जूली (1975 फ़िल्म)

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
जूली
जूली.jpg
जूली का पोस्टर
निर्देशक के॰ एस॰ सेतुमाधवन
निर्माता बी॰ नागि रेड्डी
लेखक इंदर राज आनंद (संवाद)
अभिनेता लक्ष्मी,
विक्रम
संगीतकार राजेश रोशन
प्रदर्शन तिथि(याँ) 1975
देश भारत
भाषा हिन्दी

जूली 1975 में बनी हिन्दी भाषा की नाटकीय प्रेमकहानी फ़िल्म है। इसे के॰ एस॰ सेतुमाधवन द्वारा निर्देशित किया गया और चक्रपाणि द्वारा इसकी कहानी लिखी गई। फिल्म में लक्ष्मी ने शीर्षक भूमिका निभाई है। इसमें विक्रम, नादिरा, रीटा भादुड़ी, ओम प्रकाश, उत्पल दत्त और श्रीदेवी (उनकी पहली महत्वपूर्ण हिंदी फिल्म भूमिका में) भी हैं।

फिल्म आलोचनात्मक और व्यावसायिक सफलता थी। इसका संगीत भी ब्लॉकबस्टर रहा था, जिसमें राजेश रोशन द्वारा पुरस्कार विजेता संगीत था जिससे उन्हें उस वर्ष का फिल्मफेयर पुरस्कार मिला था।

संक्षेप[संपादित करें]

जूली (लक्ष्मी) ईसाई एंग्लो-इंडियन लड़की है जो शराबी लेकिन उसे प्यार करने वाले पिता (ओम प्रकाश), उस पर हावी माँ (नादिरा), छोटे भाई और बहन (श्री देवी) के साथ रहती है। उसे अपनी सबसे अच्छी दोस्त (रीटा भादुड़ी) के भाई शशि भट्टाचार्य, एक हिंदू लड़के से प्यार हो जाता है। प्रेमी अपने रिश्ते को चरम पर ले जाते हैं, जिससे वह गर्भवती हो जाती है। शशि उसकी गर्भावस्था के बारे में न जानते हुए कॉलेज चली जाता है। जब जूली अपनी माँ को गर्भावस्था के बारे में बताती है तो वह व्याकुल हो जाती हैं। वे परिवार के बाकी सदस्यों को नहीं बताते हैं। उसकी माँ जूली का गर्भपात कराने के बारे में सोचती है, लेकिन धर्मनिष्ठ ईसाई (सुलोचना) उसे ऐसा करने से मना करती है। जूली को उसके बच्चे को गुप्त रूप से पैदा करने के लिये भेज दिया जाता है। परिवार के बाकी सदस्यों को बताया जाता है कि जूली को नौकरी मिल गई थी। बच्चे के जन्म के बाद, जूली की माँ बच्चे को एक अनाथालय में छोड़ने की व्यवस्था करती है और यह कहती हैं कि जूली घर लौट आए और बच्चे के बारे में भूल जाए।

जब जूली घर लौटती है, तो उसके पिता की मृत्यु हो चुकी होती है। वह अब परिवार में कमाने वालों में प्रधान है। बाद में, वह शशि से मिलती है और उसे सब कुछ बताती है। फिर वह उससे शादी करने के लिए कहता है, लेकिन उसकी मां जूली से शादी करने के खिलाफ है क्योंकि दोनों का धर्म अलग है। वह जूली पर अपने बेटे को बहकाने और बच्चा करने का आरोप लगाती है। जूली की मां भी शादी नहीं चाहती है, क्योंकि यह विभिन्न धर्मों का विवाह होगा और वह इंग्लैंड लौटना चाहती हैं। हालाँकि, शशि के पिता (उत्पल दत्त) दोनों की माताओं को जाति और धर्म के पूर्वाग्रहों को दूर करने की कहते हैं। वह दोनों को अपने पोते को स्वीकार करने का आग्रह करते हैं। फिल्म माताओं द्वारा बालक को अपना आशीर्वाद देने के साथ समाप्त होती है और जूली की माँ अपने पोते से वादा करती हैं कि वह "उसे कभी नहीं छोड़ेगी।"

मुख्य कलाकार[संपादित करें]

संगीत[संपादित करें]

सभी राजेश रोशन द्वारा संगीतबद्ध।

क्र॰शीर्षकगीतकारगायकअवधि
1."दिल क्या करे जब किसी से"आनंद बख्शीकिशोर कुमार6:46
2."ये रातें नई पुरानी"आनंद बख्शीलता मंगेशकर5:37
3."भूल गया सब कुछ"आनंद बख्शीकिशोर कुमार, लता मंगेशकर5:00
4."माइ हार्ट इज़ बीटिंग"हरींद्रनाथ चट्टोपाध्यायप्रीति सागर4:55
5."साँचा नाम तेरा"आनंद बख्शीउषा मंगेशकर, आशा भोंसले4:50

नामांकन और पुरस्कार[संपादित करें]

प्राप्तकर्ता और नामांकित व्यक्ति श्रेणी नामित व्यक्ति परिणाम
फ़िल्मफ़ेयर पुरस्कार सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री लक्ष्मी नारायण जीत
सर्वश्रेष्ठ सहायक अभिनेत्री नादिरा
सर्वश्रेष्ठ संगीत निर्देशक राजेश रोशन
सर्वश्रेष्ठ पार्श्व गायिका प्रीति सागर नामित

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]