बसेरे से दूर

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

बसेरे से दूर, हरिवंश राय बच्चन की आत्मकथा,‘क्या भूलूँ क्या याद करूँ’ (1969), ‘नीड़ का निर्माण फिर’ (1970), ‘बसेरे से दूर’ (1978) और ‘दशद्वार से सोपान तक’ (1985) नामक चार खंडों में प्रकाशित उनकी आत्मकथा , का तीसरा खण्ड है।[1]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. http://www.bbc.com/hindi/entertainment/story/2007/11/071118_bachachanspl_ajitkumar.shtml