दीक्षाभूमि

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
दीक्षाभूमि
दीक्षाभूमी
Diksha Bhumi.jpg
पवित्र दीक्षाभूमि
सामान्य विवरण
प्रकार धार्मिक और ऐतिहासिक स्मारक
वास्तुकला शैली स्तूप
स्थान नागपुर, महाराष्ट्र, भारत
पता मध्य नागपुर[1]
निर्देशांक 21°7′41″N 79°4′1″E / 21.12806°N 79.06694°E / 21.12806; 79.06694
निर्माणकार्य शुरू जुलाई 1978
उद्घाटन 18 दिसंबर, 2001
योजना एवं निर्माण
वास्तुकार Sheo Dan Mal
दीक्षाभूमि में बोधि वृक्ष
दीक्षाभूमी में आंबेडकर द्वारा बौद्धों को दी हुई 22 प्रतिज्ञाएँ

दीक्षाभूमि भारत में बौद्ध धर्म का एक प्रमुख केन्द्र है। यहाँ बौद्ध धर्म की पुनरूत्थान हुआ है। महाराष्ट्र राज्य की उपराजधानी नागपुर शहर में स्थित इस पवित्र स्थान पर बोधिसत्त्व डॉ॰ भीमराव आंबेडकर जी ने १४ अक्टूबर १९५६ को पहले महास्थविर चंद्रमणी से बौद्ध धम्म दीक्षा लेकर अपने 5,00,000 से अधिक अनुयायिओं को बौद्ध धर्म की दीक्षा दी थी। त्रिशरण, पंचशील और अपनी 22 प्रतिज्ञाएँ देकर डॉ॰ आंबेडकर ने हिंदू दलितों का धर्मपरिवर्तन किया। अगले दिन फिर 15 अक्टूबर को 3,00,000 लोगों को बौद्ध धम्म की दीक्षा दी और स्वयं भी फिर से दीक्षीत हुए। देश तथा विदेश से हर साल यहाँ 25 लाख से अधिक आंबेडकरवादी और बौद्ध अनुयायी आते हैं। हर साल 14 अक्टूबर को यहाँ हजारों की संख्या में लोग बौद्ध धर्म परावर्तित होते रहते हैं। यहां 14 अक्टूबर 2015 में 50,000 दीक्षीत हुए हैं। 14 अक्टूबर 2016 में 20,000 और 25 अक्टूबर 2016 को मनुस्मृति दहन दिवस के उपलक्ष में 5,000 ओबीसी लोगों ने बौद्ध धर्म की दीक्षा ली है।[2][3]

महाराष्ट्र सरकार ने दीक्षाभूमि को 'अ' वर्ग ('ए' क्लास) पर्यटन क्षेत्र का दर्जा दिया है। नागपुर शहर के सभी धार्मिक व पर्यटन क्षेत्रों में यह पहला स्थल है, जिसे 'ए' क्लास का दर्जा प्राप्त हुआ है।[4]

दीक्षाभूमि पर स्थित बोधिवृक्ष

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Keer, Dhananjay (1954). Dr. Ambedkar: Life and Mission (मराठी में).
  2. "14 अक्टूबर 2016 को 20,000 लोगों ने ली थी धम्मदीक्षा". मूल से 10 जनवरी 2017 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 10 जनवरी 2017.
  3. "5000 ओबीसी बने बौद्ध". मूल से 10 जनवरी 2017 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 10 जनवरी 2017.
  4. "संग्रहीत प्रति". मूल से 10 जनवरी 2017 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 10 जनवरी 2017.