दूर दृष्टि दोष

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

इस दृष्टि दोष में मनुष्य को दूर की वस्तु स्पष्ट दिखाई पड़ती है परंतु नजदीक की वस्तु स्पष्ट दिखाई नहीं पड़ती है इस दृष्टि दोष को दूर दृष्टि दोष कहते हैं।

आंखों में यह दोष उत्पन्न होने पर प्रकाश की समान्तर किरणपुंज आँख द्वारा अपवर्तन के बाद रेटिना के बाद में प्रतिबिम्ब बनाता है (न कि रेटिना पर) इस कारण पास की वस्तुओं का प्रतिबिम्ब स्पष्ट नहीं बनती और चींजें धुंधली दिखतीं हैं।

यह अधिकांश वृद्ध अवस्था की स्थिति में आता है। सामान्य लोगों में यह बहुत कम पाया जाता है। इस दोष के निवारण के लिए उत्तल लेंस का प्रयोग किया जाता है।