जूता

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
A pair of formal shoes
आज दुनिया के सबसे व्यापक रूप से उपलब्ध जूता: पब्लिक स्क्वेर, फेज़, मोरक्को में बिक्री के लिए सैकड़ों इस्तेमाल किये हुए खेल के जूतें, 2007

जूता पैरों में पहनने की एक ऐसी वस्तु है जिसका उद्देश्य विभिन्न गतिविधियां करते समय मानव के पैर की रक्षा करना और उसे आराम पहुंचाना है। जूतों का उपयोग एक सजावट की वस्तु के रूप में भी किया जाता है।

समय-समय पर तथा संस्कृति से संस्कृति जूते के डिजाइन व रंग-रूप में अत्यधिक परिवर्तिन हुआ है, मूल स्वरूप में इसे काम के समय पहना जाता था। इसके अतिरिक्त, फैशन ने अक्सर कई डिजाइन तत्वों को निर्धारित किया है, जैसे जूते की एड़ी बहुत ही ऊंची हो या समतल हो। समकालीन जूते शैली, जटिलता और लागत की दृष्टि से व्यापक रूप में भिन्न होते हैं। बुनियादी सैंडल में केवल एक पतला तला और एक सामान्य पट्टा शामिल था। उच्च फैशन जूते महंगी सामग्री से और जटिल निर्माण प्रक्रिया द्वारा बनाए जाते हैं तथा उन्हें हजारों डॉलर प्रति जोड़ी बेचा जा सकता है। अन्य जूते अति विशिष्ट प्रयोजनों के लिए होते हैं, जैसे पर्वतारोहण और स्कीइंग के लिए डिजाइन किए गए जूते (बूट).

पारंपरिक रूप से जूते चमड़ा, लकड़ी या कैनवास से बनाए जाते रहे हैं लेकिन उत्तरोत्तर रबर, प्लास्टिक और अन्य पेट्रोरसायन-व्युत्पन्न सामग्री से बनाए जाने लगे हैं।

हाल के वर्षों तक,[कब?] विश्व की जनसंख्या के अधिकांश लोगों द्वारा जूते नहीं पहने जाते थे क्योंकि वे खरीदने में समर्थ नहीं थे। बड़ी संख्या में उत्पादन के आगमन के उपरांत ही जूतों के सस्ती दर पर उपलब्ध होने से, जूते पहनने का चलन प्रबल हुआ है।

शरीर के अन्य किसी अकेले अंग की तुलना में पैर में अधिक हड्डियां होती हैं। हालांकि यह सैकड़ों हजारों वर्षों में अत्यधिक भिन्न इलाकों और जलवायु स्थितियों के साथ संबंध रख कर विकसित हुआ है, किंतु पैर अभी भी पर्यावरणीय खतरों, जैसे तीक्ष्ण चट्टानों एवं गर्म जमीन के प्रति अति संवेदनशील है, जूते इन खतरों से उसकी रक्षा करते हैं।

इतिहास[संपादित करें]

लगभग 5500 साल पुरानी एक प्राचीनतम ज्ञात चमड़े का जूता, आर्मेनिया.
प्राचीन यूनानी टेराकोटा जूते की जोड़ी.900 बीसीइ (BCE) में प्राचीन अगोरा संग्रहालय, एथेंस में पूर्वकालीन ज्यामितीय अवधि में एक महिला का श्मशान दफन

ज्ञात सर्वाधिक पुराने जूते 1938 में ओरेगन, संयुक्त राज्य अमेरिका में पाए गए 8000 से 7000 ई.पू. पुराने सैंडल हैं।[1] दुनिया का सबसे पुराना चमड़े का जूता जो गोचर्म के एक ही टुकड़े से बना था और सामने तथा पीछे सीवन के साथ चमड़े की डोरी से बांधा गया था, 2008 में आर्मेनियाकी एक गुफा में पाया गया है और यह विश्वास किया जाता है कि यह 3500 ईसा पूर्व का है।[2][3][4] 3300 ईसा पूर्व पुराने पर्वतारोहियों के जूते, ओत्जी जिनके तले भालू की खाल से बने थे, दोनों बगल में मृगचर्म के फलक और पैर के चारों तरफ बांधने के लिए चमड़े की छाल से बनी डोरियों की जाली थी।[3] हालांकि, जूते बनाने के लिए सर्वाधिक उपयोग किया जाने वाला पकाया हुआ चमड़ा, सामान्यतः हजारों वर्ष तक नहीं टिक सकता, इसलिए संभवतः इससे पूर्व भी जूतों का प्रयोग होता होगा। भौतिक मानवविज्ञानी एरिक ट्रिंकौस मानते हैं कि उन्हें इस बात का सबूत मिला है कि जूतों का उपयोग आज से 40,000 से 26,000 वर्ष पूर्व के बीच आरंभ हुआ था, इस तथ्य के आधार पर कि इस अवधि के दौरान पैर की उंगलियों (अंगूठे को छोड़ कर) की मोटाई कम हुई है। उनकी पूर्वधारणा है कि जूते पहनने से हड्डियों का विकास कम हुआ, अतः पैर की उंगलियां छोटी और पतली रह गई।[5][6] सबसे पहले के डिजाइन बिलकुल साधारण होते थे, प्रायः पैरों की चट्टानों, मलबे और ठंड से रक्षा करने के लिए चमड़े से बने मात्र पैर के थैले. चूंकि सैंडल की तुलना में जूते में चमड़े का उपयोग अधिक होता था, इसलिए उनका उपयोग ठंड के मौसम में अधिक प्रचलित था। मध्य युग तक मुड़े जूतों का विकास हो चुका था, जिनमें पैर में बेहतर फिटिंग के लिए चमड़े को पैर के साथ बांधने के लिए फ्लैप या कर्षण डोरी होती थी। जैसे ही यूरोप ने धन और शक्ति प्राप्त की, बढ़िया और महंगे जूते हैसियत के प्रतीक बन गए। जूतों का अग्रभाग अकसर हास्यास्पद अनुपात तक लंबा और नुकीला हो गया। कारीगर अमीर ग्राहकों के लिए अद्वितीय जूते बनाते थे और नई शैली विकसित करते. अंततः एक सिले हुए तले वाले आधुनिक जूते का आविष्कार हुआ। 17वीं सदी से, चमड़े के जूतों में सिले हुए तले का सर्वाधिक उपयोग किया जाता है। आज भी यह बेहतर गुणवत्ता वाले कपड़े पहनने वालों के लिए जूते का मानक बना हुआ है। 1800 के आसपास तक, जूते बाएं या दाएं पैर का भेद किए बिना बनाए जाते थे। इस तरह के जूतों को अब "स्ट्रेट्स" कहा जाता है।[कृपया उद्धरण जोड़ें] केवल धीरे-धीरे ही पैर के अनुसार विशिष्ट जूते का आधुनिक मानक बना है।

20वीं सदी के बाद से, रबर, प्लास्टिक, सिंथेटिक कपड़ा और औद्योगिक आसंजकों के क्षेत्र में प्रगति ने निर्माताओं को जूते की पारंपरिक निर्माण तकनीक से उल्ल्खनीय रूप में परे हट कर जूतों के निर्माण के अवसर दिये। चमड़ा, जो पूर्व शैलियों में प्राथमिक सामग्री होता था, अब महंगे महंगे जूतों में मानक रह गया है, लेकिन खेल-कूद वाले जूतों में या तो असली चमड़ा होता ही नहीं है, होता भी है तो बहुत कम. तले, जो पहले बड़े परिश्रम के साथ हाथ से सिले जाते थे अब बहुधा मशीन से सिले जाते हैं या सिर्पफ चिपकाये जाते हैं।

भाग[संपादित करें]

तला[संपादित करें]

एक खेल जूते पर एक नया बाहरी सोल चिपकाया जा रहा है

एक जूते के आधार को तला कहा जाता है।

भीतरी तला[संपादित करें]

इन्हें भी देखें: Shoe insert एवं Arch support

भीतरी तला जूते का अंदरूनी आधार होता है, जो पैर के नीचे तथा पैताने के ठीक नीचे रहता है (ise जुराब लाइनर के नाम से भी जाना जाता है). भीतरी तले का प्रयोजन यह है कि यह ऊपरी भाग के किनारे से जुड़ जाए, जिसे जूते को बंद करते समय फरमे के चारों तरफ लपेटा जाता है। भीतरी तले आम तौर पर सेलुलोसिक पेपर बोर्ड या सिंथेटिक गैर बुने इनसोल बोर्ड के बने होते हैं। कई जूतों में हटाने योग्य और बदले जा सकने वाले पैताने होते हैं। अक्सर आराम के लिए अतिरिक्त गद्दी जोड़ी जाती है (जूते के आकार, नमी या गंध को नियंत्रित करने के लिए) या स्वास्थ्य कारणों से (पैर के प्राकृतिक आकार में विकृति या खड़े होने और चलने के दौरान समस्या के कारण). मूलतः, यह जूते का वह मुख्य भाग है जो पैर के पसीने को अवशोषित कर सकता है। आमतौर पर फोम कुशनिंग शीट जैसे लैटेक्स और ईवा, के पैतानों का उपयोग किया जाना चाहिये जो जूते पहनने पर पैर को आराम देते हैं।

निचला तला[संपादित करें]

निचला तला जमीन के साथ सीधे संपर्क में रहने वाली परत है। पोशाक जूतों में अक्सर चमड़े या रेसिन रबर के निचले तले होते हैं। अनौपचारिक या कार्योन्मुख जूतों में प्राकृतिक रबर या पोलीयूरीथेन जैसे सिंथेटिक पदार्थ से बने निचले तले होते हैं। निचला तला एक टुकड़े से बना भी हो सकता है, या हो सकता है विभिन्न सामग्रियों के अलग-अलग टुकड़ों का एक संयोजन हो। स्थायित्व और संकर्षण के लिए तले की एड़ी में आम तौर पर एक रबर की प्लेट होती है, जबकि अग्र भाग शैली के अनुरूप चमड़े का होता है। विशिष्ट जूतों में अक्सर इस डिजाइन में संशोधन किया जाता है: स्पोर्ट्स या तथाकथित क्लीटेड जूते जैसे फुटबॉल, रग्बी, बेसबॉल और गोल्फ जूते जिनमे जमीन पर पकड़ बनाने के लिए निचले तले में अंतःस्थापित कीलें होती हैं।

मध्यतला[संपादित करें]

झटके को अवशोषित करने के लिए आम तौर पर निचले तले और भीतरी तले के बीच में एक परत होती है। कुछ प्रकार के जूतों, जैसे धावकों के जूतों में आम तौर पर पैर की एड़ी के नीचे, क्योंकि वहीं पर अधिकतम दबाव डाला जाता है, झटका अवशोषण के लिए कुछ अन्य सामग्री भी लगाई जाती है। भिन्न-भिन्न कंपनियां अपने जूतों के मध्यतलों के लिए अलग-अलग सामग्री का उपयोग करती हैं। कुछ जूतों में मध्यतला बिल्कुल ही नहीं हो सकता है।

एड़ी[संपादित करें]

एक जूते के आधार का पिछला भाग एड़ी होता है। इसका कार्य पैर की एड़ी को सहारा देना होता है। वे अक्सर जूते के तले में प्रयुक्त सामग्री से ही बनी होती हैं। यह भाग फैशन के लिए या व्यक्ति के लंबा दिखने के लिए ऊंचा हो सकता है या अधिक व्यावहारिक और सहज उपयोग के लिए समतल हो सकता है।

महिलाओं के उच्च एड़ी पंप

वैंप/ऊपरी भाग[संपादित करें]

प्रत्येक जूते में एक ऊपरी भाग होता है जिसकी सहायता से जूता पैर पर पकड़ बनाये रखता है। सरलतम मामलों में, जैसे सैंडल या फ्लिप फ्लॉप में यह कुछ पट्टियों से ज्यादा कुछ नहीं होता ताकि तले को अपने स्थान पर पकड़ कर रख सके। बंद जूतों जैसे, प्रशिक्षकों और अधिकांश पुरुषों के जूतों में और अधिक जटिल ऊपरी भाग होगा। इस भाग को अक्सर सजाया जाता है या आकर्षक लगने के लिए एक विशेष शैली में बनाया जाता है।

पार्श्व/मध्यवर्ती[संपादित करें]

जूते के बाहरी भाग को पार्श्व और जूते के भीतरी सामने वाले भाग को मध्यवर्ती कहते हैं। यह या तो निचले तले या ऊपरी भाग के संदर्भ में हो सकता है।

सहायक सामग्री[संपादित करें]

  • जूता पहनने का चप्पा: जूते में पैर डालने के लिए जूते को खुला रखने और पैर को सरलता से फिसलने के लिए चिकनी सतह प्रदान करने के लिए इसका उपयोग किया जाता है।
  • शू ट्रीः जब जूता पहना हुआ न हो तब इसे जूते के अंदर रखा जाता है ताकि जूते का आकार यथावत बना रहे।
  • एड़ी पकड़: यदि जूता पैर में ढीला है तो एड़ी को फिसलने से रोकने के लिए इसका उपयोग किया जाता है।
  • फोम की गद्दी: जब जूता अधिक ढीला हो, तो पैर को ऊपर और पीछे की ओर उठाने के लिए एक छोटी फोम की गद्दी पैर के तलवे के नीचे रखी जाती है।
  • जूता पॉलिश उपकरण:
    • जूता पॉलिश: रंग-रूप और चमक निखारने तथा जूते की सुरक्षा करने के लिए एक मोम जैसा पदार्थ जूते पर लगा कर फैलाया जाता है।
    • जूते का ब्रश और चमकाने वाला कपड़ा: जूते पर पॉलिश फैलाने और चमकाने के लिए उपयोग किया जाता है।
  • ओवरशूज या ऊपरी जूता: जूतों को वर्षा और हिमपात से बचाने के लिए एक रबर का कवर जूतों के ऊपर चढ़ाया जाता है।
  • (आर्थोपेडिक) जूते में डाली जाने वाली सामग्री: अपघर्षण कम करने या जूते को पैर में फिट करने के लिए कई प्रकार की सामग्री जूते में डाली जाती है। इनमें गद्दी और आंतरिक अस्तर शामिल हैं। पैर की समस्याओं को सही करने के लिए भी सामग्री भरी जा सकती है।
  • जूता थैला: जब जूता पहना नहीं जा रहा हो तो उसे खराब होने से बचाने के लिए इस थैले में रखा जाता है।
  • जूता विस्तारक: जूते को लंबा या चौड़ा या जिस जगह तकलीफ दे रहा हो वहां सुधार करने के लिए इसका उपयोग किया जाता है।
  • बर्फ जूता: एक लकड़ी या चमड़े का टुकड़ा होता है जो जमीन को कवर करने वाले जूते के क्षेत्र की वृद्धि करता है।
  • जूते के फीते: जूतों को पैर में सुरक्षित बांधने के लिए उपयोग किए जाते हैं।

किस्में[संपादित करें]

औपचारिक एवं अनौपचारिक[संपादित करें]

औपचारिक जूतों की पहचान है चिकना और सुनम्य ऊपरी भाग, चमड़े का तला तथा संकरा आकर्षक आकार. अनौपचारिक जूतों की विशेषता मोटे चमड़े का ऊपरी भाग, गैर-चमड़ा जूता तला और विविध आकार हैं।

औपचारिक जूतों के कुछ डिजाइन स्त्री पुरुष, दोनों द्वारा पहने जा सकते हैं। अधिकांश औपचारिक जूतों में, आम तौर से टखने को छोड़ कर निचले पैर को लगभग पूरा ढकने वाला चमड़े का बना ऊपरी आवरण होता है। अक्सर जूते के ऊपरी भाग में छिद्र या खुली जगह नहीं होती, किंतु कुछ जूतों में खुला स्थान हो सकता है या फिर ऊपरी भाग स्वयं पट्टियों की एक श्रृंखला से मिलकर बना होता है, उदाहरण के लिए महिलाओं के जूतों की विशेषता खुला अग्रभाग होती है। ऊपरी भाग द्वारा टखने को ढकने वाले जूते भी उपलब्ध हैं, जिस जूते का ऊपरी भाग इतना ऊंचा बनाया गया हो कि टखने को ढक ले, उसे आम तौर से बूट माना जाता है, किंतु कुछ डिजाइनों को हाई-टॉप्ड जूते या हाई-टॉप्स कहते हैं। आम तौर पर, हाई-टॉप्ड जूते फीतों या जिप द्वारा बंद किए जाते हैं, हालांकि कुछ शैलियों में आसानी से जूता पहने जाने के लिए इलास्टिक निवेशन भी हो सकता है।

मर्दाना[संपादित करें]

यह पुरुष पोशाक जूता, जो एक ब्लूचर के रूप में जाना जाता है वह अपनी खुली लेस से भिन्न है।

मर्दाना जूतों को उनको बंद किए जाने के प्रकार द्वारा वर्गीकृत किया जा सकता है:

  • ऑक्सफोर्ड्स (जिन्हें बैल्मोरल्स भी कहा जाता है): ऊपरी भाग में वी-आकार की दरार होती है जिसमें फीते लगे होते हैं, जिन्हें "फीतेवाले बंद जूते" भी कहा जाता है। कभी-कभी अमेरीकी वस्त्र कंपनियों द्वारा "ऑक्सफोर्ड" शब्द का प्रयोग उन जूतों के विपणन हेतु किया जाता है जो बैल्मोरल्स नहीं होते, जैसे जीभ और फीते युक्त जूते, ब्लूचर्स.
  • ब्लूचर्स (अमेरिकी), डर्बीज (ब्रिटिश): ऊपरी भाग पर स्वतंत्र रूप से जुड़े दो चाड़े के टुकड़ों में फीते बांधे जाते हैं, जिन्हें "खुले फीते" भी कहा जाता है।
  • साधु-पट्टियाँ: फीतों के स्थान पर एक बकसुआ और पट्टी होती है।
  • बिना फीते के जूते: इनमें किसी प्रकार के फीते या बंधन नहीं होते. लोकप्रिय लोफर्स तथा बगल में इलास्टिक वाले जूते इस वर्ग में आते हैं।

मर्दाने जूते भी विभिन्न प्रकार से सजाए जा सकते हैं:

  • सामान्य जूताग्र: एक आकर्षक रूप-रंग तथा ऊपरी भाग पर कोई अतिरिक्त सजावट नहीं।
  • आवृत-जूताग्र: जूताग्र को आवृत करती चमड़े की एक अतिरिक्त परत होती है। संभवतः यह सर्वाधिक लोकप्रिय सजावट है।
  • ब्रोग्स (अमेरिकी: विंग-टिप्स): जूताग्र एक छिद्रयुक्त पट्टी, विंग-टिप से आवृत्त होता है जो जूते के दोनों ओर नीचे तक जाती है। ब्रोग्स बैल्मोरल और ब्लूचर दोनों शैलियों में पाया जा सकता है।

जनाना[संपादित करें]

एक शॉप विंडो में प्रदर्शन पर महिलाओं के जूते, 2005

यद्यपि मर्दाना जूतों की अधिकतर शैलियों को उभयलिंगी शैली के रूप में स्वीकार किया जा रहा है, तथापि महिलाओं के लिए जूतों की एक विशाल विविधता उपलब्ध है। कुछ व्यापक श्रेणियां हैं:

  • ऊँची एड़ी की जूतियां वे जूतियां हैं जिनको पहनने से एड़ी ऊंची उठ जाती है, आमतौर पर पंजों से 2 इंच (5 सेमी) या अधिक ऊंची. ये जूतियां सान्यतः महिलाओं द्वारा औपचारिक समारोहों में या सामाजिक आयोजनों में पहनी जाती हैं। इसके भिन्न रूपों में किटन हील्स (आम तौर पर 1½-2 इंच ऊंची) तथा स्टिलेटो हील्स बहुत संकरा एड़ी स्तंभ) और वेज हील्स (एड़ी स्तंभ के स्थान पर खूंटे के आकार का तला) शामिल हैं।
  • स्नीकर बूट या स्नीकर पंप: एक जूता जो खेल जूते जैसै दिखाई देता है, लोकिन उसमें एड़ी लगी होती है जो उसे एक नवीन आपचारिक जूता बना देती है।
  • म्यूल्स वे जूते या चप्पल हैं जिन में एड़ी के चारों ओर कोई सामान लगा नहीं होता (अर्थात वे पार्श्वहीन होते हैं).
  • स्लिंगबैक वे जूते हैं जिनको पैर के ऊपर बांधने की बजाय एड़ी के पाछे एक पट्टे द्वारा बंधा जाता है।
  • बैले फ्लैट्स ब्रिटेन में बैलेरिनाज, बैले पंप या स्किमर्स के नाम से जाने जाते हैं, वे जूते हैं जिनमें एड़ी बहुत नीची तथा ऊपरी भाग भी अपेक्षाकृत छोटा होता है, जिससे पैर के ऊपर का अधिकांश हिस्सा दिखाई देता है। ये गर्म मौसम में पहनने के लिए लोकप्रिय हैं और ऊंची एड़ी के जूतों की तुलना में अधिक आरामदायक माने जा सकते हैं।
  • कोर्ट जूते अमेरिका में पंप्स के नाम से जाने जाते हैं और ये आम तौर से ऊंची एड़ी के बिना फीते के औपचारिक जूते् हैं।

उभयलिंगी[संपादित करें]

दोनों पुरुषों और महिलाओं द्वारा पहना जाने वाला फ्लिप फ्लॉप चप्पल
  • खड़ाऊं
  • ऊंचे तले के जूते: बहुत मोटे तले और ऊँची एड़ी के जूते.
  • जूती (मॉकासिन): इसकी शुरुआत उत्तरी अमेरिका वासियों ने की थी, यह आम तौर पर नर्म चमड़े से बनी बिना एड़ी की सपाट और मुलायम जूती होती है।
  • चप्पल: यह एक खुली जूती है जिसमें एक तला और कई पट्टियां होती हैं तथा पैर का अधिक हिस्सा हवा में खुला ही रहता है। अतः ये गर्म मौसम में पहनने के लिए लोकप्रिय हैं, क्योंकि एक बंद जूताग्र वाले जूते की तुलना में इसमें पैर अधिक ठंडा रहता है।
  • कपड़े की जूती (एस्पेड्रिल्स) पिरेनीज में आरंभ हुई शैली की गर्म मौसम की अनौपचारिक सपाट जूतियां हैं। इनमें आमतौर पर कपड़े या कैनवास का ऊपरी भाग तथा रस्सी या रबर का बना मुलायाम तला होता है। महिलाओं के लिए इसके ऊँची एड़ी के प्रारूप उपलब्ध हैं।
  • काठी जूता: आम तौर पर सफेद ऊपरी भाग वाले चमड़े के जूते के ऊपरी भाग पर काठी के आकार की एक काली पट्टी होती है।
  • बिना फीते की जूती: प्रायः फुंदनों, बक्सुओं या कॉइन-होल्डर युक्त एक बिना फीते की औपचारिक या अनौपचारिक जूती (पेनी लोफर).
  • बोट जूते, ये "डेक जूते" के रूप में भी जाने जाते हैं: लोफर के समान किंतु अधिक अनौपचारिक. फीते, प्रायः बिना किसी झालर के सादा चमड़े के होते हैं। नौका के तले को क्षति या खरोंच से बचाने के लिए, ये आम तौर पर चमड़े से बनते हैं तथा इनकी विशेषता नर्म सफेद तला है। पहले नाव जूते का आविष्कार 1935 में पॉल स्पेरी द्वारा किया गया था।
  • बूट: लंबे जूते (टखने को ढकने वाले) अक्सर चमड़े से बनते हैं। इन में से कुछ को या तो खराब मौसम के समय इस्तेमाल किए जाने के लिए डिजाइन किया जाता है, या केवल औपचारिक और अनौपचारिक जूतों की एक वैकल्पिक शैली के रूप में. शैलियों में शामिल हैं रबड़ के जूते और बर्फ के जूते, साथ ही साथ कार्य के जूते और पदयात्रा जूते.
  • हवाई चप्पल: आंतरिक उपयोग के लिए, सामान्यतः पयजामे के साथ पहनी जाती हैं।
  • वाइब्रम फाइवफिंगर्स, इसका उद्देश्य पैरों की रक्षा करते हुए नंगे पांव चलने का प्राकृतिक एहसास दिलाना है।
  • स्नीकर्स या कैनवास के जूते.

खेल जूते[संपादित करें]

आज विश्व स्तर पर सबसे लोकप्रिय जूता: हर रोज इस्तेमाल के लिए स्पोर्ट्स जूते

पुरुषों और महिलाओं के औपचारिक जूतों की तुलना में, खेल जूतों तथा विशिष्ट प्रकार्य जूतों में प्रायः मर्दाने-जनाने का अंतर कम ही होता है। कई मामलों में ये जूते पुरुष और महिला में से किसी के भी द्वारा पहने जा सकते हैं। इसमें शैली के बजाय प्रकार्य पर अधिक बल दिया जाता है।

  • धावक जूते: उपर्युक्त के बहुत समान होते हैं, सिर्फ इनमें गद्दी पर अतिरिक्त जोर दिया जाता है।
  • ट्रैक स्पाइक्स: अल्पभार, प्रायः पलास्टिक या लोहे की कीलों से युक्त होते हैं।
  • ) कीलों वाले जूते: एक प्रकार के जूते जिनके तलों में गड़ी हुई या हटाई जा सकने वाली कीलें लगी होती हैं। आम तौर से रग्बी, फुटबॉल, अमेरिकी फुटबॉल, या बेसबॉल जैसे खेल खेलते समय पहने जाते हैं।
  • गोल्फ जूते: घास और गीली जमीन में बेहतर पकड़ के लिए कीलों के साथ. मूलतः "क्लीट्स" या कीलें धातु की बनती थीं लेकिन अब संश्लेषित प्लास्टिक जैसे पदार्थ से बनी हटाई जा सकने वाली "नर्म कीलें" जिनके कांटे हर कील के किनारे के आसपास त्रिज्यात वितरित होते हैं, का उपयोग अधिक प्रचलन में है (और कई गोल्फ कोर्स पर यह आवश्यक भी है क्योंकि वे हरियाली को कम नुकसान पहुंचाते हैं).
  • बाउलिंग जूते: सामान्य औपचारिक जूतों और खेल जूतों के बीच की मध्यवर्ती शैली. इनमें अधिक सख्त रबर के तले/एड़ी होते हैं जिससे बाउलिंग वीथिका को नुकसान न हो। बाउलिंग वीथिका में अक्सर ये किराए पर या उधार दिए जाते हैं।
  • आरोहण जूते: पर्वतारोहण के लिए डिजाइन किए जाते हैं। एक रबर की विस्तारित झालर सहित एक चिकने और चिपचिपे रबर के तले वाले ये जूते आम तौर पर पैर में बिलकुल फिट होते हैं, जरा भी कमी हो तो गद्दी लगा दी जाती है,
  • पद-यात्रा जूते या बूट: असमतल इलाकों में टखनों को सहायता देने के लिए तलों में बड़े कर्षण सहित आम तौर पर ऊंचे और कुछ सख्त ऊपरी भाग पर फीतों के लिए कई छिद्र होते हैं।
  • टहलने के जूते: इनमें धावक जूतों की अपेक्षा अधिक लचीला तला होता है, पद-यात्रा जूतों की अपेक्षा वजन में हल्के होते हैं, हवा के लिए छिद्र हो सकते हैं और हो सकता है कि ये जल-रोधी न हों.
  • स्केटिंग जूते: आमतौर पर इन्हें स्केट्स कहा जाता है। स्केटिंग के लिए इन जूतों के अधोभाग पर विविध प्रकार के संलग्नक लगे होते हैं।
    • बर्फ स्केट्स
    • रोलर स्केट्स
    • इनलाइन स्केट्स
  • स्की बूट: स्की के साथ संलग्न करने के लिए विशेष रूप से डिजाइन किए गए बड़े और मोटे प्लास्टिक बूट हैं।
  • स्केट जूते: स्केटबोर्ड पर सवारी पर प्रयोग के लिए विशिष्ट रूप से डिजाइन किए गए जूतों का सपाट तलों के साथ निर्माण किया जाता है ताकि स्केटबोर्ड पर सवारी करते समय एक स्केटसवार को बेहतर पकड़ मिल सके। स्केटसवारों के पैरों की रक्षा करने के लिए, ये बहुत चौड़े होते हैं तथा इन में गद्दियों की अतिरिक्त परतें होती हैं।
  • साइक्लिंग जूते में चिमटी विहीन पैडल के साथ अंतरफलन हेतु प्लास्टिक या धातु की एक कील लगी होती है, इसके साथ ही अधिकतम शक्ति स्थानांतरण तथा पैरों की सहायता हेतु तले सख्त होते हैं।
  • बर्फ के जूते मोटी बर्फ पर चलने के लिए विशेष जूते होते हैं। समशीतोष्ण जलवायु में, ज्यादातर सर्दियों में मनोरंजन प्रयोजनों के लिए इनका उपयोग किया जाता है।
  • कुश्ती जूते हल्के और लचीले जूते हैं जो पैरों को अतिरिक्त कर्षण एवं संरक्षण प्रदान करने के साथ-साथ नंगे पैर के सदृश ही होते हैं।

विरूपशोधन[संपादित करें]

विरूपशोधन या "आराम" जूतों का निर्माण विशेष रूप से समस्याग्रस्त पैर वाले लोगों के लिए पीडोर्थिक तथा शरीर-रचना के अनुसार सही, आरामदायक गुणधर्मों, जैसे हटाए जा सकने वाले गद्देदार तलवे, चौड़े जूताग्र तथा चाप के साथ किया जाता है।

नृत्य[संपादित करें]

  • पॉइंटे जूते बैले नृत्य के लिए डिजाइन किए जाते हैं। इनमें जूताग्र चौड़े होते हैं जिन्हें सरेस के प्रयोग से सख्त किया जाता है ताकि नर्तक/नर्तकी अपने पैरों की अंगुलियों पर खड़े हो सकें. इन्हें लोचदार पट्टियों और रिबन की सहायता से नर्तक/नर्तकी के टखनों के साथ बांधा जाता है।
  • बैले जूते नर्म और अत्यधिक आसानी से मुड़ने वाले होते हैं तथा कैनवास या चमड़े से निरंतर या दो भाग वाले तलों के साथ (विभाजित तला भी कहते हैं) बनाए जाते हैं। आमतौर पर पैर की गद्दी और एड़ी के नीचे अधिक मोटी सामग्री सहित, इनके तले चमड़े से बनाए जाते हैं और पतले होते हैं, इस प्रकार चाप के नीचे अधिक लचीली सामग्री लगाई जाती है ताकि पैर को उसकी अधिकतम सीमा तक नुकीला बनाया जा सके। बैले चप्पल आमतौर पर इलास्टिक के साथ पैर के ऊपर आड़े बांधे जाते हैं। ये सर्वाधिक सामान्य रूप से गुलाबी, सफेद, काले, पीले या पीले-भूरे रंग के होते हैं, हालांकि इन्हें लाल या नीले जैसे विशिष्ट रंगों में भी बनाया जा सकता है।
  • गिलीज नर्म जूते होते हैं जिनका उपयोग आयरिश नृत्य, स्कॉटिश ग्रामीण नृत्य तथा पर्वतीय नृत्य में किया जाता है।
  • जाज जूते में आम तौर पर दो भाग होते हैं, एक रबर चढ़ा तला (विभाजित तला भी कहा जाता है) तथा दूसरा नीची एड़ी (एक इंच या कम). इन्हें फीतों या लोचदार निवेश से पैर के साथ बांधा जाता है।
  • टैंगो और स्पेनी नृत्य जूते वे जूते हैं जिनका टैंगो और स्पेनी नृत्य में उपयोग किया जाता है।
  • बॉलरूम जूते दो श्रेणियों में आते हैं: बॉलरूम और लैटिन अमेरिकी. दोनों की विशेषता सिझाए हुए चमड़े का तला है। मर्दाना बॉलरूम जूते आम तौर पर एक इंच ऊँची एड़ी और एकस्व अधिकार चमड़े के ऊपरी भाग सहित फीतों वाले जूते होते हैं। जनाना बॉलरूम जूते आमतौर पर दो इंच ऊंची एड़ी वाले, कपड़े के बने कोर्ट जूते होते हैं, जिन्हें नर्तकी की पोशाक के अनुरूप रंगा जा सकता है। बॉलरूम जूतों की नीची एड़ी, जो पैर के पार वजन को समान रूप से वितरित करती है, के विपरीत लैटिन अमेरिकी जूतों में एड़ी ऊंची और वजन को जूताग्र पर स्थानांतरित करने के लिए डिजाइन की जाती हैं। लैटिन जूते भी बॉलरूम जूतों की अपेक्षा अधिक लचीले होते हैं। मर्दाने लैटिन जूतों में आमतौर पर 1.5 से 2 इंच ऊँची एड़ी गड़ी हुई होती है, जबकि जनाना लैटिन जूतों में 2.5-3 इंच ऊँची एड़ी होती है। जनाना जूते आमतौर पर खुले पंजों वाले और पट्टी युक्त होते हैं।
  • नृत्य स्नीकर्स. डैनस्नीकर्स के रूप में भी जाना जाता है, यह रबर प्रबलित जूताग्र के साथ स्नीकर और नृत्य जूते का एक संयोजन है।
  • कैरेक्टर जूतों में आम तौर से चमड़े की बनी हुई एक से तीन इंच ऊंची एड़ी होती है और जूते को पैर के साथ बांधने के लिए प्रायः जूते के ऊपरी भाग पर एक या अधिक आड़ी पट्टियां होती हैं। वे नरम तले (स्वेड) या सख्त तले वाली किस्मों में मिल सकते हैं। टैप्स संलग्न करके इनको टैप जूतों में भी बदला जा सकता है।
  • फुट थोंग्स को निर्माताओं के आधार पर विभिन्न नामों से जाना जाता है जिनमें शामिल हैं, डांस पॉज़, फुट अंडीज़ और फुट पॉज़. ये बिना फीते के जूते हैं, जो घूमते समय नर्तक/नर्तकी के पैर की गद्दी को खरोंच लगने से बचाने के लिए पैरों के आंशिक आवरण होते हैं। दूरी से देखने पर त्वचा के रंग के फुट थोंग्स, नर्तकी के नंगे पैर होने का आभास देते हैं।
  • नाल वाले जूतों में एड़ी और जूताग्र के नीचे तले में धातु की प्लेटें (नाल) जड़ी हुई होती हैं। धातु की प्लेटें, जो नाल के नाम से जानी जाती हैं, जब प्रदर्शन वाली कठोर सतह से टकराती हैं तो तेज आवाज होती है। नाल वाले जूते, जिनका प्रयोग टैप नृत्य में किया जाता है, किसी भी शैली के जूतों, जिन में नाल लगाई जा सके, से बनाए जा सकते हैं।

कार्य[संपादित करें]

र्काय जूतों को भारी घिसावट का सामना करने, पहनने वाले की सुरक्षा करने और उच्च कर्षण प्रदान करने के लिए डिजाइन किया जाता है। वे आम तौर पर मजबूत चमड़े के ऊपरी भाग और गैर चमड़ा नितलों से बने होते हैं। कभी कभी इनका उपयोग नर्सों, महिला वेटरों, पुलिस, सैन्यकर्मियों आदि के द्वारा वर्दी के अथवा आराम के लिए किया जाता है। आम तौर से इनका उपयोग औद्योगिक स्थापनाओं, निर्माण, खनन और अन्य कार्यस्थलों पर किया जाता है। इनमें दी जाने वाली सुरक्षा सुविधाओं में शामिल हो सकते हैं, इस्पात जड़े जूताग्र और तले या टखना गार्ड.

ऐतिहासिक[संपादित करें]

अतीत में शामिल जूते:

  • टर्न जूते: एक तरीका है जिसके द्वारा जूते के अंदर से बाहर का निर्माण किया जाता था, गीला किया जाता और मोड़ा जाता था - चमकीले भाग को पलट कर बाहर की ओर कर दिया जाता था। ऐसे जूतों का उपयोग मध्य युग से, ट्यूडर युग में आधुनिक जूतों का विकास होने तक आमतौर पर होता था। अपने निर्माण की वजह से, अधिकांश आधुनिक किस्म के जूतों की भांति टर्न जूतों के तलों को बदला नहीं जा सकता.
  • एस्प्रैडिल्स: ये सैंडल, जो आज भी पहने जाते हैं, अधिकतम 14 वीं सदी जितने पुराने हैं।
  • खड़ाऊं: एक व्यक्ति के पैरों को बाहर सूखा रखने के लिए लकड़ी का एक यूरोपीय आवरण जूता. सबसे पहले मध्य युग में पहनी गई और 20वीं सदी के शुरू तक भी इसका इस्तेमाल जारी रहा। कुछ डच, फ्लेमिंग्स और कुछ फ्रेंच लोगों ने इसी प्रकार के पूरी तरह से ढके हुए नक़्क़ाशीदार लकड़ी के जूते तैयार किए।
  • पाउलेन: 15 वीं सदी में लोकप्रिय रहा एक लंबे नोकदार जूताग्र वाला लकड़ी का जूता.
  • मोकासिन: अनेक उत्तरी अमेरिकी इंडियन जनजातियों का ऐतिहासिक जूता.

मरम्मत[संपादित करें]

  • जूता काटना: कुछ जूते सख्त लेकिन विकृत होने वाली सामग्री के बने होते हैं। एक व्यक्ति द्वारा कई बार पहने जाने के बाद, पहनने वाले के पैर में फिट होने के लिए सामग्री में सुधार होने लगता है। इसे उस व्यक्ति को जूते का काटना कहा जाता है।
  • चमकाना: विशेष रूप से चमड़े के जूतों और बूट की सुरक्षा के लिए, जल रोधन (कुछ सीमा तक) और रंग-रूप के लिए।
  • एड़ी प्रतिस्थापन: समय - समय पर एड़ीघिस जाती हैं. सभी जूते प्रतिस्थापन को सक्षम करने के लिए डिजाइन नहीं किए जाते.
  • स्वच्छता: दुर्गंध देने वाले जीवाणुओं या कवक जैसे सूक्ष्मजीवियों के विकास को रोकने के लिए जूते के भीतरी भाग को कीटाणुनाशक शू ट्री से अथवा अन्य स्वच्छ करने की विधियों से स्वच्छ किया जाता है।[7]
  • तला प्रतिस्थापन: तले भी घिस सकते हैं। सभी जूतों के तले नहीं बदले जा सकते.
  • जूते का फीता प्रतिस्थापन: जूते का फीता कभी क्षतिग्रस्त हो सकता है या कभी कभी नष्ट हो सकता है, जिससे फीते के प्रतिस्थापन की जरूरत महसूस हो।
  • जब जूते उपयोग के लिए अनुपयुक्त हो जाएं, तो इन्हें कचरा या नगरपालिका अपशिष्ट ठोस माना जा सकता है और उस का निपटारा किया जा सकता है। इसका अपवाद अधिकतर खेल स्नीकर्स हो सकते हैं जिनको पुनर्चक्रीकरण के द्वारा अन्य कच्चे माल में परिवर्तित किया जा सकता है। उदाहरण के रूप में नाइके ग्राइंड देखें.

जो व्यक्ति एक दुकान में जूते बनाता है या जूतों की मरम्मत करता है वह मोची कहलाता है।

जैवअपघटन[संपादित करें]

नई मानव निर्मित सामग्री के सामने आने के बाद, जूते तेजी से कम जैवअपघटनीय बन गए हैं। वर्तमान में, सामूहिक रूप से बड़े पैमाने पर उत्पादित जूतों को अपघटित होने के लिए 1000 साल चाहिए, हो सकता है वे अपघटित हों ही नहीं, यह इस बात पर निर्भर करेंगा कि निर्माण में किस सामग्री का उपयोग किया गया था। हाल ही में कुछ जूता निर्माताओं ने यह मुद्दा उठाया है और अपघटनीय सामग्री से जूतों का उत्पादन करना आरंभ किया है, इनमें नाइके को लिया जा सकता है।[8][9]

शिष्टाचार[संपादित करें]

इन्हें भी देखें: Dress code

मध्य पूर्व, अफ्रीका के कुछ भाग, कोरिया और थाईलैंड में किसी को जूतों के तले दिखाना असभ्यता मानी जाती है (चाहे टांग पर टांग रखने से ऐसा संयोगवश ही क्यों न हुआ हो). जूता फेंकना मध्य पूर्व के कुछ भागों और भारत में एक बड़ा अपमान माना जाता है।[10] इसके अलावा, थाइलैंड में, पैर, जुराब या जूते का किसी के सिर से छू जाना या शिर पर रखना एक चरम अपमान समझा जाता है।

साहित्य में[संपादित करें]

जूते ने परी कथाओं सिंड्रेला, द वंडरफुल विजार्ड ऑफ ओज़ तथा द रेड शूज़ में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाई है। साहित्य और फ़िल्म में, एक खाली जूता या जूते की जोड़ी को मृत्यु का प्रतीक माना जाता है।[कृपया उद्धरण जोड़ें]

आकार[संपादित करें]

  • जूते के आकार की इकाइयां दुनिया भर में व्यापक रूप से भिन्न है। यूरोपीय आकार पेरिस पाइंट में मापे जाते हैं, जो दो-तिहाई सेंटीमीटर के बराबर है। ब्रिटेन और अमेरिका की इकाइयां लगभग एक चौथाई इंच है, 8¼ इंच से शुरू होता है। पुरुषों और महिलाओं के जूते के आकारों के अक्सर अलग-अलग पैमाने हैं। जूते के आकार को अक्सर एक ब्रैनोक डिवाइस का उपयोग करके मापा जाता है, जो पैर की लंबाई और चौड़ाई दोनों को माप सकती है।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

  • रनर्स टो, मैलफिटिंग जूतों से लगी चोट
  • जूते की लोकोमोटर प्रभाव
  • फूट बाइंडिंग
  • शू टॉसिंग

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. फोर्ट रॉक सैंडल्स
  2. "World's oldest leather shoe found in Armenia". Reuters. June 10, 2010. अभिगमन तिथि June 13, 2010.
  3. Ravilious, Kate (June 9, 2010). "World's Oldest Leather Shoe Found—Stunningly Preserved". National Geographic. अभिगमन तिथि June 13, 2010.
  4. Pinhasi R, Gasparian B, Areshian G, Zardaryan D, Smith A; एवं अन्य (2010). "First Direct Evidence of Chalcolithic Footwear from the Near Eastern Highlands". PLoS ONE. डीओआइ:10.1371/journal.pone.0010984. Authors list में |last1= अनुपस्थित (मदद) में रिपोर्ट (अन्य के साथ) Belluck, Pam (9 जून 2010). "This Shoe Had Prada Beat by 5,500 Years". New York Times. अभिगमन तिथि 11 जून 2010.
  5. ट्रिनकॉस ई, शांग एच. (2008). मानव जूतों की पुरावस्तु के लिए संरचनात्मक सबूत: टियांयुऐन और संघिर. पुरातात्त्विक विज्ञान पत्रिका 35 (2008) 1928-1933. doi:10.1016/j.jas.2007.12.002
  6. BBC.co.uk
  7. http://www.sterishoe.com Sterishoe.com, अमेरिकी पोडिएट्रिक मेडिकल एसोसिएशन द्वारा स्वीकृत
  8. ब्रूक्स बायोमोगो रनिंग शू
  9. साधारण जूते बायो-डी
  10. हार्टफोर्ड कोरैंट

आगे पढ़ें[संपादित करें]

  • हिस्ट्री ऑफ़ फुट्वेर इन नॉर्वे, स्वेडेन एंड फिनलैंड : प्रीहिस्ट्री टू 1950, ISBN 91-7402-323-3
  • पैट्रिक कॉक्स: व्हीट, आइरनी, एंड फुट्वेर, तामासिन डो (1998) ISBN 0-8230-1148-8
  • अ सेंचरी ऑफ़ शूज़: आइकंस ऑफ़ स्टाइल इन द 20थ सेंचरी, एंजेला पैटिसन ISBN 0-7858-0835-3

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]

साँचा:Footwear साँचा:Clothing