गणकीय तरल यांत्रिकी

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
गणकीय तरल यांत्रिकी द्वारा नासा के यान ऑर्बिटर के पार्श्व प्रवाह क्षेत्र का अनुमानित चित्र

गणकीय तरल गतिकी या अभिकलनीय तरल गतिकी (Computational Fluid Dynamics or CFD), तरल यांत्रिकी (fluid mechanics) और गणक विधियों का एक एक मिश्र विषय है जिसमें आंकिक विधियों (Numerical Methods) की मदद से तरल गति के जटिल समीकरणों का हल निकाला जाता है। संगणकों के आ जाने से इस विषय में शोध और विकास के कार्य तेजी से चलने लगे हैं।

उपयोग[संपादित करें]

  • वायुयान, राकेट, आटोमोबाइल एवं अन्य यानों की डिजाइन
  • मौसम का पूर्वानुमान करना - यह विद्या पूर्णत: तरल यांत्रिकी पर आधारित है और इसके लिये बहुत सारे नेवियर स्टोक्स समीकरण हल करने पड़ते हैं।
  • कृत्रिम चैनेलों की डिजाइन
  • क्रूड आयल और प्राकृतिक गैस ले जाने वाले पाइपलाइनों में प्रवाह का अध्ययन एवं उसका इष्टतमीकरण
  • रक्त वाहिनियों में रक्त के प्रवाह का अध्ययन
  • मोल्ड में पिघले हुए प्लास्टिक अथवा धातु की गति का अध्ययन ताकि अच्छी गुणवत्ता के ठोस पार्ट तैयार किये जा सकें।
  • पम्पों एवं पानी-वितरण की प्रणाली में पानी के प्रवाह का अध्ययन एवं इष्टतमीकरण (optimization)
  • जल टर्बाइन (बिजली उत्पादन में उपयोगी), एवं गैस टर्बाइन (प्रोपल्सन में उपयोगी) की डिजाइन

चित्र दीर्घा[संपादित करें]