गिरीश चंद्र चतुर्वेदी

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

गिरीश चंद्र चतुर्वेदी भारत की प्रमुख बैंकिंग एवं वित्तीय सेवा संस्थान आईसीआईसीआई बैंक के गैर-कार्यकारी अध्यक्ष हैं। उनकी नियुक्ति रिजर्व बैंक और शेयरधारकों के अनुमोदन के अधीन है। उनका कार्यकाल 1 जुलाई, 2018 से प्रभावी होकर 3 वर्षों तक के लिए है। वे 1977 बैच के उत्तर प्रदेश संवर्ग के भारतीय प्रशासनिक सेवा (आईएएस) अधिकारी हैं। वे वर्ष 2011 से 2013 तक भारत सरकार के अंतर्गत पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस मंत्रालय के सचिव थे। वे जनवरी 2013 में पेट्रोलियम सचिव के पद से सेवानिवृत्त हुए हैं। साथ ही वे वित्तीय सेवा विभाग में भी काम कर चुके हैं। यह विभाग बैंक और बीमा क्षेत्र का प्रशासनिक विभाग है।[1]

उन्होने भौतिक शास्त्र में स्नातकोत्तर किया है तथा लंदन स्कूल आफ इकोनामिक्स से सामाजिक नीति का अध्ययन किया है। उन्हें आक्सफोर्ड विश्वविद्यालय से आर्थिक इतिहास विषय में डाक्टरेट की उपाधि भी मिली है। वह आईडीबीआई बैंक, केनरा बैंक और बैंक ऑफ़ बड़ौदा के निदेशकमंडल में काम कर चुके हैं।[2]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "ICICI बैंक के चेयरमैन बने गिरीश चंद्र चतुर्वेदी, तीन वर्ष के लिए हुई नियुक्ति". जागरण. 29 जून 2018. अभिगमन तिथि 5 जुलाई 2018.
  2. "ICICI बैंक ने पूर्व IAS अधिकारी जीसी चतुर्वेदी को बनाया चेयरमैन". पंजाब केसरी. 29 जून 2018.