जबल अल-नूर

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
जबल अल-नूर
Jabbal An-Nour - Makkah (2241558560).jpg
मक्का के निकट जबल अल-नूर
उच्चतम बिंदु
ऊँचाई642 मी॰ (2,106 फीट)
निर्देशांक21°27′29″N 39°51′41″E / 21.45806°N 39.86139°E / 21.45806; 39.86139निर्देशांक: 21°27′29″N 39°51′41″E / 21.45806°N 39.86139°E / 21.45806; 39.86139
नामकरण
मूल नामجَبَل ٱلنُّوْر  (language?)
भूगोल
Map of Saudi Arabia Showing the location of Jabal al-Nour
Map of Saudi Arabia Showing the location of Jabal al-Nour
जबल अल-नूर
Location of Jabal al-Nour in Saudi Arabia
स्थानमक्का प्रांत, हिजाज़, सऊदी अरब
मातृ श्रेणीहिजाज़ पर्वत

जबल अल-नूर या जबल ए नूर (अरबी : جبل ٱلنور, या 'रोशनी का पर्बत 'माउन्टेन ऑफ़ लाईट') सऊदी अरब के हिजाज़ क्षेत्र में मक्काह के पास एक पर्वत है। [1] इस परबत में एक गुफा है जिस का नाम हीरा गुफ़ा है, जिस में इस्लामी पैगंबर मुहम्मद कई दिन गुज़ारे और यहीं पर पवित्र क़ुरआन के अवतरण की शुरुआत हुई, इस लिए यह गुफा दुनिया भर में मुसलमानों के लिए महत्व रखती है। इस गुफा में ध्यान में बैठे मुहम्मद साहिब को अल्लाह ने देवदूत जिब्रील द्वारा राहस्योद्घाटन (वही) के ज़रिये क़ुरआन का अवतरण किया। क़ुरान की पहली आयत यहीं पर नाज़िल (अवतरण) हुई. [2] यह मक्का में सबसे लोकप्रिय पर्यटक आकर्षणों में से एक है। पर्वत स्वयं बमुश्किल 640 मीटर (2,100 फीट) लंबा है; फिर भी गुफा पर जाने के लिए एक से दो घंटे की आवश्यकता होती है। गुफ़ा 1750 कदम है पर है।

शब्द-व्युत्पत्ति[संपादित करें]

चूँकि यह कहा जाता है कि मुहम्मद ने अपना पहला रहस्योद्घाटन यहीं पर प्राप्त किया था और क़ुरआन की पहली आयतें प्राप्त की थीं, इस पहाड़ को जबल-ए-नूर ("माउंटेन ऑफ़ द लाइट" या "माउंटेन ऑफ द एनलाइटन") शीर्षक दिया गया। इस अनुभव को कभी-कभी रहस्योद्घाटन की शुरुआत के साथ पहचाना जाता है; इसलिए वर्तमान नाम से मशहूर है। [3] पहले रहस्योद्घाटन की तिथि १० अगस्त, ६१० ई को रात के दौरान बताई गई है, या रमज़ान के २१ वें दिन को, मुहम्मद ४० वर्ष, ६ महीने और १२ दिन की आयु में, अर्थात् ३९ ग्रेगोरियन वर्ष, ३ महीने और 22 दिन की आयु में पहली वही (रहस्योद्घाटन) हासिल की थी। [4]

दिखावट[संपादित करें]

एक भौतिक विशेषता जो जबल अल-नूर को अन्य पहाड़ों और पहाड़ियों से अलग करती है, वह इसका असामान्य शिखर है, जिससे ऐसा लगता है जैसे दो पहाड़ एक-दूसरे के ऊपर हैं। पहाड़ी रेगिस्तान में इस पर्वत का शीर्ष स्थानों में से एक है। हालांकि, गुफा, जो काबा की दिशा का सामना करती है, और भी अलग है। इस के आंगन में खड़े होकर लोग केवल आसपास की चट्टानों को देख सकते थे। आजकल, लोग आसपास की चट्टानों के साथ-साथ इमारतों को देख सकते हैं जो सैकड़ों मीटर नीचे और सैकड़ों मीटर से कई किलोमीटर दूर हैं। हीरा गुफा के आस पास कुछ कांटों के अलावा पानी या वनस्पति दोनों नहीं हैं। हीरा "थबीर" (शिखर) से अधिक ऊंचाई पर है, और यह एक खड़ी चोटी है जैसे पर्वत पर ताज पहनाया गया हो, जिस पर मुहम्मद उनके कुछ साथियों के साथ एक बार चढे थे। [5]

ग़ार ए हिरा (हिरा का गुफ़ा)[संपादित करें]

पर्वत में हीरा गुफ़ा का प्रवेश द्वार।

इस पर पहुंचने के लिए 1750 क़दम चलना पड़ता है, गुफा की लंबाई लगभग 3.7 मीटर (12 फीट) और चौड़ाई में 1.60 मीटर (5 फीट 3 इंच) है। [2] यह गुफा 270 मीटर (890 फीट) की ऊंचाई पर स्थित है। [6] हज ('तीर्थयात्रा') के मौसम के दौरान, एक अनुमानित पांच हजार आगंतुक प्रतिदिन गुफा में चढ़ते हैं, जहां उस स्थान को देखने के लिए मुहम्मद को कुरान की पहली रात में जिब्रील द्वारा बिजली का रहस्योद्घाटन प्राप्त हुआ है। अधिकांश मुसलमान गुफा में जाने को हज का अभिन्न हिस्सा नहीं मानते हैं। बहरहाल, कई लोग इसे व्यक्तिगत संतोष और आध्यात्मिकता के कारणों से देखते हैं, और कुछ लोग इसे इबादत का स्थान मानते हैं, इस को सलफ़ी लोग इस्लामी रिवाजों के ख़िलाफ़ मानते हैं। जबकि यह गुफा सीरतुन्नबी (प्रेषित की जीवनी) में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है, इसे मक्का में अन्य साइटों जैसे कि मस्जिद अल-हरम के रूप में पवित्र नहीं माना जाता है।

मुहम्मद के पहले रहस्योद्घाटन से पहले, उन्हें कई अच्छे सपने आते। इन सपनों में उनके पैग़म्बर होने के संकेत दिखाई देने लगे थे, और संकेत मिलते हैं कि मक्का में पत्थर सलाम के साथ उनका स्वागत करेंगे। ये सपने छह महीने तक चले। [4]

एकांत की बढ़ती आवश्यकता ने मोहम्मद को मक्का से घिरी चट्टानी पहाड़ियों में एकांत और ध्यान की तलाश करने के लिए प्रेरित किया। [7] वहाँ प्रत्येक वर्ष एक महीने के लिए गुफा में वह जाते थे, तहनन्त (تَحَنُّث) (एकांत ध्यान) में डूबे रहते। [8][9] जब भी गुफा की तरफ जाते तो खान पान की चीज़ें भी लेजाते, और जो गरीब उनके पास आएगा, उसे खिलाते थे। फिर अधिक प्रावधानों के लिए अपने परिवार के घर लौटने से पहले वह काबा की सात बार या कई बार तवाफ़ करते थे; तब वह घर जाते थे। [10]

गेलरी[संपादित करें]

यह भी देखें[संपादित करें]

संदर्भ[संपादित करें]

  1. "Jabal al-Nour (The Mountain Of Light) and Ghar Hira (Cave of Hira)". 16 September 2015. मूल से 1 मई 2019 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 3 जून 2020.
  2. "In the Cave of Hira'". Witness-Pioneer. मूल से 2008-02-15 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2018-04-11.
  3. "Ḥirāʾ". Encyclopaedia of Islam (2nd)। Brill Online। अभिगमन तिथि: 7 October 2013
  4. Mubārakpūrī, Ṣafī R. (1998). When the Moon Split. Riyadh.
  5. Weir, T. H.. "Ḥirāʾ." Encyclopaedia of Islam, First Edition (1913-1936). Edited by M. Th. Houtsma, T.W. Arnold, R. Basset, R. Hartmann. Brill Online, 2013. Reference. Augustana College. 07 October 2013 <http://referenceworks.brillonline.com/entries/encyclopaedia-of-islam-1/hira-SIM_2820 Archived 2018-10-30 at the Wayback Machine>
  6. "Archived copy". Saudi Tourism. मूल से 2011-10-08 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2018-04-11.सीएस1 रखरखाव: Archived copy as title (link)
  7. Peterson, Daniel C. (2013). Muhammad, prophet of Allah. Grand Rapids, Mich.
  8. "Taḥannut̲h̲", Encyclopedia of Islam (2 संस्करण), Brill, 2017, मूल से 24 अगस्त 2018 को पुरालेखित, अभिगमन तिथि 2018-04-11
  9. Kister, M. J. (1968), ""Al-Taḥannuth": An Inquiry into the Meaning of a Term" (PDF), Kister.huji.ac.il, पपृ॰ 223–236, मूल (PDF) से 29 जुलाई 2018 को पुरालेखित, अभिगमन तिथि 2018-04-11
  10. सन्दर्भ त्रुटि: <ref> का गलत प्रयोग; Tabari नाम के संदर्भ में जानकारी नहीं है।

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]