पैराशूटिंग

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
अग्रानुक्रम निकल एक जुड़वां औटर
चित्र:IMG 6969.jpg
हाइब्रिड की रचना
फ्रीफॉल में अग्रानुक्रम

पैराशूटिंग जिसे स्काइडाइविंग के रूप में भी जाना जाता है, यह एक पैराशूट की सहायता से किसी विमान से बाहर निकलने और धरती पर वापस लौटने का कार्य है। इसमें स्वतंत्र रूप से गिरने की एक निश्चित मात्रा शामिल हो भी सकती है और नहीं भी, जो वह समय है जिसके दौरान पैराशूट का उपयोग नहीं किया गया है और शरीर धीरे-धीरे टर्मिनल गति प्राप्त कर लेता है।

स्काइडाइविंग के इतिहास की शुरुआत आंद्रे-जैक्स गार्नरिन से होती है जिन्होंने 1797 में एक गर्म हवा के गुब्बारे से सफलतापूर्वक पैराशूट कूद पूरी की थी। सेना ने गुब्बारों के दल को और उड़ान में विमान के चालाक दल को आपातकालीन स्थितियों से बचाने के एक रास्ते के रूप में और बाद में युद्ध के मैदानों में सैनिकों को पहुंचाने के उपाय के रूप में पैराशूटिंग तकनीक विकसित की थी। शुरुआती प्रतियोगिताएं कम से कम 1930 के दशक में शुरू हुई थीं और 1952 में यह एक अंतरराष्ट्रीय खेल बन गया।

पैराशूटिंग का प्रदर्शन एक मनोरंजक गतिविधि और एक प्रतिस्पर्धात्मक खेल के साथ-साथ सैन्य कर्मियों के हवाई बलों और कभी-कभी जंगल की आग बुझाने वालों की तैनाती के रूप में किया जाता है।

किसी स्काइडाइविंग हवाई अड्डे पर एक ड्रॉप जोन ऑपरेटर एक या एक से अधिक विमान संचालित करता है जो एक शुल्क पर स्काइडाइवरों के समूहों को ले जाता है। कोई व्यक्ति जम्पर सेसना सी-172 या सी-182 जैसे एक हल्के विमान में बैठकर ऊपर जा सकता है। व्यस्त ड्रॉप जोनों (डीजेड) में सेसना कारवां सी208, डी हैविलैंड ट्विन ओटर डीएचसी6 या शॉर्ट स्काइवैन जैसे बड़े विमानों का इस्तेमाल किया जा सकता है।

एक आम कूद में व्यक्ति किसी वायुयान (आम तौर पर एक हवाई जहाज, लेकिन कभी-कभी हेलिकॉप्टर या यहां तक कि गुब्बारे के गोंडोला) से 1,000 से 4,000 मीटर (3,000 से 13,000 फीट की ऊंचाई से किसी भी स्थान पर बाहर निकलता है। एक कम ऊंचाई से उछाल भरते हुए पैराशूट को तुरंत प्रयोग में लाया जाता है, जबकि अधिक ऊंचाई पर स्काइडाइवर नीचे उतरने की प्रक्रिया को धीमा कर सुरक्षित गति (लगभग 5 से 7 मिनट) तक लाने के लिए पैराशूट को सक्रिय करने से पहले कुछ समय के लिए (लगभग एक मिनट तक)[1] स्वतंत्र रूप से गिरता रह सकता है।

पैराशूट खुल जाने पर (आम तौर पर पैराशूट को 800 मीटर या 2,600 फीट पर पूरी तरह से फुला लिया जाएगा) जम्पर पैराशूट के अनुगामी किनारे से जुड़ी और स्टीयरिंग लाइनों के अंत में मौजूद टॉगलों से दिशा और गति को नियंत्रित कर सकते हैं और उतरने के स्थान के लिए लक्ष्य बना सकते हैं तथा एक अपेक्षाकृत सरल ठहराव पर आ सकते हैं। सभी आधुनिक खेल पैराशूट स्वयं फुलाए जाने वाले "रैम-एयर" विंग्स होते हैं जो संबंधित पैराग्लाइडरों की तरह गति और दिशा का नियंत्रण प्रदान करते हैं। दोनों खेलों में शुद्धतावादी यह ध्यान देते हैं कि पैराग्लाइडरों में कहीं अधिक उठाव और दायरा होता है लेकिन उन पैराशूटों को टर्मिनल वेग पर तैनाती के तनावों को अवशोषित करने के लिए डिज़ाइन किया गया है।

मुक्त रूप से गिरने के क्रम में स्काइडाइवर शरीर के आकार में हेरफेर कर मोड़, आगे बढ़ने की गति, पीछे की ओर की गति और सामान उठाव उत्पन्न कर सकता है।

किसी वायुयान से निकलते समय विमान की गति से उत्पन्न आवेग (जिसे "फॉरवर्ड थ्रो" काहते हैं) के कारण स्काइडाइवर कुछ सेकंड के लिए निरंतर आगे और नीचे की ओर बढ़ता है। क्षैतिज से ऊर्ध्वाधर उड़ान में परिवर्तन की धारणा को "सापेक्ष वायु" के रूप में या अनौपचारिक रूप से "पहाड़ी पर होना" माना जाता है। मुक्त रूप से गिरने (फ्रीफॉल) में स्काइडाइवर आम तौर पर एक गिरने जैसी संवेदना का अनुभव नहीं करते हैं क्योंकि लगभग 50 मील/घंटा (80 किमी/घंटा) से अधिक की गति में उनके शरीर से हवा का प्रतिरोध वजन और दिशा की कुछ अनुभूति प्रदान करता है। विमान के लिए एक सामान्य निकास गति (लगभग 90 मील/घंटा (140 किमी/घंटा)) में बाहर निकलने के तुरंत बाद गिरने की थोड़ी सी अनुभूति होती है लेकिन किसी हेलिकॉप्टर या गुब्बारे से कूदने पर यह संवेदना पैदा हो सकती है। स्काइडाइवर टर्मिनल वेग के आसपास पहुंच जाते हैं (पेट से जमीन के अनुकूलन के लिए लगभग 120 मील/घंटा (190 किमी/घंटा), नीचे की ओर सिर के झुकाव के लिए 150-200 मील प्रति घंटे (240-320 किमी/घंटा) और अब जमीन की ओर तेजी से गिरना बंद कर देते हैं। इस बिंदु पर एक तीव्र हवा के समान संवेदना होती है।

ऊपरी दाएँ कोने में दिखाए गए वीडियोग्राफर के साथ 12-वे फॉर्मेशन
रूसी ध्वज के साथ कूद

कई लोग अपनी पहली कूद में एक अनुभवी और प्रशिक्षित प्रशिक्षक के साथ लेते हैं - इस प्रकार के स्काइडाइवर एक के पीछे एक स्काइडाइव के रूप में हो सकते हैं। एक के पीछे एक की (अग्रानुक्रम) कूद के दौरान प्रशिक्षक अप्रत्याशित स्थितियों में उन आपातकालीन प्रक्रियाओं के लिए जिम्मेदार होते हैं जिनकी आवश्यकता उन्हें होती है, इसीलिए शिक्षार्थी को स्काइडाइव सीखने पर ध्यान केंद्रित करने के लिए कहा जाता है। अन्य प्रशिक्षण विधियों में स्थिर लाइन, आईएडी (प्रशिक्षक की मदद से तैनाती) और एएफएफ (एक्सिलेरेटेड फ्री-फॉल) शामिल है जिसे कनाडा में प्रोग्रेसिव फ्री-फॉल (पीपीएफ) के रूप में जाना जाता है।

सुरक्षा[संपादित करें]

खतरे की संभावना के बावजूद हताहतों की संख्या बहुत ही कम होती है। हालांकि दुनिया भर में पैराशूटिंग से प्रत्येक वर्ष कई लोगों को चोटें लगती हैं या मारे जाते हैं।[2][3] अमेरिका में हर साल लगभग 30 स्काइडाइवर मारे जाते हैं; मोटे तौर पर प्रत्येक 100,000 कूद में एक मौत होती है (लगभग 1.001%).[4]

अमेरिका और पश्चिमी दुनिया के अधिकांश देशों में स्काइडाइवरों के लिए दो पैराशूट ले जाना आवश्यक होता है। रिजर्व पैराशूट का अनिवार्य रूप से समय-समय पर निरीक्षण किया जाना चाहिए और एक प्रमाणित पैराशूट मेकेनिक (अमेरिका में, एक एफएए प्रमाणित पैराशूट मेकेनिक) द्वारा फिर से पैक किया जाना चाहिए (भले ही उपयोग में हो या ना हो). कई स्काइडाइवर स्वचालित सक्रियण उपकरण (एएडी) का इस्तेमाल करते हैं जो मुख्य छतरी को स्वयं सक्रिय करने में असफल रहने की स्थिति में रिजर्व पैराशूट को एक सुरक्षित ऊंचाई पर खोल देता है। ज्यादातर स्काइडाइवर एक दृश्य एल्टीमीटर पहनते हैं लेकिन कई लोगों द्वारा अपने हेलमेट में फिट किये गए श्रव्य एल्टीमीटरों का इस्तेमाल भी तेजी से बढ़ा है।

एक पूर्णतः कार्यशील पैराशूट में चोटें और मौतें आम तौर पर इसलिए होती हैं क्योंकि स्काइडाइवर ने असुरक्षित प्रयास किये या अपनी छतरी को उड़ाते समय निर्णय लेने में कोई चूक कर दी, जिसके परिणाम स्वरूप विशेषकर जमीन पर या जमीन पर मौजूद अन्य खतरों पर एक तीव्र वेग का प्रभाव पडॉ॰[5] चोट के सबसे आम स्रोतों में से एक है एक उच्च-क्षमता वाली छतरी के नीचे और स्वूपिंग के समय एक निम्न मोड़. स्वूपिंग जमीन पर उतरने के दौरान जमीन के समानांतर ग्लाइडिंग का उन्नत अभ्यास है।

डकार, सेनेगल के ऊपर से कूदने के लिए करने के लिए एक सैन्य पैराशूटिस्ट

हवा की बदलती परिस्थितियां जोखिम के अन्य कारक हैं। गर्म दिनों में तेज हवाओं और वायुमंडलीय विक्षोभ की परिस्थितियों में पैराशूटिस्ट जमीन के करीब डाउनड्राफ्ट में पकड़े जा सकते हैं। बदलती हवाओं के कारण तिरछी हवाओं या नीचे की ओर हवाओं वाली लैंडिंग हो सकती है जिसमें लैंडिंग गति में हवा की गति जुड़ जाने के कारण चोट की संभावना काफी बढ़ जाती है।

जोखिम का एक अन्य कारक "छतरी का टकरा जाना" या पूरी तरह से फुलाए गए पैराशूटों के नीचे दो अथवा अधिक स्काइडाइवरों की टक्कर है। छतरी की टक्कर के कारण जम्पर का फुलाया हुआ पैराशूट एक दूसरे के साथ उलझ जाता है जिसके परिणाम स्वरूप अक्सर इसमें शामिल एक या अधिक पैराशूट अचानक नाकाम हो जाता है (हवा निकल जाती है). जब ऐसा होता है तो जम्परों को अक्सर जल्दी से आपातकालीन प्रक्रियाएं निष्पादित करनी चाहिए (यदि वहाँ ऐसा करने के लिए पर्याप्त ऊंचाई है) जिसमें अपनी मुख्य छतरी से "कट कर अलग हो जाना" (मुक्त हो जाना) और अपनी रिजर्व छतरियों का इस्तेमाल करना शामिल है। छतरी की टक्कर तब विशेष रूप से खतरनाक हो जाती है जब ऊंचाई इतनी कम होती है कि जम्परों को अपनी मुख्य छतरी से सुरक्षित रूप से मुक्त होने और अपने रिजर्व पैराशूटों का पूरी तरह से इस्तेमाल करने के लिए पर्याप्त समय नहीं मिल पाता है।

उपकरण की विफलता शायद ही कभी घातक परिणाम और चोटों का कारण बनती है। किसी मुख्य पैराशूट के एक हजार इस्तेमाल में तकरीबन एक बार परिणाम इसकी खराबी के रूप में सामने आता है।[कृपया उद्धरण जोड़ें] रैम-एयर पैराशूट आम तौर पर खराब होने पर ही अनियंत्रित रूप से घूमने लगते हैं, ऐसे में रिजर्व पैराशूट का इस्तेमाल करने से पहले इसे अवश्य मुक्त कर लिया जाना चाहिए। रिजर्व पैराशूट को अलग प्रकार से पैक किया जाता है और अलग तरीके से इस्तेमाल किया जाता है, इन्हें और अधिक संरक्षित ढंग से डिजाइन किया और बनाया जाता है, साथ ही इनका परीक्षण कहीं अधित सटीक मानकों पर होता है जिससे ये मुख्य पैराशूट से कहीं अधिक विश्वसनीय होते हैं, लेकिन वास्तविक सुरक्षा लाभ एक अप्रत्याशित मुख्य खराबी की संभावना से आती है जो एक रिजर्व खराबी की अपेक्षाकृत कम संभावित अंदेशे के कारण कई गुना बढ़ जाती है। इससे एक दोहरी खराबी की कहीं छोटी सी संभावना पैदा हो जाती है हालांकि एक मुख्य खराबी की संभावना रहती है जिसे काट कर अलग नहीं किया जा सकता है जिसके कारण एक विपरीत खराबी होती है जो बहुत ही वास्तविक जोखिम है।

पैराशूटिंग के विषय जैसे कि बेस जम्पिंग या जिसमें विंगसूट उड़ान या स्काई सर्फिंग जैसे उपकरण शामिल होते हैं, जम्पर की कम गतिशीलता और उलझाव के कहीं अधिक खतरे के कारण एक उच्च जोखिम कारक होता है। {0}इस कारण से इन विषयों का अभ्यास आम तौर पर अनुभवी जम्परों द्वारा किया जाता है।{/0}

व्यावसायिक फिल्मों - विशेषकर हॉलीवुड की एक्शन फिल्मों - के चित्रण में आम तौर पर खेल के खतरे को काफी बढ़ा-चढ़ा कर दिखाया जाता है। उन फिल्मों में अक्सर पात्रों को ऐसे करतब करते हुए दिखाया जाता है जो विशेष प्रभावों (स्पेशल इफेक्ट्स) की मदद के बिना प्रत्यक्ष रूप से असंभव हैं। अन्य मामलों में उनके अभ्यास किसी सुरक्षा के प्रति सजग ड्रॉप जोन या क्लब में धराशायी या नाकाम हो सकते हैं। अमेरिका और कनाडा में यूएसपीए के सदस्य ड्रॉप जोनों के लिए एक "सुरक्षा अधिकारी" (कनाडा में डीएसओ - ड्रॉप जोन सुरक्षा अधिकारी; अमेरिका में एसएंडटीए - सुरक्षा और प्रशिक्षण सलाहकार) के रूप में कार्य करने वाला एक अनुभवी जम्पर होना आवश्यक है जो उन जम्परों के साथ बातचीत करने के लिए जिम्मेदार है जो नियमों, विनियमों को तोड़ते हैं या अन्यथा ऐसा कोई कार्य करते हैं जिसे नियुक्त व्यक्ति द्वारा असुरक्षित समझा जाता है।

कई देशों में या तो स्थानीय नियमों या ड्रॉप जोन मालिकों के दायित्व के प्रति जागरूक विवेक का होना आवश्यक है कि पैराशूटिस्ट इस खेल में शामिल होने से पहले परिपक्वता की उम्र तक अवश्य पहुंच गया है।

पैराशूटिंग और मौसम[संपादित करें]

खराब मौसम, विशेष रूप से बादल गरजने और बिजली वाले तूफानों, तेज हवाओं और धूल भरी आँधियों शैतानों में पैराशूटिंग एक खतरनाक गतिविधि हो सकती है। प्रतिष्ठित ड्रॉप जोन खराब मौसम के दौरान सामान्य गतिविधियों को रोक देते हैं।

छतरी की टक्कर[संपादित करें]

दूसरी छतरी के साथ टक्कर एक सांख्यिकीय खतरा है और सरल सिद्धांतों का अनुसरण कर इससे बचा जा सकता है।

प्रशिक्षण[संपादित करें]

छात्र पायलटों को पैराशूट संचालन को समझाते हुए एक शिक्षक

स्काइडाइविंग का अभ्यास कूद के बिना किया जा सकता है। फ्रीफॉल का अभ्यास ("इनडोर स्काइडाइविंग" या "बॉडीफ्लाइट") करने के लिए ऊर्ध्वाधर हवाई सुरंगों का इस्तेमाल किया जाता है जबकि पैराशूट नियंत्रण का अभ्यास करने के लिए आभासी वास्तविकता वाले नकली पैराशूटों का इस्तेमाल होता है।

प्रशिक्षण की चाह रखने वाले शुरुआती स्काइडाइवरों के पास निम्नलिखित विकल्प हैं:

  • स्थिर लाइन
  • प्रशिक्षक की मदद से इस्तेमाल
  • त्वरित फ्रीफॉल
  • अग्रानुक्रम स्काइडाइविंग

पैराशूट का इस्तेमाल[संपादित करें]

एक स्काइडाइवर की तैनाती की ऊंचाई पर व्यक्ति स्वयं एक छोटे पायलट-शूट का प्रयोग करता है जो एक वायु दिग्दर्शक (ड्रोग) का काम करता है, हवा को पकड़ता है और मुख्य पैराशूट या मुख्य छतरी को बाहर खींचता है। इसमें दो प्रमुख प्रणालियां उपयोग में लाई जाती हैं: "थ्रो-आउट" जिसमें स्काइडाइवर मुख्य कंटेनर के बाहर एक छोटे पॉकेट में सजाकर रखे गए पायलट-शूट के शीर्ष से जुड़े टॉगल को खींचता है: और "पुल-आउट" जिसमें स्काइडाइवर कंटेनर के भीतर सजाये गए पायलट-शूट से जुड़े एक छोटे से पैड को खींचता है।

थ्रो-आउट पायलट-शूट के पाउच आम तौर पर कंटेनर के तल पर रखे जाते हैं - बी.ओ.सी. तैनाती प्रणाली - लेकिन पुरानी सामग्रियों में पाउच अक्सर पैर में लगे होते हैं। दूसरा विकल्प सपाट-उड़ान के लिए सुरक्षित है लेकिन फ्रीस्टाइल या सिर-नीचे कर किये जाने वाले उड़ान के लिए अक्सर अनुपयुक्त होते हैं।

एक विशेष गैर-सैन्य पैराशूट प्रणाली, जैसे कि थ्रो-आउट में पायलट-शूट एक लाइन से जुदा होता है जिसे "लगाम (ब्रिडल)" के रूप में जाना जाता है जो एक छोटे से तैनाती बैग से जुड़ा होता है जिसमें मोड़ा हुआ पैराशूट मौजूद रहता है, साथ ही लटकाव वाली लाइनें रबर बैंडों में सजी होती हैं। कंटेनर के तल में जो तैनाती बैग को पकड़ कर रखता है, एक बंद लूप होता है जिसे पैकिंग के दौरान कंटेनर को बंद करने के लिए इस्तेमाल में लाये जाने वाले चार फ्लैपों के ग्रोमेट्स के माध्यम से समाया जाता है। उस समय एक टेढ़ा पिन जो लगाम से जुड़ा हुआ है, इसे बंद लूप के माध्यम से डाला जाता है। अगले चरण में पायलट-शूट को मोड़ना और इसे एक पाउच (जैसे कि बी.ओ.सी. पाउच) में रखना शामिल है।

सक्रियण तब शुरू होता है जब पायलट-शूट को बाहर फेंक दिया जाता है। यह फ़ैल जाता है और खिंचाव पैदा करता है, पिन को बंद लूप से बाहर खींच लिया जाता है और कंटेनर से तैनाती बैग को खींच लेने में पायलट-शूट की मदद करता है। पैराशूट लाइनों को रबर बैंडों से ढ़ीला खींचा जाता है और छतरी खुलना शुरू होते ही फ़ैल जाता है। कपड़े का एक आयताकार टुकड़ा जिसे "स्लाइडर" कहा जाता है (जो पैराशूट लाइनों को चार मुख्य समूहों में अलग-अलग करता है जिन्हें स्लाइडर के चार संबंधित कोनों में ग्रोमेट्स के माध्यम से समाया गया होता है) यह पैराशूट के खुलने की प्रक्रिया को धीमा कर देता है और नीचे की और इसके मार्ग पर तब तक कार्य करता है जब तक कि छतरी पूरी तरह से खुल नहीं जाती है और स्लाइडर स्काइडाइवर के सिर के ठीक ऊपर नहीं आ जाता है। स्लाइडर पैराशूट की तैनाती को धीमा और नियंत्रित करता है। स्लाइडर के बिना पैराशूट तेजी से फ़ैल जाता है जो संभावित रूप से पैराशूट के कपड़े और/या लटकाव लाइनों को नुकसान पहुंचा सकता है। एक सामान्य तैनाती के दौरान स्काइडाइवर 3 से 4 जी के क्षेत्र में आम तौर पर कुछ सेकंड के लिए गति में एक तीव्र कमी का अनुभव करता है जबकि पैराशूट आरोहन को 120 मील/घंटा (190 किमी/घंटा) से लगभग 18 मील प्रति घंटे तक धीमा कर देता है।

अगर कोई स्काइडाइवर अपने मुख्य पैराशूट में किसी खराबी का अनुभव करता है जिसे वह ठीक नहीं कर सकता है तो वह अपने हार्नेस के दायीं ओर सामने स्थित एक "कट-अवे" हैंडल को खींच लेता है जो मुख्य छतरी को हार्नेस/कंटेनर से निकाल देता है। एक बार खराब मुख्य छतरी से मुक्त हो जाने के बाद सामने के बाएं हार्नेस पर स्थित एक दूसरे हैंडल को खींचकर रिजर्व छतरी को स्वयं सक्रिय किया जा सकता है। कुछ कंटेनर मुख्य से लेकर रिजर्व पैराशूटों तक एक संपर्क लाइन से फिट किये गए होते हैं - जिसे एक रिजर्व स्टैटिक लाइन (आरएसएल) के रूप में जाना जाता है - जो रिजर्व कंटेनर को स्वयं द्वारा निकालने की अपेक्षा कहीं अधिक तेजी से खींचकर खोल देता है। चाहे जिस तरीके का इस्तेमाल किया गया हो, एक स्प्रिंग से युक्त पायलटशूट तव रिजर्व पैराशूट को कंटेनर के ऊपरी आधे भाग से निकाल लेता है।

विविधताएं[संपादित करें]

जिन विषयों में लोगों को प्रशिक्षित किया जाता है उनके अतिरिक्त उपकरणों को खरीद सकते हैं और कोचिंग/प्रशिक्षण प्राप्त कर सकते हैं, मनोरंजन के लिए स्काइडाइविंग करने वाले रोमांच का मजा लेने के लिए अलग-अलग तरीके ढूंढते हैं।

हिट एंड रॉक[संपादित करें]

इसका एक उदाहरण "हिट एंड रॉक" है जो सटीक लैंडिंग का एक प्रकार है जिसे विभिन्न योग्यता स्तरों वाले लोगों को रोमांच के लिए प्रतिस्पर्धा करने के लिए तैयार किया गया है। "हिट एंड रॉक" मूल रूप से पीओपीएस (पैराशूट ओवर फोर्टी सोसायटी) से आया है। पीओपीएस की मुख्य साइट को देखें.

इसका उद्देश्य है कुर्सी के जितना करीब संभव हो लैंड करना, पैराशूट के हार्नेस को हटाना, कुर्सी के साथ स्प्रिंट होना, कुर्सी पर पूरी तरह से बैठ जाना और कम से कम एक बार पीछे और आगे झूलना. प्रतियोगी को उस पल से समय दिया जाता है जब पैर जमीन को छूते हैं और जब तक कि पहला रॉक पूरा नहीं हो जाता है। इस गतिविधि को एक दौड़ (रेस) माना जाता है।

पौंड स्वूपिंग[संपादित करें]

पौंड स्वीपिंग प्रतिस्पर्धी पैराशूटिंग का एक स्वरूप है जिसमें छतरी के पायलट पानी की एक छोटी इकाई के आर-पार फिसलन पर और समुद्रतट पर छूने की कोशिश करते हैं। इस तरह की गतिविधियां प्रसन्न चित्त प्रतियोगिता, रेटिंग की सटीकता, गति, दूरी और शैली प्रदान करती हैं। अंक और साथियों की स्वीकृति उस समय कम हो जाती है जब कोई प्रतिभागी "चौस" हो जाता है या समुद्रतट तक पहुंचने में नाकाम होता है और पानी में डूब जाता है।

क्रॉस-कंट्री[संपादित करें]

क्रॉस कंट्री जम्प एक ऐसा स्काइडाइव जहां प्रतिभागी इस इरादे के साथ कूदने के बाद तुरंत अपने पैराशूट को खोल लेते हैं कि जितना अधिक संभव हो सके छतरी के नीचे की जमीन को कवर किया जाए. जम्प रन से ड्रॉप जोन तक सामान्य दूरी अधिक से अधिक कई मीलों तक हो सकती है।

टारगेट स्काईस्पोर्ट्स का टेक्नोविया SM92 फिनिस्ट, इंग्लैंड के हिबाल्डस्टो में स्काइडाइवर्स को कूदने वाली ऊंचाई तक ले जाता हुआ।

कैमरा उड़ान[संपादित करें]

कैमरा उड़ान में एक कैमरापर्सन दूसरे स्काइडाइवर के साथ कूदता है और अपनी फिल्म बनाता है। कैमरा उड़ाका अक्सर विशेष उपकरण पहनता है, जैसे कि गिरने की दरों की एक बड़ी रेंज प्रदान करने के लिए एक विंगसूट जंपसूट, हेलमेट में लगे वीडियो और स्टील कैमरा, मुंह से संचालित होने वाले कैमरा स्विच और ऑप्टिकल साइट. कुछ स्काइडाइवर कैमरा उड़ान में दक्ष होते हैं और कुछ प्रशिक्षित कूड़ों या अग्रानुक्रम-जम्परों पर छात्रों को फिल्माने के लिए फीस लेते हैं, या मीडिया के लिए पेशेवर दृश्य और तस्वीरें तैयार करते हैं।

स्काइडाइविंग समुदाय में हमेशा अच्छे कैमरा उड़ाकों की मांग रहती है क्योंकि स्काइडाइविंग संबंधी कई प्रतिस्पर्धी विषयों का निर्णय एक वीडियो रिकॉर्ड को देखकर दिया जाता है।

रात्रि कूद (नाइट जंप)[संपादित करें]

पैराशूटिंग हमेशा दिन के समय के घंटों तक ही सीमित नहीं होता है; अनुभवी स्काइडाइवर कभी-कभी रात्रि कूद का प्रदर्शन भी करते हैं। स्पष्ट सुरक्षा कारणों से इसमें एक सामान्य दिन के समय की कूद से कहीं अधिक उपकरणों की आवश्यकता होती है और अधिकांश अधिकार क्षेत्रों में एक उन्नत स्काइडाइविंग लाइसेंस (अमेरिका में कम से कम एक बी-लाइसेंस) और एक स्थानीय सुरक्षा अधिकारी से मुलाक़ात की आवश्यकता होती है जो यह बताता है कि लोड में क्या होना चाहिए। एक रोशन अल्टीमीटर (एक श्रव्य अल्टीमीटर को प्राथमिकता दी जाती है) होना आवश्यक है। रात्रि कूद का प्रदर्शन करने वाले स्काइडाइवर अपने साथ अक्सर फ्लैशलाइट लेते हैं जिससे कि वे अपनी छतरियों की समुचित रूप से तैनाती की जांच कर सकें.

अन्य स्काइडाइवरों और अन्य विमानों के लिए दृश्यता पर भी विचार करना आवश्यक है; एफएए विनियमों में रात्रि कूद में भाग लेने वाले स्काइडाइवरों को प्रत्येक दिशा में तीन मील (5 किमी) तक दिखाई देने वाला प्रकाश उपकरण पहनना और छतरी के नीचे आने पर इसे प्रकाशित कर लेना आवश्यक होता है। रात्रि कूद में एक केमलाइट (ग्लोस्टिक) का होना बेहतर माना जाता है।

रात में लैंडिंग करते समय रात्रि कूद में भाग लेने वालों को अंधकार क्षेत्र (डार्क जोन) के बारे में अवगत करा दिया जाना चाहिए। अपनी छतरी को 100 फीट से ऊपर उड़ाने वाले जम्परों को परावर्तित परिवेशी प्रकाश/चन्द्रमा की रोशनी के कारण आम तौर पर लैंडिंग जोन का सही अंदाजा होता है। जैसे ही वे जमीन के पास आते हैं, परावर्तन के निम्न कोण के कारण यह परिवेशी प्रकाश स्रोत लुप्त हो जाता है। वे जितना नीचे आते हैं, जमीन उतना ही अंधकारमय दिखाई देता है। लगभग 100 फुट की ऊंचाई पर और इससे ऐसा लग सकता है कि वे एक काली सुरंग में उतर रहे हैं। अचानक यह बहुत अंधकारमय हो जाता है और इसके तुरंत बाद जम्पर जमीन पर उतर जाता है। पहली बार रात्रि कूद में भाग लेने वाले जम्परों को इस जमीनी धक्के के बारे में बताया जाना चाहिए और इसका अंदाजा देना चाहिए।

स्टाफ जंप[संपादित करें]

चित्र:Dingyjump.jpg
एक स्काईडाइवर एक रबर रफ्त में बैठता है एवं तीन अन्य जम्पर उसे स्थिर किए हुए हैं।

पिछले दरवाजे वाले विमान और कूदने के लिए एक विशाल, खाली स्थान की उपलब्धता से स्टाफ जंप संभव हो जाता है। इस तरह की कूद में स्काइडाइवर किसी चीज के साथ बाहर कूदते हैं। रबड़ की नौका से कूदना लोकप्रिय है जहाँ जम्पर एक रबर की नौका में बैठता है। कारों, साइकिलों, मोटरसाइकिलों, वैक्यूम क्लीनरों, पानी के टैंकों और फुलाने वाली चीजों को भी विमान के पीछे से बाहर फेंका गया है। एक निश्चित ऊंचाई पर जम्पर उस वस्तु से अलग हो जाता है और अपने पैराशूटों का इस्तेमाल करता है जो इसे टर्मिनल वेग से जमीन पर टकराने में मदद करता है।

पैराशूटिंग संगठन[संपादित करें]

कई देशों में राष्ट्रीय पैराशूटिंग एसोसिएशन मौजूद हैं जिनमें से कई अपने खेल को बढ़ावा देने के लिए फेडरेशन एयारोनॉटिक इंटरनेशनेल (एफएआई) से संबद्ध हैं। ज्यादातर मामलों में राष्ट्रीय प्रतिनिधि निकायों के साथ-साथ स्थानीय ड्रॉपजोन ऑपरेटरों के लिए यह आवश्यक होता है कि प्रतिभागियों के पास उनके प्रशिक्षण, खेल में उनके अनुभव के स्तर और उनकी प्रमाणित सक्षमता को सत्यापित करने वाला प्रमाणपत्र होना चाहिए। जो कोई भी इस तरह की प्रामाणिक चीजों को प्रस्तुत नहीं कर पाता है उसे एक छात्र समझा जाता है जिसे कड़ी निगरानी की जरूरत होती है।

संयुक्त राज्य अमेरिका में संयुक्त राज्य अमेरिका पैराशूट एसोसिएशन (यूएसपीए) प्राथमिक संगठन है।[1]. यह संगठन सभी अमेरिकी स्काइडाइविंग गतिविधियों के लिए सुरक्षा योग्यताओं के आधार पर लाइसेंस और रेटिंग्स प्रदान करंता है। यूएसपीए स्काइडाइविंग के खेल में सुरक्षा को नियंत्रित करता है क्योंकि यह संगठनों की एकमात्र जिम्मेदारी है, साथ ही यह स्काइडाइवर्स इन्फॉर्मेशन मैनुअल (एसआईएम) तथा कई अन्य स्रोतों का प्रकाशन भी करता है। कनाडा में कनाडा स्पोर्ट पैराशूटिंग एसोसिएशन मुख्य संगठन है। इस खेल का प्रबंधन दक्षिण अफ्रीका में पैराशूट एसोसिएशन ऑफ साउथ अफ्रीका द्वारा और ब्रिटेन में ब्रिटिश पैराशूट एसोसिएशन द्वारा किया जाता है।

एसोसिएशन खेल में सुरक्षा, तकनीकी प्रगति, प्रशिक्षण और प्रमाणन, प्रतिस्पर्धा तथा अपने सदस्यों के अन्य हितों को बढ़ावा देते हैं। अपने संबंधित समुदायों के बाहर वे अपने खेल को जनता के बीच बढ़ावा देते हैं और अक्सर सरकारी नियामकों के साथ मध्यस्थता करते हैं।

इनमें से ज्यादातर विषयों में प्रतियोगिताएं क्षेत्रीय, राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर आयोजित की जाती हैं। उनमें से कुछ शौकिया प्रतियोगिता की पेशकश करते हैं।

कई अधिक फोटोजेनिक/वीडियोग्राफिक वेरिएंट प्रायोजित कार्यक्रमों का भी मजा लेते हैं जिसमें विजेताओं के लिए पुरस्कार राशि प्रदान की जाती है।

ज्यादातर जम्पर गैर-प्रतिस्पर्धी हो सकते हैं जो सप्ताहांतों और छुट्टियों पर अपने दोस्तों के साथ "हवा में कुछ करतब दिखाने" के अवसर का आनंद लेते हैं। उनके जमावड़े का माहौल सहज, मिलनसार और नए लोगों के लिए स्वागत योग्य होता है। पार्टी कार्यक्रम जिन्हें "बूगीज" कहते हैं इनका आयोजन स्थानीय, राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर प्रति वर्ष होता है जो युवा जम्परों और उनके वरिष्ठ सहयोगियों - पैराशूटिस्ट ओवर फोर्टी (पीओपी), स्काइडाइवर्स ओवर सिक्सटी (एसओएस).और यहां तक कि पुराने समूह - दोनों को आकर्षित करते हैं।

इस खेल से जुड़े उल्लेखनीय लोगों में वैलरी रोजोव का नाम शामिल है जो 1998 एक्स गेम्स के एक स्वर्ण पदक विजेता हैं जिन्होंने 1500 से अधिक कूद लगाई थी। जॉर्जिया थॉम्पसन ("टिनी") ब्रॉडविक पहले अमेरिकी स्काइडाइवरों में से एक हैं उन्होंने फ्रीफॉल का पहला करतब दिखाया था।

ड्रॉप जोन[संपादित करें]

पैराशूटिंग में एक ड्रॉप जोन या डीजे किसी स्थान के ऊपर या आसपास वह क्षेत्र है जहां कोई पैराशूटिस्ट फ्रीफॉल का करतब दिखाता है और उतरने की अपेक्षा रखता है। आम तौर पर यह एक छोटे से हवाई अड्डे के पास स्थित होता है जो अक्सर अन्य सामान्य विमानन गतिविधियों की सुविधाओं को साझा करता है। वहां पैराशूट लैंडिंग के लिए आम तौर पर एक नामित क्षेत्र होता है। ड्रॉप जोन के कर्मचारियों में डीजेडओ (ड्रॉप जोन ऑपरेटर या मालिक), परिवर्तक (मेनिफेस्टर), पायलट, प्रशिक्षक, कोच, कैमरामैन, पैकर, मैकेनिक और अन्य सामान्य कर्मचारी शामिल हैं।

उपकरण[संपादित करें]

इस खेल में लागत मामूली नहीं होता है। नयी तकनीकी सुविधाओं या क्षमता वृद्धि के साधनों को पेश किये जाने से उपकरणों की कीमतें कुछ अधिक हो जाती हैं। इसी तरह औसत स्काइडाइवर सुरक्षा उपकरणों (जैसे कि एएडी) के साथ पिछले वर्षों की तुलना में कहीं अधिक उपकरण साथ ले जाते हैं जो लागत का एक काफी बड़ा हिस्सा होता है।

बिलकुल नए उपकरणों का एक पूरा सेट आसानी से अधिक से अधिक एक नई मोटरसाइकिल या एक छोटी कार की लागत के बराबर का हो सकता है। बाजार इतना बड़ा नहीं है कि कीमतों में तेजी से कमी लाई जा सके जो कंप्यूटर जैसे कुछ अन्य उपकरणों के मामले में देखा जाता है।

कई देशों में यह खेल एक इस्तेमाल किये गए उपकरणों के बाजार का समर्थन करता है। नवोदितों के लिए "गीयर" प्राप्त करने का वह एक पसंदीदा तरीका है और इसके दो फायदे हैं क्योंकि उपयोक्ता निम्नलिखित में सक्षम होते हैं:

  • नए उपकरण का मूल्य चुकाने से पहले, सीखने के लिए अपनी पसंद के अलग-अलग प्रकार के पैराशूटों (कई विकल्प मौजूद हैं) को आजमाने की कोशिश करना।
  • कम समय में और कम कीमत पर एक पूरी प्रणाली और कंप्यूटर से जुडी सभी सामग्रियों को प्राप्त करना।

नौसिखिये आम तौर पर उन पैराशूटों से शुरुआत करते हैं जो जम्पर के शरीर के वजन के सापेक्ष बड़े और सहज होते हैं। जैसे-जैसे उनके कौशल और आत्मविश्वास में सुधार आता जाता है, वे छोटे, तेज और अधिक प्रभावशाली पैराशूटों के इस्तेमाल में निपुण हो सकते हैं। एक सक्रिय जम्पर कुछ वर्षों के दौरान आकाश में पैराशूट की छतरियों को कई बार बदल सकता है जबकि वह अपने हार्नेस/कंटेनर तथा पेरिफेरल उपकरणों को बनाए रखता है।

पुराने जम्पर, खासकर जो लोग केवल गर्मियों में सप्ताहांत में कूदते हैं, कभी-कभी अन्य दिशाओं में जाते हैं, वे कुछ बड़े, अधिक सहज पैराशूटों का चयन करते हैं जिनमें युवाओं की तीव्रता की जरूरत नहीं होती है और प्रत्येक कूद में सहज होता है। वे इस कहावत को चरितार्थ करते हैं कि: "यहां पुराने जम्पर और साहसी जम्पर मौजूद हैं लेकिन कोई पुराना साहसी जम्पर मौजूद नहीं है।"

अधिकांश पैराशूटिंग उपकरणों को मजबूत और आकर्षक ढंग से बनाया जाता है और छोड़ने से पहले कई मालिकों द्वारा इनका इस्तेमाल किया जाता है। खरीदारों को हमेशा किसी भी संभावित खरीद के लिए एक योग्य पैराशूट मेकेनिक द्वारा जांच करवा लेने की सलाह दी जाती है। एक मैकेनिक क्षति या दुरुपयोग के लक्षणों को पहचानने के लिए प्रशिक्षित होता है। मैकेनिक इंडस्ट्री के उत्पाद और सुरक्षा बुलेटिनों पर भी नजर रखते हैं और इसीलिये यह निर्धारित कर सकते हैं कि अमुक उपकरण नवीनतम और ठीक किये जाने योग्य है।

रिकॉर्ड[संपादित करें]

  • दुनिया की सबसे ऊंची नागरिक अग्रानुक्रम कूद डेनमार्क के ऊपर पूरी की गयी थी।
  • फ्रीफॉल में दुनिया की सबसे बड़ी संरचना: 8 फ़रवरी 2006 को थाईलैंड के उडोन थानी में (फ्रीफॉल में 400 जुड़े हुए व्यक्तियों ने भाग लिया).
  • सबसे बड़ी हेड डाउन संरचना (ऊर्ध्वाधर स्वरूप): 31 जुलाई 2009 को संयुक्त राज्य अमेरिका के ओटावा, इलिनोइस में स्काइडाइव शिकागो में (सिर से पृथ्वी के स्वरूप में 108 जुड़े हुए स्काइडाइवर).
  • यूरोपीय रिकॉर्ड: 13 अगस्त 2010, व्लोक्लावेक, पोलैंड. पोलिश स्काइडाइवरों ने एक रिकॉर्ड तोड़ा जब बिग वे कैम्प यूरो 2010 के दौरान 104 लोगों ने हवा में एक संरचना तैयार की। यह स्काइडाइव रिकॉर्ड तोड़ने के क्रम में उनका पंद्रहवां प्रयास था।
  • विश्व की सबसे बड़ी छतरी संरचना: 100, संयुक्त राज्य अमेरिका के फ्लोरिडा के लेक वेल्स में 21 नवम्बर 2007 को बनाया गया।[2][3]
  • सबसे बड़ी विंगसूट संरचना: 12 नवम्बर 2008 को संयुक्त राज्य अमेरिका के लेक एल्सिनोर, कैलिफोर्निया में (71 विंगसूट जम्पर).
  • डॉन केलनर के पास कुल मिलाकर 40,000 से अधिक कूद के साथ सबसे अधिक पैराशूट कूद का रिकॉर्ड है।[6]
  • बिल डाउसे के पास 420 घंटे से अधिक के फ्रीफॉल टाइम (30,000+ कूद) के साथ सबसे अधिक संग्रहित फ्रीफॉल टाइम का रिकॉर्ड है।
  • चेरिल स्टर्न्स (यूएसए) के पास अगस्त 2003 में कुल मिलाकर 15560 अवरोहन के साथ किसी महिला द्वारा सर्वाधिक पैराशूट अवरोहन का रिकॉर्ड मौजूद है।
  • कैप्टन जो डब्ल्यू. किटिंगर ने 16 अगस्त 1960 को अत्यधित-ऊंची पलायन प्रणाली के परीक्षण में युनाइटेड स्टेट्स एयर फ़ोर्स प्रोग्राम के एक भाग के रूप में इतिहास के सबसे ऊंची और सबसे लंबी पैराशूट कूद की उपलब्धि हासिल की थी। एक प्रेशर सूट पहने हुए कैप्टन किटिंगर 102,800 फीट (31,330 मी॰) की ऊंचाई पर एक गुब्बारे से संलग्न एक खुले गोंडोला में डेढ़ घंटे तक चढ़ाई की जिसके बाद वे वहां से कूद गए। यह गिरावट 4 मिनट 36 सेकंड तक चली जिसके दौरान कैप्टन किटिंगर 988 किमी/घंटा (614 मील प्रति घंटे) की रफ़्तार तक पहुंच गए थे।[7][8]
  • एड्रियन निकोलस के पास सबसे लंबी फ्रीफॉल का रिकॉर्ड है। उन्होंने 12 मार्च 1999 को 4 मिनट 55 सेकंड का एक दूसरा विंगसूट कूद पूरा किया था।[4]
  • जे स्टोक्स के पास 640 अवरोहन के साथ एक ही दिन में सबसे अधिक पैराशूट अवरोहन का रिकॉर्ड है। [5]
  • सबसे बुजुर्ग स्काइडाइवर: फ्रैंक मूडी, उम्र 101 वर्ष, उन्होंने 6 जून 2004 को स्काइडाइव केयर्न्स में एक अग्रानुक्रम कूद बनाया था। कार्ल ऐट्रिच अग्रानुक्रम (टैंडम) मास्टर थे।

इन्हें भी देंखे[संपादित करें]

  • बेस जंप
  • ड्रॉप ज़ोन
  • पैराशूट
  • पैराशूट लैंडिंग फॉल
  • परत्रूपेर
  • फ्री-फॉल
  • अग्रानुक्रम स्काइडाइविंग
  • विंगसुइट
  • स्वचालित सक्रियण उपकरण

टिप्पणियां[संपादित करें]

  1. http://www.skydiveoregon.com/skydiving_faq.php##8
  2. "Fatality statistics".
  3. "dropzone.com statistics".
  4. "How skydiving works".
  5. http://www.skydivingfatalities.info/
  6. "Skydiver Breaks His Record With 40,000 Jumps". KPTV Oregon. 24 मई 2011. अभिगमन तिथि 30 मई 2011.
  7. "Fact Sheets : Excelsior Gondola". National Museum of the USAF. अभिगमन तिथि 2011-01-18.
  8. "Fantastic catch in the sky, record leap toward earth". Life. August 29, 1960.

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]

साँचा:Extreme Sports