बन्दी छोड़ दिवस

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

बन्दी छोड़ दिवस सिख त्योहार है जो कि दीपावली के दिन पड़ता है। दीपावली त्यौहार सिख समुदाय द्वारा ऐतिहासिक रूप से मनाया जाता है। गुरु अमर दास ने इसे सिख उत्सव माना है। 20वीं सदी से सिख धार्मिक नेताओं द्वारा दिवाली को बन्दी छोड़ दिवस कहा जाने लगा। शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी द्वारा इसे मान लिया गया। इस नाम का सम्बद्ध गुरु हरगोबिन्द की रिहाई से है जिन्हें जहाँगीर द्वारा स्वतंत्र किया गया था। बन्दी छोड़ दिवस को दिवाली के समान ही मनाया जाता है, जिसमें घरों और गुरुद्वारों को रोशन किया जाता है, उपहार देना और परिवार के साथ समय बिताना होता है।

सन्दर्भ[संपादित करें]