जूता निर्माण

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
भारत का एक जूता-निर्माता हस्तशिल्पी
जूते बनाने के औजार

जूता, चप्पल आदि पाँव में पहनी जाने वाली वस्तुओं का निर्माण जूतानिर्माण (Shoemaking) कहलाता है। मूलतः यह काम पहले एक-एक करके हाथ से ही किया जाता था किन्तु अब स्वचालित मशीनों द्वारा भारी मात्रा में जूते बनाये जाते हैं।

आधुनिक काल के परिवर्तन[संपादित करें]

जूता निर्माण के उद्योग में चन्दौसी के जूता उद्योग का सालाना कारोबार दस से पन्द्रह करोड़ रुपये का है, लेकिन अब हस्तनिर्मित जूता व चप्पल बनाने के कारोबार को कम करके लोगों ने आर्टिफिशियल लेदर का काम शुरू कर दिया है। दिल्ली से लेदर के आइटम सस्ते रेट पर आसानी से मिल जाने के कारण लोग पुराने चमड़े के कारोबार को कम करके आधुनिक मशीनों से तैयार आइटमों से जूता चप्पल बना रहे हैं। [1]

सन्दर्भ[संपादित करें]