बृजमोहन लाल मुंजाल

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
बृजमोहन लाल मुंजाल
जन्म 01 जुलाई 1923
कमालिया, अविभाजित भारत
मृत्यु 1 नवम्बर 2015(2015-11-01) (उम्र 92)
दिल्ली, भारत
व्यवसाय हीरो समूह के संस्थापक एवं चेयरमैन
कुल संपत्ति $3.7 बिलियन (सितंबर 2014)
जीवनसाथी संतोष
संतान चार पुत्र, एक पुत्री

बृजमोहन लाल मुंजाल (पंजाबी:ਬ੍ਰਿਜਮੋਹਨ ਲਾਲ ਮੁੰਜਾਲ; 1 जुलाई 1925 – 1 नवंबर 2015) भारत के विख्यात औद्योगिक घराने हीरो समूह के संस्थापक व चेयरमैन थे। वे भारत के ३० सबसे धनी व्यक्तियों में से एक थे।[1]

प्रारंभिक जीवन[संपादित करें]

इनका जन्म 1923 में अविभाजित भारत के कमालिया में हुआ जो कि वर्तमान पाकिस्तान के पंजाब के जिला टोबा टेक सिंह में स्थित है।[2] मुंजाल 20 साल की उम्र में 1944 में अपने तीन भाइयों—दयानंद, सत्यानंद और ओमप्रकाश के साथ पाकिस्तान के कमालिया से अमृतसर आए और उन्होंने साइकिल के कलपुर्जों का कारोबार शुरू किया।

व्यापारी एवं उद्योगपति[संपादित करें]

बाद में वह लुधियाना चले गए, जहां वह अपने तीन भाइयों के साथ साइकिलों के पार्ट्स बेचने लगे। 1954 में उन्होंने हीरो साइकिल्स लिमिटेड की स्थापना की तथा पार्ट्स बेचने की बजाए साइकिलों के हैंडल, फोर्क वगैरह बनाना शुरू किया।

1956 में पंजाब सरकार ने साइकिलें बनाने का लाइसेंस जारी किया। यह लाइसेंस उनकी कंपनी को मिला और यहां से उनकी दुनिया बदल गई। सरकार से 6 लाख रुपये की वित्तीय मदद और अपनी पूंजी के साथ हीरो साइकिल्स को 'बड़े स्तर की इकाई' का दर्जा दिलवाते हुए साइकिल निर्माण में कदम रखा। [3] उस समय कंपनी की सालाना उत्पादन क्षमता 7,500 साइकिलों की थी। 1975 तक यह भारत की सबसे बड़ी साइकिल कंपनी बन चुकी थी और 1986 में हीरो साइकिल का नाम गिनीज़ बुक में दुनिया की सबसे बड़ी साइकिल कंपनी के रूप में दर्ज किया गया।[4]

हीरो होंडा[संपादित करें]

इसके बाद उन्होंने एक टू-व्हीलर कंपनी खोली, जिसका नाम था हीरो मैजेस्टिक कंपनी। इसमें उन्होंने मैजेस्टिक स्कूटर व मोपेड बनाने शुरू किए। 1984 में उन्होंने जापान की बड़ी ऑटो कंपनी होंडा से करार किया और यहीं से उनकी दुनिया ने फिर करवट बदली। उन्होंने होंडा के साथ मिलकर हरियाणा के धारूहेड़ा में प्लांट लगाया। 13 अप्रैल 1985 में हीरो-होंडा की पहली बाइक सीडी 100 बाजार में आई। हीरो समूह ने इतनी प्रगति की कि २००२ तक ८६ लाख हीरो होंडा मोटरसाइकिल बिक चुके थे और प्रतिदिन १६००० मोटसाइकिलों का उत्पादन किया जा रहा था।

हीरो मोटोकॉर्प[संपादित करें]

अगस्त २०११ में होंडा मोटर्स के साथ संयुक्त उपक्रम से विदाई के बाद हीरो मोटोकॉर्प के नाम से कंपनी बनी और २०१३ तक हीरो होंडा ब्राँड का डपयोग करने हेतु हीरो समूह ने होंडा कंपनी को रॉयल्टी देने का निर्णय लिया। [5] संयुक्त उपक्रम से अलग होने के पश्चात हीरो समूह को एसे देशों में भी निर्यात करने का अवसर मिल गया जहाँ होंडा का कारोबार पहले से ही था तथा संयुक्त उपक्रम के नाते हीरो-होंडा को वहाँ माल बेचने की अनुमति नहीं थी।

व्यक्तिगत जीवन[संपादित करें]

बृजमोहन का विवाह संतोष से हुआ था तथा इनके चार पुत्र व एक पुत्री हैं- रमन काँत (दिवंगत), सुमन काँत, पवन काँत, सुनील काँत तथा पुत्री गीता आनन्द।[6] 1 नवंबर 2015 को एक छोटी बीमारी के पश्चात् इनका निधन हो गया।[7]

सम्मान[संपादित करें]

बृजमोहन लाल मुंजाल को भारत सरकार द्वारा सन २००५ में उद्योग एवं व्यापार के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। इसके अतिरिक्त उन्हें प्राप्त कुछ प्रमुख सम्मान निम्न हैं:

  • Awarded Businessman of the Year in 1994 by business magazine Business India
  • Received the National Award for outstanding contribution to the Development of Indian Small Scale Industry in 1995
  • In 1999 Featured in Most Admired CEO List of the magazine Business Barons
  • Received the Distinguished Entrepreneurship Award from the PHD Chamber of Commerce and Industry in 1997.
  • Xavier Labour Relations Institute (XLRI) conferred Sir Jehangir Ghandy Medal for Industrial Peace in 2000
  • Featured as Ernst & Young Entrepreneur of the year in 2001
  • Received the Lifetime Achievement award for Management from the All India Management Association in 2003
  • Banaras Hindu University, Varanasi conferred him with a doctorate; degree of Doctors of Letters honoris causa in October 2004.
  • Awarded the Padma Bhushan in March 2005 for his contribution to trade and industry in 2005[8]
  • Lifetime Achievement Award by TERI in 2011
  • Lifetime Achievement Award by Ernst & Young in 2011.[9]
  • Lifetime Contribution Award by All India Management Association in 2011
  • Doctor of Science (Honoris Causa) by IIT, Kharagpur in 2011
  • Lifetime Achievement for the Asia Pacific Entrepreneurship in 2011
  • Awards by Enterprise Asia in 2011

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "Brijmohan Lall Munjal on Forbes Lists". Forbes. http://www.forbes.com/profile/brijmohan-lall-munjal/. अभिगमन तिथि: 10 January 2015. 
  2. Guide Publications (1986). Who's who in India. India: Intl Pubn Service. प॰ 288. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0800240871. 
  3. "Brijmohan Lall Munjal: A Hero for Life". Forbes. http://forbesindia.com/article/leaderhip-awards-2013/brijmohan-lall-munjal-a-hero-for-lifes/36351/0. अभिगमन तिथि: 10 January 2015. 
  4. "Amazing story of how Munjal built Hero Honda". http://www.rediff.com/money/2007/jun/11bspec.htm. अभिगमन तिथि: 10 January 2015. 
  5. "Munjals to set up family council". http://archive.financialexpress.com/news/munjals-to-set-up-family-council/701962. अभिगमन तिथि: 10 January 2015. 
  6. "The succession story of Munjal family". NDTV. http://profit.ndtv.com/news/market/article-the-succession-story-of-munjal-family-42414. अभिगमन तिथि: 10 January 2015. 
  7. http://www.business-standard.com/article/companies/end-of-an-era-brijmohan-lall-munjal-dies-after-brief-illness-115110100779_1.html
  8. "Padma Awards". Ministry of Home Affairs, Government of India. 2015. http://mha.nic.in/sites/upload_files/mha/files/LST-PDAWD-2013.pdf. अभिगमन तिथि: July 21, 2015. 
  9. "Entrepreneur Of The Year 2010 Lifetime Achievement". EY. http://www.ey.com/IN/en/About-us/Entrepreneurship/Entrepreneur-Of-The-Year/EOY-2010-India-finalist---Brijmohan-Lall-Munjal. अभिगमन तिथि: 10 January 2015.