नार्निया

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

नार्निया एक काल्पनिक दुनिया है जिसे सि एस लुईस ने अपनी [[

द क्रानिकल्स ऑफ नार्निया किताब

की प्राथमिक जगह बनायी। वह दुनिया एक देश नार्निया से जाना जाता है।

नार्निया में, कुछ जानवर बोल सकते है, पौराणिक जानवर है और जादू सामान्य है। वह श्रंखला नार्निया की कहानी में घूमता है जहाँ मनुष्य, अधिकतर बच्चे, नार्निया को हमारे दुनिया, धरती, से पहुँचते हैं।

भूगोल[संपादित करें]

नार्निया[संपादित करें]

नार्निया वह जगह जहाँ ज्यादा से ज्यादा कहानी चलता है। यह श्रंखला के मुताबिक नार्निया को महँ सिंह असलान ने बनायीं है और इसे बोलती पौराणिक जानवरों से भर दिया है। सि एस लुईस ने शायद इटली का एक जगह नरनी से लिया होगा जिसका लैटिन नाम नार्निया है। नार्निया के दक्षिण में पहाड़ है और उत्तरी दिशा में दलदल है। पुरबी दिशा में समुद्र है और पश्चिमी दिशा में तेल्मर है। दक्षिणी दिशा में अर्चेंलंद है और उससे आगे कालोरेमें है। नार्निया में चार शहर है:- कैर पैरावेल, बेअवेर्स्दम, बरुना और चिप्पिन्ग्फोर्ड और तीन नदियाँ है:- ग्रेट रिवर और उसके विभाग। नार्निया मे सर्वेप्रथम दिगोरी व पाली अपने अन्क्ल कि वजह से गये। उन्के वहा जाने के बाद नार्निया का निर्मान हुआ।

अर्चेंलंद[संपादित करें]

अर्चेंलंद एक पहाड़ी क्षेत्र है और उसका राजधानी अन्वार्ड है। वह ज्यादा पांचवी भाग, द होर्से एंड हिस बॉय, में आता है। फ्रैंक १ उसके पहले रजा बने।

कालोरेमें[संपादित करें]

कालोरेमें अर्चेंलंद और महान मरुस्थल के दक्षिण में है। यह जगह भी पांचवी भाग में आता है। इसकी राजधानी तश्बान है। उसकी महान मरुस्थल के कारण कई नार्निया के रहने वालों को कालोरेमें के बारे में नहीं पता।

पुरबी महासागर[संपादित करें]

पुरबी महासागर कैर पैरावेल के पुरबी दिशा में है। यह महासागर का वर्णन तीसरी भाग "द वयेज ऑफ़ द डान ट्रेडर" में किया गया है। लूसी, एडमंड एवं कैस्पियन पुरबी महासागर के साथ द्वीपों को पार करके असलान की अपनी दुनिया को पहुँचते है। इस महासागर के अंतिम क्षेत्र की पानी मीठी होती है। ब्ब्ब्ब्ब्

अन्य स्थल[संपादित करें]

उत्तरी दिशे में दलदल, एत्तिन्स्मूर, जयंत ब्रिज और हर्फंग है। पश्चिमी दिशे में तेल्मर और धरती है। नार्निया की ज़मीन के नीचे अन्देर्लंद है।

निवासियों[संपादित करें]

धरती के इन्सान[संपादित करें]

कुल मिलकर धरती से ११ लोग नार्निया जा पहुँचते है। उनके नाम:- लूसी, सुसन, एडमंड, पीटर, एउस्तास सक्रुब्ब, जिल पोल, दिगोरी कर्क, पोल्ली प्लम्मर, एन्ड्रयु केत्तर्ली, फ्रैंक एवं हेलन। यह सभी द लास्ट बेत्टल में आते है सिवाय सुसन और एन्ड्रयु के। इनके साथ कुछ १२ आदमी है जो अनामिक है। वे प्रिन्स कैस्पियन में आते हैं।

बौने[संपादित करें]

बौने नार्निया के इतिहास के मुख्य सदस्य है। वह सभी भागों में आते है और बहुत काम के जानवर है। उन्हें धरती के पुत्र या धरती के पुत्री कहा जाता है। कुछ मुख्य बौने:- त्रम्प्किन एवं निकर्ब्रिक।