देशभक्ति गीत

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
देशभक्त देश गीत गा रहे हैं।

देशभक्ति गीत ऐसे गीत हैं जिनमें राष्ट्रीयता की भावना का रस निहित हो। प्रायः देश पर विकट समस्या आने पर या राष्ट्रीय सुधारों के लिये इन गीतों का प्रयोग किया जाता है। इससे देशवासियों में राष्ट्रीयता की भावना जागृत होती है। राजनीति, खेल, अन्तर्राष्ट्रीय स्तर के कार्यक्रम और राष्ट्र पर आधारित चलचित्र इत्यादि में इन गीतों का प्रयोग आम बात है।[1]


कई भारतीय कवियों ने देशभक्ति गीतों की रचना की है। सुमित्रानंदन पंत की जय जन भारत, कवि प्रदीप की ऐ मेरे वतन के लोगों, तथा गिरिजाकुमार माथुर की हम होंगे कामयाब उपकार ( मेरे देश की धरती सोना उगले उगले हिरा मोती) इत्यादि प्रचलित हैं।

भारतीय स्वतन्त्रता आन्दोलन[संपादित करें]

बंकिमचंद्र चट्टोपाध्याय का गीत वंदे मातरम्, क्रान्तिकारी पण्डित राम प्रसाद 'बिस्मिल' की गज़ल सरफरोशी की तमन्ना एवं शायर इक़बाल का तराना सारे जहाँ से अच्छा जैसे अनेक गीत भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन में काफी प्रचलित व लोकप्रिय हुए।

ब्रिटिश राज के दौरान प्रतिबन्धित छोटी-छोटी पुस्तिकाओं में प्रकाशित इन देशभक्ति गीतों ने ही पूरे हिन्दुस्तान की आम जनता को एक क्रान्तिकारी बदलाव के लिये आन्दोलित किया।[2]

खेल[संपादित करें]

भारतीय क्रिकेट पर विशेष लिखे गये गीत प्रचलित हैं, जैसे शंकर महादेवन की सुनों गौर से दुनिवालों, ए आर रहमान की दे घुमा के इत्यादि।

चलचित्र[संपादित करें]

कई बॉलीवुड व अन्य भारतीय चलचित्रों में देशभक्ति गीत गाये गये हैं। भारत-पाकिस्तान और भारत-चीन के बीच हो रहे युद्ध के समय राष्ट्रीयता पर आधारित कई चलचित्र आये जिनके गीत बहुत लोकप्रिय और प्रचलित हुए। सरफ़रोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है एवं मेरे देश की धरती (फिल्म: उपकार), संदेसे आते हैं (फिल्म: बॉर्डर), "मेरा रँग दे बसन्ती चोला!" (फिल्म शहीद), दरो-दीवार पे हसरत से नज़र करते हैं (फिल्म: आन्दोलन)[3] तथा "जहाँ डाल-डाल पर सोने की चिड़ियाँ करती हैं बसेरा" (फिल्म: सिकन्दर-ए-आज़म) इत्यादि अनेकों उदाहरण हैं।

अन्य अन्तर्राष्ट्रीय कार्यक्रम[संपादित करें]

भारत के बाहर भारत से सम्बन्धित कार्यक्रमों में इनका प्रयोग सहज रूप से होता है। संगीत, नृत्य, कला व भारतीय पर्व के उपलक्ष में आयोजित कार्यक्रमों में इन्हें अक्सर बजाया जाता है।

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. अनुभूति: मेरा भारत (संकलन) अभिगमन तिथि: २४ मार्च २०१४
  2. बिस्मिल जयन्ती: ११ जून (यू ट्यूब पर) अभिगमन की तिथि: २४ मार्च २०१४]
  3. "दरो-दीवार पे हसरत से नज़र करते हैं" (यू ट्यूब पर) अभिगमन तिथि: २४ मार्च २०१४