दक्षिण बिहार केन्‍द्रीय विश्‍वविद्यालय

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
बिहार केन्‍द्रीय विश्‍वविद्यालय

आदर्श वाक्य:Collective Reasoning
हिन्दी में आदर्श वाक्य:सामूहिक तर्क
स्थापित2009
प्रकार:सार्वजनिक
कुलाधिपति:मीरा कुमार
कुलपति:प्रोफेसर॰ देबदास बनर्जी
अवस्थिति:पटना, गया, बिहार, भारत
परिसर:BIT Meshra(patna) , Near Magadh Medical College (Gaya) ( temporary Campus)
सम्बन्धन:यू॰जी॰सी
जालपृष्ठ:http://www.cub.ac.in/


दक्षिण बिहार केन्‍द्रीय विश्‍वविद्यालय भारत के बिहार राज्य में स्थित एक केन्द्रीय विश्वविद्यालय है। इसकी स्थापना केन्द्रीय विश्वविद्यालय के कानून 2009 (धारा 2009 की 25) और (संशोधन) अधिनियम, 2014 (CUSB) के द्वारा हुयी है।

इसका आदर्श वाक्य है -Collective Reasoning, यानी 'सामूहिक तर्क' और यह विश्वविद्यालय बिहार के पटना और गया में अस्थायी परिसर से अपनी अकादमिक और प्रशासनिक गतिविधियों का आयोजन कर रहा है।

इसकी स्थापना बिहार केन्‍द्रीय विश्‍वविद्यालय के नाम से हुयी थी जिसे बाद में बदल कर दक्षिण बिहार केन्‍द्रीय विश्‍वविद्यालय कर दिया गया।[1]

उद्देश्य[संपादित करें]

अधिनियम की धारा 5 में कहा गया है, विश्वविद्यालय के उद्देश्य होगा:

"... प्रसार और अग्रिम ज्ञान के लिए यह उचित समझे के रूप में सीखने की ऐसी शाखाओं में अनुदेशात्मक और अनुसंधान सुविधाओं को उपलब्ध कराने के द्वारा करने के लिए; मानविकी में एकीकृत पाठ्यक्रम, सामाजिक विज्ञान, अपने शैक्षिक कार्यक्रमों में विज्ञान और प्रौद्योगिकी के लिए विशेष प्रावधान बनाने के लिए; शिक्षण-अधिगम प्रक्रिया और अंतर-अनुशासनात्मक अध्ययन और अनुसंधान के क्षेत्र में नवाचारों को बढ़ावा देने के लिए उपयुक्त कदम उठाने के लिए; शिक्षित और देश के विकास के लिए मानव शक्ति को प्रशिक्षित करने के लिए; विज्ञान और प्रौद्योगिकी को बढ़ावा देने के लिए उद्योगों के साथ संपर्क स्थापित करने के लिए; और सामाजिक और आर्थिक स्थिति और लोगों के कल्याण, उनकी बौद्धिक, शैक्षणिक और सांस्कृतिक विकास के सुधार के लिए विशेष ध्यान देने के लिए। "

सुविधाएँ[संपादित करें]

मुख्य कैम्पस पटना स्थित बिरला इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी के परिसर में एक किराए के भवन में स्थित है।

विश्वविद्यालय किराये के भवन में पटना और गया में दोनों लड़कों और लड़कियों के लिए छात्रावास की सुविधा प्रदान करता है। यह विभिन्न विज्ञान और सामाजिक विज्ञान विषयों में शैक्षिक पाठ्यक्रम, शिक्षण और अनुसंधान का समर्थन करने के लिए (एक साथ पटना और गया) 20,000 किताबें होने के एक पुस्तकालय का विकास किया है। पुस्तकालय 100 पत्रिकाओं और दुनिया भर से प्रतिष्ठित पत्रिकाओं, और 8000 से अधिक पत्रिकाओं डिजिटल सिग्नेचर इकठे किये गये है। पुस्तकालय ऐसे ऑनलाइन सेवाओं, ऑनलाइन कैटलॉग और डिजिटलीकरण के रूप में आधुनिक सुविधाओं से लैस है।

अपनी स्थापना के बाद विश्वविद्यालय कई पाठ्यक्रम और शिक्षा प्रदान करता है।

प्रस्तावित कैम्पस[संपादित करें]

दिसंबर 2013 में, विश्वविद्यालय लगभग 12 किलोमीटर दूर गया से, पंचानपुर में परिसर स्थापित करने के लिए भारत सरकार से 300 एकड़ जमीन का कब्जा मिल गया। इस विश्वविद्यालय की चांसलर मीरा कुमार के अनुसार साइट पर 27 फरवरी, 2014 से निर्माण का कार्य प्रगति पर है। हालिया खबरों के मुताबिक़ इसके गया पंचनपुर(जमुने के रास्ते) स्थित कैम्पस में शिक्षण कार्य शुरू हो गया है। तथा अब यहीं से पठन पाठन का कार्य भी संपादित होता है।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "Central University of Bihar to be rechristened as Central University of South Bihar" (अंग्रेज़ी में). टाइम्स ऑफ इण्डिया. 28 जनवरी 2015. अभिगमन तिथि 2 अगस्त 2015.

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]