गंभीर सिंह मुड़ा

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ
गंभीर सिंह मुड़ा
Gambhir Singh Mura.jpg
मुड़ा की मूर्ति
जन्म 1930
Pitikiri Bamni, पुरुलिया, पश्चिम बंगाल, भारत
मृत्यु 9 नवम्बर 2002(2002-11-09) (उम्र एक्स्प्रेशन त्रुटि: अनपेक्षित < ऑपरेटर।)
व्यवसाय लोकनर्तक
माता-पिता जिपा सिंह मुड़ा
पुरस्कार पद्मश्री (1981)

गंभीर सिंह मुड़ा (बांग्ला: গম্ভীর সিং মুড়া) (1930 – 9 नवंबर 2002) पश्चिम बंगाल के पुरूलिया जिले के एक आदिवासी नर्तक थे जिन्होंने छऊ नृत्य के नर्तक के रूप में अपनी पहचान बनायी।[1][2] इन्हें 1981 में कला के क्षेत्र में इस योगदान के लिये पद्मश्री पुरस्कार से सम्मानित किया गया।[3]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "Chhau village comes alive at Kharagpur puja". Times of India. 16 October 2010. अभिगमन तिथि 1 July 2015.
  2. "Baghmundi is the place of Chhow dance". Baghmundi Block Development Office. 2015. मूल से 2 July 2015 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 1 July 2015.
  3. "Padma Shri" (PDF). Padma Shri. 2015. मूल (PDF) से 15 November 2014 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 18 June 2015.