ठोस यांत्रिकी

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
ठोस यांत्रिकी की एक समस्या

ठोस यांत्रिकी (Solid mechanics) सातत्यक यांत्रिकी (continuum mechanics/कन्टिनुअम यांत्रिकी) की वह शाखा है जिसमें ठोस वस्तुओं के व्यवहार का अध्ययन किया जाता है। इसमें विशेषतः विभिन्न प्रकार के बल लगाने पर ठोसों की गति और इनमें होने वाली विरूपण (डिफॉर्मेशन) का अध्यन किया जाता है। बल के अलावा ताप परिवर्तन, प्रावस्था परिवर्तन (phase changes) तथा अन्य वाह्य तथा आन्तरिक कारकों के कारण उत्पन्न गति एवं विरूपण का भी अध्ययन किया जाता है।

ठोस यांत्रिकी का अध्ययन सिविल इंजीनियरी, यांत्रिक इंजीनियरी, भूविज्ञान तथा पदार्थ विज्ञान आदि के क्षेत्र में बहुत महत्व रखता है।

सातत्यक यांत्रिकी और ठोस यांत्रिकी का सम्बन्ध[संपादित करें]

  • सातत्यक यांत्रिकी
  • ठोस यांत्रिकी
  • प्रत्यास्थता
  • अप्रत्यास्थता (प्लास्टिसिटी)
  • अन्यूटनी तरल
  • न्यूटनी तरल