अपवर्तन

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
अपवर्तन के कारण छड़ी टेढ़ी दिखती है, जबकि वह बिल्कुल सीधी है।
एक माध्यम से दूसरे माध्यम में जाने पर प्रकाश की गति की दिशा का बदलना

एक माध्यम से दूसरे माध्यम में पहुँचने तरंग की गति की दिशा में परिवर्तन हो जाता है, जिसे अपवर्तन (Refraction) कहते हैं। प्रकाश जब एक माध्यम से दूसरे माध्यम में तिरछा होकर जाता है तो तो दूसरे माध्यम से इसके संचरण की दिशा परिवर्तित हो जाती है। यह अपवर्तन कहलाता है।

जब प्रकाश किरणें एक समांगी माध्यम से दूसरे समांगी माध्यम में प्रवेश करनेे पर अपने मार्ग से विचलित होकर गमन करने लगती हैं, प्रकाश का अपवर्तन कहलाती है

Laws of refraction 1. Angle of incidence, Angle of refraction and the Normal all lies on same plane. 2. u=(sini/sinr) Ankit Chaudhary SALEMPUR.

इन्हें भी देखें[संपादित करें]