न्यूटन (फिल्म)

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
Newton
Newton film poster.jpg
न्यूटन फिल्म का पोस्टर
निर्देशक अमित वी मसुरकर
निर्माता मनीष मुंद्रा
लेखक अमित वी मसुरकर
पटकथा अमित वी मसुरकर
मयंक तिवारी
अभिनेता राजकुमार राव
पंकज त्रिपाठी
अंजलि पाटिल
रघुवीर यादव
संगीतकार रचित अरोड़ा
छायाकार स्वप्निल एस सोनवाने
संपादक

श्वेता वेंकट मैथ्यू,

हार्दिक ए मेरिया
स्टूडियो दृश्यम फिल्म्स
वितरक एरोस इंटरनेशनल
प्रदर्शन तिथि(याँ)
  • 22 सितम्बर 2017 (2017-09-22)
समय सीमा 106 मिनट
देश India
भाषा हिंदी
लागत 9 करोड़ [1]
कुल कारोबार 31.65 करोड़[2]

न्‍यूटन फिल्म को भारत की तरफ से विदेशी भाषा में सर्वश्रेष्ठ फिल्म के ऑस्‍कर सम्मान के लिए आधिकारिक एंट्री मिली थी।[3] हालांकि ये फिल्म अपनी श्रेणी में सर्वश्रेष्ठ 9 फिल्मों में जगह बनाने में नाकाम रही और पुरस्कार की दौड़ से बाहर हो गई।[4] यह फिल्‍म नक्‍सल प्रभावित इलाके में सालों बाद इलेक्‍शन कराने जैसे विषय पर बनाई गई फिल्‍म है।[5] इस फिल्‍म में राजकुमार राव, पंकज त्रिपाठी, रघुवीर यादव,संजय मिश्रा, अंजली पाटिल जैसे कलाकार हैं।[6] फिल्‍म में राजकुमार राव और पंकज त्रिपाठी समेत सभी कलाकारों की एक्टिंग की काफी तारीफ हो रही है। 'न्‍यूटन' को फिल्‍म फेडरेशन ऑफ इंडिया की तरफ से ऑस्‍कर अवॉर्ड्स में 'बेस्‍ट फॉरिन फिल्‍म' की श्रेणी के लिए भेजी जाएगा। ये फिल्म 22 सितंबर 2017 को करीब 350 स्क्रीन्स पर रिलीज हुई है।[7][8]

कहानी[संपादित करें]

न्यूटन कुमार जो कि दलित समुदाय से है और नया भर्ती हुआ सरकारी क्लर्क है, उसे चुनावी ड्यूटी पर छत्तीसगढ़ के नक्सल प्रभावित जंगली इलाके में भेजा गया है। सुरक्षा बलों की उदासीनता और नक्सली छापामारों के हमले के संभावित खतरों के बीच तमाम विपरीत परिस्थितियों में वो अपनी ओर से निष्पक्ष मतदान करवाने की कोशिश करता है। लेकिन बावजूद इसके जब मतदाता मतदान के लिए नही आते तो उसे ये देखकर घोर निराशा होती है। बाद में जब एक विदेशी संवाददाता उस मतदान केंद्र पर पहुंचता है तो सुरक्षाकर्मी गांव वालों को मतदान करने के लिए जबर्दस्ती वहां लाने कोशिश करते हैं। न्यूटन को जल्दी इस बात का एहसास हो जाता है कि गांव वालों को मतदान की अहमियत के बारे में कुछ पता ही नहीं है। वो गांव वालों को मतदान के महत्व के बारे में समझाने की कोशिश करता है लेकिन सुरक्षा अधिकारी उसे बगल में धक्का देकर गांव वालों को समझाता है कि वोटिंग मशीन एक खिलौना है। ये देखकर विदेशी पत्रकार को भारत के लोकतंत्र के बारे में एक मजेदार खबर मिल जाती है। न्यूटन कुमार वोटिंग पूरी होने तक अपनी ड्यूटी पर मुस्तैद रहने की कोशिश करता है लेकिन इसी दौरान नक्सली हमले के बीच उसे अपनी जान बचाने के लिए भागने पर मजबूर होना पड़ता है। तभी उसे पता चलता है कि ये हमला भी पुलिस द्वारा ही सुनियोजित किया गया था। बाद में मतदान केंद्र की ओर लौटते समय उसे जंगल में चार ग्रामीण मिलते हैं जिनसे वो मशीन में वोट डलवाने की कोशिश करता है लेकिन उसके साथ चल रहे सुरक्षा अधिकारी को इस काम को लेकर अनमना सा है और न्यूटन को ऐसा करने से रोकता है। न्यूटन अपनी ड्यूटी को गंभीरता से लेते हुए सुरक्षा अधिकारी की बंदूक छीनकर उसे मतदान के बाकी बचे दो मिनट तक बंदूक की नोक पर रखता है ताकि गांव वाले मतदान कर सकें। लेकिन बाद में सुरक्षाकर्मी उसे बुरी तरह से पीटते हैं। इसके बाद फिल्म जंगली इलाके में खनन गतिविधियों के शाट्स दिखाती हुई समाप्त होती है।

कलाकार[संपादित करें]

तकनीकी दल[संपादित करें]

  • स्वप्निल एस सोनवाने-छायांकन
  • नरेन चंदावरकर एवं बेनेडिक्ट टेलर-संगीत निर्देशन
  • श्वेता वेंकट मैथ्यू-संपादन
  • नीरज गेरा-ध्वनि

संगीत[संपादित करें]

संगीत सूची
क्र॰शीर्षकगीतकारसंगीतकारSinger(s)अवधि
1."चल तू अपना काम कर"इरशाद कामिलरचित अरोड़ाअमित त्रिवेदी3:51
2."चल तू अपना काम कर" (वर्जन 2)इरशाद कामिलरचित अरोड़ारघुवीर यादव3:34
3."पंछी उड़ गया"वरुण ग्रोवरनरेन चंदावरकर एवं बेनेडिक्ट टेलरमोहन कानन4:16

समीक्षाएं[संपादित करें]

न्यूटन फिल्म को बर्लिन अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोह में शानदार प्रतिक्रिया मिली और दर्शकों ने इसे जमकर सराहा.[9] इसे फिल्म समारोह में सर्वश्रेष्ठ फिल्म का पुरस्कार भी मिला। हफिंग्टन पोस्ट ने फिल्म की प्रशंसा करते हुए लिखा न्यूटन विद्रोही इलाके में लोकतंत्र की सुरक्षा के लिए एक नौजवान क्लर्क की हृदयस्पर्शी और प्रेरणादायी गाथा है।[10] इस फिल्म को 90वें ऑस्कर सम्मान समारोह के लिए भारत की ओर से आधिकारिक फिल्म के रूप में शामिल किया गया है, जिसका निर्णय 4 मार्च 2018 को लॉस एेन्जेलिस, कैलिफोर्निया में किया जाएगा।[11][12]न्यूटन भारत की पहली फिल्म है जिसे केंद्र सरकार की ओर से 1 करोड़ रुपये का अनुदान प्राप्त हुई।[13] न्यूटन को समीक्षकों द्वारा स्कोर के रूप में 10 में से 7.5 अंक प्राप्त हुए हैं।[14]

बॉक्स ऑफिस[संपादित करें]

न्यूटन ने भारत में पहले सप्ताह में 11.75 करोड़ रुपये की कमाई की। इस फिल्म ने अपनी दूसरी सप्ताहांत में 3.75 करोड़ रुपये कमाए, जिससे कुल मिलाकर 15.50 करोड़ रुपये हो गए।[15]

विवाद[संपादित करें]

फिल्म के रिलीज होने और ऑस्कर में भारत की आधिकारिक फिल्म के रूप में नामांकन के बाद इस फिल्म की इरानी फिल्म 'सिक्रेट बैलट' से समानता के कारण काफी आलोचना हुई। जवाब में फिल्म निर्माता अनुराग कश्यप ने कहा कि न्यूटन सिक्रेट बैलट की वैसे ही नकल है जैसे हिंदी 'फिल्म वतन के रखवाले' की नकल 'द अवेंजर्स' है। [16]हालांकि बाद में फिल्म 'सिक्रेट बैलट' के निर्माता-निर्देशक ने सफाई पेश करते हुए कहा कि 'न्यूटन' उनकी फिल्म की नकल नहीं है। [17]

नामांकन एवं पुरस्कार[संपादित करें]

वर्ष पुरस्कार श्रेणी नतीजा
2017 बर्लिन अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोह इंटरनेशनल फेडरेशन ऑफ आर्ट सिनेमा पुरस्कार (CICAE)[18] जीत
2017 हांगकांग अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोह युवा सिनेमा प्रतियोगिता ज्यूरी अवार्ड[19] जीत

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "Why Newton could overrule Murphy's Law at the Oscars". लाइवमिंट. 22 September 2017. मूल से 10 नवंबर 2017 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 19 नवंबर 2017. Italic or bold markup not allowed in: |publisher= (मदद)
  2. "संग्रहीत प्रति". मूल से 21 नवंबर 2017 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 19 नवंबर 2017.
  3. "संग्रहीत प्रति". मूल से 23 सितंबर 2017 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 23 सितंबर 2017.
  4. "Rajkummar Rao's Newton Out of Oscar race". news18.com. मूल से 15 दिसंबर 2017 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 15 दिसंबर 2017.
  5. "These are the 91 other films Rajkummar Rao's Newton is competing with at the Oscars". मूल से 8 अक्तूबर 2017 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 8 अक्तूबर 2017.
  6. "संग्रहीत प्रति". मूल से 24 सितंबर 2017 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 23 सितंबर 2017.
  7. "संग्रहीत प्रति". मूल से 23 सितंबर 2017 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 23 सितंबर 2017.
  8. "संग्रहीत प्रति". मूल से 23 सितंबर 2017 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 23 सितंबर 2017.
  9. "Rajkummar Rao-starrer Newton wins Art Cinema honour at Berlinale". मूल से 3 नवंबर 2017 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 19 नवंबर 2017.
  10. "Huffington Post India". Huffington Post India. मूल से 24 सितंबर 2017 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 19 नवंबर 2017.
  11. "संग्रहीत प्रति". मूल से 5 दिसंबर 2017 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 19 नवंबर 2017.
  12. "Is Newton Plagiarised From Iranian Film Secret Ballot?". मूल से 25 सितंबर 2017 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 24 September 2017.
  13. "India's Oscar entry 'Newton' to get Rs 1 crore grant from Centre". मूल से 12 नवंबर 2017 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 19 नवंबर 2017.
  14. "संग्रहीत प्रति". मूल से 17 अक्तूबर 2017 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 19 नवंबर 2017.
  15. "Newton Slows In Second Weekend". मूल से 8 अक्तूबर 2017 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 8 अक्तूबर 2017.
  16. "Hrithik Signs A Biopic, Newton's Controversy: Top 5 Stories From Entertainment". HotFridayTalks (अंग्रेज़ी में). मूल से 26 सितंबर 2017 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 19 नवंबर 2017.
  17. "'Newton' is different from 'Secret Ballot', confirms Iranian director". Gulf News. 19 vbxyj 2017. मूल से 27 सितंबर 2017 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 27 September 2017. |date= में तिथि प्राचल का मान जाँचें (मदद)
  18. "Berlinale 2017: Rajkummar Rao's Newton wins big at the film festival". Firstpost (अंग्रेज़ी में). 20 फरवरी 2017. मूल से 2 दिसंबर 2017 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 18 नवंबर 2017.
  19. "41st Hong Kong International Film Festival – Awards 2017". मूल से 17 अक्तूबर 2017 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 19 नवंबर 2017.

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]