झारखंड का पर्यटन

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

पारिस्थितिक पर्यटन[संपादित करें]

इसक अलावा भी झारखण्ड मेंऔर भी बहुत कुछ है पर्यटन के नाम पर जेसे हुंदरु फ़ोल दसम फ़ोल रानी फ़ोलइत्यादि

वन की भूमि झारखंड, जो पारिस्थितिकी पर्यटकों को अपने अवकाश का आनंद लेने के इच्छुक लोगों को प्राकृतिक रूप से आकर्षित करता है। प्राकृतिक सौंदर्य में धनी, झारखंड, यात्रियों को अन्य गतिविधियाँ जैसे विविध वनस्पति और घने जंगलों के बारे में, झरने का भ्रमण, कई सुंदर पहाड़ियों के अन्वेषण, खेल आदि की सुविधा देता है। यहाँ देखने के लिए प्रसिद्ध राष्ट्रीय पार्क और दर्शनीय स्थल भी है।

बेतला राष्ट्रीय उद्यान

इस उद्यान को बेतला वन घोषित किया गया है और यह 753 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र में है। यह वन केच्की से शुरू होता है और नेतरहाट तक बढा हुआ है। वन में 970 प्रजाति के पौधे, 174 प्रजातियों के पक्षी, 39 स्तनधारी, 180 प्रजाति के औषधीय पौधे पाए जाते हैं।

सारंडा

यहां कई अन्य पुराने मंदिर हैं, यह '700 ' पहाड़ों का घर और यहाँ भव्य साल वन है। सारंडा वन एशिया का सबसे बड़ा और घना वन है जिसमे फ्लाइंग छिपकली, रेंगनेवाला कीडा है। यह माना जाता है कि इसके कुछ हिस्से इतने घने है कि सूर्य के प्रकाश भी पार नहीं कर सकते हैं। यह वन साहसिक पारिस्थितिकी उत्साही यात्री के लिए बड़े आनन्द की जगह है।

तिलैया डैम

यह पहला बांध है जिस पर पन बिजली पावर स्टेशन का निर्माण दामोदर घाटी निगम द्वारा बराकर नदी पर बनाया गया है जो हजारीबाग जिले में है। यह 1.200 फुट लंबा और 99 फुट ऊँचा है। यह 36 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र में एक आदर्श जलाशय के आसपास स्थित है। इसका मुख्य उद्देश्य बाढ़ नियंत्रण करना है। इस पन बिजली स्टेशन से 4.000 किलो वाट बिजली का उत्पादन करता है। पर्यटकों को इसके आसपास का खूबसूरत प्राकृतिक वातावरण आकर्षित करता हैं।

क्रूज़ पर्यटन[संपादित करें]

डिमना लेक

जमशेदपुर से १३ किमी की दूरी पर स्थित है। फूल-पत्ती और पहाडों से घिरा ६० फीट गहरा एक मनमोहक लेक है। यहाँ पर्यटकों के लिए बोटिंग की सुविधा भी है।

रांची झील

रांची के केंद्र में स्थित रांची झील की खुदाई एक ब्रिटिश एजेंट कर्नल ओंसेली के द्वारा वर्ष 1842 में की गई थी। यह सुंदर झील रांची हिल के नीचे स्थित है। यह झील लगभग शहर के मध्य में स्थित है, रांची पहाड़ी पर एक मंदिर है जो भगवान शिव को समर्पित है। यह पहाड़ी पूरे शहर और आसपास के जगहों को देखने का उत्कृष्ट अवसर प्रदान करता है। रांची झील पर्यटकों को जल के सौंदर्य को अनुभव करने का उत्कृष्ट अवसर प्रदान करता है, क्योंकि यहाँ नौका विहार की भी सुविधा है।



खनन पर्यटन[संपादित करें]

झारखंड राज्य खान और खनिज, उद्योग और वन्यजीव विहार के लिए जाना जाता है। इसकी राजधानी रांची है, धनबाद शहर के पास खान स्थित हैं, छोटानागपुर में खनिज, हजारीबाग में वन्य जीव, जमशेदपुर और बोकारो में उद्योग है। यह लोहा और इस्पात, कोयला और मीका में समृद्ध है। छोटानागपुर लौह अयस्क के क्षेत्र में समृद्ध है। बोकारो लोहा और इस्पात के लिए जाना जाता है। जमशेदपुर राज्य की औद्योगिक राजधानी है।

झारखंड अब पर्यटकों को लुभाने के लिए और खनिज संसाधन का प्रचुर मात्रा में उपयोग करने की योजना बनाई है। खनन पर्यटन को दक्षिण अफ्रीका और ऑस्ट्रेलिया जैसे देशों की तर्ज पर शुरू करने का प्रस्ताव है।

यह नगर कोयला खनन के क्षेत्र में भारत में सबसे प्रसिद्ध है। कई ख्याति प्राप्त औद्योगिक, सामाजिक, सांस्कृतिक और अन्य संसथान यहाँ पाए जाते हैं। यहां का वाणिज्य बहुत व्यापक है।

सिंदरी

यह प्रसिद्ध खाद परिसर है जो धनबाद से 30 किलोमीटर दूर है और दामोदर नदी के किनारे पर स्थित है।

सेंट्रल कोलफील्ड लिमिटेड

(सी.सी.एल) कोयला खनन में भारत में एक अग्रणी कंपनी है और कोयले की शक्ति और इस्पात क्षेत्र में भारत में प्रमुख आपूर्तिकर्ता हैं। सी.सी.एल भारत में उपभोक्ताओं और गैर मुख्य उपभोक्ताओं को कोयले के ग्रेड में एक विस्तृत विविधता प्रदान करता है।

हिन्दुस्तान कॉपर लिमिटेड[संपादित करें]

(एचसीएल) 9 नवम्बर 1967 को बना था। यह भारत में तांबे निर्माण में एकीकृत बहु इकाई के रूप में स्थापित है। यह विस्तृत गतिविधियों जैसे खनन, प्रगालन, शोधन और तांबे के निर्माण, कास्ट के लिए जाना जाता है।

हेरिटेज पर्यटन[संपादित करें]

पलामू किला के बारे में कहा जाता है कि वहां के चेरों के राजा मेदनीराय ने अपने पुत्र प्रतापराय के लिए इस किले का निर्माण करवाया था। इसकी नीव १५६२ में पड़ी थी। इसका सबसे अधिक आकर्षक पक्ष इसका दरवाजा है, जिसे नागपुरी शैली का दरवाजा कहा जाता है। इस दरवाजे की ऊंचाई ४० फीट तथा चौडाई १५ फीट है। पलामू जिले के कई लोकगीतों में इसकी विशालता का वर्णन किया गया था। पलामू किला से २ किलोमीटर की दूरी पर कमलदह झील का किला है जो मेदनीराय की रानी का था। उन्हें प्रकृति से बहुत प्यार था, लेकिन वहीँ पर स्थित तालाब में जब वह स्नान करने गयी तो डूब गयी थी, जिसे चेरो जनजाति इसे जादू मानते थे।

झारखण्ड में जनजातीय पर्यटन[संपादित करें]

संथाल

झारखंड के संथाल भारत के सबसे प्राचीनतम जनजातियों में से है। यह आदिवासी वर्ग उनके संगीत, नृत्य और रंगबिरंगे पोशाक के लिए जाना जाता है। झारखंड में जनजातीय पर्यटन की यात्रा संथाल के विभिन्न गांवों में और छोटानागपुर पठार में कर सकते हैं। संथाल के किसी गांवों में यात्रा करके बांस हस्तशिल्प और अन्य रंगबिरंगे हस्तनिर्मित वस्त्र को भी खरीद सकते हैं। आदिवासी समुदाय के मेलों और त्यौहारों में भी आपको उनके सामाजिक जीवन की झलक मिलेगी |

असुर

सबसे प्राचीन जनजातीय समुदायों में से एक है, ये अपने सदियों पुरानी " लोहे के प्रगालन " कौशल के लिए जाने जाते हैं। पुरुष और महिलाएं साथ मिलकर काम करते है, साथ मिलकर खाते हैं, एक साथ वंश की देखभाल करते हैं और रोटी कमाने के लिए संघर्ष करते हैं और अपने परिवार के साथ रहते है। श्रम का विभाजन अद्वितीय है सामाजिक, आर्थिक एकता भी है। तथाकथित आधुनिक समाज को इन लोगों से बहुत कुछ सीखना चाहिए।

मुंडा

एक अन्य ऑस्ट्रो-एशियाई जाति की आबादी के अनुसार झारखण्ड में तीसरा स्थान है। इतिहास बताता है कि वे यहाँ पश्चिमी भागों से पलायन से आये हैं। मुंडा महिलाएं आभूषण के बहुत शौकीन हैं।

बिरहोर

यह एक खानाबदोश जनजाति है जो उनके फायटोप्लेकटन क्षमताओं के लिए जाने जाते है। ये उच्च पहाड़ी चोटियों या जंगलों के बाहरी इलाके में वास करते हैं। जो अस्थायी झोपडियों में समूहों में वास करते हैं और लच्छीवाला परिवार के जीवन का आनंद ले रहे हैं जगही बिरहोर के नाम से जाना जाता है और कलाइयों समूहों को ऊथेइअन बिरहोर कहा जाता है।

महली

बंसफोर महली टोकरी बनाने के विशेषज्ञ हैं, पतर महली टोकरी बनाने के उद्योग से जुड़े हैं और सुलुन्खी महली श्रम की खेती पर जीवित है, तांती महली पारंपरिक 'पालकी' के पदाधिकारी हैं और मुंडा महली किसान है। आमतौर पर महली वंश, जनजाति और कबीले के साथ उत्कृष्ट संबंध बनाए रखते हैं।

चिकबरैक

यह स्पिनर और बुनकरों के समुदाय के रूप में, चिकबरैक गांवों में अन्य जातियों और जनजातियों के साथ रहते हैं। इस तरह से महिलाऐं स्वयं आभूषण के साथ रहती है। परिवार मजबूत हैं और श्रम विभाजन उम्र के अनुसार किया जाता है।

बिरजिया और बैगास

ये छोटी अनुसूचित जनजातियाँ अभी भी वन संसाधनों पर निर्भर है। ये गहरे जंगल और दुर्गम कृषि क्षेत्रों में रहते हैं। हाल के दिनों में उन्होंने खेती को त्याग दिया है। बिगास की खोज 1867 में 'जंगली' के रूप में और दूरदराज के दुर्गम पहाड़ियों के वन क्षेत्रों में रहने वाले के रूप में हुई थी।

बंजारा

यह एक समूह है जिसकी संख्या तेजी से घट रही है। उनके गाँव पहाड़ियों और जंगलों के निकट स्थित है। वे कुशल बुनकर होते हैं जो मैट, टोकरियाँ, ट्रे आदि जंगल के जंगली घास से बनाते है और वे अकसर समूह में निवास करते है। वे बच्चे के जन्म पर गांवों के आसपास जाकर प्रार्थना के गाने भी गाते है।


धार्मिक पर्यटन[संपादित करें]

देवघर और दुमका में लाखों लोग धार्मिक यात्रा में मंदिरों में पूजा करने के लिए हर वर्ष यहाँ आते है। यह धार्मिक पर्यटन के विकास का अच्छा अवसर है।

धर्म और कथा का एक साथ आना देवघर, भारत के प्राचीन हिंदू तीर्थ में से एक है। देवघर का शाब्दिक अर्थ है "परमेश्वर का निवास"| ऐसे कई धार्मिक महत्व के स्थल इस पवित्र शहर के आसपास है।


रांची में, रांची पहाड़ी की ऊंचाई पर मंदिर है, जो वहां के स्थानीय लोगों के लिए पहाड़ी, पहाड़ी मंदिर के नाम से जाना जाता है। सामान्यतः यह मंदिर भगवान शिव को समर्पित है। लेकिन प्रत्येक स्वतंत्रता और गणतंत्र दिवस पर मंदिर के उपरी छोर पर राष्ट्रीय तिरंगा फहराया जाता है जो उन लोगों के सम्मान की दिशा में किया जाता है जिन्होंने स्वतंत्रता संघर्ष के दौरान अपने प्राणों का बलिदान दिया था। बहुत से स्वतंत्रता सेनानियों के बारे में कहा गया है कि उन्हें यहाँ फाँसी दी गयी है। जब देश स्वतंत्र हुआ तो रांची के वासियों ने फैसला किया कि उन शहीदों को सम्मान देने के लिए पहाड़ी पर तिरंगा फहराया जायेगा और इसी तरह परंपरा चली आ रही है और यह वास्तव में इस मंदिर की अलग पहचान है

रांची से करीब ८० किलोमीटर दूर रामगढ -बोकारो मार्ग पर अवस्थित माँ छिन्नमस्तिका का मंदिर यहाँ अवस्थित है, जो देश भर में प्रसिद्ध है। पुराने मंदिर में सिरविहीन देवी कामदेव के शरीरपर खड़ी हुई और रति कमल के आसन पर विराजमान हैं। मन्नत मांगने व् पूरे होनेपर पुनः दर्शन करने यहाँ भक्त काफी संख्या में पहुचते हैं।

सभी भगवान शिव के भक्तों का देवघर के महा श्रावणी मेला में स्वागत हैं, जो भगवान शिव का पवित्र स्थान है। श्रद्धालु सुल्तानगंज में उत्तर वाहिनी गंगा में डुबकी लगाने के बाद गंगा का पवित्र जल कांवर में लेकर, नंगे पांव 105 किलोमीटर की दूरी तय कर के देवघर जाते हैं।

जगन्नाथपुर मंदिर

उड़ीसा की स्थापत्य कला पर निर्मित यह मंदिर झारखण्ड के प्रमुख धार्मिक स्थलों में से एक है। पहाड़ी पर स्थित मंदिर को देखकर ऐसा प्रतीत होता है कि काफी ऊंचाई पर मणि एक किला विद्यमान हो। जून-जुलाई में यहाँ रथयात्रा के अवसर पर विशाल मेला लगता है। नागवंशी राजा ठाकुर एनी शाहदेव द्वारा १६९१ में रांची से १२ किलोमीटर की दूरी पर इस मंदिर का निर्माण कराया गया था। मंदिर में भगवान जगन्नाथ, बलभद्र व सुभद्रा की मूर्तियाँ मौजूद हैं।

सूर्य मंदिर

रांची से ३९ किलोमीटर की दूरी पर रांची -टाटा रोड पर स्थित यह मंदिर बुंडू के समीप है। संगमरमर से निर्मित इस मंदिर का निर्माण १८ पहियों और ७ घोड़ों के रथ पर विद्यमान भगवान सूर्य के रूप में किया गाया है। २५ जनवरी को टुसू मेला के अवसर पर यहाँ विशेष मेले का आयोजन होता है। श्रधालुओं के विश्राम के लिए यहाँ एक धर्मशाला का निर्माण भी किया गया है।

अंगराबाड़ी

रांची से ४० किलोमीटर दूर खूंटी के समीप स्थित यह मंदिर भगवान गणेश, राम-सीता, हनुमान और शिव के प्रति समर्पित है।

सबसे ऊंचा पठार

झारखण्ड का सबसे ऊँचा पठार, जिसकी ऊंचाई समुद्रतल से ४४८० फीट है। यहाँ के मंदिर को जैनियों का सबसे पूज्य व पवित्र स्थान माना गया है। जैन मान्यता के अनुसार २४ तीर्थकरों में से २० को मोक्ष की प्राप्ति यहीं हुई है।