नागा पर्वत

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
(नागा पहाड़ियाँ से अनुप्रेषित)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
नागा पर्वत शृंखला नागा लोगों की मातृभूमि रही है।

नागा पर्वत शृंखला, जिन्हें नागा पहाड़ियाँ भी कहते हैं, भारत और बर्मा म्यान्मार की सीमा पर लगने वाली पर्वत शृंखला है। इसकी ऊँचाई लगभग 3,825-मीटर (12,549 फुट) है। यह जटिल पहाड़ प्रणाली का एक भाग है जिसमें से कुछ भाग भारतीय राज्य नागालैण्ड में तथा बर्मा में आते हैं।

ब्रितानी राज्य के दौरान इनमें से अधिकतर पहाड़ी क्षेत्र नागा हिल्स जिले के अन्तर्गता आता थी।

शब्द "नागा", नागा लोगों के लिए काम में लिया जाता है जिसे बर्मी भाषा में "नागा" अथवा "नाका" कहा जाता है और इसका अर्थ "छेदे हुये कान वाले लोगों" के साथ जोड़ा जाता है।[1]

ब्रितानी भारत में नागा पर्वत शृंखला का एक भाग १८६६ में एक जिलें में कर दिया गया।[2] नागा हिल्स जिले की सीमायें धीरे-धीरे बढ़ती चली गयी और इसमें और अधिक नागा प्रजातियों को शामिल किया गया जैसे एयोस अथव एओ नागा (१८८९), सेमास (१९०४) और कोन्याक (१९१०)। सन् १९१२ में इस जिले को असम प्रान्त का जिला घोषित कर दिया गया। भारत के विभाजन के समय इसका ट्वेनसांग जिले में विलय कर दिया गया जिससे १९६३ में नागालैण्ड राज्य निर्मित किया गया।[3]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. शिमरे, आर॰आर॰ (१९८५), Origin and Culture of Nagas [नागाओं का मूल और संस्कृति], पामलेफाई शिमरे, नई दिल्ली, पृ॰ 41, OCLC 14819323
  2. इनाटो येखेतो शिखू (२००७) (अंग्रेज़ी में). A Re-discovery and Re-building of Naga Cultural Values [नागा सांस्कृतिक मूल्यों का पुनरन्वेषण और पुनरोधार]. दया बुक्स. पृ. ५३–५५. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-81-89233-55-6. 
  3. बी॰ दत्त-राय, एस॰पी॰ अग्रवाल (1996) (अंग्रेज़ी में). Reorganization of North-East India since 1947. कोंसेप्ट. प॰ ६. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-81-7022-577-5.