चतुरी चमार

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
चतुरी चमार  
ChaturiChamar.jpg
मुखपृष्ठ
लेखक सूर्यकांत त्रिपाठी 'निराला'
देश भारत
भाषा हिंदी
विषय साहित्य
प्रकाशक राजकमल प्रकाशन
प्रकाशन तिथि चौथा संस्करण
२००६
पृष्ठ ७८
आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 81-7178-902-1

चतुरी चमार भारत के महान हिन्दी कवि और रचनाकार पण्डित सूर्यकान्त त्रिपाठी 'निराला' द्वारा रचित कहानी संग्रह है।[1][2] निराला जी की यह रचना मानव-निर्मित जाति-भेद पर आधारित ऊंच-नीच की विडम्बना से सतायी गयी निम्न जाति में आत्म-सम्मान की नयी चेतना के प्रादुर्भाव की कहानी है।[3]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "चतुरी चमार". मूल से 18 जनवरी 2015 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि जनवरी 2015. |access-date= में तिथि प्राचल का मान जाँचें (मदद)
  2. निराला की साहित्य साधना (भाग-2) Archived 18 जनवरी 2015 at the वेबैक मशीन., रामविलास शर्मा, पृष्ठ-470
  3. निराला Archived 5 फ़रवरी 2015 at the वेबैक मशीन., लोकभारती मुक्तायन माला, राजकमल प्रकाशन, दिल्ली