कोचीन यहूदी

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
कोचीन यहूदी
File:Cochin Jews.jpg
कुल जनसंख्या
ख़ास आवास क्षेत्र
Flag of Israel.svg इज़राइल 7,000–8,000 (estimated)[1]
Flag of India.svg भारत 26
भाषाएँ
हिब्रू, जूदेव-मलयालम
धर्म
यहूदी धर्म
अन्य सम्बंधित समूह
परदेशी यहूदी, सेफ़र्डिक यहूदी, बेने इज़राइल, बगदादी यहूदी, मिज़राई यहूदी

कोचीन यहूदी (जिसे मालाबार यहूदी या कोचीनम के रूप में भी जाना जाता है, हिब्रू में : ייהודי קוצ'ין येहुदे कोइचिन), भारत में यहूदियों का सबसे पुराना समूह है, जिसकी जड़ें राजा सोलोमन के समय से आज तक चली आ रही हैं। [2][3] कोचीन यहूदी दक्षिण भारत में कोचीन राज्य में बस गए थे,[4] जो आज भारत के केरल राज्य का एक हिस्सा है। [5][6] 12 वीं शताब्दी के प्रारंभ से, दक्षिणी भारत में यहूदियों का यदाकदा उल्लेख मिलता है। टुडेला के यहूदी यात्री बेंजामिन ने मालाबार तट पर कोल्लम (क्विलोन) के बारे में लिखते हुए, अपने यात्रा कार्यक्रम में यह लिखा हैं: "... पूरे द्वीप में, जिसमें सभी शहर शामिल हैं, कई हजार इज़राइल रहते हैं। निवासी सभी काले हैं, और यहूदी भी। यहूदी वाले अच्छे और परोपकारी होते हैं। वे मूसा और नबियों के कानून और तल्मूड और हलाचा के बारे में कुछ हद तक जानते हैं। "[7] यही लोग बाद में मालाबारी यहूदियों के रूप में जाने जाने लगे। उन्होंने 12 वीं और 13 वीं शताब्दी में केरल में पूजा घरो का निर्माण किया जिसे सायनागोग कहा जाता हैं । [8][9] वे मलयालम भाषा की बोली जुडो-मलयालम विकसित करने के लिए जाने जाते हैं।

1492 में अलहम्ब्रा डिक्री द्वारा इबेरिया से अपने निष्कासन के बाद, सेपर्डी यहूदियों के कुछ परिवारों ने अंततः 16 वीं शताब्दी में कोचीन में आ बसे। उन्हें परदेशी यहूदी (या विदेशी यहूदी) के रूप में जाना जाने लगा था। यूरोपीय यहूदियों ने यूरोप के लिए कुछ व्यापारिक संबंध बनाए रखे, और उनकी भाषा कौशल उपयोगी थी। हालाँकि, सेफ़र्डिम ने लाडिनो ( स्पैनिश या जुडेसो-स्पैनिश) भाषा बोलते थे, भारत में उन्होंने मालाबार यहूदियों से जुडो-मलयालम सीखी। [10] दोनों समुदायों ने अपने जातीय और सांस्कृतिक अंतर को बरकरार रखा। [11] 19 वीं शताब्दी के अंत में, कुछ अरबी भाषी यहूदी, जिन्हें बगदादी के नाम से जाना जाता था, वे भी दक्षिणी भारत में आकर बस गए और परदेशी समुदाय में शामिल हो गए।

1947 में भारत को अपनी स्वतंत्रता मिलने के बाद और इज़राइल एक राष्ट्र के रूप में स्थापित होने के बाद, अधिकांश मालाबारी यहूदियों ने अलियाह को अपना घर बनाया और 1950 के दशक के मध्य में केरल से इज़राइल चले गए। इसके विपरीत, अधिकांश परदेश यहूदियों (मूलत: सेफ़ार्दी) ने एंग्लो-इंडियन द्वारा किए गए विकल्पों के समान ऑस्ट्रेलिया और अन्य राष्ट्रमंडल देशों में प्रवास करना पसंद किया। [12]


उनके अधिकांश आराधनालय अभी भी केरल में मौजूद हैं, जबकि कुछ को अन्य उपयोगों के लिए बेचा या अनुकूलित किया गया था। 20 वी सदी के मध्य तक जो 8 सायनागोग बच गए थे, उनमें से केवल परदेशी सायनागोग में अभी भी एक नियमित मण्डली है और यह एक ऐतिहासिक स्थल के रूप में भी पर्यटकों को आकर्षित करता है। एर्नाकुलम में एक अन्य सायनागोग आंशिक रूप से कुछ शेष कोचीन यहूदियों में से एक द्वारा एक दुकान के रूप में संचालित होता है। कुछ सायनागोग खंडहर में परिवर्तित हो चुके हैं और एक को ध्वस्त कर दिया गया था और उसके स्थान पर दो मंजिला मकान बनाया गया था। चेंदमंगलम (चेन्नामंगलम) के सभास्थल को 2006 में केरल यहूदियों के जीवन शैली संग्रहालय के रूप में फिर से बनाया गया था। Kerala Jews Life Style Museum.[13] पारावुर (परूर) के आराधनालय को केरल यहूदियों के इतिहास संग्रहालय के रूप में फिर से बनाया गया है। [14][15]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]

साँचा:Kochi (India) topics

साँचा:Jews and Judaism

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "Jews from Cochin Bring Their Unique Indian Cuisine to Israeli Diners", Tablet Magazine, by Dana Kessler, 23 October 2013
  2. The Jews of India: A Story of Three Communities Archived 26 दिसम्बर 2016 at the वेबैक मशीन. by Orpa Slapak. The Israel Museum, Jerusalem. 2003. p. 27. ISBN 965-278-179-7.
  3. Weil, Shalva. "Jews in India." in M. Avrum Erlich (ed.) Encyclopaedia of the Jewish Diaspora, Santa Barbara, USA: ABC CLIO. 2008, 3: 1204-1212.
  4. Weil, Shalva. India's Jewish Heritage: Ritual, Art, and Life-Cycle, Mumbai: Marg Publications, 2009. [first published in 2002; 3rd edn] Katz 2000; Koder 1973; Menachery 1998
  5. Weil, Shalva. "Cochin Jews", in Carol R. Ember, Melvin Ember and Ian Skoggard (eds) Encyclopedia of World Cultures Supplement, New York: Macmillan Reference USA, 2002. pp. 78-80.
  6. Weil, Shalva. "Cochin Jews" in Judith Baskin (ed.) Cambridge Dictionary of Judaism and Jewish Culture, New York: Cambridge University Press, 2011. pp. 107.
  7. The Itinerary of Benjamin of Tudela (ed. Marcus Nathan Adler), Oxford University Press, London 1907, p. 65
  8. Weil, Shalva. From Cochin to Israel. Jerusalem: Kumu Berina, 1984. (Hebrew)
  9. Weil, Shalva. "Kerala to restore 400-year-old Indian synagogue", The Jerusalem Post. 2009.
  10. Katz 2000; Koder 1973; Thomas Puthiakunnel 1973.
  11. Weil, Shalva. "The Place of Alwaye in Modern Cochin Jewish History", Journal of Modern Jewish Studies, 2010. 8(3): 319-335.
  12. Weil, Shalva. From Cochin to Israel, Jerusalem: Kumu Berina, 1984. (Hebrew)
  13. Weil, Shalva (with Jay Waronker and Marian Sofaer) The Chennamangalam Synagogue: Jewish Community in a Village in Kerala. Kerala: Chennamangalam Synagogue, 2006.
  14. "The Synagogues of Kerala, India: Architectural and Cultural Heritage." Cochinsyn.com, Friends of Kerala Synagogues, 2011.M
  15. Weil, Shalva. "In an Ancient Land: Trade and synagogues in south India", Asian Jewish Life. 2011. [1] Archived 28 जून 2013 at the वेबैक मशीन.