नौगम्यता

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

किसी जलनिकाय, जैसे कि एक नदी, नहर, या झील को नौगम्य (नौ=पानी+गमन=जाना) उस स्थिति में कहा जाता है, यदि इसकी गहराई, चौड़ाई और इसकी गति इतनी हो कि कोई जलयान इसे आसानी से पार कर जाये। राह में आने वाली बाधायें जैसे कि चट्टाने और पेड़ ऐसे हों कि उनसे आसानी से बचकर निकला जा सके, साथ ही पुलों की निकासी भी पर्याप्त होनी चाहिए (यह इतने ऊँचे हों कि पोत इनके नीचे से निकल जाये)। पानी की उच्च गति, और आमतौर पर शीत ऋतु में जमने वाली बर्फ किसी जलमार्ग को अनौगम्य बना सकती है।

नौगम्यता संदर्भ पर निर्भर करती है: एक छोटी नदी एक छोटी नाव के लिए नौगम्य हो सकती है पर एक क्रूज जहाज के लिए यह अनौगम्य होती है। उथली नदियों को जलपाश, जो पानी की गहराई बढ़ाने के साथ इसे विनियमित भी करता है, की संस्थापना के द्वारा नौगम्य बनाया जा सकता है। नदियों को नौगम्य बनाने की एक दूसरी विधि निकर्षण है।

सन्दर्भ[संपादित करें]