पाई (मुद्रा इकाई)

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

पाई अविभाजित भारत और बर्मा में मुद्रा की इकाई थी। 19वीं सदी के अंत में ये भारत में सबसे छोटा ढाला हुआ सिक्का था। एक रुपये में 192 पाई होते थे।[1] 1942 में इसको छापना बंद कर दिया गया था और कुछ ही सालों में बढ़ती मुद्रा स्फीति में पाई का विमुद्रीकरण कर दिया गया।[2] इसका उपयोग "पाई पाई जोड़कर फलाना बनाया है" में अभी भी आमजन की भाषा में देखा जा सकता है।[3]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. मिलिंद सांगोराम (2016). भारतीय इनकम टैक्स की कहानी. प्रभात प्रकाशन. पृ॰ 88. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9789351868149. |access-date= दिए जाने पर |url= भी दिया होना चाहिए (मदद)
  2. "भारतीय रिज़र्व बैंक की वेबसाइट पर पाई के बारे में" (अंग्रेज़ी में). अभिगमन तिथि 15 फरवरी 2018.
  3. "दैनिक भास्कर में छपी खबर". 18 अप्रैल 2017. अभिगमन तिथि 15 फरवरी 2018. लोगों ने पाई-पाई जोडकर रुपए जमा किए