaeda Y, Umemoto S (2004). "Cimetidine blocking of E-selectin expression inhibits sialyl Lewis-X-positive cancer cells from adhering to vascular endothelium". नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद)
  74. Matsumoto S, Imaeda Y, Umemoto S, Kobayashi K, Okamoto T (2002). "Cimetidine increases survival of colorectal cancer patients with high levels of sialyl Lewis-X and sialyl Lewis-A epitope expression on tumour cells". British Journal of Cancer. 86: 161–167. PMID 19671906. डीओआइ:10.1038/sj.bjc.6600048. नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद)
  75. Yoshimatsu K, Ishibashi K, Hashimoto M, Umehara A, Yokomizo H, Yoshida K, Fujimoto T, Iwasaki K, Ogawa K (2003). "Effect of cimetidine with chemotherapy on stage IV colorectal cancer [Article in Japanese]". Gan To Kagaku Ryoho. 30 (11): 1794–7. नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद)
  76. NCCN Clinical Practice Guidelines in Oncology - Colon Cancer (version 1, 2008: September 19, 2007).
  77. Desch CE, Benson AB 3rd, Somerfield MR, et al.; American Society of Clinical Oncology (2005). "Colorectal cancer surveillance: 2005 update of an American Society of Clinical Oncology practice guideline" (PDF). J Clin Oncol. 23 (33): 8512–9. PMID 16260687. डीओआइ:10.1200/JCO.2005.04.0063.
  78. Jeffery M, Hickey BE, Hider PN (2002). "Follow-up strategies for patients treated for non-metastatic colorectal cancer". Cochrane Database Syst Rev. डीओआइ:10.1002/14651858.CD002200. CD002200.
  79. Renehan AG, Egger M, Saunders MP, O'Dwyer ST (2002). "Impact on survival of intensive follow up after curative resection for colorectal cancer: systematic review and meta-analysis of randomised trials". BMJ. 324 (7341): 831–8. PMC 100789. PMID 11934773. डीओआइ:10.1136/bmj.324.7341.813.
  80. Figueredo A, Rumble RB, Maroun J, et al.; Gastrointestinal Cancer Disease Site Group of Cancer Care Ontario's Program in Evidence-based Care. (2003). "Follow-up of patients with curatively resected colorectal cancer: a practice guideline". BMC Cancer. 3: 26. PMC 270033. PMID 14529575. डीओआइ:10.1186/1471-2407-3-26.
  81. [164]
  82. http://www.abs-cbnnews.com/storypage.aspx?StoryID=112887
  83. "Pope John Paul II". ABC News Online. मूल से 6 अप्रैल 2005 को पुरालेखित.
  84. "Reagan turns 90". बीबीसी न्यूज़: Americas. 6 फ़रवरी 2001.
  85. Daily Mail
  86. 'Price Is Right's' Rod Roddy Dies सीबीएस समाचार पर
  87. van Leeuwen I, Byrne H, Jensen O, King J (2006). "Crypt dynamics and colorectal cancer: advances in mathematical modelling" ([मृत कड़ियाँ]). Cell Prolif. 39 (3): 157–81. PMID 16671995. डीओआइ:10.1111/j.1365-2184.2006.00378.x.
  88. Integrative Biology कोलोरेक्टल कैंसर पर वर्तमान कम्प्यूटेशनल दृष्टिकोण की एक व्यापक सिंहावलोकन के लिए.

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]