पत्थर के फूल

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
(पत्थर के फूल (1991 फ़िल्म) से अनुप्रेषित)
Jump to navigation Jump to search
पत्थर के फूल
पत्थर के फूल.jpg
पत्थर के फूल का पोस्टर
निर्देशक अनंत बालानी
निर्माता जी. पी. सिप्पी
लेखक सलीम ख़ान
अभिनेता सलमान ख़ान,
रवीना टंडन,
किरन कुमार,
रीमा लागू
संगीतकार रामलक्ष्मण
प्रदर्शन तिथि(याँ) 22 फरवरी, 1991
देश भारत
भाषा हिन्दी

पत्थर के फूल 1991 की अनंत बालानी द्वारा निर्देशित हिन्दी भाषा की फिल्म है। सलमान खान इसमें अंडरवर्ल्ड गिरोह से लड़ने वाले पुलिस अधिकारी का किरदार निभाते हैं। रवीना टंडन (उनकी पहली फिल्म) प्रमुख महिला भूमिका निभाती हैं। जबकि विनोद मेहरा, किरण कुमार, रीमा लागू और मनोहर सिंह सहायक भूमिकाओं में शामिल हैं। विनोद मेहरा इस फिल्म की रिलीज से पहले गुजर गए थे। उनकी आवाज सचिन खेडेकर द्वारा डब की गई।

संक्षेप[संपादित करें]

सूरज इंस्पेक्टर विजय वर्मा (विनोद मेहरा) और उनकी पत्नी मीरा (रीमा लागू) का पुत्र है। एक दिन, सूरज किरण (रवीना टंडन) नाम की एक लड़की से मिलता है। सभी के लिए अज्ञात, किरण अंडरवर्ल्ड गिरोह के राजा बलराज खन्ना की पुत्री है। बलराज ने अपनी सच्चाई को दुनिया और अपनी बेटी से एक रहस्य रखा है। इस बीच विजय, बलराज के गिरोह का मामले सौंपा गया। एक ही कॉलेज में शामिल होने से, सूरज और किरण प्यार में पड़ते हैं। चूंकि विजय गिरोह में गहरा और गहराई से जांच करता है, गिरोह के सदस्य, विशेष रूप से गोगा (गोगा कपूर), सकते में जाते हैं।

बलराज इस तथ्य से परेशान हैं कि उसकी बेटी विजय के बेटे के प्यार में पड़ गई है। विजय को भी आभास हो जाता है कि बलराज गिरोह का नेता है। इसलिए, जब विजय अपने बेटे और किरण के बीच संबंध के बारे में जानता है, तो वह उनके प्यार को रोकता है। इस मामले में सूरज के उसके पिता के साथ मतभेद है। जैसे सूरज अपनी मां को अपनी भावनाएँ बताता है। मीरा भी उसके लिए एक रहस्य प्रकट करती है: सूरज विजय का जैविक पुत्र नहीं है।

मीरा उसे बताती है कि उसका असली पिता, उसका पति इंस्पेक्टर और विजय का मित्र था। मीरा सूरज के साथ गर्भवति थी, जब सुरज के पिता की हत्या हुई थी। रामसिंह गुप्ती (दीप ढिल्लों) नामक एक गुंडे ने उनकी हत्या की थी। उनकी मृत्यु के बाद, विजय ने मीरा को अपने घर ले लिया और बाद में उससे विवाह किया जब लोगों ने मीरा के चरित्र के बारे में बात करना शुरू कर दिया।

मुख्य कलाकार[संपादित करें]

संगीत[संपादित करें]

सभी राम लक्ष्मण द्वारा संगीतबद्ध।

क्र॰शीर्षकगीतकारगायकअवधि
1."आजा आजा आजा"देव कोहलीलता मंगेशकर6:17
2."आजा रे आजा मन के चैना"देव कोहलीलता मंगेशकर1:24
3."दीवाना दिल बिन सजना के माने ना"देव कोहलीलता मंगेशकर, एस॰ पी॰ बालसुब्रमण्यम7:30
4."जब भी मिलो दिल से मिलो"रविन्दर रावलअमित कुमार6:49
5."कभी तू छलिया लगता है"रविन्दर रावललता मंगेशकर, एस॰ पी॰ बालसुब्रमण्यम6:54
6."मौत से क्या डरना"देव कोहलीएस॰ पी॰ बालसुब्रमण्यम, लता मंगेशकर6:13
7."ना जा ना जा ना जा" (I)देव कोहलीएस॰ पी॰ बालसुब्रमण्यम6:17
8."ना जा ना जा ना जा" (II)देव कोहलीएस॰ पी॰ बालसुब्रमण्यम1:23
9."सजना तेरे बिना क्या जीना"रविन्दर रावललता मंगेशकर, एस॰ पी॰ बालसुब्रमण्यम6:01
10."सुन दिलरुबा है दिल की सदा"रविन्दर रावलएस॰ पी॰ बालसुब्रमण्यम6:11
11."तुमसे जो देखते ही प्यार हुआ"रविन्दर रावलएस॰ पी॰ बालसुब्रमण्यम, लता मंगेशकर6:00
12."यार पे ये दिल मेरा कुर्बान" (I)देव कोहलीमनहर उधास, सुरेश वाडकर, एस॰ पी॰ बालसुब्रमण्यम, पूर्णिमा9:06
13."यार पे ये दिल मेरा कुर्बान" (II)देव कोहलीएस॰ पी॰ बालसुब्रमण्यम,1:52
कुल अवधि:71:57

नामांकन और पुरस्कार[संपादित करें]

रवीना टंडन ने इस फिल्म के लिये फ़िल्मफ़ेयर महिला प्रथम अभिनय पुरस्कार ने अर्जित किया था।

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "बॅालीवुड फिल्मों की जानदार मदर्स, इन फिल्मों से मिली जबरदस्त सराहना". पत्रिका. 14 मई 2018. अभिगमन तिथि 25 मई 2018.

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]