प्रियंवद

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

प्रियंवद (जन्मः २२ दिसम्बर १९५२, कानपुर) एक हिन्दी साहित्यकार हैं।

वे प्राचीन भारतीय इतिहास एवं संस्कृति में एम ए हैं।

कृतियाँ[संपादित करें]

उपन्यास[संपादित करें]

1. वे वहाँ कैद हैं

2. परछाईं नाच

3. छुट्टी के दिन का कोरस

4. धर्मस्थल

कहानी संग्रह[संपादित करें]

1. खरगोश

2. आईनाघर (दो खण्डों मे 2007 तक की सम्पूर्ण कहानियाँ)

3. कश्कोल (2008 से 2015 तक की सम्पूर्ण कहानियाँ )

इतिहास[संपादित करें]

1. भारत विभाजन की अन्तः कथा (1707 से 1947 ई0 तक)

2. भारतीय राजनीति के दो आख्यान (1920 से 1950 ई0 तक)

3. पाँच जीवनियाँ (ब्रूटस ,रासपुतिन ,दाराशुकोह ,चेल्लीनी और नीरो )

4. इकतारा बोले (बाल पुस्तक) (भारत आने वाले दस प्रसिद्ध यात्रियों व उनकी पुस्तकों पर केन्द्रित)

विविध[संपादित करें]

(1) दो कहानियों पर ‘अनवर’ व ‘खरगोश’ फिल्में। ‘खरगोश’ की स्क्रिप्ट स्वयं लिखी। ‘ अधेड़ औरत का प्रेम ‘ पर शॉर्ट फिल्म ‘ट्रेन क्रैश ‘।

(2) 'अकार’ पत्रिका का विगत 17 वर्षों से नियमित प्रकाशन। वर्तमान संपादक।

(3) पिछले 22 कथाकार सम्मेलन ‘संगमन’ के संयोजक।

शीघ्र प्रकाश्य[संपादित करें]

1. 7 जिल्दों में ‘चाँद ’ व ‘माधुरी ’ पत्रिका के 1929 ई0 से 1933 ई0 तक के अंकों से विशेष सामग्री का चयन व सम्पादन।

2. बाल उपन्यास 'नाचघर'

3.     गुफ़्तगू ( प्रो. इरफ़ान हबीब, कृष्ण बलदेव वैद, डा. नामवर सिंह, गुलज़ार , गिरिराज किशोर व प्रो.शमीम हनफ़ी से लिए गए साक्षात्कारों की पुस्तक)