जब प्यार किसी से होता है (1961 फ़िल्म)

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
जब प्यार किसी से होता है
जब प्यार किसी से होता है.jpg
जब प्यार किसी से होता है का पोस्टर
निर्देशक नासिर हुसैन
निर्माता नासिर हुसैन
लेखक नासिर हुसैन
अभिनेता देव आनन्द,
आशा पारेख,
सुलोचना लाटकर,
प्राण
संगीतकार शंकर जयकिशन
छायाकार दिलीप गुप्ता
संपादक बाबू राव
प्रदर्शन तिथि(याँ) 1961
देश भारत
भाषा हिन्दी

जब प्यार किसी से होता है 1961 में बनी हिन्दी भाषा की फिल्म है जो हिट रही थी। यह नासिर हुसैन द्वारा लिखित, निर्मित और निर्देशित की गई। नासिर की सबसे पहली फिल्म जिसका उन्होंने निर्माण किया। इसमें देव आनंद और नासिर की मनपसंद अभिनेत्री आशा पारेख प्रमुख भूमिकाओं में शामिल थे। प्राण ने फिल्म में खलनायक को निभाया और राजेन्द्रनाथ ने सहायक भूमिका निभाई। यह एकमात्र ऐसी फिल्म थी जिसमें नासिर ने शंकर जयकिशन को संगीत निर्देशक और देव आनंद को नायक के रूप में इस्तेमाल किया। पार्श्वगायक मोहम्मद रफी और लता मंगेशकर थे।

संक्षेप[संपादित करें]

निशा (आशा पारेख) भारत के नीलगाँव के एक बहुत अमीर परिवार से संबंधित है। वह अब विवाह योग्य है, और उसके व्यापारी पिता, सरदार रूप सिंह चाहते हैं कि वह उनके दोस्त के बेटे सोहन से शादी करे, लेकिन निशा ने उसे नापसंद किया। दार्जिलिंग की ओर एक नृत्य मंडल के साथ यात्रा करते समय, वह अपने पिता के व्यापार सहयोगी के बेटे, पोपट लाल से मिलती है और कुछ दुर्घटनाओं के बाद, दोनों एक-दूसरे से प्यार करने लगते हैं। वह उसे अपने पिता से मिलने के लिए ले जाती है जहां वह अपने व्यापार लेनदेन को अंतिम रूप भी दे सकता है। लेकिन जब रूप अंदर आते हैं, तो उसे पता चलता है कि पोपट गायब हो गया है, और उसके स्थान पर एक और आदमी असली पोपट होने का दावा कर रहा है। निशा का दिल टूट जाता है और वह पोपट से नफरत करना शुरू कर देती है। वह पोपट से मिलती है, जो उसे बताता है कि उसका असली नाम सुंन्दर (देव आनन्द) है और उन दोनों को उनके माता-पिता द्वारा एक-दूसरे से शादी के लिये चुना गया था, लेकिन बाद में रूप ने अपना मन बदल दिया था। निशा उसकी बात मान लेती ​​है और अपने पिता के आशीर्वाद के बिना उससे शादी करने के लिए सहमत होती है। जब विवाह होता है, खन्ना नाम का एक आदमी आता है और निशा को बताता है कि सुन्दर पहले से ही शांति नाम की महिला से शादी कर चुका है, जिसे बाद में उसने मार दिया, और पुलिस द्वारा इस मामले में प्राथमिक आरोपी रहा है।

मुख्य कलाकार[संपादित करें]

संगीत[संपादित करें]

सभी शंकर जयकिशन द्वारा संगीतबद्ध।

क्र॰शीर्षकगीतकारगायकअवधि
1."सौ साल पहले मुझे तुम से प्यार था"हसरत जयपुरीमोहम्मद रफी, लता मंगेश्कर3:30
2."जब प्यार किसी से होता है"हसरत जयपुरीमोहम्मद रफी3:28
3."तेरी ज़ुल्फ़ों से जुदाई तो"हसरत जयपुरीमोहम्मद रफी2:57
4."ये आँखें उफ्फ़ यम्मा"हसरत जयपुरीलता मंगेश्कर, मोहम्मद रफी3:31
5."जब प्यार किसी से होता है"हसरत जयपुरीलता मंगेश्कर3:27
6."मोहब्बत इसको कहते हैं"शैलेन्द्रमोहम्मद रफी3:23
7."नज़र मेरे दिल के पार"शैलेन्द्रलता मंगेश्कर3:29
8."तुम जैसे बिगड़े बाबू से"हसरत जयपुरीलता मंगेश्कर3:18

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]