प्रत्यक्ष विदेशी निवेश

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

प्रत्यक्ष विदेशी निवेश भारत के विदेशी ऋण की वास्तविकताए के बारे मे देकते है। देश की आर्थिक गतिविधियों में अभिरुचि रखने वाले प्रत्येक व्यक्ति के मन में यह प्रश्न यदा-कदा उत्पन्न होता रहता है, कि क्या भारत विदेशी ऋण के जाल में फँसता जा रहा है? कोइ भी देश विदेशी के फंदे में फँसा हुआ तब माना जाता है जब उसे पुराना ऋण चुकाने के लिए नए ऋण की व्यवस्था करनी पडती है,अर्थात उसकी विदेशी मुद्रा की आय ऋणों के भुगतान के लिए पर्याप्त नहीं होती।

परिभाषाएं:

मोटे तौर पर, विदेशी प्रत्यक्ष निवेश "विदेशी परिचालन और इंट्रा कंपनी ऋण से अर्जित लाभ नई सुविधाओं का निर्माण विलय और अधिग्रहण," भी शामिल है। एक संकीर्ण अर्थ में, प्रत्यक्ष विदेशी निवेश सिर्फ नई सुविधाओं का निर्माण करने के लिए संदर्भित करता है। विविध परिभाषा पर आधारित संख्यात्मक एफडीआई आंकड़े आसानी से तुलनीय नहीं हैं। एक देश की राष्ट्रीय खातों के एक भाग के रूप में, और सकल घरेलू उत्पाद समीकरण के संबंध में ,उपभोग + सकल निवेश + सरकारी खर्च + (निर्यात - आयात), मैं घरेलू निवेश के साथ साथ विदेशी निवेश है, जहां एफडीआई शुद्ध प्रवाह के रूप में परिभाषित किया गया है निवेश की एक स्थायी प्रबंधन ब्याज निवेशक की तुलना में अन्य एक अर्थव्यवस्था में सक्रिय एक उद्यम में प्राप्त करने के लिए। भुगतान संतुलन के रूप में दिखाया एफडीआई इक्विटी पूंजी, अन्य लंबी अवधि के पूंजीगत, और अल्पावधि पूंजी का योग है। एफडीआई आमतौर पर प्रबंधन में भागीदारी, संयुक्त उद्यम, प्रौद्योगिकी और विशेषज्ञता के हस्तांतरण शामिल है। एफडीआई के शेयर किसी भी अवधि के लिए संचयी प्रत्यक्ष विदेशी निवेश यानी एफडीआई शून्य से जावक एफडीआई आवक शुद्ध है। प्रत्यक्ष निवेश शेयरों की खरीद के माध्यम से निवेश शामिल नहीं है। एफडीआई एक विदेशी प्रत्यक्ष निवेश के एक और प्रत्यक्ष निवेश में स्थित एक इकाई द्वारा एक देश में एक व्यावसायिक उद्यम में नियंत्रण स्वामित्व है अंतरराष्ट्रीय कारक आंदोलनों में से एक उदाहरण है पोर्टफोलियो विदेशी निवेश से प्रतिष्ठित।

                              भारत में विदेशी ऋण की अपरिहार्यता

सामान्यतया विकासशील देशों में प्राकृतिक एंव मानव संसाधनों का अभाव नहीं होता हैं,मेकिन इन्हें उत्पादक कार्यो में लगाने के लिए उनके पास पूँजी एंव प्राविधिक ग्यान की कमी रहती है ,जिनके लिए उन्हें उन्नत देशों का स्वभाविक रुप से मोहताज होना पडता है। विदेशों से मशीन ,उपकरण, कच्चा माल,तकनीक तथा बोध्दिक संपदा आयात करने के लिए विदेशी मुद्रा की आवस्यकता होती है, लेकिन विकासशील देश इन आयातों के लिए अपने निर्यात की आय से अपेक्षित विदेशी मुद्रा अर्जित नहीं कर पाते है। आयात और निर्यात की खाई को पाटने के कारण ये देशों से वितीय सहायता लेनी पडती है। इतना ही नहीं, निरन्तर बडती हुई विनियोग की आवश्यकताओं को आन्तरिक संसाधनों से पूरा करना में निम्न बचत स्तर के कारण ये देश समर्थ नहीं हो पाते और इन्हें और विनियोग की खाई को पाटने के लिए भी बाह्य साधनों पर निर्भर रहना पडता है,लेकिन सभी आवश्यक बाह्य साधन अनुदान स्वरुप या निवेश के रुप में ही प्राप्त नहीं किए जा सकते अत्ः ऋण अपरिहार्य हो जाता है।


प्रत्यक्ष विदेशी निवेश के निम्न तरीकों से किया जा सकता है; १)चिंतित उद्यम के प्रबंधन में भाग लेने के लिए आदेश में मौजूदा विदेशी उद्यम के शेयरों का अधिग्रहण किया जा सकता है। २)मौजूदा उद्यम और कारखानों पर लिया जा सकता है। ३)१००% स्वामित्व के साथ एक नई सहाक कंपनी विदेशों में स्थापित किया जा सकता है। ४)याह शेयर धारिता के माध्यम से एक संयुक्त उद्यम में भाग लेने के लिए संभव है। ५)नई विदेशी शाखाओं,कार्यालयों और कारखानों की स्थापना की जा सकती है। ६)मौजूदा विदेशी शाखाओं और कारखानों का विस्तार किया जा सकता है। ७)अल्पसंख्यक शेयर अधिग्रहण,उदेश्य उद्यम के प्रबंधन में भाग लेने के लिए है। विशेष रुप में उदेश्य उद्यमों के प्रबंधन मे भाग लेने के लिए जाब अपनी सहायक कंपनी के लिए एक मूल कंपनी द्वारा दीर्घकालिक ऋण देने।

मेजबान देश के लिए फायदे और प्रत्यक्ष विदेशी निवश का नुकसान प्रत्यक्ष विदेशी निवेश के फायदे; १)जुटानेनिवेश के स्तर:विदेशी निवेश वांछित निवेश और स्थानीय स्तर पर जुटाए बाचत के बीच की भर सकते हैं। २) प्रोद्योगिकी के अपग्रेडेशन :विकासशील देशों के लिए मशीनरी और उपकरण स्थानांतरित करते हुए विदेशी निवेश के लिए इसके साथ तकनीकी ग्ज्ञान होता है। ३)निर्यात प्रतिस्पर्धा में सुधार :एफडीआई मेजबान देश अपने निर्यात के प्रदर्शन में सुधार कर सकते हैं। ४)रोज़गार सुजन:वि देशी निवेश विकासशील देशों में आधुनिक क्षेत्रों में रोज़गार पेदा कर सकते हैं। ५)पभोक्ताओं को लाभ: विकासशील देशों में उपभोक्ताओं को नए उत्पादों के माध्यम से प्रत्यक्ष विदेशी निवेश से लाभ मिलने वाला है, और प्रतिस्पर्धी कीमतों पर माल की गुणवत्ता में सुधार हुआ।

प्रत्यक्ष विदेशी निवेश की नुकसान १)विदेशी निवेश के घर निवेश के साथ प्रतिस्पर्धी हो गाय हे,घरेलू उद्योगों में मुनाफे में गिरावट , प्रमुख घरेलू बचत में गिर करने के लिए। २)कॉर्पोरेट करों के माध्यम से सार्वजनिक राजस्व के लिए विदेशी कंपनियों का योगदान है क्योंकि मेजबान सरकार द्वारा प्रदान की उदार कर रियायतें, निवेश भत्ते, प्रच्छन्न सार्वजनिक सब्सिडी और टैरिफ सुरक्षा के अपेक्षाकृत कम है।