जूजुत्सु

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
जापान के एक कृषि विद्यालय में सन् १९२० में जूजुत्सु का प्रशिक्षण

जूजुत्सु (/dʒuːˈdʒʌtsuː/; जापानी : 柔術) जापान की एक सैन्य कला (martial art) है। यह शस्त्र तथा कवच धारण किए हुए शत्रु से बिना हथियार पास से लड़कर पराजित करने की विद्या है।

जैसे भारत में कुश्ती और यूरोप में मुक्केबाजी की प्रथा है वैसे ही जापान में जू-जुत्सु की प्रथा है। जू जुत्सु जाननेवाले को अपने बचाव के लिये किसी हथियार की आवश्यकता नहीं पड़ती, बल्कि वह निहत्था अपने से कहीं अधिक शक्तिशाली आदमी को बेबस कर सकता है और उसके सामने चाकू और तलवार भी काम नहीं देते।

जू-जुत्सु में कुशलता प्राप्त करने के लिये वर्षों परिश्रम करना पड़ता है। सीखने वालों को आदमी की शारीरिक बनावट खूब अच्छी तरह समझाई जाती है, उसे विशेषतया बताया जाता है कि आदमी की तंत्रिकाएँ (nerves) किस किस जगह सबसे अधिक अरक्षित होती है जहाँ चोट लगने से बिजली का सा धक्का लगता है और कुछ देर के लिये आदमी शक्तिहीन हो जाता है; जैसे केहुनी के पीछे की नस या पेट के ऊपरी भाग 'सौर चक्र' (solar plexus) चोट लगने से कुछ समय के लिये साँस बंद हो जाती है और मनुष्य किसी काम का नहीं रह जाता। यह भी बताया जाता है कि कौन जोड़ कमजोर है या हाथ और पैर को कैसे मोड़ा जाय कि वे उतर जायँ या टूट जायँ। जू-जुत्सू जाननेवाला कभी हमला करनेवाले के झोंक को नहीं रोकता बल्कि उसको आने देता है और अचानक आक्रमणकारी को ऐसे मोड़ देता है कि उसकी शक्ति उसी के विरुद्ध चली जाती है। अपने ऊपर झपटनेवाले को वह रोकेगा नहीं, बल्कि उसको और धक्का देकर ऐसा टेढ़ा गिराएगा कि उसका हाथ उतर जाय या गरदन में मोच आ जाय।

जू-जुत्सु लड़नेवाले हाथ खुला रखते हैं। उनके हाथ के नीचे का भाग लोहे की तरह कठोर होता है। यह अगर कंठमणि (Adam's apple) पर लग जाय तो आदमी बेहोश हो जाता है और कलाई पर लग जाय तो कलाई उतर जाती है।

जू-जुत्सु पहले चीन में शुरू हुआ। लामा भिक्षुओं ने अपने बचाव के लिये इसका आष्विकार किया। चीन से यह कला जापान पहुँची और वहाँ बहुत ही लोकप्रिय हुई। प्रारंभ में यह गुप्तकला रही और केवल उच्च घराने वाले ही इसे जानते थे। आज कल जापान में जू-जुत्सु गुप्त कला नहीं है। जापानी स्कूलों और व्यायाम शालाओं में अब इसकी शिक्षा सर्वसाधारण को दी जाती है। २०वीं सदी में यह कला यूरोप एवं अमरीका पहुँची जहाँ इसे बहुत पसंद किया गया और इसके प्रशिक्षण के केंद्र खोले गए।

प्रशिक्षण अथवा अभ्यास की लड़ाई में हाथ पैर टूटने का अवसर नहीं आता। जब लड़नेवाला अनुभव करता है कि वह फँस गया और अधिक शक्ति लगाने से हाथ पैर टूटने का भय है, तो वह पृथ्वी पर हाथ या पैर मारता है, जिसका अर्थ होता है कि वह हार गया। अत: लड़ाई समाप्त कर दी जाती है।