चित्रकोट जलप्रपात

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
(चित्रकोट से अनुप्रेषित)
Jump to navigation Jump to search
चित्रकोट जलप्रपात जलप्रपात

चित्रकोट जलप्रपात भारत के छत्तीसगढ़ प्रदेश में स्थित एक जलप्रपात है। इस जल प्रपात की ऊँचाई 90 फुट है।

जगदलपुर से 39 किमी दूर इन्द्रावती नदी पर यह जलप्रपात बनता है। समीक्षकों ने इस प्रपात को आनन्द और आतंक का मिलाप माना है। 90 फुट ऊपर से इन्द्रावती की ओजस्विन धारा गर्जना करते हुये गिरती है। इसके बहाव में इन्द्रधनुष का मनोरम दृश्य, आल्हादकारी है। यह बस्तर संभाग का सबसे प्रमुख जलप्रपात माना जाता है। जगदलपुर से समीप होने के कारण यह एक प्रमुख पिकनिक स्पाट के रूप में भी प्रसिद्धि प्राप्त कर चुका है। अपने घोडे की नाल समान मुख के कारण इस जाल प्रपात को भारत का नियाग्रा भी कहा जाता है।== स्थलाकृति ==

 अंगूठा | चित्रकोट जलप्रपात
चित्रकूट जलप्रपात <ref>
चित्रकूट जलप्रपात - भारतीय नियाग्रा </ ref> इंद्रावती नदी पर स्थित है।  नदी का उद्गम कालाहांडी  ओडिशा क्षेत्र में, विंध्य रेंज पहाड़ियों में, पश्चिम की ओर बहती है और फिर चित्रकूट में पड़ती है, तेलंगाना और  अंत में गोदावरी नदी, [1] का पता लगाने के बाद 240 मील (390 कि॰मी॰) राज्य में,  भद्रकाली]  {Sfn | चटर्जी १ ९ ५५ | p = ३०६}} <ref name = Patro> Patro, Jagdish.  [http: //www.indiastudychannel.com/resources/163040-Chitrakoot-Waterfalls-The  -नियाग्रा-जलप्रपात-भारत.स्पेक्स http: //www.indiastudychannel.com/resources/163040-Chitrakoot-Waterfalls-The  -नियाग्रा-जलप्रपात-भारत.स्पेक्स] Check |url= value (help). Unknown parameter |शीर्षक= ignored (help); Unknown parameter |प्रकाशक= ignored (help); Unknown parameter |तिथि= ignored (help); Missing or empty |title= (help) </ ref>
फॉल्स की मुक्त बूंद 30 मीटर (98 फीट) के बारे में सरासर ऊंचाई है।  अपने घोड़े की नाल के आकार के कारण, यह नियाग्रा फॉल्स के साथ तुलना की जाती है और इसे सोबरीक a द स्मॉल नियाग्रा फॉल्स ’में दिया जाता है।  जुलाई और अक्टूबर से बारिश के मौसम में, झरने से धुंध पर प्रतिबिंबित होने वाली सूरज की किरणों से इंद्रधनुष बनते हैं। [2]
चित्रकूट जलप्रपात के बाएं किनारे पर, एक छोटा  हिंदू मंदिर जो भगवान शिव को समर्पित है और कई प्राकृतिक रूप से "पार्वती गुफाओं" (शिव की पत्नी [पार्वती]] के नाम पर बनाया गया है।  स्थित हैं।  गर्मी के मौसम को छोड़कर क्षेत्र में मौसम आम तौर पर सुहावना होता है जब यह क्षेत्र में वनस्पति की अनुपस्थिति के कारण गर्म होता है।https://lh5.googleusercontent.com/p/AF1QipOOIIKHNmLsqVqY67bBMSewMxr1lkyk9vcghj1Z=w1136-h616-n-k-no
<ref name = Chitra2003> "संग्रहीत प्रति". Archived from [http: //tourism.gov.in/  CMSPagePicture / file / marketresearch / Statewise20yrsplan / chhattisgarh.pdf the original] Check |url= value (help) (PDF) on 10 अक्तूबर 2019. Retrieved 14 जून 2020. Unknown parameter |मृत- url= ignored (help); Unknown parameter |2013- date= ignored (help); Unknown parameter |आर्काइव-उरेल= ignored (help); Unknown parameter |प्रकाशक= ignored (help); Unknown parameter |शीर्षक= ignored (help); Check date values in: |access-date=, |archive-date= (help) </ ref>
जगदलपुर के मैदानी इलाकों के माध्यम से नालियों में बहने के कारण नदी अपने बहाव की वजह से गिरती हुई नदी के किनारे पर धीमी गति से बहती है।  नदी घाटी की इस पहुंच में बहुत कम वन कवर हैं।  नदी के नीचे बोधघाट वनाच्छादित क्षेत्र आता है और नदी का प्रवाह अपने प्रवाह की स्थिति में भारी परिवर्तन से गुजरता है।  नदी के बहाव क्षेत्र में वातन प्रक्रिया और वन नदी में गाद को छानते हैं। <ref> [https: //books.google.com/books? Id = gX5-AAAAMAAJ। Year =  1996 Vācham] Check |url= value (help), p. 46, archived from the original on 3 जनवरी 2016, retrieved 14 जून 2020 Unknown parameter |प्रकाशक= ignored (help); Check date values in: |access-date=, |archive-date= (help) </ ref>
चित्रकूट जलप्रपात,  कांगेर घाटी राष्ट्रीय उद्यान के पास स्थित दो झरनों में से एक है, दूसरा तीरथगढ़ झरना है। [3]
  1. बोर्ड, पृ॰ 267.
  2. House 2004, पृ॰ 132.
  3. Menon 2014, पृ॰ 103.