चुड़ैल

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

चुड़ैल (चुड़ैल = संस्कृत चूड़ा + ऐल -प्रत्यय, डायन = संस्कृत डाकिनी, अंग्रेज़ी : Witch) लोक-कहानियों मे मुताबिक एक (औरत) जादूगरनी होती है। ज़्यादातर चुड़ैल और डायन शब्द दुष्ट जादूगरनियों के लिये ही प्रयुक्त होते हैं -- वो औरतें जो काला जादू करती हैं।


चुड़ैल आदि के नाम पर भारत में महिला उत्पीड़न[संपादित करें]

भारतीय उपमहाद्वीप में कई पिछड़े इलाकों में चुड़ैल आदि के आरोप लगाकर महिलाओं को सार्वजनिक रूप से सजा देने की प्रथाएँ विद्यमान हैं। इसे भिन्न भिन्न स्थानों में भिन्न भिन्न नामों से जाना जाता है यथा चुड़ैल, डायन, डाकिनी, डाकण आदि।

राजस्थान आदि में इसे डाकण प्रथा नाम से भी जाना जाता है। यह एक कुप्रथा है, जिसमें माना जाता है की जो महीला मन्त्र-विद्या जानती है जो छोटे बच्चों एवं नवविवाहित वधुऔ को खा जाती है। विशेष रुप से यह प्रथा आदिवासियों में पाई जाती है, सबसे पहले इस प्रथा की जानकारी राजस्थान के उदयपुर जिले में खेरवाडा क्षेत्र से अग्रेंजों को मिली थी।[कृपया उद्धरण जोड़ें]

डायन प्रथा बिहार के कई इलाकों मे आज भी सक्रिय है इसमे जादू के नाम पर औरतों की बलि दी जाती है।[कृपया उद्धरण जोड़ें]


बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]