अधिग्रहण

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

व्यवसाय में, अधिग्रहण यानि एक कंपनी (अधिग्रहणकर्ता या बोलीदाता) द्वारा दूसरे कंपनी का खरीदा जाना। यूके में, यह शब्द एक सार्वजनिक कंपनी के अधिग्रहण को संदर्भित करता है, जिसके शेयर किसी निजी कंपनी के अधिग्रहण के विपरीत, स्टॉक एक्सचेंज में सूचीबद्ध होते हैं।

उपार्जित कंपनी का प्रबंधन, प्रस्तावित अधिग्रहण से सहमत हो सकता है या नहीं भी हो सकता है, और इसके परिणामस्वरूप निम्न अधिग्रहण वर्गीकरण हैं: अनुकूल, शत्रुतापूर्ण, रिवर्स या बैक-फ्लिप। किसी भी अधिग्रहण के वित्तपोषण में अक्सर ऋण या बांड मुद्दे शामिल होते हैं जिसमें जंक बांड और साथ ही एक सरल नकद ऑफ़र भी शामिल हो सकते हैं, अथवा इसमें नई कंपनी के शेयर भी शामिल हो सकते हैं।

वर्गीकरण[संपादित करें]

अनुकूल[संपादित करें]

अनुकूल अधिग्रहण एक ऐसा अधिग्रहण है जिसे अर्जित कंपनी के प्रबंधन द्वारा अनुमोदित किया जाता है। इससे पहले कि बोलीधारक दूसरी कंपनी के लिए ऑफर करे, वह पहले कंपनी के निदेशक मंडल(बोर्ड ऑफ़ डायरेक्टर्स) को सूचित करता है। आदर्श रूप से, अगर बोर्ड को लगता है कि प्रस्ताव को स्वीकार करने से शेयरधारकों को बेहतर लाभ होगा, तो वह प्रस्ताव को शेयरधारकों द्वारा स्वीकार किए जाने की सिफारिश करता है।

किसी निजी कंपनी में, क्योंकि शेयरधारकगण और बोर्ड आमतौर पर एक ही व्यक्ति होता है, या एक दूसरे के साथ निकटता से जुड़े हुए होते हैं, अतः निजी अधिग्रहण आमतौर पर अनुकूल होते हैं। यदि शेयरधारक, कंपनी को बेचने के लिए सहमत होते हैं, तो बोर्ड आमतौर पर उसी राय पर होता है, या पर्याप्त रूप से इक्विटी-शेयरधारकों के आदेश के तहत बोलीधारक के साथ सहयोग करने के लिए तैयार होता है।

शत्रुतापूर्ण[संपादित करें]

शत्रुतापूर्ण अधिग्रहण, बोलीदाता को ऐसी लक्ष्य कंपनी को संभालने की अनुमति देता है जिसका प्रबंधन विलय या अधिग्रहण के लिए सहमत होने के लिए तैयार नहीं है। यदि किसी लक्षित कंपनी का बोर्ड प्रस्ताव को अस्वीकार कर देता है, और फिरभी यदि बोलीदाता उसका पीछा करना जारी रखे, या बोलीदाता प्रस्ताव देने के अपने दृढ़ इरादे की घोषणा करने के बाद सीधे प्रस्ताव करता है, ऐसी अवस्था में अधिग्रहण को शत्रुतापूर्ण माना जाता है। शत्रुतापूर्ण निविदा के विकास का श्रेय अक्सर लुई वोल्फसन को दिया जाता है।

इस तरह के अधिग्रहण को कई तरीकों से संचालित किया जा सकता है। सर्वप्रथम, सीधे निविदा पेश की जा सकती है, जहां अधिग्रहण करने वाली कंपनी मौजूदा बाजार मूल्य से अधिक मूल्य पर एक सार्वजनिक पेशकश करे। ऐसी अवस्था में, अधिग्रहण करने वाली कंपनी किसी प्रॉक्सी लड़ाई में भी संलग्न हो सकती है, ताकि वो शेयरधारकों की बहुमत को राजी करने की कोशिश करे, ताकि उस कंपनी की मौजूद प्रबंधन को पूर्णतः बदला जा सके और अधिग्रहण को मंजूरी मिल जाए। इसकी अन्य पद्धति में खुले बाजार पर चुपचाप पर्याप्त स्टॉक खरीदना शामिल है, इसे गुप्त टेंडर भी कहा जाता है। इन सभी तरीकों में, अधिग्रहित कंपनी का मौजूद प्रबंधन अधिग्रहण का विरोध करता है।

रिवर्स[संपादित करें]

रिवर्स टेकओवर, अधिग्रहण का एक प्रकार है, जहां एक निजी कंपनी किसी सार्वजनिक कंपनी का अधिग्रहण करती है। यह आमतौर पर निजी कंपनी की जिम्मेदारी पर किया जाता है, जिसका उद्देश्य निजी कंपनी के लिए प्रभावी रूप से खुद को फ्लोट करना है, जबकि पारंपरिक आईपीओ में शामिल कुछ खर्चों और समय से बचा जाता है।

बैक-फ्लिप[संपादित करें]

बैकफ्लिप अधिग्रहण किसी भी प्रकार का अधिग्रहण है जिसमें अधिग्रहण करने वाली कंपनी खुद को खरीदी गई कंपनी की सहायक कंपनी में बदल देती है। इस प्रकार का अधिग्रहण तब हो सकता है जब कोई बड़ी लेकिन कम जानी-मानी कंपनी किसी बहुत ही प्रसिद्ध ब्रांड के साथ संघर्ष करने वाली कंपनी को खरीद ले।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]