बादामी गुफा मंदिर

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ
बादामी गुफा मंदिर
Badami cave temples
ಬಾದಾಮಿ ಗುಹಾಲಯಗಳು
Vishnu image inside cave number 3 in Badami.jpg
बादामी गुफा न. 3 में विष्णु प्रतिमा।
Map showing the location of बादामी गुफा मंदिर
Map showing the location of बादामी गुफा मंदिर
स्थान बादामी, बागलकोट ज़िला, कर्नाटक, भारत
निर्देशांक 15°55′06″N 75°41′3″E / 15.91833°N 75.68417°E / 15.91833; 75.68417निर्देशांक: 15°55′06″N 75°41′3″E / 15.91833°N 75.68417°E / 15.91833; 75.68417
खोज छठी शताब्दी
भूतत्त्व बलुआ पत्थर
प्रवेश द्वार छह गुफाएँ
कठिनाई सरलतम
विशेषताएं यूनेस्को विश्व धरोहर स्थल उम्मीदवार[1]

बादामी गुफा मन्दिर (Badami cave temples) भारत के कर्नाटक राज्य के उत्तरी भाग के बागलकोट ज़िले के बादामी ऐतिहासिक नगर में स्थित एक हिन्दू और जैन गुफा मन्दिरों का एक परिसर है। यह भारतीय शैलकर्तित वास्तुकला का एक महत्वपूर्ण उदाहरण है, जिसमें विशेषकर बादामी चालुक्य वास्तुकला देखी जा सकती है। इस परिसर का निर्माण छठी शताब्दी में आरम्भ हुआ था। बादामी नगर का प्राचीन नाम "वातापी" था, और यह आरम्भिक चालुक्य राजवंश की राजधानी था, जिसने 6ठी से 8वीं शताब्दी तक कर्नाटक के अधिकांश भागों पर राज करा। बादामी गुफा मन्दिर दक्कन पठार के प्राचीनतम मन्दिरों में से हैं। इनके और ऐहोले के मन्दिरों के निर्माण से मलप्रभा नदी के घाटी क्षेत्र में मन्दिर वास्तुकला तेज़ी से विकसित होने लगी, और इसने आगे जाकर भारत-भर के हिन्दू मन्दिर निर्माण को प्रभावित करा।[2][3][4][5]

स्थानीय तथ्य[संपादित करें]

यह नगर अगस्त्य झील के पश्चिमी तट पर स्थित है, जो एक मानवकृत जलाशय है। झील एक मिट्टी की दीवार से घिरी है, जिस से पत्थर की सीढ़ीयाँ जल तक जाती हैं। झील उत्तर और दक्षिण में बाद के काल में बने दुर्गों से घिरी हुई है। शहर के दक्षिण-पूर्व में नरम बादामी बलुआ पत्थर से बने गुफाओं की संख्या 1 से 4 तक है। गुफा न. 1 में, हिंदू देवी-देवताओं और प्रसंगों की विभिन्न मूर्तियों के बीच, नटराज के रूप में तांडव-नृत्य करने वाले शिव की एक प्रमुख नक्काशी है। गुफा न. 2 ज्यादातर अपने अभिन्यास और आयामों के संदर्भ में गुफा न. 1 के समान है, जिसमें हिंदू प्रसंगों की विशेषता है, जिसमें विष्णु की त्रिविक्रम के रूप में उभड़ी हुई नक्काशी सबसे बड़ी है। गुफा न. 3 सबसे बड़ी है, जिसमें विष्णु से संबंधित पौराणिक कथाएं बनाई गई हैं, और यह परिसर में सबसे जटिल नक्काशीदार गुफा भी है। गुफा न. 4 जैन धर्म के प्रतिष्ठित लोगों को समर्पित है। झील के चारों ओर, बादामी में अतिरिक्त गुफाएँ हैं जिनमें से एक बौद्ध गुफा हो सकती है। 2015 में चार मुख्य गुफाओं से लगभग 500 मीटर (1,600 फीट), 27 हिंदू नक्काशियों के साथ एक अन्य गुफा की खोज हुई थी।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]

बादामी गुफा मंदिर के बारे में, विकिपीडिया के बन्धुप्रकल्पों पर और जाने:
Wiktionary-logo-hi-without-text.svg शब्दकोषीय परिभाषाएं
Wikibooks-logo.svg पाठ्य पुस्तकें
Wikiquote-logo.svg उद्धरण
Wikisource-logo.svg मुक्त स्रोत
Commons-logo.svg चित्र एवं मीडिया
Wikinews-logo.svg समाचार कथाएं
Wikiversity-logo-en.svg ज्ञान साधन

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "Evolution of Temple Architecture – Aihole-Badami- Pattadakal". UNESCO. 2004. मूल से 8 नवंबर 2015 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 21 October 2015.
  2. Prasanna Kumar Acharya (2010). An encyclopaedia of Hindu architecture. Oxford University Press (Republished by Motilal Banarsidass). आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-81-7536-534-6.
  3. Prasanna Kumar Acharya (1997). A Dictionary of Hindu Architecture: Treating of Sanskrit Architectural Terms with Illustrative Quotations. Oxford University Press (Reprinted in 1997 by Motilal Banarsidass). आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-81-7536-113-3.
  4. Vinayak Bharne; Krupali Krusche (2014). Rediscovering the Hindu Temple: The Sacred Architecture and Urbanism of India. Cambridge Scholars Publishing. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-1-4438-6734-4.
  5. Alice Boner (1990). Principles of Composition in Hindu Sculpture: Cave Temple Period. Motilal Banarsidass. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-81-208-0705-1.