द गुड, द बैड एंड द अग्ली (1966)

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
द गुड, द बैड एंड द अग्ली
चित्र:Good the bad and the ugly poster.jpg
U.S. theatrical release poster
निर्देशक Sergio Leone
निर्माता Alberto Grimaldi
पटकथा Age & Scarpelli
Sergio Leone
Luciano Vincenzoni
कहानी Sergio Leone
Luciano Vincenzoni
अभिनेता Clint Eastwood
Lee Van Cleef
Eli Wallach
संगीतकार Ennio Morricone
छायाकार Tonino Delli Colli
संपादक Eugenio Alabiso
Nino Baragli
वितरक United Artists
प्रदर्शन तिथि(याँ)
  • दिसम्बर 15, 1966 (1966-12-15)
  • दिसम्बर 23, 1967 (1967-12-23) (United States)
समय सीमा 177 minutes
देश साँचा:Film Italy
साँचा:Film Spain
भाषा Italian
लागत $1,300,000 (est.)
कुल कारोबार $25,100,000[1] (domestic)
$158,759,909 (inflation adj.)

द गुड, द बैड एंड द अग्ली (अंग्रेज़ी: The Good, the Bad and the Ugly, इतालवी : Il buono, il brutto, il cattivo) 1966 की एक इटेलियन/स्पैनिश कालजयी, पश्चिमी स्पेगेटी फिल्म है जिसका निर्देशन सेरिगो लियोन ने किया है और इसमें क्लिंट ईस्टवुड, ली वैन क्लीफ और एली वैलाच ने शीर्ष भूमिकाएं निभायी हैं।[2] इसकी पटकथा एज एवं स्कार्पेली, लुसियानो विन्सेंजोनी और लियोन द्वारा लिखी गयी थी और यह विन्सेंजोनी और लियोन की एक कहानी पर आधारित थी। फिल्म के व्यापक चौड़े परदे वाले चलचित्रण का श्रेय फोटोग्राफी के निर्देशक टोनिनो डेली कोली को जाता है और फिल्म के गाने जो बहुत प्रसिद्ध हुए थे व इसकी विषयवस्तु का परिचय देने वाले मुख्य गाने की संगीत रचना एनियो मौरिकोन द्वारा की गयी थी। यह ए फिस्ट फुल ऑफ डॉलर्स (1964) और फॉर ए फ्यू डॉलर्स मोर (1965) के बाद डॉलर्स त्रिकोण की तीसरी और आखिरी फिल्म थी। फिल्म का कथानक तीन पेशेवर हत्यारों पर केन्द्रित है जो बन्दूक की लड़ाई से फैले कोलाहल, फांसी की सजा, अमेरिकी गृहयुद्ध संघर्ष और जेल शिविरों के हालातों के बीच गड़े हुए संधिबद्ध सोने के खजाने की तलाश में आपस में प्रतिस्पर्धा कर रहे हैं।[3]

कथानक[संपादित करें]

अमेरिकी गृहयुद्ध के दौरान एक निर्जन डरावने शहर में ट्युको बेनेदिक्तो पेसिफिको जान मारिया रैमिरेज़ ("द अग्ली," एली वैलाच) भुत निकट से, तीन इनामी अपराधियों को पकड़ने वाले व्यक्तियों से बचने के लिए उनपर गोली चलाता है, जिसमे दो मर जाते हैं लेकिन तीसरा सिर्फ बुरी तरह से घायल हो जाता है। कई मील दूर, एंजेल आइज़, ("द बैड," ली वैन क्लीफ) स्टीवेंस (एंटोनियो कसास) नाम के एक पूर्व सैनिक से जैक्सन नामक एक लापता व्यक्ति और चोरी किये गए संधिबद्ध सोने के गुप्त भण्डार के बारे में पूछताछ कर रहा है, लापता व्यक्ति ने जैक्सन से बदलकर अपना नाम "बिल कार्सन" (एंटोनियो कैसेल) कर लिया है। पूछताछ के बाद वह निर्दयतापूर्वक स्टीवेंस और उसके बड़े बेटे को बन्दूक से मार देता है, लेकिन इससे पहले ही स्टीवेंस एंजेल आइज़ को उस व्यक्ति की हत्या करने के लिए कीमत दे देता है जिसने एंजेल आइज़ को स्टीवेंस को मारने के लिए कीमत दी थी, वह व्यक्ति बेकर नामक एक पूर्व सैनिक था। बाद में एंजेल आइज़ बेकर से स्टीवेंस की हत्या करने के लिए मेहनताना लेता है और इसके बीद उसकी भी गोली मार कर हत्या कर देता है।

इस बीच, रेगिस्तान में ट्युको के संघर्ष के दौरान वह इनामी अपराधियों को पकड़ने वालों के एक समूह से टकरा जाता है जो उसे पकड़ने की तैयारी करते हैं और इसी दौरान ब्लौंडी ("द गुड" क्लिंट ईस्टवुड), नामक एक रहस्यमयी, अकेला बंदूकधारी व्यक्ति उनके पास आता है जो शिकारियों को एक ड्रा खेलने की चुनौती देता है और जिसे वह बिजली की रफ़्तार से जीत भी जाता है। पहले तो ट्युको बहुत खुश होता है, लेकिन जब बाद में ब्लौंडी 2000 डॉलर की इनामी राशि के लिए उसे स्थानीय अधिकारीयों को सौंप देता है तो उसे बहुत क्रोध आता है। कई घंटों बाद, जब ट्युको अपनी फांसी की प्रतीक्षा कर रहा था तो ब्लौंडी अधिकारियों को अचंभित कर देता है और फांसी की रस्सी पर गोली चलाकर ट्युको को मुक्त करा देता है; बाद में दोनों ईनाम के पैसों के बंटवारे के लिए मिलते हैं और तब उनके पैसा कमाने की इस फायदेमंद योजना के बारे में पता चलता है। इनाम के इन पैसों के बंटवारे को लेकर ट्युको की लगातार शिकायतों से परेशान होकर, ब्लौंडी सारा पैसा लेकर उसे रेगिस्तान में छोड़कर चला जाता है, लेकिन इससे पहले, जब ट्युको की इनामी राशि बढ़ाकर 3000 डॉलर कर दी जाती है तो, वे दोनों इस योजना को एक बार फिर से किसी अन्य शहर में दोहराते हैं। अत्यधिक नाराज़ ट्युको किसी प्रकार दूसरे शहर में पहुंचता है और अपने लिए एक रिवॉल्वर का प्रबंध करता है। कुछ समय बाद एक अन्य शहर में, ट्युको तीन अपराधियों के नाम तय करता है जो ब्लौंडी की हत्या करने के लिए उसके साथ जायेंगे. जब वे तीन व्यक्ति ब्लौंडी के कमरे में धावा बोलते हैं, तो ब्लौंडी गोली चलाता है और उन तीनों को ख़त्म कर डालता है, लेकिन ब्लौंडी को चकमा देने के लिए ट्युको उसकी पीछे वाली खिड़की से चढ़कर ऊपर आता है और यूनियन व संघीय दलों की मुठभेड़ के बीच ब्लौंडी पर अपनी बन्दूक तान लेता है। जब ट्युको एक फंदा बनाता है और ब्लौंडी को इसे अपनी गर्दन पर पहनने के लिए विवश करके उसे मारने का प्रयास करता है तो ठीक उसी समय एक तोप का गोला होटल पर आकर गिरता है और कमरे को ध्वस्त कर देता है, इससे ब्लौंडी को भागने का अवसर मिल जाता है।

अनवरत खोज के बाद, ट्युको एक अन्य साझेदार के साथ इसी योजना को दोहराते वक्त ब्लौंडी को पकड़ लेता है (इस बार ट्युको ब्लौंडी को फांसी की रस्सी पर गोली नहीं चलाने देता और दुर्भाग्यशाली "शौर्टी" को फांसी के फंदे पर लटका दिया जाता है) और उसे निर्मम रेगिस्तान की ओर भगाते हुए ले जाता है। अंततः जब ब्लौंडी पानी की कमी और लू लगने के कारण बेहोश हो जाता है, तो ट्युको उसे मारने की तैयारी करता है पर तभी उसे एक तेज गति से आती हुई एम्ब्युलेंस अपनी ओर बढ़ती दिखायी देती है और वह रुक जाता है। जब ट्युको एम्ब्युलेंस के अन्दर मृत सैनिकों को लूट रहा था तब उसे उनके बीच में बिल कार्सन मिलता है जो मरणासन्न अवस्था में था, वह उसे बताता है कि 200,000 डॉलर की कीमत का चोरी किया गया संधिबद्ध सोना सैड हिल कब्रिस्तान में गाड़ कर छिपाया गया है लेकिन वह किस कब्र के नीचे गाड़ा गया है यह बता पाने से पहले ही वह बेहोश हो जाता है। जब ट्युको पानी लेकर लौटता है तो पाता है कि कार्सन मर चुका है और ब्लौंडी कार्सन के मृत शरीर के बगल में गाड़ी के सहारे झुका हुआ पड़ा है। मरने से पहले ब्लौंडी कहता है कि कार्सन ने उसे उस कब्र का नाम बता दिया है। ट्युको ब्लौंडी को एक कैथोलिक मिशन ले जाता है (दोनों संघ के सैनिकों का छद्म भेष बनाकर वहां जाते हैं) जो ट्युको के बड़े भाई पादरी पेब्लो द्वारा संचालित किया जाता है। ट्युको ब्लौंडी की परिचर्या के द्वारा उसे पुनः स्वस्थ कर देता है और छद्म भेष में ही दोनों वहां से चले जाते हैं। गलती से उनका सामना यूनियन के सैनिक दल से होता है (जिन्हें वह वर्दी पर मोटी धूल की पर्त के कारण संघ का दल समझ लेते हैं). उन्हें पकड़ कर एक संघीय जेल शिविर में ले जाया जाता है।

शिविर में, नायक वैलेस (मारियो ब्रेगा) उपस्थिति दर्ज करता है। ट्युको बिल कार्सन के स्थान पर उत्तर देता है, जिससे एंजेल आइज़ का ध्यान उसकी ओर आकर्षित होता है, जो उस समय शिविर में तैनात संघीय पदाधिकारी के भेष में है। एंजेल आइज़ वैलेस को आज्ञा देता है कि वह ट्युको को निर्ममतापूर्वक पीटे और प्रताड़ित करे जिससे वह सोने के गुप्त स्थान के रूप में सैड हिल कब्रिस्तान का पता बता दे, लेकिन साथ ही ट्युको उन्हें यह भी बता देता है कि सिर्फ ब्लौंडी ही उस कब्र का नाम जानता है। एंजेल आइज़ सोने का पता लगाने में ब्लौंडी के सामने बराबरी के हिस्से का प्रस्ताव रखता है। ब्लौंडी तैयार हो जाता है और एंजेल आइज़ और उसकी टुकड़ी के साथ चल पड़ता है। इसी बीच, ट्युको जिसे नायक वैलेस ने बांधकर रखा है, उसे फांसी के लिए ट्रेन द्वारा दूसरे स्थान पर ले जाया जाता है। इस यात्रा के दौरान, ट्युको वैलेस से कहता है कि उसे पेशाब करना है और इतने समय तक वैलेस का ध्यान दूसरी तरफ लगाये रहता है जिससे उसे वैलेस को पकड़कर ट्रेन से कूदने का मौका मिल सके. इसके बाद वह एक चट्टान पर वैलेस का सर मारता है, जिससे वह मर जाता है और दूसरी ट्रेन के आने पर चेन को काटता है जिससे वह ट्रेन मृत वैलेस को अपने साथ घसीटती आगे बढ़ जाती है और ट्युको आज़ाद हो जाता है।

इसके बाद हम देखते हैं कि ब्लौंडी, एंजेल आइज़ और एंजेल आइज़ की टुकड़ी एक ऐसे शहर में आती है जिसे विशाल तोप के हमलों के कारण बहुत शीघ्रतापूर्वक खाली करवाया जा रहा है। ट्युको भी उसी शहर के ध्वस्त अवशेषों के बीच यूं ही घूम रहा था, वह अब उस ईनामी अपराधियों को पकड़ने वाले व्यक्ति (अल म्युलौक) के बारे में बिलकुल भूल चुका था जो इस फिल्म की शुरुआत में बच जाता है, वह ट्युको का पीछा करता है और एक परित्यक्त इमारत में नहाने के दौरान उस पर एकाएक आक्रमण करता है। चौंकने के बावजूद, ट्युको गोली चलाता है और इनामी अपराधियों को पकड़ने वाले उस व्यक्ति को मार डालता है। ब्लौंडी चलायी गयी गोली की छानबीन करता है, इस दौरान उसे ट्युको मिल जाता है और वह उसे एंजेल आइज़ के हस्तक्षेप के बारे में बताता है। दोनों पुनः अपनी साझेदारी के अनुसार कार्य करने लगते हैं, ध्वस्त शहर में छुप-छुप कर घूमते हैं और एंजेल आइज़ के गुंडों को मारते हैं, अब तक उन्हें यह नहीं पता चला था कि एंजेल आइज़ भाग चुका है और उन दोनों के लिए एक अपमानजनक पत्र छोड़ गया है।

ट्युको और ब्लौंडी को सैड हिल कब्रिस्तान का रास्ता मिल जाता है, लेकिन वह विशाल यूनियन व संघ की सेना द्वारा अवरोधित है, यूनियन व संघ की सेनाओं के बीच में मात्र एक संकरा पुल है। प्रत्येक पक्ष इसके लिए लड़ने की तैयारी कर रहा है, लेकिन स्पष्टतः दोनों ही पक्षों को यह आज्ञा दी गयी है की पुल को नष्ट नहीं करना है। यह सोचकर कि यदि पुल नष्ट हो जायेगा तो "यह बेवकूफ लड़ाई के लिए कहीं और चले जायेंगे", ब्लौंडी और ट्युको ने पुल पर तार की सहायता से डायनामाइट बिछा दिया. ऐसा करने के दौरान दोनों अपनी अपनी जानकारी एक दूसरे को बताते हैं, ट्युको यह बताता है कि जिस स्थान पर सोना गाड़ा गया है वह स्थान सैड हिल कब्रिस्तान ही है और ब्लौंडी बताता है कि वह कब्र जिसके नीचे सोना है उसका नाम आर्क स्टेनटन है। फिर जैसे ही वह पुल ध्वस्त होने वाला होता है, वह दोनों छुप जाते हैं और सेनाएं पुनः युद्ध करने लगती हैं। अगली सुबह, यूनियन तथा संघ के सैनिक जा चुके होते हैं। ट्युको ब्लौंडी को स्वयं ही कब्रिस्तान से सोना निकालने के लिए छोड़ देता है (और स्वयं एक मरणासन्न नौजवान संघीय सैनिक को बचाने के लिए रुक जाता है). पागलों की तरह, कब्रों पर अस्थायी रूप से लगाये गए यादगार पत्थरों व निशानों के उस समुद्र में तलाश करने के बाद अंततः ट्युको को आर्क स्टेनटन की कब्र मिल जाती है। जब वह वहां गड्ढा करता है तभी ब्लौंडी आ जाता है (अपने विशिष्ट पोंचो को पहने हुए) और उसकी ओर एक खुरपा फेंकता है। एक क्षण बाद, दोनों एंजेल आइज़ को देखकर चौंक जाते हैं, जो उन्हें बन्दूक की नोक पर रोक लेता है। ब्लौंडी पैर से मारकर स्टेनटन की कब्र खोलता है तो उन्हें वहां पर बस एक कंकाल दिखायी पड़ता है। यह बताते हुए कि बस वो ही असली कब्र का नाम जानता है, ब्लौंडी वह नाम कब्रिस्तान के बींचोबीच एक चट्टान पर लिख देता है और ट्युको और एंजेल आइज़ से कहता है कि "दो सौ हज़ार डॉलर बहुत बड़ी रकम होती है। हमें इसे कमाना होगा."

तीनों कब्रिस्तान के गोलाकार केंद्र में एक दूसरे को घूरते हैं और अचानक वार करने से पहले परसिद्ध 5 मिनट के मैक्सिकन स्टैंडऑफ के दौरान यह अनुमान लगाते हैं कि कौन किसका साथ दे सकता है और क्या खतरे हो सकते हैं। ब्लौंडी एंजेल आइज़ पर गोली चला देता है, जोकि झुके रहने के दौरान वापस ब्लौंडी पर गोली चलाने की कोशिश करता है लेकिन ब्लौंडी फिर से उस पर गोली चला देता है और वह मृत अवस्था मे लुढ़कते हुए एक खुली कब्र में जा गिरता है। ट्युको भी एंजेल आइज़ पर गोली चलाने की कोशिश करता है, पर पाता है कि ब्लौंडी ने पिछली रात को ही उसकी बन्दूक की गोलियां निकाल दी थीं। ब्लौंडी ट्युको को "अननोन" नामक कब्र पर ले जाता है जो आर्क स्टेनटन के ठीक बगल में है। ट्युको उस कब्र को खोदता है और उसके अन्दर सोने के थैलों को पाकर बहुत खुश हो जाता है, लेकिन जब वह पलटकर ब्लौंडी की तरफ देखता है तो एक लटकते हुए फंदे को देखकर हैरान रह जाता है। ट्युको ने उसके साथ जो किया था उसका बदला लेने के लिए, ब्लौंडी उसे एक डगमगाते हुए कब्र के पत्थर के ऊपर खड़े होने के लिए विवश करता है और फंदे को उसकी गर्दन के चारों ओर डाल देता है, अपने हिस्से का सोना लेकर जाने से पहले वह ट्युको के हाथ बांध देता है। जब ट्युको दया की भीख मंगाते हुए चिल्लाता है तो, ब्लौंडी की आकृति फिर से दिखायी पड़ने लगती है और वह ट्युको पर एक राइफल का निशाना साधे हुए था। ब्लौंडी बस एक बार बन्दूक चलाता है और फंदे की रस्सी को अलग कर देता है, जैसे वह पहले किया करता था, इससे सबसे पहले ट्युको अपने चेहरे के बल अपने हिस्से के सोने पर जा गिरता है। ट्युको के पास अपने हिस्से का सोना तो है पर घोड़ा नहीं है, इसलिए वह गुस्से में बुरा भला कहते हुए चिल्लाता है "हे ब्लौंडी! तो ब्लौंडी मुस्कुराता है और चला जाता है। तुम्हें पता है तुम क्या हो? एक नीच कुतिया की औलाद!"

पात्र[संपादित करें]

तिकड़ी
  • क्लिंट ईस्टवुड "ब्लौंडी" के रूप में: द गुड, उर्फ़ अनाम व्यक्ति, एक मंद, समाश्वस्त ईनामी अपराधियों का शिकारी जो ट्युको के साथ मिलकर काम करने लगता है और गड़े हुए सोने को तलाशने के लिए एंजेल आइज़ के साथ मात्र अस्थायी तौर पर काम करता है। ब्लौंडी और ट्युको की सांझेदारी उभयभावी है। ट्युको को उस कब्रिस्तान का नाम पाता है जहां सोना छिपाया गया है, लेकिन ब्लौंडी को उस कब्र का नाम पता है जिसके नीचे सोना गड़ा है, इसलिए वह खजाना तलाशने के लिए दोनों साथ में काम करने को विवश हैं। इस लालचपूर्ण तलाश के बावजूद भी युद्ध के अस्तव्यस्त व नरसंहार के दौरान भी मरणासन्न सैनिक के प्रति ब्लौंडी की दया स्पष्ट है। वह यह कहते हुए शोक करता है कि "मैंने कभी इतने व्यक्तियों को व्यर्थ में जान गंवाते नहीं देखा.'
रॉहाइड ने एक श्रृंखला के रूप में अपनी पारी 1966 में समाप्त कर ली थी और उस समय तक क्लिंट ईस्टवुड की कोई भी इटैलियन फिल्म संयुक्त राज्य में प्रदर्शित नहीं हुई थी। जब लियोन ने अपनी अगली फिल्म में एक भूमिका का प्रस्ताव उन्हें दिया तो यह उनके लिए बड़ी फिल्म का एक मात्र प्रस्ताव था; हालांकि, फिर भी ईस्टवुड इस फिल्म को करने के बारे में कुछ विचार करना चाहते थे। लियोन और उनकी पत्नी उन्हें इस फिल्म के लिए राजी करने हेतु कैलिफौर्निया आये. दो दिन बाद, वह इस शर्त पर फिल्म करने के लिए तैयार हो गए कि उन्हें पारिश्रमिक के तौर पर 250,000 डॉलर दिए जायें और उत्तरी अमेरिका के बाज़ार से होने वाले लाभ में 10 प्रतिशत की हिस्सेदारी दी जाये - इस सौदे से लियोन खुश नहीं थे।
  • एंजेल आइज़ के रूप में ली वैन क्लीफ: द बैड, एक निर्दयी, भावशून्य और असामाजिक किराये का गुंडा जिसका नाम "एंजेल आइज़" है (सेंटेंज़ा - वाक्य - मूल कहानी व इटैलियन प्रारूप में), जो सदैव उस काम को खत्म करके ही मानता है जिसके लिए उसने कीमत ली हो (यह काम आम तौर पर लोगों को खोजना... और उनकी हत्या करना होता है।) जब ब्लौंडी और ट्युको संघ के सैनिकों का छद्म भेष रखने के दौरान पकड़ लिए जाते हैं, तो एंजेल आइज़ ही वह सैन्य पदाधिकारी होता है जो ट्युको से पूछताछ करता है और उसको प्रताड़ित करता है, अंततः वह ट्युको से उस कब्रिस्तान का नाम उगलवा लेता है जहां सोना गड़ा हुआ है, लेकिन उस कब्र का नाम नहीं जान पाता. एंजेल आइज़ और ब्लौंडी के बीच एक अस्थायी सांझेदारी होती है, लेकिन अवसर मिलने पर ट्युको और ब्लौंडी एंजेल आइज़ पर आक्रमण कर देते हैं।
वास्तव में, लियोन चाहते थे कि चार्ल्स ब्रौस्नन एंजेल आइज़ कि भूमिका करें लेकिन वह पहले ही द डर्टी डज़न के लिए अपना समय दे चुक थे। ऐसे में लियोन ने पुनः ली वैन क्लीफ के साथ काम करने के बारे में सोचा : "मैंने स्वयं से ही कहा कि वैन क्लीफ पहले फॉर ए फ्यू डॉलर्स मोर में रोमांटिक भूमिका कर चुके हैं। उनकी पूर्व भूमिका के बिलकुल विपरीत इस भूमिका को उनसे करवाने का विचार मुझे अत्यंत आकर्षित करने लगा."[4]
  • ट्युको के रूप में एली वैलाच: द अग्ली, ट्युको बेनेदिक्तो पेसिफिको जान मारिया रैमिरेज़, एक हास्य, बेवकूफ (हालांकि पूरी फिल्म में जैसा दिखाया गया है उससे यह सिद्ध होता है कि वह अत्यंत खतरनाक भी थे), बातूनी डाकू है जो अपराधों की एक लम्बी फेहरिश्त के लिए अधिकारियों द्वारा तलाश किया जा रहा है। ट्युको किसी प्रकार से उस कब्रिस्तान का नाम पता लगा लेता है जहां सोना गड़ा हुआ है, लेकिन उसे उस कब्र का नाम नहीं पता है जिसके नीचे सोना छिपाया गया है - वह नाम सिर्फ ब्लौंडी जानता है। यह सभी घटनाक्रम ट्युको को ब्लौंडी के साथ अनैच्छिक सांझेदारी के लिए विवश कर देते हैं।
निर्देशक वास्तव में जियेन मरिया वोलोंतो को ट्युको की भूमिका देना चाहते थे, लेकिन फिर उन्हें यह लगा कि इस भूमिका के लिए किसी ऐसे व्यक्ति की ज़रुरत है जिसमे "स्वाभाविक हास्य प्रतिभा" हो. अंत में, लियोन ने एली वैलाच को हाउ द वेस्ट वास वॉन (1962) में उनकी भूमिका के आधार पर चुना, खासतौर पर "द रेलरोड्स' दृश्य में उनके अभिनय के आधार पर.[4] लॉस एंजेल्स में, लियोन वैलाच से मिले, जो पुनः इस प्रकार की भूमिका को करने के सम्बन्ध में संशय में थे, लेकिन जब लियोन ने फॉर ए फ्यू डॉलर्स मोर का आरंभिक श्रेय ज्ञापन का दृश्य उन्हें दिखाया तो, वैलाच ने कहा: "आप मुझे कब से बुलाना चाहते हैं?"[4] बाद में विचित्र तरीके से मज़ाक करने की दोनों की आदत के कारण उन दोनों के बीच खूब पटने लगी और उनके अच्छे सम्बन्ध प्रसिद्ध हो गए। लियोन ने वैलाच को पोशाकों व बारबार दोहराए जाने वाले हावभाव के सम्बन्ध में, चरित्र में फेरबदल करने की अनुमति उन्हें दे दी. ईस्टवुड और वैन क्लीफ दोनों ने यह महसूस किया कि ट्युको का चरित्र लियोन के दिल के बहुत करीब है और निर्देशक और वैलाच अच्छे दोस्त बन गए। वे आपस में फ्रेंच भाष मे बात करते थे, जिसे लियोन तो बहुत अच्छी तरह से बोलते थे लेकिन वैलाच अच्छे से नहीं बोल पाते थे। वैन क्लीफ ने यह पाया कि, "ट्युको ही इस तिकड़ी का वह चरित्र है जिसके बारे में दर्शक सब कुछ जान पाते हैं। हम उसके भाई से मिलते हैं और यह जान पाते हैं कि वह कहां से आया है और क्यों एक डाकू बना. लेकिन क्लिंट व एंजेल के चरित्र रहस्यमय ही रहते हैं।[4]
सिनेमाघरों में जारी किये गए ट्रेलर में एंजेल आईज की ओर द अग्ली और ट्युको की ओर द बैड द्वारा संकेत किया जाता है। ऐसा एक अनुवाद की त्रुटि के कारण हुआ, मूल इटैलियन शीर्षक यथाशब्द इस रूप में अनुवाद करता है "द गुड, द अग्ली, द बैड".

सहायक भूमिकाएं[संपादित करें]

  • यूनियन के कप्तान के रूप में एल्डो ग्युफ्रे एक शराबी यूनियन पदाधिकारी जिसकी ट्युको और ब्लौंडी से मित्रता हो जाती है। वह यह मानता है कि उसके आदमी जिस भयंकर मुठभेड़ में लगे हुए हैं वह बेकार है और वह पुल को ध्वस्त करने का स्वप्न देखता है - एक ऐसी इच्छा जिसे ब्लौंडी और ट्युको पूर्ण कर देते हैं। ब्रैनस्टोन ब्रिज की लड़ाई में भीषण रूप से घायल होने के कारण, वह पुल के ध्वस्त होने की आवाज़ सुनते ही मुस्कुराते हुए दम तोड़ देता है।
    ग्युफ्रे एक इटैलियन हास्यकलाकार थे जो अभिनेता बन गए थे।
  • कारपोरल वैलेस के रूप में मारियो ब्रेगा: जेल का एक ठग चौकीदार जो एंजेल आइज़ के लिए काम करता है और खजाने की स्थिति के छिपे हुए रहस्य को जानने के लिए ट्युको को प्रताड़ित करता है। एंजेल आइज़ ट्युको को वैलेस के सुपुर्द कर देता है जिससे कि वह ट्युको की पुरस्कार की राशि प्राप्त कर सके; हालांकि ट्युको, वैलेस को मार डालता है।
    एक कसाई से अभिनेता बने, रोबदार, लम्बे चौड़े ब्रेगा, लियोन कि फिल्म में एक मुख्य किरदार थे और सामान्य पश्चिमी स्पैगेटी फिल्मों में.
  • पादरी पाब्लो रैमिरेज़ के रूप में ल्युइगी पिस्तिली: ट्युको का भाई और एक कैथोलिक धार्मिक शाखा के सदस्य. वह एक डाकू बन जाने के कारण ट्युको से घृणा करता है, लेकिन वास्तव में वह उससे बहुत प्रेम करता है।
    पिस्तिली कई पश्चिमी स्पैगेटी के अनुभवी कलाकार हैं, आमतौर पर वह खलनायक की भूमिका करते हैं (जैसे कि लियोन की फॉर ए फ्यू डॉलर्स मोर).
  • एक सशस्त्र ईनामी अपराधियों के शिकारी के रूप में एल म्युलौक: फिल्म की शुरुआत में ही ट्युको द्वारा घायल होने के कारण वह अपना दाहिना हाथ खो बैठता है। वह बदला लेना चाहता है, लेकिन ऐसा करने में वह ट्युको द्वारा चलायी गयी गोली से मार दिया जाता है, इस दौरान इस पंक्ति के संवाद बोले जाते हैं: "जब तुम्हे गोलों चलानी है तो चलाओ, चलाओ

! बात मत करो."

  • म्युलौक कनाडा के अभिनेता थे जो बाद में वंस अपॉन ए टाइम इन द वेस्ट में, प्रारंभिक दृश्य में तीन बन्दूक धारियों में से एक के रूप में दिखायी पड़े. उन्होंने बाद वाली फिल्म के सेट पर ही आत्महत्या कर ली थी।
  • स्टीवेंस के रूप में एंटोनियो कसास: इन्हें एंजेल आइज़ द्वारा मार डाला जाता है, जिसे बेकर ने स्टीवेंस की हत्या करने के लिए पैसा दिया था।
    कसास स्पेन के फ़ुटबाल खिलाड़ी थे जो बाद में अभिनेता बन गए।
  • बिल कार्सन/जैक्सन के रूप में एंटोनियो कैसेल.
  • ब्लौंड इनामी अपराधी के रूप में सेरिगो मेंडीज़ाबल. तीन इनामी अपराधियों में से एक जो ट्युको को पकड़ने के प्रयास में ब्लौंडी द्वारा मार दिया जाता है।
  • शेरिफ के रूप में जॉन बार्था। वह ट्युको को पकड़ लेता है। इसकी हैट ब्लौंडी की गोली द्वारा गिरा दी जाती है।
  • पेड्रो के रूप में क्लौडियो स्कार्चिली, ट्युको के दल का एक सदस्य. ब्लौंडी द्वारा मार दिया जाता है।
  • चिको के रूप में सैंड्रो स्कार्चिली, ट्युको के दल का एक सदस्य. ब्लौंडी द्वारा मार दिया जाता है।
  • कप्तान हार्पर के रूप में एंटोनियो मौलिनो रोजो. यूनियन जेल शिविर का अच्छा कप्तान जिसका पैर गैंग्रीन के कारण धीरे धीरे ख़राब होता जा रहा है। हार्पर एंजेल आइज़ को अपनी निगरानी के दौरान बेईमानी नहीं करने की चेतावनी देता है, लेकिन एंजेल आइज़ उससे घृणा करने लगता है और जानबूझकर उसके आदेशों की अनदेखी करता है।
    रोजो आमतौर पर लियोन की फिल्मों और अन्य पश्चिमी स्पैगेटी में वफादार सेवक की भूमिका करते हैं लेकिन यहां वह एक और भी अधिक सहानुभूतिपूर्ण किरदार निभाते हैं।
  • एंजेल आइज़ के दल के सदस्य के रूप में बेनिटो स्टीफानेली. ट्युको द्वारा मार डाला गया वफादार सेवक.
    लियोन की फिल्मों में लड़ाई के दृश्यों को फिल्माने वाले समन्वयक जो प्रायः ही पश्चिमी स्पैगेटी में छोटी भूमिकाएं किया करटे हैं।
  • एंजेल आइज़ के दल के सदस्य के रूप में एल्डो सेमब्रेल. ब्लौंडी द्वारा मार डाला गया वफादार सेवक.
    सेम ब्रेल स्पेन के अभिनेता थे जिनको पश्चिमी स्पैगेटी में छोटी भूमिकाओं के माध्यम से अपने देश में ख्याति मिली.
  • क्लेम के रूप में लौरेंजो रौब्लेडो जो एक वफादार सेवक बने हैं, जिसे एंजेल आइज़ ब्लौंडी का पीछा करने के लिए भेजता है जब ट्युको द्वारा इनामी अपराधी को मारने के बाद ब्लौंडी एंजेल आइज़ के गुप्त स्थान को छोड़कर जाता है। ब्लौंडी उसे खोज निकालता है और उसके पेट में गोली मार देता है।
  • ट्युको द्वारा लूटे गए निर्दोष दुकानदार के रूप में एंजो पेटिटो.
  • बेकर के रूप में लिवियो लौरेंजौन. स्टीवेन और कार्सन के साथ पैसे कमाने की योजना मे शामिल संघीय सैनिक, वह एंजेल आइज़ को स्टीवेन की हत्या करने और उससे सूचना उगलवाने के लिए भेजता है। हालांकि, बेकर स्वयं भी एंजेल आइज़ के द्वारा मारा जाता है, जिसे स्टीवेंस ने अपनी मृत्यु से पहले बेकर की हत्या करने के लिए पैसे दिए थे।
  • स्टीवेन की पत्नी के रूप में चेलो एलोंसो.
    50 और 60 के दशक के प्रारंभिक वर्षों में सोर्ड एंड सैन्डल फिल्मों की इटैलियन शीर्ष अभिनेत्री, उन्होंने लियोन के साथ उनकी कई फिल्मों में सहायक निर्देशक के रूप में काम किया था।

विकास[संपादित करें]

फॉर ए फ्यू डॉलर्स मोर की सफलता के बाद, युनाइटेड आर्टिस्ट्स के प्रबंधकों ने फिल्म के पटकथा लेखक, लुसियानो विन्सेंजोनी से उनकी अगली फिल्म के अधिकार प्राप्त करने से सम्बंधित एक संविदा के सिलसिले में संपर्क किया। निर्माता एल्बर्टो ग्रीमाल्डी और सेरिगो लियोन की ऐसी कोई योजना नहीं थी, लेकिन उनके आशीर्वाद के साथ, विन्सेंजोनी ने इस फिल्म का विचार रखा जो "तीन ऐसे बदमाशों के बारे में है जो अमेरिकी गृहयुद्ध के दौरान किसी खजाने की तलाश कर रहे हैं।"[4] स्टूडियो इस विचार से सहमत हो गया लेकिन वह इस अगली फिल्म की लागत जानना चाहता था। इसी समय, ग्रिमाल्डी अपने भी एक विचार की दलाली करने की कोशिश कर रहे था लेकिन विन्सेंजोनी का विचार अधिक लाभकर था। दोनों व्यक्तियों ने मिलकर यूए (UA) के साथ एक, एक (1) मिलियन डॉलर के बजट में एक समझौता पक्का किया जिसके अनुसार स्टूडियो 500,000 डॉलर की अग्रिम राशि और इटली के बाहर से होने वाले कारोबार में 50 प्रतिशत की हिस्सेदारी देगा. अंततः कुल बजट 1.3 मिलियन डॉलर का बना.

लियोन ने पटकथा लेखक की "युद्ध...उस गृहयुद्ध की निरर्थकता जिसका सामना फिल्म के पात्र करते हैं, के प्रदर्शन की मूल अवधारणा पर कहानी को विकसित किया है। मेरे विचार से, यह निरर्थक है, बेवकूफीपूर्ण: इससे किसी 'अच्छे कार्य' की प्रेरणा नहीं मिलती."[4][4] इतिहास में बहुत अधिक रूचि रखने वाले उत्सुक लियोन कहते हैं, "मैंने कहीं पढ़ा है कि अमेरिकी गृहयुद्ध के दौरान दक्षिणी शिविरों जैसे एंडर्सनविले में 120,000 लोग मारे गए थे। मै इस तथ्य से अनजान नहीं था कि उत्तर हिस्से में भी शिविर थे। आप सदैव हारनेवालों के शर्मनाक व्यवहार के किस्से सुन पाते हैं, जीतनेवालों के कभी नहीं."[4] बैटरविले शिविर जहां ब्लौंडी और ट्युको बंदी बनाये गए थे वह एंडर्सनविले की स्टील की नक्काशी पर आधारित था। फिल्म के कई दृश्य मैथ्यू ब्रैडी द्वारा लिए गए पुरालेखीय चित्रों से प्रभावित हैं।

जहां लियोन ने विन्सेंजोनी के विचार को एक कहानी का रूप दिया, वही पटकथा लेखक ने यह सिफारिश की कि एज़ेनोर इन्कृची और फ्युरियो स्कार्पेली की हास्य-लेखन टीम इस फिल्म पर लियोन और सेरिगो डोनाटी के साथ काम करे. लियोन के अनुसार, "मै उनके द्वारा लिखे एक शब्द का भी प्रयोग अपनी फिल्म में नहीं कर पाया। यह मेरे जीवन का सबसे बड़ा धोखा था।"[4] डोनाटी भी यह कहते हुए सहमत थे कि, "अंतिम कहानी में उनका योगदान नहीं के बराबर था। उन्होंने सिर्फ पहला भाग ही लिखा था। मात्र एक पंक्ति, बस."[4] विन्सेंजोनी यह दावा करते हैं कि उन्होंने 11 दिनों में वह पटकथा लिखी थी, लेकिन लियोन के साथ सम्बन्ध ख़राब हो जाने के कारण उन्होंने शीघ्र ही वह फिल्म छोड़ दी थी। तीनों शीर्ष चरित्र पूरी तरह से लियोन के आत्मकथात्मक तत्वों से युक्त हैं। एक साक्षात्कार के दौरान उन्होंने कहा, "[सेंटेंज़ा ] में कोई भाव नहीं हैं, वह बहुत ही साधारण श्रेणी के पेशेवर हैं। जैसे कि कोई रोबोट. जबकि अन्य दो के सम्बन्ध में ऐसा नहीं है। मेरे चरित्रों की क्रमव्यवस्था और सतर्कता के पक्ष में, मै इल बियौन्डो, (ब्लौंडी) के करीब हूं: लेकिन मेरी गहरी संवेदनाएं हमेशा ट्युको के पक्ष में रहेंगी...वह अपनी घायल मानवीयता और कोमलता सहित दिल को छू लेने वाला चरित्र है।[4]

फिल्म का कार्यवाहक शीर्षक आई द्यु मेग्निफिसी स्त्रचियोनी (द टू मेग्निफिसेंट ट्रेमप्स) है। इसे फिल्मांकन शुरू होने के ठीक पहले बदल दिया गया था जब विन्सेंजोनी को II बुओनो, इल ब्रुटो, इल कैटिवो (द गुड, द अग्ली, द बैड) का विचार आया, जो लियोन को बहुत पसंद आया।

निर्माण[संपादित करें]

चित्र:GoodBadUgly Mexicanstandoff.gif
सैड हिल कब्रिस्तान का मेक्सिकन स्टैंड ऑफ समापन जिसके लिए लियोन ने यह आदेश दिया था कि "लाशें अपनी कब्रों के भीतर से हंस रही थीं" जैसा भाव इसमें व्यक्त होना चाहिए.

1966 के मई महीने के मध्य से फिल्मांकन पुनः रोम के सिनेसिटा स्टूडियो में प्रारंभ हो गया था, जिसमे क्लिंट और वैलाच के बीच का शुरूआती दृश्य भी शामिल है जब एक अनाम व्यक्ति पहली बार ट्युको को पकड़ता है और जेल में भेज देता है।[5] इसके बाद निर्माण स्पेन के उत्तरी इलाके में बर्गौस के समीप के पठारी क्षेत्र में शुरू किया गया, जो दक्षिण पश्चिमी संयुक्त राज्य से दुगना था और फिर से पश्चिमी दृश्यों को दक्षिण में अल्मीरिया में फिल्माया गया।[6] इस बार निर्माण में और भी विस्तृत सेटों की आवश्यकता थी, जिसमे एक क़स्बा जिस पर तोप चलाया जाता है, एक विस्तृत जेल शिविर और एक अमेरिकी गृहयुद्ध स्थल, शामिल थे; और अंत के प्रमुख दृश्यों में सैकड़ों स्पैनिश सैनिक एक कब्रिस्तान को बनाने के लिए लगाये थे जिसमे हजारों कब्र पर लगाये जाने वाले पत्थरों का प्रयोग किया गया था जो प्राचीन रोमन चौक से मिलता जुलता हो.[6] स्पेन की सरकार ने फिल्म के निर्माण व फिल्मांकन की अनुमति दे दी और तकनीकी सहायता के लिए सेना प्रदान की; फिल्म के पात्रों में 1500 स्थानीय सैन्य दल के सदस्यों को अतिरिक्त कलाकार के रूप में लिया गया था।[कृपया उद्धरण जोड़ें] ईस्टवुड याद करते हैं कि, "यदि आप स्पेन और स्पेनवासियों के बारे में एक कहानी पर कार्य कर रहे होंगे तो अवश्य ही वह आपके काम पर ध्यान देंगे. फिर वे आपकी बहुत गहन जांच-पड़ताल करेंगे, लेकिन यह तथ्य कि आप एक पश्चिमी फिल्म को रोम में बना रहे हैं जिसको दक्षिण पश्चिम अमेरिका या मैक्सिको में बनाया जाना चाहिए था, तब वह आपकी कहानी और विषय के बारे में और भी छानबीन करेंगे."[4] शीर्ष इटैलियन छायाकार टोनिनो डेली कौली को इस फिल्म के फिल्मांकन हेतु लाया गया और उन्हें लियोन द्वारा इस बात के लिए प्रोत्साहित किया गया कि वह पिछली दो फिल्मों की तुलना में इस फिल्म में प्रकाश व्यवस्था पर अधिक ध्यान दें; एक बार फिर संगीत रचना एनिनो मौरिकोन द्वारा की गयी। लियोन कब्रिस्तान में होने वाले अंतिम मैक्सिकन स्टैंड ऑफ दृश्य के लिए मौरिकोन से एक ऐसी रचना का अनुरोध करने में सहायक सिद्ध हुए जिसके भाव इस प्रकार हों, "लाशें अपने कब्रों के भीतर से हंस रही थीं" और उन्होंने डेली कौली से कहा कि मंत्रमुग्ध कर देने वाला घुमावदार प्रभाव पैदा करें जिसमे बीच-बीच में नाटकीय नजदीकी फिल्मांकन भी हो, जिससे दर्शकों को दृश्य बैलेट के प्रभाव जैसा अनुभव हो.[6]

प्रारंभ में ईस्टवुड कहानी से खुश नहीं थे और उन्हें यह चिंता थी कि कहीं वैलाच उनके चरित्र को फीका ना कर दें और उन्होंने लियोन से कहा कि, "पहली फिल्म में तो मै अकेला ही था। दूसरी में दो व्यक्ति थे। यहां पर तो तीन व्यक्ति हैं। यदि ऐसा ही चलता रहा तो, तो अगली फिल्म में मै अमेरिकी फ़ौज के साथ काम करता हुआ पाया जाऊंगा."[7] जैसा कि ईस्टवुड इस भूमिका को स्वीकार करने के लिए सरलता से नहीं मान रहे थे (और उन्होंने अपना पारिश्रमिक बढ़ाकर 250,000 डॉलर, एक और फरारी[8] और अंततः फिल्म के यूएस राज्यों में जारी होने पर उसके व्यवसाय का 10 प्रतिशत दिए जाने तक कर दिया था), ईस्टवुड को पुनः रथ मार्श, जो उनसे त्रिकोण की तीसरी फिल्म को स्वीकार कर लेने का अनुरोध कर रहे थे और विलियम मौरिस एजेंसी व इरविंग लियोनौर्ड, जोकि क्लिंट पर मार्श के प्रभाव के कारण दुखी थे, के मध्य प्रचार संबंधी विवादों का सामना करना पड़ा.[7] ईस्टवुड ने मार्श को अपने कैरियर को और अधिक प्रभावित करने पर प्रतिबन्ध लगा दिया और उन्हें फ्रैंक वेल्स द्वारा भेजे गए एक पत्र के कारण मार्श को अपने व्यापार प्रबंधक के पद से हटाने के लिए विवश होना पड़ा.[7] कुछ समय बाद तक, ईस्टवुड का प्रचार सम्बन्धी कार्य गटमैन एंड पाम के जेरी पाम द्वारा देखा जा रहा था।[5]

वैलाच और ईस्टवुड एक साथ मैड्रिड गए और दृश्यों के फिल्मांकन के बीच ईस्टवुड आराम करते थे और अपने गोल्फ स्विंग का अभ्यास करते थे।[9] फिल्मांकन के दौरान वैलाच को एक प्रकार से जहर ही दे दिया गया था जब उन्होंने गलती से एक तेज़ाब की बोतल पी ली थी जो एक फिल्म तकनीशियन द्वारा उनकी सोडे की बोतल के बगल में रख दी गयी थी। वैलाच ने इसका जिक्र अपनी आत्मकथा[10] में किया था और यह शिकायत की थी की जहां लियोन एक उत्कृष्ट अभिनेता थे, वही दूसरी ओर वह खतरनाक दृश्यों के फिल्मांकन के दौरान अपने अभिनेताओं की सुरक्षा सुनिश्चित करने के सम्बन्ध में बहुत ही ढीले थे।[4] उदहारण के लिए, एक दृश्य में, जहां उन्हें एक पिस्तौल के चलने के बाद फांसी पर लटकाया जाना था, ऐसे में उनके नीचे खड़े घोड़े को गोली की आवाज़ से चौंक कर भागना था। जब वैलाच की गर्दन की रस्सी विभाजित हो गयी, तो पिस्तौल की आवाज़ से वह घोड़ा कुछ ज्यादा ही डर गया। वह लगभग एक मील तक उछलता हुआ दौड़ता रहा और वैलाच अब भी उसकी पीठ पर ही बैठे थे साथ ही वैलच के हाथ भी उनके पीछे की ओर बंधे हुए थे।[4] तीसरी बार जब वैलाच की जान खतरे में पड़ गयी तो इस दृश्य में वह और मारियो ब्रेगा - जोकि एक साथ चेन द्वारा बंधे हुए थे - एक चलती हुई ट्रेन से कूदते हैं। ट्रेन से कूदने वाला भाग तो योजना के अनुरूप ही पूरा हुआ, लेकिन वैलाच की जान तब खतरे में पड़ गयी जब उनके द्वारा अभिनीत चरित्र उस चेन को अलग करने का प्रयास करता है जिसके द्वारा वह वफादार गुंडे से बंधे हुए थे। ट्युको लाश को रेल की पटरियों पर रखता है और प्रतीक्षा करता है कि ट्रेन आये और इसके ऊपर से गुजर जाये जिससे कि चेन अलग हो जाये. वैलाच और संभवतः पूरा फिल्म निर्माण दल भारी लोहे की सीढ़ी जो प्रत्येक बॉक्स कार से बाहर निकली हुई थी, के बारे में अनभिज्ञ थे। यदि वैलाच गलत समय पर अपनी झुकी हुई अवस्था से उठ जाते, तो शायद उभरी हुई सीढ़ियों में से एक उन्हें बेधड़ कर देती.[4]

चित्र:GBUBlowbridgebattlefield.jpg
पुल को ध्वस्त करने के कुछ समय पहले ब्लौंडी ओर ट्युको.

कैमरे पर विस्फोटक द्वारा ध्वस्त किये जाने के लिए सुधारे जाने के बाद भी इस पुल को स्पैनिश सेना के खुदाई करने वाले सैनिकों द्वारा दो बार पुनः बनाया गया। पहली बार, एक इटैलियन कैमरा संचालक ने यह संकेत दिया कि वह फिल्मांकन के लिए तैयार है, जिसे एक सेना के कप्तान द्वारा स्पैनिश शब्द "शुरू" के रूप में गलत समझ लिया गया क्योंकि इस दोनों शब्दों की ध्वनि एक ही सामान थी। सौभाग्य से, इस कुसमय की घटना मे कोई भी घायल नहीं हुआ। जब अन्य दृश्य फिल्माए जा रहे थे उस दौरान सेना ने पुनः पुल बना दिया. जैसा कि पुल एक अवलंब नहीं बल्कि एक भारी और मजबूत संरचना थी, इसलिए इसको ध्वस्त करने के लिए शक्तिशाली विस्फोटक की आवश्यकता थी।[4] लियोन ने कहा था कि, उनका दृश्य, कुछ हद तक, बस्टर किटोन की मूक फिल्म, द जनरल से प्रेरित था।

चूंकि अंतर्राष्ट्रीय पात्रों को फिल्म में लिया गया था, इसलिए सभी अभिनेता अपनी मातृभाषा में काम कर रहे थे। ईस्टवुड, वैन क्लीफ और वैलाच अंग्रेजी बोलते थे और रोम में फिल्म के प्रथम प्रदर्शन के लिए उनके संवादों को इटैलियन भाषा में डब किया गया था। अमेरिकी संस्करण के लिए, शीर्ष पात्रों के ही स्वरों का प्रयोग किया गया था, लेकिन सहायक अभिनेताओं के संवादों को अंग्रेजी में डब किया गया था। इसका परिणाम स्क्रीन पर होठों की गति और स्वर के मध्य बुरे सामंजस्य के रूप में दृष्टिगोचर होता है; कोई भी संवाद पूरी तरह से सामंजस्य में नहीं हैं क्योंकि लियोन ने बहुत कम ही अवसरों पर दृश्य को समकालिक स्वर के साथ फिल्माया था। इसके लिए कई कारण बताये गए: लियोन प्रायः किसी भी दृश्य के पार्श्व में मौरिकोन का संगीत चलाना पसंद करते थे और संभवतः अभिनेताओं को दृश्य के भाव में लाने के लिए कुछ कुछ चिल्लाते भी रहते थे। लियोन संवाद की अपेक्षा दृश्यों पर अधिक ध्यान देते थे (उनका अंग्रेजी भाषा का ज्ञान बहुत सीमित था). उस समय की तकनीकी सीमाओं के चलते, लियोन द्वारा प्रायः ही प्रयुक्त किये जाने वाले अत्यंत लम्बे दृश्यों में आवाज़ को स्पष्ट रूप से रिकॉर्ड कर पाना कठिन होता. साथ ही, उस समय इटैलियन फिल्मों में मूक फिल्मांकन और फिर संवादों को डब किया जाना एक मानक चलन था। वास्तविक कारण जो भी रहा हो, फिल्म के सभी संवाद निर्माण के बाद रिकॉर्ड किये गए थे। ईस्टवुड और लियोन के बीच सम्बन्ध उनके पिछले सहकार्य के समय से ही तनावपूर्ण चल रहे थे और यूएस संस्करण के लिए संवाद डब किये जाने के सत्रों के दौरान यह सम्बन्ध और भी ख़राब हो गए क्योंकि इस दौरान अभिनेता को मूल आलेख जिस पर कि फिल्मांकन हुआ था उसके स्थान पर कोई और ही आलेख थमा दिया गया। उन्होंने इस नए संस्करण से संवाद पढ़ने से इनकार कर दिया और फिल्मांकन के दौरान प्रयुक्त आलेख से ही संवाद पढ़ने की बात पर अड़ गए।

लियोन सैड हिल कब्रिस्तान के फिल्मांकन के लिए कोई असली कब्रिस्तान खोज पाने में असमर्थ थे, इसलिए स्पैनिश आतिशबाजी विद्या के प्रमुख ने 250 स्पैनिश सैनिकों को भाड़े पर बुलाया जिससे कि सालस दे लॉस इन्फेंतेस के निकट, करजों में एक कब्रिस्तान बनवाया जा सके, जिसका निर्माण कार्य उन्होंने दो दिन में पूरा कर लिया था।[11]

द गुड, द बैड एंड द अग्ली का विशेष ऊबड़-खाबड़ भूभाग वाला सेट

फिल्म के अंत तक ईस्टवुड लियोन के उत्तम्तावादी निर्देशकीय गुणों से उकता चुके थे, जो प्रायः जबरन, कई कोणों से दृश्यों के फिल्मांकन पर जोर डालते थे और निम्न से निम्न मुद्दों पर भी बहुत ध्यान देते थे; जिससे अभिनेता प्रायः बुरी तरह थक जाते थे।[9] लियोन, जोकि बहुत ही ज्यादा खाने वाले थे, अपनी अतिवादी आदतों के कारण मनोरंजन का एक स्रोत भी थे और ईस्टवुड उनके सम्बन्ध में मज़ाक बनाकर और उन्हें उनके बुरे स्वभाव के कारण "योसेमाईट सैम" का उपनाम देकर अपने उन तनावों को शांत कर लेते थे जो उन्हें लियोन के संरक्षण में निर्देशित होने के कारण होता था।[9] ईस्टवुड ने तय कर लिया था कि वह दोबारा लियोन के निर्देशन में काम नहीं करेंगे, इसीलिए बाद में उन्होंने वंस अपॉन अ टाइम इन द वेस्ट (1968) में हार्मोनिका की भूमिका को ठुकरा दिया था, जिसकी कहानी उन्हें देने के लिए लियोन स्वयं लॉस एंजेल्स आये थे, अंततः यह भूमिका चार्ल्स ब्रौस्नन को दे दी गयी।[12] कई वर्षों बाद, वंस अपॉन अ टाइम इन अमेरिका (1984) के फिल्मांकन के दौरान लियोन ने क्लिंट से अपना बदला लिया, जब उन्होंने ईस्टवुड की प्रतिभा का वर्णन करते हुए कहा कि एक अभिनेता के रूप में उनकी क्षमता संगमरमर या मोम के एक टुकड़े जैसी है और रॉबर्ट डे नीरो की अभिनय क्षमता से कहीं कम है, उनके द्वारा की गयी टिप्पणी इस प्रकार थी, "विस्फोटों और गोलियों की बारिश के बीच ईस्टवुड एक नींद में चलने वाले व्यक्ति की तरह चलते हैं और वह सदैव ऐसे ही रहेंगे - एक संगमरमर के टुकड़े की तरह. बॉबी सर्वप्रथम एक अभिनेता हैं, क्लिंट सर्वप्रथम एक सितारे हैं। बॉबी संघर्ष करते हैं, क्लिंट उबासी लेते हैं।"[13]

रिलीज़[संपादित करें]

द गुड, द बैड एंड द अग्ली को संयुक्त राज्य में दिसंबर 1967 तक जारी नहीं किया गया था।[14] वास्तविक घरेलू इटैलियन संस्करण 2 घंटे 57 मिनट लम्बा था; लेकिन अंतर्राष्ट्रीय संस्करण 2 घंटे, 41 मिनट का था, अर्थात 16 मिनट छोटा था।

इस तथ्य के प्रकाश में कि II बुओनो, इल ब्रुटो, इल कैटिवो का अंग्रेजी में यथाशब्द अनुवाद: द गुड, द अग्ली, द बैड है, जो अंत के दो विशेषणों को पलट देता है, मूल इटैलियन रिलीज़ का प्रचार में ट्युको, एंजेल आइज़ के पहले आ जाता है और जब यह अंग्रेजी में अनुवादित होता है तो गलती से एंजेल आइज़, "द अगली' के रूप में और ट्युको " द बैड" के रूप में हो जाता है।

बॉक्स ऑफिस[संपादित करें]

15 दिसम्बर 1966 को इटली में जारी हुई और 23 दिसम्बर 1967 को संयुक्त राज्य में जारी होने के साथ, फिल्म ने कुल 6.3 मिलियन डॉलर का कारोबार किया।[15]

आलोचनात्मक प्रतिक्रिया[संपादित करें]

द गुड, द बैड एंड द अग्ली को इसके हिंसात्मक दृश्यों के लिए आलोचना मिली थी।[16] लियोन स्पष्ट करते हैं कि "मेरी फिल्म में दिखायी गयी हत्याएं अतिरंजित हैं क्योंकि मै रन-ऑफ-द-मिल पश्चिमवासियों के लिए एक व्यंग्यपूर्ण कटु उपहास की रचना करना चाहता था।.. पश्चिम का गठन हिंसक, जटिलता रहित व्यक्तियों से हुआ है और इसी शक्ति और सादगी को मैंने अपनी फिल्म में दिखाने का प्रयास किया है।"[17] आज तक, जीर्ण शीर्ण पश्चिम को पुनर्जीवित करने के लियोन के इस प्रयास को अभिस्वीकृत किया जाता है।[18]

रिलीज के प्रारंभ में फिल्म के सम्बन्ध में आलोचनात्मक विचार मिश्रित रूप में थे क्योंकि उस समय कई समीक्षक पश्चिमी स्पेगेटी को बहुत अच्छा नहीं मानते थे। द न्यू यार्क टाइम्स के एक नकारात्मक साक्षात्कार में, समीक्षक रिनेटा एडलर ने कहा कि फिल्म "अपनी विचित्र शैली के इतिहास में अवश्य ही सबसे महंगी, धार्मिकता का ढोंग करने वाली और घृणास्पद फिल्म होगी."[19] लॉस एंजेल्स टाइम्स के चार्ल्स चेम्प्लिन ने लिखा कि "द गुड, द बैड एंड द अग्ली जो अब नगरीय स्तर पर प्रदर्शित हो चुकी है, उसे द बैड, द डल एंड द इंटरमाइनेबल के नाम से पुकारने का प्रलोभन अत्यंत प्रबल हो जाता है और ऐसा सिर्फ इसलिए है क्यूंकि यह फिल्म ऐसी ही है।"[20] रॉजर एबर्ट जिन्हीने बाद में फिल्म को अपनी ग्रेट मूवीज़[21] की सूची में स्थान दिया था, वह पुनरावलोकन करते हुए कहते हैं कि अपनी मूल समीक्षा में उन्होंने "इस फिल्म की विवेचना एक 4 सितारा फिल्म के रूप में की थी लेकिन इसे मात्र 3 सितारे ही दिए थे, शायद इसलिए क्योंकि यह एक पश्चिमी स्पेगेटी थी और इसलिए यह कला फिल्म की श्रेणी में नहीं आ सकती थी।'[22] एबर्ट भी लियोन के उस विशिष्ट दृष्टिकोण की ओर संकेत करते हैं जो दर्शकों को पात्रों के समीप आने में सहायता करता है क्योंकि ऐसे में दर्शक भी वही देख पाते हैं जो पात्र देखता है।

Sergio Leone established a rule that he follows throughout The Good, the Bad and the Ugly. The rule is that the ability to see is limited by the sides of the frame. At important moments in the film, what the camera cannot see, the characters cannot see, and that gives Leone the freedom to surprise us with entrances that cannot be explained by the practical geography of his shots. There is a moment, for example, when men do not notice a vast encampment of the Union Army until they stumble upon it; a moment in a cemetery when a man materializes out of thin air even though he should have been visible much sooner; the way men walk down a street in full view and nobody is able to shoot them, (maybe because they are not in the same frame with them).[22]

आज, अनेकों समीक्षकों द्वारा यह फिल्म एक उत्कृष्ट फिल्म मानी जाती है। यह प्रसिद्ध और ख्यातिलब्ध पश्चिमी फिल्मों में से एक मानी जाती है और अपनी शैली की महान फिल्मों में आती है। यह टाइम की "100 ग्रेटेस्ट मूवीज़ ऑफ लास्ट सेंचुरी" में समीक्षकों रिचर्ड कौर्लिस और रिचर्ड चिकेल द्वारा नामित है।[18] इसके अतिरिक्त, यह उन कुछ फिल्मों में से एक है जिन्हें रौटेन टोमैटोज़ पर 100 प्रतिशत नयी रेटिंग प्राप्त हुई है, हालांकि उस समय से रेटिंग बदलकर 98 प्रतिशत हो गयी है क्योंकि 9 फ़रवरी 1968 को टाइम पत्रिका द्वारा इस फिल्म के लिए एक मात्र नकारात्मक समीक्षा शामिल कर ली गयी।[23][24] द गुड, द बैड एंड द अग्ली का वर्णन पश्चिमी शैली की फिल्मों[25] में यूरोपीय सिनेमा के सर्वोत्कृष्ट प्रदर्शन के रूप में किया गया है और क्वेंटिन टेरेनटिनो ने इसे "अब तक की सबसे बढ़िया रूप से निर्देशित फिल्म" का नाम दिया है।[26]. 2002 में एक साइट एंड साउंड पत्रिका के मतदान में दिए गए उनके वोट के द्वारा भी उनके यही विचार परिलक्षित होते हैं, इसमें उन्होंने अपनी पसंद की अननबी तक की सबसे अच्छी फिल्म के लिए द गुड, द बैड एंड द अग्ली को ही वोट दिया.[27]

सितम्बर 2007 संस्करण में एम्पायर पत्रिका ने द गुड, द बैड एंड द अग्ली को अपने श्रेष्ठ कृतियों के संग्रह में शामिल कर लिया है और "द 500 ग्रेटेस्ट मूवीज़" के उनके मतदान में "द गुड, द बैड एंड द अग्ली" को 25 वां स्थान मिला.

स्थानीय मीडिया[संपादित करें]

फिल्म को एमजीएम (MGM) द्वारा 1998 में डीवीडी पर जारी किया गया था। विशिष्ट प्रभावों में कुल 14 मिनट के दृश्य हैं जिन्हें उत्तरी अमेरिका में फिल्म की रिलीज़ के लिए छांटा गया था, इसमें वह दृश्य भी शामिल है जब एंजेल लाइज यूनियन जेल शिविर में ब्लौंडी और ट्युको का इंतज़ार कर रह था।

2002 में, 14 मिनट के वह दृश्य जो संयुक्त राज्य में फिल्म की रिलीज़ के लिए छांट दिए गए थे उन्हें वापस फिल्म में जोड़ दिया गया। क्लिंट ईस्टवुड और एली वैलाच को पुनः अपने पात्रों की पंक्तियों को डब करने के लिए बुलाया गया, वह भी फिल्म की वास्तविक रिलीज़ के 35 वर्षों से भी ज्यादा समय के बाद. स्वर अभिनेता सिमॉन प्रेस्कॉट ने ली वैन क्लीफ के स्थान पर आवाज़ दी क्योंकि 1989 में उनका निधन हो गया था। अन्य स्वर अभिनेताओं ने भी उन पात्रों के स्थान पर आवाज़ दी जो तब से अब तक के बीच में गुजर चुके थे। 2004 में, एमजीएम ने इस संस्करण को दो डिस्क वाली विशेष डीवीडी संस्करण के रूप में जारी किया।

पहली डिस्क में लेखक और समीक्षक रिचर्ड चिकेल के साथ एक श्रव्य कमेंट्री है। दूसरी डिस्क में दो डाक्युमेंट्री फ़िल्में, "लियोन्स वेस्ट" और "द मैन हू लॉस्ट सिविल वॉर" और एक लघु फिल्म, "रीस्टोरिंग 'द गुड, द बैड एंड द अग्ली'"; गायब हो गए दृश्यों की एक अनुप्राणित चित्रशाला जिसका शीर्षक, "द सोकोरो सीक्वेंस: अ रीकंस्ट्रक्शन" था; ट्युको को प्रताड़ित किये जाने का एक विस्तृत दृश्य; "II मैस्ट्रो" नामक एक लघु फिल्म' "II मैस्ट्रो, भाग 2' नामक एक श्रव्य लघु फिल्म; एक फ्रेंच ट्रेलर और एक विज्ञापन चित्रशाला.[28]

इस डीवीडी को साधारणतया अच्छी प्रतिक्रिया मिली, हालांकि कुछ शुद्धतावादियों ने मिश्रित स्टीरियो साउंड ट्रैक के विषय में शिकायत की, जिसमे कई पूर्णतया नए स्वर प्रभाव थे (विशेष रूप से, सभी गोली चलने की आवाज़ों को प्रतिस्थापित कर दिया गया था) और जिसमे मूल साउंड ट्रैक के लिए कोई विकल्प भी नहीं था। कम से कम एक दृश्य जोकि पुनः फिल्म में डाला गया था वह फिल्म के इटली में जारी होने से पहले लियोन द्वारा छांट दिया गया था, लेकिन एक बार उसे इटैलियन प्रीमियर के दौरान दिखाया गया था। आमतौर पर यह माना जाता है[किसके द्वारा?] कि लियोन ने ऐच्छिक रूप से फिल्म को गति देने के लिए यह दृश्य हटाये थे; इस प्रकार, इन दृश्यों को पुनः फिल्म में स्थान देना निर्देशक की इच्छा के विरुद्ध था।[कृपया उद्धरण जोड़ें] 1998 की मूल यूएस संस्करण वाली डीवीडी (अन्य दो 'डॉलर्स" फिल्मों की मूल डीवीडी रिलीज़ के विपरीत, इसमें स्थानांतरण को एनामॉरफिक रूप से 16:9 टेलिविज़न सेट के लिए बढ़ाया गया था।

एमजीएम ने 2004 वाली डीवीडी को 2007 में अपने "सेरिगो लियोन एंथालौजी" बॉक्स सेट पर फिर से जारी किया था। इसमें दो अन्य "डॉलर्स" फ़िल्में और अ फिस्ट फुल ऑफ डायनामाइट भी शामिल थे।

12 मई 2009 को इस फिल्म का विस्तृत संस्करण ब्लू-रे पर जारी किया गया था। इसमें 2004 की विशेष संस्करण डीवीडी के सामान ही विशेष भाग सम्मिलित हैं, इसके अतिरक्त इसमें फिल्मी इतिहासकार सर क्रिस्टोफर फ्रेलिंग द्वारा एक कमेंट्री भी शामिल की गयी है।

हटाए गए दृश्य[संपादित करें]

वास्तव में निम्नांकित दृश्य फिल्म के थियेटर संस्करण में से हटा दिए गए थे लेकिन 2004 में विशेष संस्करण डीवीडी के जारी होने के बाद फिर से फिल्म में शामिल कर लिए गए।[28]

  • ब्लौंडी से धोखा खाने के बाद जब ट्युको रेगिस्तान की कठिनाइयों से भी जीवित बच जाता है और रिहायशी सभ्यता की ओर पहुंचता है तथा एक संकर रिवॉल्वर को पाने वाला होता है, जोकि कई वास्तविक रिवॉल्वर के हिस्सों द्वारा निर्मित होती है, तो वह एक दूर स्थित गुफा में अपने दल के सदस्यों से मिलता है, जहां उनके साथ ब्लौंडी की मृत्यु का षड़यंत्र बनाता है।
  • विशाल तोप बमबारी के बाद एंजेल आइज़ बिल कार्सन की तलाश के दौरान एक युद्धरत संघीय सीमा चौकी से टकरा जाता है। एक बार वहां पहुंचने के बाद और युद्ध के बाद जीवित रह गए लोगों की दयनीय परिस्थितियों का गवाह बनाने के बाद, वह संघ के एक एनसीओ (NCO) को बिल कार्सन के सम्बन्ध में जानकारी पाने के लिए रिश्वत देता है।
  • ट्युको और ब्लौंडी दवरा रेगिस्तान को पार करने का दृश्य बढ़ा दिया गया है: ट्युको बुरी तरह से पानी की कमी से पीड़ित ब्लौंडी को उसके सामने ही खाने और पानी पीने के द्वारा उसे मानसिक रूप से प्रताड़ित करता है।
  • पानी की कमी से पीड़ित ब्लौंडी को ले जाते समय ट्युको एक संघ के शिविर में पहुंचता है जहां पर रहने वाले उसे बताते हैं कि ब्रदर रैमिरेज़ का आश्रम नजदीक ही है।
  • जब एक गाड़ी में ट्युको और ब्लौंडी ब्रदर रैमिरेज़ के आश्रम से जाते हैं तो वह दोनों अपनी योजना पर विचार विमर्श करते हैं।
  • वह दृश्य जिसमे ब्लौंडी और एंजेल आइज़ एक छोटी नदी के किनारे आराम कर रहे हैं तभी एक आदमी वहां आ जाता है और ब्लौंडी उस पर गोली चलाता है। एंजेल आइज़ अपने बचे आदमियों से बाहर आने को कहता है (बाकी सब भी छिप गए थे). जब पांचों आदमी बाहर आते हैं, ब्लौंडी उन्हें गिनता है (एंजेल आइज़ सहित) और यह निष्कर्ष निकालता है की 6 एक उत्तम संख्या होती है। एंजेल आइज़ उससे इसका कारण पूछता है, यह बताते हुए की उसने तो सुना है कि 3 एक उत्तम संख्या होती है। ब्लौंडी उत्तर देता है कि 6 एक उत्तम संख्या इसलिए होती है क्योंकि उसके रिवॉल्वर में 6 गोलियां बची हैं।
  • ट्युको, ब्लौंडी और यूनियन कप्तान का दृश्य भी बढ़ा दिया गया है; इस दृश्य में कप्तान उनके पिछले जीवन के बारे में प्रश्न पूछता है, जिसका उत्तर देने के लिए वह इच्छुक नहीं हैं।

उस दृश्य के भी अतिरिक्त हिस्से पाए गए जिसमे ट्युको को एंजेल आइज़ के आदमी द्वारा प्रताड़ित किया जाता है। इस अतिरिक्त दृश्य का मूल निगेटिव के विषय में यह मान लिया गया था कि वह बहुत बुरी तरह से क्षतिग्रस्त हो चूका है और इसलिए अब उसे थियेटर समबन्धी कट के लिए प्रयोग नहीं किया जा सकता, लेकिन 2004 की डीवीडी में यह हिस्सा पूरक के रूप में दिखाया गया है।

सोकोरो वाला दृश्य जिसमे ट्युको एक टेक्सिकन प्युब्लो में ब्लौंडी की खोज मे लगा रहता है जबकि ब्लौंडी एक मेक्सिकन महिला के साथ एक होटल के कमरे में होता है, इस हिस्से की फिल्म भी खो गयी थी जिसे फ्रेंच ट्रेलर के चित्रों और अधूरे कतरनों की सहायता से फिर से बनाया गया था। डाक्यूमेंट्री "द गुड, द बैड एंड द अग्ली का पुनर्निर्माण" में भी एक्सटेसी ऑफ गोल्ड दृश्य के पूर्व दिखाया गया वह दृश्य जिसमे ट्युको तोप में आग लगा रहा है, संक्षिप्त रूप में दिखाया जाता है। हालांकि इनमे से कोई भी दृश्य या घटनाक्रम 2004 में पुनः जारी की गयी फिल्म में नहीं था।

संगीत[संपादित करें]

इन्हें भी देखें: The Good, the Bad and the Ugly (soundtrack)

गानों की संगीत रचना लियोन के साथ प्रायः ही काम करने वाले सहयोगी एनियो मौरिकोन द्वारा की गयी है, जिनकी बन्दूक की गोली के चलने, सीटी बजाने (जौन ओ'नील द्वारा) ओर द्रुत उत्तर चढ़ाव युक्त विशिष्ट मौलिक रचनाएं पूरी फिल्म में व्याप्त हो जाती हैं। फिल्म की पहचान से सम्बंधित मुख्य धुन जोकि एक छोटे भेड़िये की गर्जना की तरह है (जो प्रारंभिक श्रेय ज्ञापन के बाद प्रथम दृश्य में भेड़िये की वास्तविक गर्जना के साथ सम्मिश्रित हो जाता है), एक द्वि स्वरीय लय है जो बारबार फिल्म में दोहराया गया रूपांकन है ओर इसका प्रयोग तीनों मुख्य चरित्रों के लिए किया गया है। प्रत्येक चरित्र के लिए अलग-अलग वाद्य यंत्रों का प्रयोग किया गया था: ब्लौंडी के लिए बांसुरी, एंजेल आइज़ के लिए ओकैरिना और ट्युको के लिए मानव आवाज़ का.[29][30][31][32] यह स्वर रचना फिल्म की अमेरिकी गृहयुद्ध की समायोजना के बिलकुल अनुकूल है, जिसमे एंजेल आइज़ द्वारा ट्युको को प्रताड़ित किये जाते समय कैदियों द्वारा गाया गया "द स्टोरी ऑफ अ सोल्ज़र" नामक शोकयुक्त बैलेड भी शामिल है।[3] फिल्म के अंत में चरम बिंदु पर, एक त्रिपक्षीय मेक्सिकन स्टैंड ऑफ "द एक्सटेसी ऑफ गोल्ड" की धुन से शुरू होता है और "द ट्रियो" की धुन पर आगे बढ़ता है।

मुख्य लाक्षणिक धुन 1968 की अत्यंत सफल धुन थी और इसका साउंडट्रैक एल्बम एक वर्ष से भी अधिक समय तक[32] चार्ट्स पर रहा था, बिलबोर्ड पॉप एल्बम में यह चौथे स्थान पर पहुंचा था और ब्लैक एल्बम चार्ट में 10वें स्थान पर.[33] मुख्य लाक्षणिक धुन ह्यूगो माउंटेनिग्रो के लिए भी बहुत सफल रही थी, जिनका प्रस्तुतीकरण 1968 में बिलबोर्ड पॉप एकल पर दूसरे स्थान पर रहा था।[34] प्रसिद्ध संस्कृति में, अमेरिकी न्यू वेव ग्रुप वॉल ऑफ वूडू ने एनियो मौरिकोन की फ़िल्मी लाक्षणिक धुनों पर एक मिश्रित धुन तैयार कर के उस पर प्रदर्शन किया था, इस प्रदर्शन में इस फिल्म की लाक्षणिक धुन भी शामिल की गयी थी। इसकी एक मात्र ज्ञात रिकॉर्डिंग, द इंडेक्स मास्टर्स पर सजीव प्रदर्शन के दौरान की गयी थी। पंक रॉक बैंड द रैमोंस ने इस गाने को अपने सजीव एल्बम लोको लाइव के प्रारंभिक धुन के रूप में बजाया और 1996 में उनके बैंड के विघटन से पूर्व तक अनेकों कार्यक्रमों के दौरान भी इसका प्रदर्शन किया। ब्रिटेन के हेवी मेटल बैंड मोटरहेड ने मुख्य लाक्षणिक धुन को 1981 के "नो स्लीप 'टिल हैमरस्मिथ" भ्रमण में आरंभिक संगीत के रूप में गाया था। अमेरिकी संगीत नृत्य मेटल बैंड मेटेलिका ने "द एक्सटेसी ऑफ गोल्ड" को 1985 (1996-1998 के अतिरिक्त) से अपने कार्यक्रमों के दौरान प्रस्तावना गीत के रूप में गाता है और हाल ही में मौरिकोन को संकलन श्रद्धांजलि देने के लिए इसके वाद्य संगीत संस्करण की रिकॉर्डिंग भी की है।[35] एक्सएम सेटेलाईट रेडियो का द ओपी एंड एंथनी कार्यक्रम भी अपने प्रत्येक कार्यक्रम की शुरुआत "द एक्सटेसी ऑफ गोल्ड" से करता है। अमेरिकी पंक रॉक बैंड द वेन्डल्स का गाना "आई वांट टू बी अ काउब्वाय" भी मुख्य लाक्षणिक धुन के साथ शुरू होता है। बैंड गोरिल्लाज़ के एक गाने का नाम "क्लिंट ईस्टवुड" है और यह द गुड, द बैड एंड द अग्ली की स्वर रचना के प्रतिरूप गर्जना वाली आवाज़ के साथ इस अभिनेता के सम्बन्ध में विशेष अंक भी दिखाता है, यह गर्जना वीडियो के प्रारंभ में सुनाई पड़ती है .[36]पंक बैंड बिग ऑडियो डायनामाइट ने अपने गाने "मेडिसिन शो" में फिल्म की एक श्रव्य क्लिप का प्रयोग किया था; यह श्रव्य क्लिप उस दृश्य से लिया गया था जिसमे एक न्यायाधीश आपराधिक आरोपों की एक लम्बी फेहरिश्त को पढ़ने के बाद ट्युको को "तब तक गर्दन से लटकाया जाये जब तक कि मृत्यु न हो जाये" की सजा सुनाता है। द इंडस्ट्रियल मेटल ग्रुप मिनिस्ट्री के 1988 के एल्बम द लैंड ऑफ रेप एंड हनी का गाना "यू नो वाट यू आर" भी गाने के शीर्षक (ट्युको द्वारा ब्लौंडी को अंत में दी गयी उपाधि (गाली) का एक हिस्सा) को पार्श्व प्रतिदर्श के रूप में दोहराता है .

लोकप्रिय संस्कृति में[संपादित करें]

इस फिल्म के शीर्षक को अमेरिकी अंग्रेजी भाषा में एक मुहावरे के रूप में प्रवेश मिला. जिसका प्रयोग विशेषतः किसी की गहराई पूर्वक विवेचना में किया जाता है, वाक्यांश क्रमशः ऊपर की ओर, नीचे की ओर और उन हिस्सों की ओर संकेत करते हैं, जो और अच्छे हो सकते थे या जिन्हें और अच्छा होना चाहिए था।[37][38]

1967 में फिल्म को जो मिलर्ड द्वारा उपन्यास का रूप दिया गया, यह "डॉलर्स वेस्टर्न" श्रृंखला के एक भाग के रूप में थी और "मैन विद नो नेम" पर आधारित थी। दक्षिणी कोरिया की पश्चिमी फिल्म द गुड, द बैड, द वियर्ड (2008) इसी फिल्म से प्रेरित है, जिसका कथानक और पात्र काफी हद तक लियोन की फिल्म से ही लिए गए हैं।[39] अपने उपन्यास द डार्क टावर: द गन्स्लिंगर के 2003 के संशोधित संस्करण में स्टीफेन किंग ने यह प्रकट किया कि डार्क टावर श्रंखला प्राथमिक रूप से इस फिल्म द्वारा प्रभावित है ओर विशेषतः ईस्टवुड के चरित्र ने किंग के प्रमुख समर्थक रोलैंड डेसचेन के चरित्र के सृजन की प्रेरणा दी.[40]

साहरौन शेलाह ने पीसीएफ सिद्धांत में एक प्रमेय लिखी है जो तीन संभावित अवस्थाओं का वर्णन करती है, जिनके नाम "गुड, बैड ओर अग्ली" हैं।[तथ्य वांछित]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

  • मेरा नाम नोबडी है

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. http://www.boxofficemojo.com/movies/?id=goodbadandugly.htm
  2. वैराइटी फिल्म समीक्षा, 27 दिसम्बर 1967, पृष्ठ 6.
  3. Yezbick, Daniel। (2002)। "The Good, the Bad, and the Ugly". St. James Encyclopedia of Popular Culture। Gale Group। अभिगमन तिथि: 2006-05-23
  4. Frayling, Christopher (2000). Sergio Leone: Something To Do With Death. Faber & Faber. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0571164382. 
  5. मैकगिलगन (1999), पृष्ठ 153
  6. मैकगिलगन (1999), पृष्ठ 154
  7. मैकगिलगन (1999), पृष्ठ 152
  8. एलियट (2009), पृष्ठ 81
  9. मैकगिलगन (1999), पृष्ठ 155
  10. वालेच, एली (2005). द गुड, द बैड एंड मी: इन माई अनेकडोटेज पृष्ठ 255
  11. द डेली मेल (6 मई 2005). "कब्रिस्तान शिफ्ट पर".
  12. मैकगिलगन (1999), पृष्ठ 158
  13. मैकगिलगन (1999), पृष्ठ 159
  14. "Il Brutto Il Buono Il Cattivo". http://www.filmreference.com/Films-Bo-Ca/Il-Buono-Il-Brutto-Il-Cattivo.html. अभिगमन तिथि: 2008-01-15. 
  15. एलियट (2009), पृष्ठ 88
  16. Fritz, Ben (2004-06-14). "The Good, the Bad, and the Ugly". Variety. 
  17. “Sergio Leone”। Newsmakers। (2004)। Gale।
  18. Schickel, Richard (2005). "The Good, The Bad and The Ugly". All-Time 100 Movies (Time Magazine). http://www.time.com/time/2005/100movies/0,23220,the_good_the_bad_and_the_ugly,00.html. अभिगमन तिथि: 2007-05-16. 
  19. द न्यूयॉर्क टाइम्स, नई फिल्म समीक्षा, 25 जनवरी 1968.
  20. एलियट (2009), पृष्ठ 86-87
  21. Ebert, Roger (2006). The Great Movies II. Broadway. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0767919866. 
  22. Ebert, Roger (2003-08-03). "The Good, the Bad and the ugly". Great Movies. rogerebert.com. http://rogerebert.suntimes.com/apps/pbcs.dll/article?AID=%2F20030803%2FREVIEWS08%2F308030301%2F1023. अभिगमन तिथि: 2007-05-15. 
  23. Rotten Tomatoes. "The Good, the Bad and the Ugly". Reviews - Critics. IGN Entertainment. http://www.rottentomatoes.com/m/good_the_bad_and_the_ugly/?critic=columns. अभिगमन तिथि: 2007-05-14. 
  24. Time Magazine (1968-02-09). "Time Magazine Review February 9, 1968". Reviews - Critics. http://www.time.com/time/magazine/article/0,9171,844425,00.html. अभिगमन तिथि: 2008-08-21. 
  25. "Sergio Leone". Contemporary Authors Online। (2007)। Gale। अभिगमन तिथि: 2007-05-15
  26. Turner, Rob (2004-06-14). 643162,00.html "The Good, The Bad, And the Ugly". Entertainment Weekly. http://www.ew.com/ew/article/0, 643162,00.html. 
  27. Sight & Sound (2002). "How the directors and critics voted". Top Ten Poll 2002. British Film Institute. http://www.bfi.org.uk/sightandsound/topten/poll/voter.php?forename=Quentin&surname=Tarantino. अभिगमन तिथि: 2007-05-14. 
  28. The Good, the Bad & the Ugly (2-Disc Collector's Edition). [DVD]. Los Angeles, California: Metro-Goldwyn-Mayer. 1967. 
  29. Torikian, Messrob. "The Good, the Bad and the Ugly". SoundtrackNet. http://www.soundtrack.net/albums/database/?id=3475. अभिगमन तिथि: 2007-05-26. 
  30. Mansell, John. "The Good, the Bad and the Ugly". Music from the Movies. Archived from the original on 2007-02-17. http://web.archive.org/web/20070217123204/http://www.musicfromthemovies.com/review.asp?ID=1643. अभिगमन तिथि: 2007-05-26. 
  31. McDonald, Steven. "The Good, the Bad and the Ugly > Overview". Allmusic. http://www.allmusic.com/album/r84071. अभिगमन तिथि: 2007-05-26. 
  32. Edwards, Mark (2007-04-01). "The good, the brave and the brilliant". London: The Times. http://entertainment.timesonline.co.uk/tol/arts_and_entertainment/music/article1580081.ece. अभिगमन तिथि: 2007-05-26. 
  33. "The Good, the Bad and the Ugly charts and awards". Allmusic. http://www.allmusic.com/album/r84071. अभिगमन तिथि: 2007-05-26. 
  34. "Hugo Montenegro > Charts & Awards". Allmusic. http://www.allmusic.com/artist/p23980. अभिगमन तिथि: 2007-05-26. 
  35. "We All Love Ennio Morricone". Metallica.com. http://www.metallica.com/index.asp?item=600114. अभिगमन तिथि: 2007-03-11. 
  36. 1134500,00.html "गोरिलाज़ की वापसी" इंटरटेनमेंटवीकली (EntertainmentWeekly). लेख 25 नवम्बर 2005 दिनांकित. 29 जून 2009 को पुनःप्राप्त
  37. केएनएलएस (KNLS) ट्यूटोरियल इडीअम
  38. एक उदाहरण की समीक्षा वाक्यांश के रूप में फिल्म के शीर्षक का उपयोग
  39. द गुड, द बैड, द वीयर्ड , हैनसिनेमा (HanCinema) 23 जून 2009 को पुनःप्राप्त.
  40. King, Stephen (2003). The Gunslinger: Revised and Expanded Edition. Toronto: Signet Fiction. xxii. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0451210840. 

ग्रंथ-सूची[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]